Browsing "Older Posts"

  • आंध्र प्रदेशः बस हादसे में 8 लोगों की मौत, 30 घायल

    By Unknown →
    विजयवाड़ा। मंगलवार को आंध्र प्रदेश में एक भीषण बस दुर्घटना हो गई। इस बस हादसे में जहां 8 लोगों की मौत हो गई है वहीं 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। जानकारी के अनुसार विजयवाड़ा में एक बस एक पुल के डिवाइडर से टकराकर इसके बीच बने गैप से नीचे नदी में जा गिरी। यह बस भूवनेश्‍वर से हैदराबाद जा रही थी।

    हादसे में घायल सभी लोगों को नंदीग्राम के सरकारी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें से दस की हालत बेहद नाजुक है। बताया जा रहा है कि ओडिशा से तेलंगाना जा रही इस बस के ड्राइवर की अदला-बदली विजयवाड़ा में होनी थी। इस बस का पूरा सफर करीब एक हजार किमी का था।

    प्रत्‍यक्षदर्शियों के मुताबिक जिस वक्‍त यह हादसा हुआ उस वक्‍त सुबह के करीब 5.30 बजे थे। इसमें फंसे यात्रियों को निकालने के लिए गैस कटर का उपयोग किया गया है। आशंका जताई जा रही है कि ड्राइवर को आई झपकी के चलते या फिर उसकी लापरवाही की वजह से यह हादसा हुआ है। हालांकि इसकी असलियत का खुलासा जांच के बाद ही हो सकेगा।
  • रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति की तलाश में आवास पहुंची पुलिस

    By Unknown →
    यौन शोषण मामले में फंसे यूपी सरकार में मंत्री और अमेठी से सपा उम्मीदवार गायत्री प्रजापति की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। मंगलवार शाम को प्रजापति की तलाश करते हुए पुलिस लखनऊ स्थित उनके आवास पर पहुंची। गायत्री प्रजापति का सरकारी आवास शहर के गौतम पल्ली और पार्क रोड पर स्थित है।

    मौके पर पहुंची पुलिस ने इसे जांच का एक हिस्सा बताया। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, 'यह जांच का एक हिस्सा है और जैसे ही पुलिस उन्हें ढूंढने में कामयाब होगी, वैसे ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।'

    गौरतलब है कि गायत्री प्रजापति पर कुछ दिन पहले ही रेप का मामला दर्ज हुआ है। सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के बाद पुलिस ने प्रजापति के खिलाफ मामला दर्ज किया था। प्रजापति पर चित्रकूट की 35 वर्षीय एक मह‌िला के साथ रेप और उसकी नाब‌ाल‌िग लड़की के साथ छेड़छाड़ का आरोप है।

    मामला दर्ज होने के बाद गायत्री प्रजापति ने बीजेपी पर उनके खिलाफ षड्यंत्र करने का आरोप लगाया था। गायत्री प्रजापति ने कहा था कि मुझे कोर्ट पर पूरा भरोसा है लेकिन मेरे खिलाफ बीजेपी ने षड्यंत्र रचा है।

    इससे पहले शनिवार को गायत्री प्रजापति पर गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला का बयान पुलिस ने एसीजेएम कोर्ट में दर्ज कराया था। वहीं पीड़िता ने लखनऊ में अपना मेडिकल कराने से इनकार कर दिया।

    उसने कहा था कि उसकी बेटी एम्स में भर्ती है लिहाजा वह यहां ज्यादा समय तक नहीं रुक सकती। इस मुकदमे की विवेचना कर रही सीओ अमिता सिंह दो दिन पहले उसका बयान लेने दिल्ली गई थी, फिर वहां से उसे लखनऊ लाईं।
  • 1 अप्रैल से मेट्रो स्मार्ट कार्ड की रीचार्ज राशि नहीं होगी वापस

    By Unknown →


    दिल्ली मेट्रो यात्रियों के लिए बड़ी खबर है। आगामी 1 अप्रैल से उन्हें कार्ड लौटाने पर बची रकम का वापस नहीं मिलेगी। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने कहा है कि नए और चलन में मौजूद स्मार्ट कार्ड 1 अप्रैल से नॉन-रिफंडेबल हो जाएंगे। डीएमआरसी के अनुसार ऐसा रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (आरबीआई) के निर्देश के बाद किया गया है।

    दिल्ली मेट्रो का यह फैसला 1 अप्रैल से लागू हो जाएगा। मेट्रो ने कहा है कि को यात्री स्मार्ट कार्ड की रकम वापस चाहते हैं वे 31 मार्च तक कार्ड को वापस कर सकते हैं। इसके बाद यात्रियों को कार्ड में मौजूद वैल्यू को यात्रा करके ही खर्च करना होगा। डीएमआरसी के मुताबिक जो लोग अपने कार्ड पर रिचार्ज कराई गई राशि का वापस चाहते हैं, उनके पास 1 मार्च से 31 मार्च तक का समय है।

    यात्री मेट्रो के किसी भी स्टेशन पर स्मार्ट कार्ड को लौटाकर अपनी धनराशि ले सकते हैं। डीएमआरसी के अनुसार 1 अप्रैल, 2017 से कार्ड वापस करने पर जरूरी चार्ज की कटौती के बाद सुरक्षा जमा राशि वापस की जाएगी। आरबीआई ने मेट्रो के स्मार्ट कार्ड को इंटरऑपरेबल यानी कई जगह चलने के अनुकूल बनाने की बात कही थी। मेट्रो के अनुसार स्मार्ट कार्ड को अधिकतम 2000 रुपये तक रीचार्ज किया जा सकेगा। गौरतलब हो, मेट्रो में यात्रा करने वाले लोगों में 70 फ़ीसदी के करीब स्मार्ट कार्ड धारक हैं।
  • रिजर्व बैंक ने बनाई साइबर खतरों की समीक्षा के लिए समिति

    By Unknown →
    मुंबई। रिजर्व बैंक ने मौजूदा और आगे की टेक्नोलॉजी में साइबर सुरक्षा के खतरों की समीक्षा के लिए विविभन्न विधाओं के जानकारों की एक स्थायी समिति का गठन किया है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि यह 11 सदस्यों वाली समिति विभिन्न सुरक्षा मानकों, प्रोटोकॉल और इंटरफेस पर सभी संबंधित पक्षों के साथ विचार-विमर्श करेगी। समिति साइबर सुरक्षा को मजबूत बनाने और उसमें लचीलापन लाने के लिए उचित नीतिगत सुझाव भी देगी। रिजर्व बैंक की कार्यकारी निदेशक मीना हेमचंद्र की अगुवाई वाली समिति आगे चलकर और अधिक विशेषज्ञों की सेवाएं ले सकती है और खास तरह के मसलों पर गौर करने के लिए उपसमितियों की व्यवस्था के जरिए काम कर सकती है।उपायों की समीक्षा जरूरी साइबर सुरक्षा और सूचना प्रौद्योगिकी परीक्षण पर विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों के आधार पर रिजर्व बैंक ने पिछले साल जून में बैंकों को दिशानिर्देश जारी करके साइबर सुरक्षा की तैयारियां करने के लिए कहा था। बहरहाल, आरबीआई ने कहा कि बैंकों ने अपनी सुरक्षा-व्यवस्था मजबूत बनाने के लिए कई कदम उठाए हैं, लेकिन साइबर हमलों में विविधता को देखते हुए मौजूदा साइबर सुरक्षा पृष्ठभूमि की समीक्षा करने की जरूरत है।
  • एक रुपए से कम कीमत में बिक रही हैं आपकी निजी जानकारियां

    By Unknown →
    दिल्ली। आज आपकी निजी जानकारियां कितनी आसानी से लीक हो सकती है, इसका एक नमूना है कि ये एक रुपए से भी का कीमत में उपलब्ध है। निजी जानकारियों में अापकी ईमेल आईडी, फोन नंबर, उम्र, वैवाहिक स्थिति, आय से लेकर प्रोफेशन तक इतनी कम कीमत में बिक रही है।

    एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक डाटा ब्रोकर लोगों की निजी जानकारियों को हैक करते हैं और फिर इसे बेचते हैं। हैकर्स 10 से 15 हजार में बेंगलुरु, हैदराबाद और दिल्ली के एक लाख लोगों के पर्सनल जानकारियां साझा कर सकते हैं।

    रिपोर्ट के मुताबिक कुछ ब्रोकर्स मुफ्त सैंपल भेजते हैं। एक्सेल शीट में बेंगलुरु के लोगों की निजी जानकारी, पता और आय होती है।

    हैदराबाद के रहने वाले राजशेखर ने कहा कि यह बहुत डराने वाली बात है। उनके क्रेडिट कार्ड की डिटेल, पता बाजार में मौजूद था। यह पूरी जानकारी गुड़गांव के एक डाटा ब्रोकर से ली गई थी, जिसने एचडीएफसी और एक्सिस बैंक के 3000 लोगों के क्रेडिट कार्ड की जानकारी दी थी। इसकी कीमत महज 1000 ही थी। इतना ही नहीं डाटाबेस में नाम, पता, फोन नंबर जैसी जानकारियां मौजूद थी। साथ ही एक शख्स के पास कितने क्रेडिट, डेबिट और प्रीमियम कार्ड हैं, इसकी भी जानकारी है।

    ब्रोकर ने यह भी बताया कि बेंगलुरु, दिल्ली, एनसीआर के 1.7 लाख लोगों की ऐसी जानकारी 7,000 रुपये में दी जा सकती है।
  • रामजस मामलाः गुरमेहर कैंपेन से हटीं, ABVP के खिलाफ प्रदर्शन में येचुरी भी शामिल

    By Unknown →
    दिल्ली विश्वविद्याल के रामजस कॉलेज में हुई हिंसा के बाद सोशल मीडिया फेसबुक-ट्विटर पर कैंपेन चलाने वाली करगिल युद्ध में शहीद हुए जवान मनदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर ने अब खुद को कैंपेन से अलग कर लिया है। वहीं, गुरमेहर को रेप की धमकी के मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली गई है। इसके अलावा ये भी खबरें आ रही हैं कि गुरमेहर घर लौट रही हैं।

    जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद भी प्रदर्शन में हिस्सा लेने पहुंचे। डी राजा और सीताराम येचुरी भी प्रदर्शन में शामिल हुए।

    छात्रों का ‘स्टूडेंट अगेन्स्ट रेप थ्रेट’ मार्च डीयू के खालसा कॉलेज से शुरू किया। इस मार्च के दौरान मिरांडा हाउस कॉलेज के बाहर छात्रों ने प्रदर्शन किया। वहीं इससे पहले डीयू की आर्ट्स फैक्ल्टी के बाहर छात्र संगठन एनएसयूआई के छात्र भूख हड़ताल पर बैठे हैं।

    गुरमेहर के दादा कंवलजीत सिंह ने कहा कि ड्रामा किया जा रहा है। इसको मुद्दा नहीं बनाया जाना चाहिए। नेताओं को बयान देने से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह एक छोटी लड़की है। उसने कारगिल युद्ध में अपने पिता को खोया है।

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उप राज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात कर रामजस कॉलेज में हिंसा करने तथा एक छात्रा गुरमेहर कौर को धमकी देने वालों के खिलाफ सख्त कारवाई का अनुरोध किया। उपराज्यपाल से मुलाकात के बाद केजरीवाल ने पत्रकारों से कहा कि बैजल ने उन्हें आश्वासन दिया है कि दोषियों के खिलाफ हर संभव कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय में तनावपूर्ण माहौल के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि इन लोगों की ज्यादतियों के कारण ही तनाव पैदा हुआ है। उन्होंने कहा कि देश भक्ति के नाम पर ये लोग सरेआम अपनी मनमानी करते हैं। खुद ही नारे लगवाते हैं और फिर खुद ही वहां विरोध करने पहुंच जाते हैं।

    अपने अगले ट्वीट में गुरमेहर ने छात्र लेफ्ट संगठन आईसा की ओर से निकाले जाने वाले मार्च के लिए छात्रों को शुभकामना दी और कहा मार्च में ज्यादा से ज्यादा संख्या में जमा हों और ये कैंपेन सिर्फ मेरे लिए नहीं बल्कि सभी छात्र-छात्राओं के लिए है'। साथ ही अपने विरोधियों को जवाब देते हुए गुरमेहर ने लिखा 'जो लोग भी मेरे साहस पर सवाल खड़े कर रहे हैं, उन्हें बताना चाहती हूं कि मैंने उसके कहीं ज्यादा हिम्मत दिखाई'. अपने अगली ट्वीट में उन्होंने लिखा 'ये पक्की बात है कि आगे से कोई भी हिंसा और धमकी देने से पहले दो बार जरूर सोचेगा'।
  • भारत के टाइगर रिजर्व में 5 साल तक नहीं घुस पाएंगे BBC और उसके पत्रकार

    By Unknown →
    नई दिल्ली। राष्‍ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) ने बीबीसी और उसके एक पत्रकार जस्टिन रॉलेट पर भारत के सभी टाइगर रिजर्व में घुसने पर पांच साल का बैन लगा दिया है। प्राधिकरण द्वारा यह कदम असम के काजीरंगा नेशनल पार्क में शिकारियों के खिलाफ कड़ी नीति अपनाने पर सवाल उठाने वाली बीबीसी की डॉक्‍यूमेंटरी के सामने आने के बाद उठाया गया है।


    टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, यह बैन बीबीसी के पूरे नेटवर्क पर लगाया गया है। बीबीसी के दक्षिण एशिया संवाददाता जस्टिन रॉलेट ने काजीरंगा नेशनल पार्क में गैंडों पर 'वन वर्ल्‍ड: किलिंग फॉर कंजर्वेशन' नाम से डॉक्‍यूमेंटरी बनाई थी। इसमें गैंडों को बचाने के लिए अपनाए जा रहे कदमों पर सवाल उठाए गए थे। इसमें दावा किया गया था कि काजीरंगा के फॉरेस्‍ट गार्ड को यह अधिकार दिया गया है कि यदि उन्‍हें लगता है कि गैंडों को नुकसान पहुंचाया जा सकता है कि तो वे किसी को भी गोली मार सकते हैं।


    जस्टिन रॉलेट द्वारा बनाई गई डॉक्‍यूमेंटरी में बताया था कि फॉरेस्‍ट गार्ड को मिले इस तरह के अधिकारों की वजह से गैंडों से ज्‍यादा इंसान मारे गए। बीते साल 17 गैंडों की तुलना में 23 लोग मारे गए। बीबीसी के लिए बनाए गए इस शॉर्ट फिल्म के परिचय के लिए लिखे गए आर्टिकल में रॉलेट ने बताया था कि 2014 के बाद से केवल दो शिकायतों पर जांच के बाद सजा हुई जबकि 50 को गोली मार दी गई।


    केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने इस डॉक्‍यूमेंटरी की तीखी आलोचना करते हुए इसे पूरी तरह से गलत बताया था। काजीरंगा टाइगर रिजर्व के निदेशक सत्‍येंद्र सिंह ने एक अंग्रेजी अखबार को बताया कि देखते ही गोली मारने जैसी कोई नीति नहीं है। गरीब फॉरेन गार्ड जो कि काफी कठिन काम करते हैं, उन्‍हें बचाने के लिए कानूनी उपाय है। बीबीसी ने तथ्‍यों को गलत तरह से पेश किया और पुरानी फुटेज व इंटरव्यू को नाटकीय रूप से दिखाया।


    एनटीसीए की ओर से भेजे गए नोटिस में कहा गया था कि बीबीसी और जस्टिन रॉलेट ने पर्यावरण मंत्रालय को दिखाए बिना डॉक्‍यूमेंटरी का प्रसारण कर दिया। उन्‍हें सात दिन का कारण बताओ नोटिस दिया गया था।
  • एटीएम से निकले बिना नंबर के पांच सौ के नोट

    By Unknown →
    दमोह। सोमवार को अस्पताल के करीब स्थित एटीएम बूथ से दो लोगों ने बारी-बारी से रुपए निकाले, जिसमें दोनों को पांच-पांच सौ के दो नए नोट बिना नंबर के निकले। नोट देखने के बाद लोगों ने नोट नकली समझे और सबसे पहले पुलिस को सूचना दी। इसके बाद दोनों उपभोक्ताओं ने बैंक में भी शिकायत दर्ज करा दी।

    दोपहर करीब दो बजे के लगभग बजरिया वार्ड क्रमांक आठ निवासी नारायण प्रसाद अहिरवार और एक और व्यक्ति एटीएम से रुपए निकालने के लिए पहुंचे। पहले व्यक्ति को जो रुपए एटीएम से निकले उनमें दो पांच सौ के नोट थे। उन दोनों नोटों में नंबर ही नहीं थे।

    इसी समय दूसरा व्यक्ति रुपए निकालने के लिए पहुंचा। उनके नोटों में भी दो पांच सौ के नोट निकले। बाहर खड़े व्यक्ति ने जब उनसे पांच सौ के नोट जांचने के लिए कहा तो देखने पर पाया कि उनके दोनों नोट में भी नंबर नहीं थे। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई और एटीएम बूथ पर रुपए डालने वाले कर्मचारी पहुंचे और कुछ देर के लिए मशीन को बंद रखकर उसके नोटों की जांच की गई और उसके बाद एटीएम चालू किया गया।

    एसबीआई मैन ब्रांच प्रबंधक एमएस सिमोलिया का कहना है कि ऐसा कई बार हो जाता है, लेकिन ये नोट नकली नहीं होते हैं। उन्होंने बताया कि आरबीआई द्वारा जारी नोट की प्रिंटिंग के दौरान कई नोट आधे छपते हैं, कई में आधे नंबर छप पाते हैं और कई में नंबर ही नहीं छप पाते, लेकिन इसका मतलब ये नही कि नोट नकली होते हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह के नोट जहां भी मिलते हैं, उन्हें बैंक जमा करता है और आरबीआई को भेजता है, जिसके एवज में उन्हें उतने दूसरे नोट मिल जाते हैं। जिन लोगों को बिना नंबर के नोट मिले हैं, उनके लिए बैंक में बता दिया गया है कि उनके नोट बदल दिए जाएं।
  • गरीब मुसाफिरों के लिए शुरु हुई अंत्योदय सुपरफास्ट एक्सप्रेस, सुरेश प्रभु ने दिखाई हरी झंडी

    By Unknown →
    नई दिल्ली। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने गरीब यात्रियों को सुविधाजनक ढंग से लंबी दूरी के गंतव्य तक पहुंचाने के उद्देश्य से अनारक्षित कोचों वाली बहुप्रतीक्षित पहली सुपरफास्ट अंत्योदय एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर सोमवार को रवाना कर दिया।
    रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेल भवन से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए केरल के एर्नाकुलम स्टेशन से हावड़ा के लिए 22878 अप गाड़ी को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। रेल भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रभु ने श्रीगंगानगर से तिरुचिरापल्ली के लिए हमसफर एक्सप्रेस गाड़ी को भी हरी झंडी दिखाई। इसके अलावा रेलवे एवं डाक विभाग के बीच पार्सल कारोबार के लिए साझीदारी का भी शुभारंभ किया।
    गाड़ी में खासतौर पर शौचालयों की साफ सफाई की पूरी व्यवस्था होगी। ऑनबोर्ड हाउस कीपिंग स्टाफ भी चलेगा। एक दूसरे से जुड़े 22 कोचों वाली इस गाड़ी में टिकट का किराया सामान्य सुपरफास्ट किराए से पंद्रह फीसदी अधिक रखा गया है। गाड़ी में रियायती टिकट एवं मुफ्त पास अनुमन्य नहीं होंगे हालांकि बच्चों एवं बुजुर्गों की रियायत जारी रहेगी।
    इस मौके पर समारोह में रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ए के मित्तल, रेलवे बोर्ड के सदस्य यातायात मोहम्मद जमशेद एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। केन्द्रीय डाक सचिव भी इस मौके पर उपस्थित थे। इंटीग्रल कोच कारखाना चेन्नई में निर्मित अंत्योदय एक्सप्रेस के कोचों में नीचे एवं ऊपर दोनों जगह गद्दीदार सीटें, हर कूपे में मोबाइल चार्जर, बॉयो टॉयलेट, एलईडी लाइट, आरओबी युक्त ठंडे पेयजल की मशीन, एयर कुशन वाले शॉक एब्जॉर्बर और कोचों को जोडऩे के लिए सेंट्रल बफर कपलर लगाए गए हैं।
    22878 एर्नाकुलम-हावड़ा एक्सप्रेस प्रत्येक मंगलवार को एर्नाकुलम से 00:25 बजे चलकर 2307 किलोमीटर की दूरी 38 घंटे 25 मिनट में तय करेगी और बुधवार को दोपहर दो बजकर 50 मिनट पर हावड़ा पहुँचेगी। जबकि 22877 डाउन गाड़ी हावड़ा से प्रत्येक शनिवार को शाम पांच बजे रवाना होकर 37 घंटे के बाद सोमवार सुबह छह बजे एर्नाकुलम पहुंचेगी।
    गाड़ी की औसत गति 62 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी। 14715 श्रीगंगानगर तिरुचिरापल्ली हमसफर एक्सप्रेस प्रत्येक मंगलवार को श्रीगंगानगर से 00:25 बजे रवाना होगी और गुरुवार को दोपहर डेढ़ बजे तिरुचिरापल्ली पहुंचेगी। 14716 गाड़ी प्रत्येक गुरुवार को रात साढ़े 11 बजे रवाना होकर रविवार को दोपहर सवा तीन बजे श्रीगंगानगर पहुंचेगी।

    गौरतलब है कि यह गाड़ी बीकानेर, जोधपुर, अहमदाबाद, कल्याण, पुणे, बेलगाम, धारवाड़, तुमकुर, बांगरपेट सेलम और नामक्कल के रास्ते 3199 किलोमीटर का मार्ग 61 घंटे में तय करेगी।
  • सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल, मुस्लिम भाई ने भरा हिन्दू बहन का भात, 17 साल से निभा रहे हैं परंपरा

    By Unknown →
    लक्ष्मणगढ़ : यूं तो रिश्तों को निभाना खासा मुश्किल काम है, लेकिन यहां एक मुस्लिम भाई और उसकी हिंदू बहन का रिश्ता परंपराओं की मिसाल बना है। क्षेत्र के गांव सनवाली निवासी फारूख भाटी पिछले 17 साल से मानासी निवासी हिन्दू बहन कमला के भात भरते आ रहे हैं।

    सेवानिवृत्त सूबेदार बीरबलसिंह की पत्नी कमला फारूख की धर्म की बहन है। कमला के बेटे की शादी मंगलवार को है। शादी से पूर्व सोमवार को भात की रस्म अदा की गई। इस रस्म को निभाने के लिए सोमवार को फारूख परिवार सहित मानासी गांव कमला के यहां आए।

    फारूख की मां जमीला व पत्नी शाकिरा के साथ अन्य मुस्लिम महिलाओं ने भात के गीत गाए। फारूख दिव्यांग है। बीरबल सिंह ने बताया कि फारूख उसके साले मामराज का दोस्त था। रक्षाबंधन पर जब मामराज बहन कमला से राखी बंधवाने आता था तो उसके साथ फारूख भी आता था। मामराज की मौत के बाद तो फारूख पूरे मन से इस रिश्ते का निर्वहन करने लगा।
  • 'मूनलाइट' को बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड

    By Unknown →
    'मूनलाइट' को 'बेस्ट फिल्म' का अवॉर्ड मिला। इस कैटेगरी में 'मूनलाइट' को 'ला ला लैंड' से कड़ी टक्कर थी, मगर अंत में अवॉर्ड 'मूनलाइट' को मिला।

    लेकिन, बेस्ट फिल्म के लिए 'मूनलाइट' की घोषणा के पहले ऑस्कर अनाउंसमेंट में एक बड़ी गलती हुई। बेस्ट फिल्म की घोषणा करने से पहले 'ला ला लैंड' का नाम लिया गया। 'ला ला लैंड' अपनी इस खुशी को सेलिब्रेट करता उससे पहले ही घोषणा की गई कि अनाउंसमेंट में गलती हो गई है। बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड 'ला ला लैंड' को नहीं बल्कि 'मूनलाइट' को मिला है।


    भारतीय मूल के ब्रिटिश एक्टर देव पटेल बेस्ट एक्टर इन सपोर्टिंग रोल अवॉर्ड नहीं जीत पाए। 'मूनलाइट' के लिए महेरशाला अली को ये अवॉर्ड दिया गया। देव पटेल को फिल्म 'लायन' के लिए इस कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया था। वहीं 'द जंगल बुक' को बेस्ट विजुअल इपेक्ट्स कैटेगरी में अवॉर्ड मिला है। एनिमेटेड फीचर का अवॉर्ड 'जूटोपिया' को मिला।


    'ला ला लैंड' सबसे ज्यादा 6 अवॉर्ड्स मिले, जिनमें बेस्ट एक्ट्रेस, बेस्ट डायरेक्टर, बेस्ट ओरिजनल सॉन्ग, बेस्ट ओरिजनल स्कोर, बेस्ट प्रोडक्शन डिजाइन और बेस्ट सिनेमेटोग्राफी शामिल है। लेकिन जितने कैटेगरी में इस फिल्म को नॉमिनेट किया गया था उस हिसाब से अभी भी इस फिल्म को मिले अवॉर्ड्स की संख्या कम ही मानी जाएगी।
  • 8 साल बाद इस एक्टर ने 'तारक मेहता..' के शो को कर दिया अलविदा

    By Unknown →
    टीवी का लोकप्रिय कॉमेडी शो 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' एक ऐसा सीरीयल है, जिसके हर किरदार को दर्शक पसंद करते हैं, लेकिन अब इस शो का एक फेमस एक्टर शो छोड़ कर जा रहा है।

    बता दें कि शो में टप्पू का किरदार निभाने वाले भव्य गांधी अब इस शो को अलविदा कह रहे हैं। भव्य से जब इस बारे में बात की तो उन्होंने बताया कि वो इस शो को इसलिए छोड़ रहे हैं क्योंकि अब वो टीवी सीरियल के अलवाला कुछ और भी काम करना चाहते हैं। उन्होंने एक गुजराती फिल्म साइन की है, और इस फिल्म के लिए उन्हें गुजरात में शूटिंग भी शुरू कर दी है।

    खबरों की मानें तो भव्य के इस शो को छोड़ने की एक और वजह बताई जा रही है और वो वजह ये है कि अब उन्हें पहले की तरह शो में उतनी स्क्रीन नहीं मिल रही थी। जिस वजह से उन्होंने ये शो छोड़ने का प्लैन बनाया।

    भव्य का कहना है कि अब वो खुद को नया मौका देना चाहते हैं। शो को लेकर जब भव्य से पूछा तो उन्होंने कहा, 'मैं जनवरी के महीने में शो छोड़ दूंगा। तारक मेहता का उल्टा चश्मा के साथ 8 साल और 8 महीने का समय काफी मजेदार था। मैंने पूरी टीम के साथ अपना काम खूब एंजॉय किया। इस शो के जरिए मुझे फैन्स का काफी प्यार मिला और मैं चाहता हूं कि आगे भी मुझे ऐसा ही प्यार मिले।'
  • अब कोई नहीं वसूल पाएगा ट्रेन में खाने-पीने के मनमाने दाम

    By Unknown →
    क्या ट्रेन में सफर करने के दौरान आप भी वेंडर द्वारा खाने-पीने की चीजों में ठगे जा चुके हैं। चीजों की सही कीमत का पता न होना इसकी बड़ी वजह है। ऐसे में अब यात्रियों को जागरूक करने के मकसद से सोमवार को आइआरसीटीसी ने एक ट्वीट के जरिए खाद्य सामग्री के आधिकारिक दाम की जानकारी दी है।

    इस ट्वीट में एक लीटर पानी की कीमत 15 रुपये है। इसके अलावा स्टैंडर्ड वेज ब्रेकफास्ट की कीमत 30 रुपये, वहीं नॉन-वेज ब्रेकफास्ट की कीमत 35 रुपये है। आइआरसीटीसी ने अपने ट्वीट में स्पष्ट किया है कि ये दाम सिर्फ मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए हैं। राजधानी, शताब्दी और दूरंतो समेत अन्य लग्जरी ट्रेनों में खाद्य सामग्री की अलग दर तय की गई है।



    खाने के मेन्यू की पूरी जानकारी देते हुए बताया गया है कि ट्रेन में वेज थाली की कीमत 50, जबकि 55 रुपये में नॉन वेज खाना मिलेगा, जिसमें 250 मिली पानी की बोतल भी शामिल है। यात्रियों को जागरूक करते हुए आईआरसीटीसी ने अपने ट्वीट में कहा कि वेंडर से खाना लेने के बाद बिल जरुर मांगे।
  • 'ला ला लैंड' को 5 अवॉर्ड, बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड 'मूनलाइट' को

    By Unknown →
    लॉस एंजलिस के डॉल्बी थिएटर में अभी आॅस्कर अवॉर्ड 2017 का कार्यक्रम चल रहा है. पूरी दुनिया के कलाकारों में इस सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार को पाने की दौड़ चल रही है. ला ला लैंड ने बेस्‍ट डायरेक्‍शन का भी अवॉर्ड अपने नाम कर लिया है. इसके अलावा एम्‍मा स्‍टोन को फिल्‍म ला ला लैंड के लिए बेस्‍ट एक्‍ट्रेस का अवॉर्ड मिला है.

    इस तरह इस फिल्‍म को अब तक 5 अवॉर्ड मिल चुके हैं. केसी एफलेक को फिल्‍म मैनचेस्‍टर बाइ द सी के लिए बेस्‍ट एक्‍टर का अवार्ड दिया गया है. ला ला लैंड ने एक और ऑस्कर अपने नाम कर लिया है- इस बार बेस्ट ओरिजिनल स्कोर यानी संगीत के लिए जीत हासिल की. 'ला ला लैंड' के हाथ एक और ऑस्कर- बेस्ट ऑरिजिनल सॉन्ग के लिए भी मिला है. इसके अलावा बेस्‍ट स्‍क्रीन प्‍ले का और बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड मूनलाइट को दिया गया है.


    अब तक के विजेता डॉक्युमेंट्री फीचर: ओजे: मेड इन अमेरिका डॉक्युमेंट्री शॉर्ट: द वाइट हेलमेट्स विदेशी भाषा की फिल्म: द सेल्समैन (असग़र फरहादी) साउंट एडिटिंग: सिल्वैन बेलेमेयर (अराइवल) साउंड मिक्सिंग: केविन ओ'कॉनेल व एंडी राइट (हैकशॉ रिज) फिल्म एडिटिंग: जॉन गिलबर्ट (हैकशॉ रिज) मेकअप एंड हेयरस्टाइल: सुसाइट स्क्वैड सपोर्टिंग एक्ट्रेस: वायोला डेविस सपोर्टिंग एक्टर: महरशला अली एनिमेडेट फीचर: जूटोपिया एनिमेडेट शॉर्ट: पाइपर सपोर्टिंग एक्टर का अवार्ड माहेरशला अली ने जीता बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का अवार्ड फिल्म मून लाइट के लिए माहेरशला अली को दिया गया है. आॅस्कर 2017 में बेस्ट साउंड एडिटिंग का अवॉर्ड अराइवल को और बेस्ट साउंड मिक्सिंग का अवार्ड हॉक्शॉ राइड को दिया गया है. असगर फरहादी की फिल्म सेल्समैन को बेस्ट फॉरेन फिल्म का अवॉर्ड दिया गया है.
  • बेटे- बहू के साथ नजर आएंगे अमिताभ बच्चन

    By Unknown →
    बॉलीवुड के महानायक अभिताभ बच्चन और उनका परिवार अपनी अदाकारी के लिए जाना जाता है. पत्नी जया हों, या बेटे-बहू सब अभिनय के क्षेत्र में नाम कमा रहे हैं. अगर किसी फिल्म में बच्चन परिवार के कई सदस्य जुड़ जाए तो वो फिल्म तो ऐसे ही हिट हो जाएगी.

    अगर खबरों की माने तो जल्द ही अमिताभ अपने बेटे अभिषेक और बहू ऐश्वर्या के साथ एक ही फिल्म में नजर आ सकते हैं. वैसे इससे पहले 2005 में फिल्म 'बंटी और बबली' में तीनों एक गाने 'कजरारे कजरारे' में साथ नजर आए थे. ये गाना काफी हिट भी हुआ था.


    खबर है कि फिल्म निर्देशक गोरांग दोषी तीनों को अपनी फिल्म में एक साथ लेने वाले हैं. हालांकि अभी तक इस खबर पर किसी तरह का ऑफिशियल स्टेटमेंट नहीं आया है, लेकिन जल्द ही इस बात पर मुहर लग जाएगी.
  • साफगोई कहें या फिर जल्दबाजी!

    By Unknown →
    देहरादून: अब इसे साफगोई कहें या फिर जल्दबाजी का नतीजा, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पंद्रह साल पुराना राजनैतिक इतिहास फिर दोहरा दिया। शनिवार को पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कह डाला कि कार्यकर्ता किसी भी परिस्थिति, यानी हार-जीत के लिए तैयार रहें।
    उत्‍तराखंड विधानसभा चुनाव नतीजे आने से पहले ही मुख्यमंत्री के इस वक्तव्य के तमाम सियासी निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। हालांकि रविवार को उन्होंने मीडिया के समक्ष इस बयान पर स्थिति स्पष्ट करने की कोशिश जरूर की मगर इस घटनाक्रम ने वर्ष 2002 में पहले विधानसभा चुनाव की मतगणना के दौरान तत्कालीन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के रूप में जल्दबाजी में दी गई उनकी प्रतिक्रिया की याद जरूर दिला दी।
    उत्तराखंड में पहले विधानसभा चुनाव कांग्रेस ने मौजूदा मुख्यमंत्री व तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष हरीश रावत के नेतृत्व में लड़े थे। इस चुनाव से महज डेढ़ साल पहले ही उत्तराखंड (तब राज्य का नाम उत्तरांचल था) अलग राज्य के रूप में वजूद में आया था तो स्वाभाविक रूप से भाजपा को पूरा भरोसा था कि अलग राज्य निर्माण के श्रेय के रूप में जनादेश उसी के पक्ष में आएगा।
    चुनाव के दौरान माहौल भी कुछ इसी तरह का नजर आ रहा था। मतदान इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन पर हुआ था तो मतगणना शुरू होने के दो-ढाई घंटे बाद सामने आए आरंभिक रुझान भी कुछ इसी तरह का संकेत देते दिखे। भाजपा के तमाम दिग्गज अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबले बढ़त ले रहे थे। तब शायद किसी को भी गुमान नहीं था कि चंद मिनटों में चुनावी ऊंट किस कदर करवट बदलने वाला है।
    शुरुआती तीन घंटों के बाद स्थिति यह थी कि भाजपा बहुमत के आंकड़े से ज्यादा सीटों पर रुझान में आगे निकल गई और उसे टक्कर दे रही कांग्रेस लगभग डेढ़ दर्जन सीटों पर सिमटती महसूस हुई। तत्कालीन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष हरीश रावत स्वयं प्रदेश मुख्यालय में बैठकर मतगणना के रुझान पर नजर रखे हुए थे। कांग्रेस का प्रदर्शन उस वक्त इस कदर दयनीय लग रहा था कि रावत ने केवल रुझान के ही आधार पर अपनी पहली प्रतिक्रिया देते हुए लगभग हार स्वीकार कर ली। 
  • देशद्रोह के मुकदमे में 11 सिमी कार्यकर्ताओं को इंदौर की विशेष अदालत ने सुनाई उम्रकैद की सजा

    By Unknown →
    इंदौर: विशेष अदालत ने सिमी सरगना सफदर हुसैन नागौरी समेत इस प्रतिबंधित संगठन के 11 कार्यकर्ताओं को देशद्रोह के नौ साल पुराने मुकदमे में आज उम्रकैद की सजा सुनायी। अहमदाबाद की साबरमती केंद्रीय जेल में बंद 10 मुजरिमों की गुहार पर उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये फैसला सुनाया गया।


    विशेष अपर सत्र न्यायाधीश बीके पालोदा ने सभी 11 सिमी कार्यकर्ताओं को भारतीय दंड संहिता की धारा 124-ए (देशद्रोह ),153-ए (धर्म के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता फैलाना और सौहार्द्र पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले काम करना),विधिविरद्ध क्रियाकलाप अधिनियम और अन्य सम्बद्ध कानूनों के तहत दोषी करार दिया। मुजरिमों में सफदर हुसैन नागौरी , हाफिज हुसैन आमिल परवाज , शिवली , कमरूद्दीन , शाहदुली , कामरान , अंसार , अहमद बेग ,यासीन और मुनरोज शामिल हैं।
    सरकारी वकील विमल मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि मुनरोज को छोड़कर शेष 10 मुजरिम अहमदाबाद के साबरमती केंद्रीय जेल में बंद हैं। मामले की पिछली सुनवाई के दौरान उनकी गुहार के मुताबिक उन्हें फैसले के वक्त गुजरात की इस जेल से इंदौर नहीं लाया गया और उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अदालत के सामने पेश कर फैसला सुना दिया गया।

    मिश्रा ने बताया कि मुनरोज मामले में लम्बे समय से जमानत पर बाहर चल रहा था। वह फैसले के वक्त इंदौर की अदालत के सामने पेश हुआ। मामले में दोषी करार दिये जाने के बाद उसे अदालत से शहर की केंद्रीय जेल भेज दिया गया। मामले में मुजरिम करार दिये गये 11 सिमी कार्यकर्ताओं को इंदौर से 26 और 27 मार्च 2008 की दरम्यानी रात पिस्तौलों,कारतूसों, नकाबों और कथित भड़काउ साहित्य के साथ गिरफ्तार किया गया था। इनकी निशानदेही पर घातक विस्फोटक भी बरामद किये गये थे।
  • बूंदी की नवल सागर झील में बोटिंग और वाटर फन को मंजूरी

    By Unknown →
    छोटीकाशी के नाम से विख्यात बूंदी में आने वाले देशी-विदेशी सैलानियों को अब माउंटआबू की नक्की झील जैसे नौका विहार की सुविधा उपलब्ध होगी। वे झील के बीच पानी में अटखेलियां कर सकेंगे। बूंदी जिले के लोगों को भी नौकायन का लुत्फ उठाने दूर नहीं जाना पड़ेगा। यह सब होगा तारागढ़ महल के निकट स्थित नवल सागर झील में।
    प्रशासन ने इसके लिए तमाम तैयारियां पूरी कर ली। नगर परिषद ने नवल सागर तालाब में नवल सागर बोटिंग एवं वाटर फन के तहत नौकायन के लिए निविदा निकाली थी। जिसमें कोटा की सीआरएफ एडवेंचर के नाम तीन वर्ष के लिए निविदा स्वीकृत हुई। उक्त कंपनी को परिषद ने वर्कऑर्डर जारी कर दिया। अब जल्द झील में नौकायन शुरू किया जाएगा।
    पर्यटकों व बूंदी के बाशिंदों को नवल सागर झील में आठ तरह की नौकायन की सुविधा मिलेगी। इसमें शिकारा बोट, मोटर बोट, वाटर रोलर, वाटर जोरबिंग, कैयाक, फैमेली स्किंग, पैडल बोट व वाटर स्कूटर झील में चलाए जाएंगे। जिनमें सवार होकर लोग झील में जा सकेंगे, पानी में भ्रमण का मजा ले सकेंगे। यहां पर वाटरबोट के जरिए जल क्रीड़ा करने का मौका मिलेगा।
    शहर में हर वर्ष सैकड़ों की तादाद में देशी -विदेशी पर्यटक भ्रमण के लिए आ रहे हैं। यहां आने वाले लोगों को नवल सागर झील में बोटिंग की सुविधा मिलेगी। इससे नगर परिषद की आय तो बढ़ेगी ही, साथ ही पर्यटन व्यवसाय को भी बढ़ावा मिलेगा। पर्यटन से जुड़े लोगों के रोजगार में वृद्धि होने की संभावनाएं बढ़ गई।जानकारों की माने तो नौकायन का सही संचालन हुआ तो जिले में पर्यटकों की तादाद भी बढ़ेगी।
    झील में नौकायन को मंजूरी मिल गई, लेकिन इसकी सफाई पर भी ठोस ध्यान देना होगा। अभी बालचंद पाड़ा क्षेत्र से आने वाले गंदे नालों का पानी इसी झील में समा रहा है। साथ ही कई होटल व्यवसायियों ने नालियों का रुख झील की ओर कर दिया। जानकारों की माने तो नगर परिषद इसके लिए भी ठोस निर्णय करें।
  • एक पीएनआर नंबर के सभी यात्रियों को दिखाना होगा आई कार्ड

    By Unknown →
    रांची। ट्रेन में अब आरक्षित सीटों पर यात्रा करने वाले सभी यात्रियों को अपना ओरिजनल पहचान पत्र दिखाना होगा।

    यदि एक पीएनआर नंबर पर एक से अधिक यात्रियों का टिकट है तो सभी यात्रियों को अपना-अपना परिचय पत्र दिखाना पड़ेगा।

    ऐसा नहीं करने वाले यात्रियों की सीट को वैध नहीं माना जाएगा और उस सीट को दूसरे यात्री को दे दिया जाएगा।

    इससे पहले अब तक एक ही पीएनआर नंबर पर किसी एक यात्री द्वारा पहचान पत्र दिखाए जाने पर शेष यात्रियों को अपना पहचान पत्र नहीं दिखाना पड़ता था। पर अब ऐसा नहीं होगा।

    इसे लेकर रेलवे ने नया सर्कुलर जारी किया है। कई बार फोटो कॉपी पहचान पत्र दिखाकर भी यात्री काम चला लेते थे, लेकिन अब इसे वैध नहीं माना जाएगा।

    रांची रेल मंडल के सीनियर डीसीएम (डिविजनल कमर्शियल मैनेजर) नीरज कुमार का कहना है कि सभी टीटीई को रेलवे के इस आदेश का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया गया है।







  • जियो को एयरटेल का जवाब: नेशनल रोमिंग ख़त्म करने की घोषणा

    By Unknown →
    नई दिल्ली. भारती एयरटेल ने मार्केट में जियो से मुकाबले के लिए आमने-सामने है। पिछले दिनों मुकेश अंबानी द्वारा जियो की प्राइम मेंबरशिप समेत नए टैरिफ प्लान की घोषणा के बाद भारती एयरटेल ने नेशनल रोमिंग चॉर्जेज खत्‍म करने का फैसला लिया है। एयरटेल का नया प्लान 1 अप्रैल से लागू किया जाएगा। हालांकि इस बड़ी अनाउंसमेंट के बावजूद मार्केट स्टॉक में एयरटेल को कोई फायदा नहीं मिला। कंपनी का स्टॉक रेट नीचे गिरा है।
    क्या होगा एयरटेल कस्टमर्स को फायदा
    भारती एयरतेल के इस कदम से उपभोक्ताओं को देशभर में इनकमिंग और आउटगोइंग कॉल और डाटा के लिए किसी तरह का रोमिंग चॉर्ज नहीं देना पड़ेगा। बता दें कि जियो अपने उपभोक्ताओं को डाटा, कॉलिंग और रोमिंग फ्री देता है। जियो की वजह से एयरटेल समेत कई टेलिकॉम कंपनियों पर मार्केट में बने रहने के लिए दबाव है।


    एयरटेल ने कम की कॉल रेट
    नेशनल रोमिंग खत्‍म करने की घोषणा के साथ ही एयरतेल ने अपनी कॉल दरें भी काफी कम की है। एयरतेल के उपभोक्ता बिना मोबाइल बिना बदले ही नंबर रख सकते हैं। अभी रोमिंग चार्ज की वजह से एयरतेल उपभोक्ताओं को दूसरे सर्किल में जाने पर कॉलिंग और फोन रिसीव करने पर भारी रोमिंग शुल्क देना पड़ता था।
  • रिजिजू-तिवारी ने गुरमेहर के दिमाग पर उठाए सवाल, सिम्हा ने दाऊद से की तुलना

    By Unknown →
    दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में मारपीट की घटना के बाद सोशल मीडिया में एबीवीपी के खिलाफ अभियान चलाने वाली डीयू की स्टूडेंट गुरमेहर कौर के खिलाफ केंद्र सरकार के मंत्री और बीजेपी सांसद खड़े हो गए हैं. गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने छात्रा के दिमाग को प्रदूषित बताया है.

    किरन रिजिजू ने रंदीप हुड्डा के ट्वीट को कोट करते हुए ट्वीट कर कहा, 'इस युवा लड़की के दिमाग को किसने प्रदूषित किया, एक मजबूत सेना हमेशा युद्ध को टालती है.'


    दरअसल एबीवीपी के खिलाफ सोशल मीडिया में अभियान चलाने के साथ ही गुरमेहर की पोस्ट जिसमें उसने कहा, 'पाकिस्तान ने नहीं, बल्कि युद्ध ने मेरे पिता को मारा है' भी काफी वायरल हुआ है. रिजिजू के ट्वीट पर लोगों ने तरह-तरह के कमेंट किए हैं.


    रिजिजू के अलावा दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने कहा है कि हो सकता है कि कोई इस छात्रा का इस्तेमाल कर रहा हो. आम आदमी पार्टी या फिर कांग्रेस इसके दिमाग में गलत बात डाल रहे हैं. मनोज तिवारी ने अपने बयान का वीडियो इसके साथ लगाया है.


    गुरमेहर लेडी श्रीराम कॉलेज की छात्रा है. इसने एबीवीपी के खिलाफ सोशल मीडिया में अभियान चलाया था कि 'मैं एबीवीपी से नहीं डरती'. यह अभियान सोशल मीडिया में बहुत वायरल हुआ था.
  • मध्यप्रदेश के 754 डेंटल छात्रों को सुप्रीम कोर्ट से राहत

    By Unknown →
    भोपाल। मध्‍यप्रदेश के करीब करीब 754 डेंटल छात्रों को सुप्रीम कोर्ट ने राहत देते हुए शासन द्वारा उन पर की गई कार्रवाई पर रोक लगा दी है। हाईकोर्ट ने 16 दिसंबर 2016 के आदेश पर रोक लगाते हुए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट में 2014-15 सत्र से बाहर हुए छात्रों को राहत प्रदान की है।

    इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को दिया आदेश इन छात्रों के दाखिले पर विचार किया जाए साथ ही इस संबंध में नोटिस जारी कर जवाब भी मांगा है।
  • सचिन ने कंगारुओं को दी नसीहत, बताया- विराट की टीम क्या करने में है सक्षम?

    By Unknown →
    नई दिल्ली. महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने हार के बावजूद भारतीय टीम का समर्थन करते हुए कहा कि विराट कोहली की अगुआई वाली टीम इंडिया पुणे में पहले टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शर्मनाक हार के बाद वापसी करेगी. भारत को पहले टेस्ट में 333 रन से शिकस्त झेलनी पड़ी और टीम दोनों ही पारियों में 110 रन बनाने में भी नाकाम रही.


    यहां मैराथन को हरी झंडी दिखाने वाले तेंदुलकर ने कहा कि चार मैचों की टेस्ट सीरीज में अभी कुछ तय नहीं है. मैराथन को हरी झंडी दिखाने के बाद तेंदुलकर ने कहा कि भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज पर बात करूं तो यह हमारे लिए कड़ा टेस्ट मैच था. लेकिन यह खेल का हिस्सा है. इस हार का मतलब यह नहीं कि हमने सीरीज गंवा दी, सीरीज में अब भी कुछ तय नहीं है.

    कंगारू भी जानते हैं हमारा दम

    उन्होंने कहा कि भारतीय टीम के जज्बे को जानने के कारण मुझे पता है कि वे वापसी करेंगे. ऑस्ट्रेलियाई टीम को भी इस बारे में पता है क्योंकि जब हम उन्हें हराते हैं तो हमें भी पता होता है कि वे कड़ी वापसी करेंगे. मुझे कोई संदेह नहीं है कि भारतीय टीम वापसी करेगी और कड़ी प्रतिस्पर्धा देगी.

    स्पर्धा और कड़ी प्रतिस्पर्धा ही रोमांचक बनाती है मैच

    तेंदुलकर ने कहा कि प्रत्येक टीम और खिलाड़ी के करियर में मुश्किल लम्हें आते हैं और यही खेल को रोमांचक बनाता है. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक जड़ने के बाद 2013 में संन्यास लेने वाले तेंदुलकर ने कहा कि अच्छे लम्हें भी होते हैं और मुश्किल लम्हें भी और यह इस पर निर्भर करता है कि आप गिरने के बाद अपने पैरों पर फिर कैसे खड़े होते हो और प्रतिस्पर्धा देते हो. यही चीज खेल को रोमांचक बनाती है. खिलाड़ी इसी के लिए खेलते हैं.
  • क्वीन एलिजाबेथ ने अमिताभ को बकिंघम पैलेस बुलाया, बिग बी के पास नहीं वक्त

    By Unknown →
    बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन को क्वीन एलिजाबेथ ने बकिंघम पैलेस में होने वाले एक कार्यक्रम का न्योता दिया था, लेकिन अमिताभ ने उसे ठुकरा दिया है. दरअसल बकिंघम पैलेस में यूके और इंडिया का एक सांस्कृतिक कार्यक्रम इस महीने के अंत में होने वाला है, जिसके लिए खासतौर पर अमिताभ को आमंत्रण दिया गया था.

    90 साल की महारानी एलिजाबेथ दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक पार्टनरशिप बनाना चाहती हैं. इसके लिए अमिताभ को खासतौर पर बुलावा भेजा गया था. अमिताभ अपनी व्यस्तता के कारण इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पा रहे हैं.


    एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक अमिताभ ने इस निमंत्रण के लिए महारानी

    एलिजाबेथ का आभार जताया है और कार्यक्रम में हिस्सा ना ले पाने के लिए माफी मांगी है. अमिताभ फिलहाल रामगोपाल वर्मा की फिल्म सरकार-3 के ट्रेलर लॉन्च में बिजी है, जिसकी वजह से उनके पास लंदन जाने का वक्त नहीं है. इसके अलावा अमिताभ 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान' फिल्म में अमिताभ के साथ नजर आएंगे.
  • गुजरात में ISIS की दस्तक, दो संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार, मोबाइल में बम बनाने का वीडियो

    By Unknown →


    गुजरात के राजकोट और भावनगर से एटीएस ने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के दो संदिग्ध आतंकवादियों को पकड़ा है. दोनों संदिग्ध आतंकियों के आलाकमान के संपर्क में थे.

    एटीएस को दोनों संदिग्धों के पास से अहम दस्तावेज मिले हैं. दोनों के नाम वसीम और नईम है. दोनों सगे भाई हैं. चौंकाने वाली बात यह है कि उनके पास से जब्त किए लैपटॉप में बम बनाने की टेक्नोलॉजी थी. इसके अलावा, बरामद मोबाइल में बम बनाने का वीडियो था.


    एटीएस से पूछताछ में दोनों भाइयों ने बताया कि उनकी योजना चोटिला चामुंडा मंदिर में धमाके करने की थी. इसे अंजाम देने के लिए लगभग पूरी तैयारी कर ली गई थी.

    अहम दस्तावेजों के अलावा, संदिग्धों के पास सुतली बम, गन पाउडर और बैटरी मिली है. वसीम और नईम के पिता आरिफ सौराष्ट्र यूर्निवसिटी में कर्मचारी हैं. शौकिया तौर पर वे क्रिकेट मैच में अंपायरिंग करते हैं. पिछले एक महीने से एटीएस की वसीम और नइम की गतिविधियों पर पैनी नजर थी.

    आतंकवाद निरोधक दस्ते के पुलिस उपाधीक्षक केके पटेल ने कहा कि गुप्त सूचना के आधार पर गुजरात एटीएस टीम ने वसीम को राजकोट और उसके भाई नईम को भावनगर से गिरफ्तार किया. एटीएस ने शनिवार रात दो टीमें बनाई थी और उन दोनों को पकड़ा.

    वे बम बनाने वाली सभी सामग्री के साथ तैयार थे और अगले दो दिनों में धार्मिक स्थानों पर धमाके करने की साजिश कर रहे थे. उनकी गिरफ्तारी से बड़ा आतंकवादी हमला टल गया. वे टि्वटर और अन्य सोशल मीडिया नेटवर्कों के माध्यम से देश के बाहर आईएसआईएस कार्यकर्ताओं के संपर्क में थे.

    एटीएस के पुलिस अधीक्षक हिमांशु शुक्ला ने कहा कि यह सच है कि चोटिला मंदिर उनके निशाने पर था. लेकिन हम आगे की जांच को ध्यान में रखकर इस समय और ज्यादा कुछ नहीं बता सकते.

    हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि इस्लामिक स्टेट से प्रभावित 67 युवकों को देश के अलग-अलग कोनों से गिरफ्तार किया गया है. ये लोग आतंकी हमले का योजना बना रहे थे. केंद्रीय खुफिया एजेंसियों और स्टेट एजेंसियों के सहयोग से इन लोगों को पकड़ा गया और खतरनाक साजिश टल गई.
  • पूर्वांचल: कहीं लालू होंगे दामाद के साथ तो कहीं केंद्रीय मंत्रियों की फौज के साथ भोजपुरी स्टार

    By Unknown →
    उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचार अभियान जोरों पर है. दर्जनों नेता इस समय पूर्वांचल के जिलों में एक-एक वोट प्रत्याशियों के लिए जुटाने की जीतोड़ कोशिश कर रहे हैं. रविवार को भी पूर्वांचल के कई जिले नेताओं की हुंकार से गूंजते नजर आएंगे.

    कहीं लालू अपने बेटे तेज प्रताप के साथ खड़े दिखाई देंगे तो कहीं रवि किशन और मनोज तिवारी वोट मांगते नजर आएंगे. इनके अलावा अखिलेश, डिंपल, मायावती और अमित शाह, राजनाथ सिंह सहित भाजपा के मंत्रियों की फौज तो रहेगी ही मैदान में.


    बिहार प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव अपने दामाद और सांसद तेज प्रताप सिंह यादव रविवार को देवरिया में चुनावी सभाएं कर समाजवादी पार्टी के लिए वोट मांगेंगे. लालू और तेज प्रताप पथरदेवा विधानसभा क्षेत्र, रामपुर कारखाना और बैकुंठपुर में चुनाव सभा को सम्बोधित करेंगे.

    भोजपुरी स्टार मनोज तिवारी और रवि किशन महराजगंज, जौनपुर, देवरिया और वाराणसी में अलग-अलग सभाएं करेंगे.

    भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी महराजगंज में फरेन्दा, नौतनवां, महराजगंज, जौनपुर के बदलापुर के बाद मिर्जापुर की चुनार विधानसभा में जनसभाओं को सम्बोधित करेंगे.

    वहीं भोजपुरी अभिनेता रविकिशन भी देवरिया में रोड शो के दौरान भोजपुरी तड़का लगाएंगे. रवि काशी नगरी वाराणसी की उत्तर विधानसभा में दो जनसभाएं भी करेंगे.

    इनके अलावा समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 26 फरवरी को महाराजगंज एवं कुशीनगर की चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे। वे महाराजगंज में दो और कुशीनगर में पांच सभाओं में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान की अपील करेंगे.

    वहीं सांसद डिंपल यादव आज जौनपुर और गाजीपुर में तीन चुनावी सभाओं को सम्बोधित करेंगी.

    बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती बलिया और गोरखपुर जिले में चुनावी जनसभा को सम्बोधित करेंगी. वह बलिया में हैबतपुर और गोरखपुर जिले के चम्पादेवी पार्क के सामने प्राधिकरण की रिक्त भूमि, निकट तारामण्डल में जनसभा करेंगीं.

    भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी छह जनसभाएं करेंगे. इनमें महराजगंज की पनियरा विधानसभा, आजमगढ गोपालपुर और आजमगढ़ सदर में जनसभा करने के बाद जौनपुर शाहगंज विधानसभा, आखिरी में जौनपुर की ही मडियाहूं विधानसभा में जनसभाओं को सम्बोधित करेंगे.

    भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्य कुशीनगर में दो, देवरिया में तीन और बलिया में एक जनसभा को संबोधित करेंगे.

    गृहमंत्री राजनाथ सिंह राजनाथ सिंह कुशीनगर की सदर विधानसभा के बाद देवरिया की बरहज विधानसभा, बलिया की सिकन्दपुर विधानसभा होते हुए गाजीपुर जंगीपुर विधानसभा समेत चार जनसभाओं को संबोधित करेंगे.

    केंद्रीय मंत्री उमा भारती गोरखपुर की सहजनवा विधानसभा, गोरखपुर ग्रामीण, चिल्लूपार विधानसभा समेत पिपराइच में जनसभाएं करेंगी.

    केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी महाराजगंज जिले की सिसवां विधानसभा, जौनपुर की सदर विधानसभा के बाद चन्दौली की सकलडीहा विधानसभा की जनसभाओं को सम्बोधित करेंगी.






    वहीं केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा बलिया, कुशीनगर, देवरिया समेत आजमगढ़ में जनता के बीच होंगे.
  • आर्मी भर्ती पेपर लीक: 350 छात्र हिरासत में, 18 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

    By Unknown →
    महाराष्ट्र में आर्मी भर्ती परीक्षा का लीक पेपर का परीक्षा के पेपर से मिलान हो गया है, जिसके बाद पुलिस ने 18 लोगों को गिरफ्तार किया है. ठाणे पुलिस की अपराध शाखा ने महाराष्ट्र और गोवा के अलग-अलग इलाकों में छापेमारी कर इन लोगों को गिरफ्तार किया है.

    इस मामले में ठाणे पुलिस ने 350 छात्रों को अलग-अलग जगहों से पकड़ा, जिन्होंने लीक हुए पेपर को लिया था. अब इन लोगों से पूछताछ की जा रही है.

    दरअसल, ठाणे क्राइम ब्रांच को महाराष्ट्र के कई शहरों में आर्मी भर्ती के लिए रविवार को होने वाली परीक्षा से पहले पर्चा लीक होने की सूचना मिली थी. इसके बाद क्राइम ब्रांच ने मामले को गंभीरता से लेते हुए महाराष्ट्र और गोवा में कई जगहों पर देर रात से छापेमारी की और 18 लोगों को गिरफ्तार किया.

    ठाणे अपराध शाखा यूनिट-1 के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक नितिन ठाकरे ने कहा कि पुलिस ने महाराष्ट्र और गोवा के विभिन्न हिस्सों से करीब 350 छात्रों को भी हिरासत में लिया, जिन्हें कथित रूप से परीक्षा के पर्चे लीक होने से फायदा हुआ था.

    कोचिंग क्लास चलाने वाले कुछ लोगों और सेना के कुछ कर्मचारियों ने कथित रूप से छात्रों को लॉज और दूसरी जगहों पर उत्तर लिखने के लिए परीक्षा के पर्चे दिए थे.

    पुलिस के अनुसार यह तय हुआ था कि छात्र लीक पर्चे के लिए हर आरोपी को दो लाख रुपए देंगे. पुलिस ने बताया कि सूचना के आधार पर छापेमारी की गई, जिसमें ठाणे में अलग-अलग जगहों पर कुछ छात्रों को पर्चे लिखते पाया गया.

    सेना के कुछ अधिकारियों पर शक

    ये सभी लोग आर्मी भर्ती की एकेडमी चलाते हैं. आरोप है कि यही पेपर लीक करते थे. ठाणे क्राइम ब्रांच के मुताबिक ये छापेमारी पुणे, नागपुर और गोवा की कई जगहों पर की गई.

    छापेमारी के दौरान हैरान करने वाली बात ये सामने आई कि जिन 18 लोगों को ठाणे पुलिस ने हिरासत लिया था. उनसे दो लोग आर्मी बैकग्राउंड के हैं. हालांकि दोनों ही लोवर रैंक के अधिकारी हैं, लेकिन ठाणे पुलिस का कहना कि बिना आर्मी अधिकारियों की मिलीभगत से यह मुमकिन नहीं है.

    बता दें कि आर्मी का सबसे बड़ा बेस महाराष्ट्र में नागपुर और पुणे में है. भारतीय सेना का आर्मी बेस भी गोवा में है. इसलिए पुलिस ने इन तीन जगहों पर छापेमारी की है. छापेमारी के लिए तकरीबन 10-15 टीम क्राइम ब्रांच ने बनाई थी.



















  • अफगानिस्तान: ड्रोन हमले में मारा गया केरल का रहने वाला ISIS लड़ाका

    By Unknown →
    पिछले साल आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट(ISIS) में शामिल हुआ केरल का एक युवक हफीजुद्दीन शुक्रवार को अफगानिस्तान में हुए ड्रोन अटैक में मारा गया। इस बात की जानकारी खुद उसके परिवार ने दी है। सूत्रों के अनुसार केरल के कारसगोड जिले स्थित पडने गांव में 24 साल के हफीजुद्दीन की मां को अन्य आईएस लड़ाके के जरिए मौत की सूचना मिली। हफीसुद्दीन टी. कोलेथ उन 21 लोगों में शामिल था, जो 2016 में भारत छोड़कर इस्लामिक स्टेट में शामिल होने के लिए चले गए थे।

    उत्तर केरल से आईएस में शामिल होने गया अशफाक माजिद ने टेलिग्राम ऐप के जरिए हफीज के परिवार को भेजे संदेश में कहा, "हफीस की कल ड्रोन हमले में मौत हो गई। हम उन्हें शहीद मानते हैं, अल्लाह इस बारे में बेहतर जानता है।" मिली खबर के मुताबिक हफीसुद्दीन को अफगानिस्तान में ही दफना दिया गया है। कासरगोड में आईएस के नेटवर्क की पड़ताल करने में जुटी राष्ट्रीय जांच एजेंसी को भी इस बात की जानकारी मिली है। हफीजुद्दीन 2014 में गांव आने से पहले खाड़ी देशों में रहकर आया था।

    कहा जा रहा है कि उसे कोझीकोड स्थित पीस इंटरनैशनल स्कूल में काम करने वाले अबुल राशीद अब्दुल्ला ने कट्टरता की ओर धकेलने का काम किया था। आईएस में शामिल होने वाला यह ग्रुप जून, 2016 में आईएस के कब्जे वाले अफगानिस्तान के नानगरहर सूबे में चला गया था। एनआईए ने अपनी जांच में पाया था कि एनआईटी कैलिकट से ग्रैजुएट हुए शाजीर अब्दुल्ला केरल में आईएस के मॉड्यूल को नियंत्रित कर रहा था। हालांकि अभी यह जानकारी नहीं मिल पाई है कि हफीज उसी इलाके में था या फिर वह किसी अन्य इलाके में आईएस की गतिविधियों में शामिल था। अशफाक से मिले टेलिग्राम मेसेज में कहा गया है, 'ग्रुप के अन्य सदस्य भी अपनी शहादत देने के लिए तैयार हैं।'

    आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने रविवार को गुजरात के राजकोट और भावनगर से दो संदिग्ध आईएसआईएस के आतंकियों को गिरफ्तार किया है। सूत्रों के मुताबिक, दोनों भाई हैं और अगले कुछ दिनों में गुजरात में धार्मिक स्थानों पर सिलसिलेवार बम धमाके करने की कथित रूप से साजिश रच रहे थे। एटीएस के पुलिस उपाधीक्षक केके पटेल ने कहा, एक गुप्त सूचना के आधार पर गुजरात एटीएस टीम ने आईएसआईएस के साथ संबंध को लेकर दो संदिग्ध आतंकियों को पकड़ा है। उन्होंने कहा, दोनों भाई हैं और उनके नाम वसीम और नईम रामोदिया हैं। वसीम को राजकोट से और उसके भाई को भावनगर से गिरफ्तार किया गया।
  • व्यापमं में बिचौलियों के नाम बताने में भी हुआ फर्जीवाड़ा

    By Unknown →
    सीबीआई को संदेह है कि व्यापम से जुड़े 96 मामलों में उम्मीदवारों ने बिचौलियों की जानकारी देने में फर्जीवाड़ा किया है। असली बिचौलियों को बचाने के लिए उन्होंने ऐसे गरीब लोगों के नाम लिखा दिए जिनकी मौत हो चुकी है। सीबीआइ सूत्रों के अनुसार, व्यापम द्वारा आयोजित मेडिकल प्रवेश परीक्षा में बड़ी संख्या में उम्मीदवारों ने अपने बदले मेधावी छात्रों को बिठाया था। इसके लिए बिचौलियों ने अभ्यर्थियों से संपर्क किया।

    उनकी रजामंदी के बाद अन्य बिचौलियों को उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, दिल्ली और राजस्थान से मेधावी छात्रों को खोजकर लाने की जिम्मेदारी दी गई, जो मेडिकल परीक्षा पास करने में सक्षम थे। सूत्रों ने कहा कि उम्मीदवारों को दूसरे बिचौलियों के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं थी, जो उनके लिए डमी परीक्षार्थी ढूंढ रहे थे।

    बड़ी संख्या में फोटोग्राफरों को लगाकर ऑनलाइन फॉर्म में तस्वीरों से छेड़छाड़ की गई। यह काम इस तरह से किया गया कि उम्मीदवारों और उनके बदले परीक्षा देने वाले छात्रों का चेहरा मिलता-जुलता नजर आए। जब घोटाले का भंडाफोड़ हो गया, तो छात्रों से कहा गया कि वे ऐसे गरीब लोगों का नाम बिचौलिये के तौर पर बता दें, जिनकी मौत हो चुकी है।

    इसका मकसद असली बिचौलियों और डमी परीक्षार्थियों को पुलिस से बचाना था। जब सीबीआइ ने जांच का काम अपने हाथ में लिया तो पता चला कि लगभग 96 मामलों में फर्जी बिचौलियों का नाम लिखा दिया गया है।
  • संकट से उबारते हुए धोनी ने ठोंका शतक, टीम को दिलाई जीत

    By Unknown →
    कोलकाता। अपने गृह राज्य झारखंड की पहली बार कप्तानी कर रहे महेंद्र सिंह धोनी ने रविवार को धूम मचा दी। विजय हजारे ट्रॉफी में छत्तीसगढ़ के शानदार शतक ठोंकते हुए धोनी ने छत्तीसगढ़ के सामने 243 रनों का लक्ष्य रखा। जिसके जवाब में छत्तीसगढ़ की पूरी टीम 165 रनों पर सिमट गई और झारखंड ने 78 रनों से मैच अपने नाम किया।

    ईडन गार्डेन्स में खेले गए ग्रुप डी के मुकाबले में एक वक्त झारखंड की टीम महज 57 रनों पर 6 विकेट खो चुकी थी। जिसके बाद धोनी ने अपना खतरनाक खेल दिखाते हुए शानदार 129 रनों की शतकीय पारी खेल डाली। इस पारी में उन्होंने 6 गगनचुंबी छक्के और 10 करारे चौको भी लगाए।

    एक दिन पहले ही कर्नाटक के खिलाफ कप्तान धोनी ने 43 रनों की पारी खेली थी जिसमें उनकी टीम को हार का सामना करना पड़ा। लेकिन आज धोनी ने अपनी टीम को मुश्किल से उबारने वाली शतकीय पारी खेल खुद के फॉर्म में होने के पूरे संकेत दे दिए हैं।

    आज मैच में जब कप्तान धोनी मैदान पर उतरे तो झारखंड की टीम 43 के स्कोर पर 4 विकेट गंवाकर मुश्किल में फंसी हुई थी। धोनी के क्रीज पर पहुंचने के बाद टीम ने 14 रनों के अंदर ईशान जग्गी और कौशल सिंह के भी विकेट गंवा दिए लेकिन उसके बाद शाहबाज नदीम (53) के साथ मिलकर 151 रनों की अहम साझेदारी कर टीम की मैच में वापसी करवा दी।

    अंतिम ओवरों में भी धोनी अपने चिरपरिचित अंदाज में नजर आए और टीम को 243 रनों के स्कोर तक पहुंचा कर दी दम लिया। पारी की आखिरी गेंद पर जाकर कप्तान धोनी की ये विस्फोटक आंधी समाप्त हुई।



  • मांगों को लेकर राजस्थान विधानसभा पर शिक्षकों का "हल्ला बोल"

    By Unknown →

    • सरकार से आश्वासन मिलने के बाद शिक्षकों ने रद्द किया आंदोलन 
    • हक जल्द नहीं मिला तो मार्च के अन्त में दोबारा करेंगे महारैली 

    जयपुर।  अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी महासंघ (एकीकृत) के तत्वावधान में राजस्थान शिक्षक संघ युवा के चालीस हजार शिक्षकों की मांगों को लेकर विधानसभा सभा के बजट सत्र के प्रारंभ होने के साथ विधानसभा पर शिक्षकों ने हल्ला बोला। रैली की शुरुआत बाईस गोदाम सर्किल के पास पेट्रोल पंप से हुई जहां हजारों शिक्षकों का समूह सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए आगे बढ़ा और 'वसुंधरा राजे हाय हाय' के नारे लगाते हुए शिक्षकों ने पुलिस के लगाये बैरिगेट पर चढ़ने की कोशिश की। इस दौरान शिक्षकों की पुलिस के साथ जबरदस्त झड़प हुई। इस रैली में जयपुर, जैसलमेर, धौलपुर, करौली, राजसमन्द, टोंक, बांरा, अजमेर सीकर, उदयपुर आदि जिलों से शिक्षकों ने भाग लिया था। शिक्षकों में सरकार के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त था ।
     शिक्षकों की रैली का नेतृत्व राजस्थान शिक्षक संघ युवा के प्रदेश अध्यक्ष आर सी जाखड ने किया। रैली की वजह पूछे जाने पर प्रवेन्द्र कुमार मीणा एवं गजेन्द्र मोबारसा ने बताया कि साल 2012 में नियुक्त 40000 शिक्षकों का दो वर्ष का परिविक्षा काल सितंबर 2014 में संतोषजनक हो जाने के बाद भी सभी लाभ नहीं दिये जा रहे हैं। प्रत्येक शिक्षक साथी का लगभग 2.60 लाख का एरियर भी सरकार नहीं दे रही है।

    रैली को मिलता भारी समर्थन देख सरकार ने महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष गजेंद्र सिंह राठौड एवं आर सी जाखड के नेतृत्व में सात सदस्यीय दल को वार्ता के लिए बुलाया। शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने आर सी जाखड को आश्वासन देते हुए स्थायीकरण एवं एरियर की समस्या का जल्द निस्तारण करने का कहा।

    आश्वासन मिलने के बाद शिक्षकों ने अपना आंदोलन भले रोक दिया हो लेकिन शिक्षकों का हक जल्द नहीं दिया गया तो मार्च के अन्त में महारैली का आयोजन किया जायेगा।
  • जानें, अदभुत जानकारी, क्यों पूजा जाता है शिव को ही लिंग रूप में

    By Unknown →
    वायु पुराण के अनुसार प्रलयकाल में समस्त सृष्टि जिसमें लीन हो जाती है और पुन: सृष्टिकाल में जिससे प्रकट होती है उसे लिंग कहते हैं। इस प्रकार विश्व की संपूर्ण ऊर्जा ही लिंग की प्रतीक है। वस्तुत: यह संपूर्ण सृष्टि बिंदु-नाद स्वरूप है। बिंदु शक्ति है और नाद शिव। यही सबका आधार है। बिंदु एवं नाद अर्थात शक्ति और शिव का संयुक्त रूप ही तो शिवलिंग में अवस्थित है। बिंदु अर्थात ऊर्जा और नाद अर्थात ध्वनि। यही दो संपूर्ण ब्रह्मांड का आधार है। इसी कारण प्रतीक स्वरूप शिवलिंग की पूजा-अर्चना की जाती है।



    ब्रह्मांड का प्रतीक ज्योतिर्लिंग :

    शिवलिंग का आकार-प्रकार ब्रह्मांड में घूम रही हमारी आकाशगंगा की तरह है। यह शिवलिंग हमारे ब्रह्मांड में घूम रहे पिंडों का प्रतीक है। शिवलिंग का अर्थ है भगवान शिव का आदि-अनादी स्वरूप। शून्य, आकाश, अनन्त, ब्रह्माण्ड और निराकार परमपुरुष का प्रतीक होने से इसे लिंग कहा गया है। स्कन्दपुराण में कहा है कि आकाश स्वयं लिंग है। धरती उसका पीठ या आधार है और सब अनन्त शून्य से पैदा हो उसी में लय होने के कारण इसे लिंग कहा है। वातावरण सहित घूमती धरती या सारे अनन्त ब्रह्माण्ड (ब्रह्माण्ड गतिमान है) का अक्स/धुरी ही लिंग है। पुराणों में शिवलिंग को कई अन्य नामों से भी संबोधित किया गया है जैसे- प्रकाश स्तंभ लिंग, अग्नि स्तंभ लिंग, उर्जा स्तंभ लिंग, ब्रह्माण्डीय स्तंभ लिंग आदि। लेकिन बौद्धकाल में धर्म और धर्मग्रंथों के बिगाड़ के चलते लिंग को गलत अर्थों में लिया जाने लगा जो कि आज तक प्रचलन में है।
  • 2.6 करोड़ वोटर तय करेंगे 839 प्रत्याशियों का भाग्य

    By Unknown →
    यूपी चुनाव की वोटिंग का आगाज शनिवार से होने जा रहा है। पहले चरण में प्रदेश के 15 जिलों में चुनाव होंगे और इन जिलों की 73 विधानसभा सीटों के 839 उम्मीदवारों की किस्मत वोटिंग मशीन में बंद हो जाएगी। वेस्ट यूपी में शामिल इन 15 जिलों में नेता भले ही विकास की बातें करें, लेकिन उनका मुख्य एजेंडा अब भी सांप्रदायकिता और क्राइम है। बीजेपी, सपा-कांग्रेस और बसपा के अलावा रालोद को भी लग रहा है कि चुनाव का ये फेज उनके लिए काफी अहम है। चुनाव का ये फेज ऐसा है, जिसमें इन दलों के अपने परंपरागत वोटों के साथ दूसरे दल के वोट बैंक में सेंध लगाने पर भी जोर है।

    नई दिल्‍ली: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान शनिवार को होगा. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 15 जिलों की 73 विधानसभा सीटों पर मतदान सुबह आठ बजे से शुरू होगा. इस चरण में 2,60,17,128 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे. पहले चरण में 839 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम मशीनों में कैद हो जाएंगी.

    यूपी में पहले चरण में 98 राजनीतिक दल मैदान में होंगे। इनमें पांच राष्ट्रीय दल, आठ क्षेत्रीय दल, 85 गैर-मान्यता प्राप्त दल और 293 निर्दलीय अपनी किस्मत आजमाएंगे। पहले चरण में मैदान में उतर रहे प्रत्याशियों में 302 (36 प्रतिशत) ने खुद को करोड़पति बताया है। पहले चरण में उतर रहे प्रत्याशियों की औसत संपत्ति 2.81 करोड़ रुपये है। वहीं जिन 836 उम्मीदवारों के हलफनामों का विश्लेषण किया गया उनमें से 168 ( 20 प्रतिशत) पर आपराधिक मामले हैं। इनमें से 143 (17 प्रतिशत) पर गंभीर आपराधिक मामले हैं। पहले चरण में मतदाताओं की संख्या के लिहाज से गाजियाबाद का साहिबाबाद सबसे बड़ा विधानसभा क्षेत्र है, वहीं एटा का जलेसर सबसे छोटा क्षेत्र है। आगरा दक्षिण सीट से सबसे ज्यादा 26 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं, वहीं हस्तिनापुर से सबसे कम छह प्रत्याशी मैदान में हैं।
    पहले चरण के मतदान की जानकारी देते हुए उप्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी टी वेंकटेश ने कहा कि पहले चरण में कुल 2, 60,17,128 मतदाता वोट डालेंगे. इसमें 1,42,76,128 पुरुष और 1,17,76,308 महिलाएं शामिल हैं. मतदान के लिए 14514 मतदान केंद्र बनाए गए हैं.

    उन्होंने बताया कि पहले चरण में कुल 839 प्रत्याशी हैं. इसमें महिला प्रत्याशियों की संख्या 77 है. मतदेय स्थलों पर 2362 डिजिटल कैमरे, 1526 वीडियो कैमरे लगाए गए हैं. 2,857 जगहों पर वेब कास्टिंग की व्यवस्था भी की गई है.

    टी. वेंकटेश ने बताया कि पहले चरण के मतदान के लिए 826 कंपनी अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है. इसके अलावा 8011 स पार्किंग में खड़ी 6 गाड़ियों में अज्ञात शख्स ने लगाई आग, कैमरे में हुआ कैद



    ब इंस्पेक्टर, 4823 मुख्य आरक्षी तथा 60289 पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. मतदान केंद्रों पर 124528 मतदान कर्मियों की तैनाती की गई है.

    उन्होंने बताया कि मतदान के दौरान 62 जनरल ऑब्जर्वर, 19 व्यय प्रेक्षकों एवं 10 पुलिस ऑब्जर्वरों की तैनाती की गई है.

    पहले चरण के तहत इन सीटों पर होगा मतदान


    शामली : कैराना, थाना भवन, शामली मुजफ्फरनगर की बुढ़ाना, चरथावल, पुरकाजी, मुजफ्फरनगर, खतौली, मीरापुर विधानसभा सीटों पर मतदान होगा.

    बागपत : छपरौली, बड़ौत व मेरठ जिले की सिवालखास, सरधना, हस्तिनापुर, किठोर, मेरठ कैंट, मेरठ, मेरठ साउथ विधानसभा सीटों पर मतदान होगा.

    गाजियाबाद : की लोनी, मुरादनगर, साहिबाबाद, गाजियाबाद, मोदीनगर व गौतमबुद्धनगर की नोएडा, दादरी, जेवर विधानसभा सीट पर भी पहले चरण के तहत ही मतदान होगा.

    हापुड़ : धौलाना, हापुड़, गढ़मुक्तेश्वर, बुलंदशहर की सिकंदराबाद, स्याना, अनूपशहर, देबाई, शिकारपुर, खुर्जा के साथ ही अलीगढ़ जिले की खैर, बरौली, अतरौली, छर्रा, कोइल, अलीगढ़, इगलास विधानसभा सीटों पर मतदान होगा.

    मथुरा : छाता, मांट, गोवर्धन, मथुरा, बलदेव व हाथरस जिले की हाथरस, सादाबाद, सिकंदर राव व आगरा जिले की एतमादपुर, आगरा कैंट, आगरा साउथ, आगरा नॉर्थ, आगरा ग्रामीण, फतेहपुर सीकरी, खेरागढ़, फतेहाबाद, बाह सीटों पर मतदान होगा.

    फिरोजाबाद : टूंडला, जसराना, फिरोजाबाद, शिकोहाबाद, सिरसागंज व एटा जिले की अलीगंज, एटा, मरहरा, जलेसर कासगंज जिले की कासगंज, अमनपुर, पटियाली सीट पर पहले चरण के दौरान मतदान होगा.
  • तीन तलाक को खत्म करेगी केंद्र सरकार : कानून मंत्री

    By Unknown →
    लखनऊ। केंद्र सरकार तीन तलाक को खत्म कर सकती है। केंद्रीय विधि, न्याय व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है दुनिया के 20 इस्लामिक देशों ने तीन तलाक को नियंत्रित किया है। अगर वहां इसे नियंत्रित किया जा सकता है तो हिदुस्तान में इसे शरीयत के खिलाफ कैसे माना जाए।

    रविशंकर रविवार को लखनऊ में पार्टी मुख्यालय पर प्रेसवार्ता को संबोधित कर रहे थे। कहा, केंद्र सरकार समाज के कुरीतियों को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि तीन तलाक का मामला धर्म से नहीं, महिलाओं के सम्मान से जुड़ा हुआ है।

    सरकार आस्था का सम्मान करती है, लेकिन इबादत और सामाजिक बुराई एक साथ नहीं रह सकती। रविशंकर प्रसाद रविवार को भाजपा मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

    बता दें कि शनिवार को गाजियाबाद में भी रविशंकर ने कहा था कि केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद तीन तलाक पर बड़ा फैसला ले सकती है। प्रसाद ने कहा, भाजपा ही ऐसी पार्टी है जो महिलाओं का सम्मान करती है।

    सरकार तीन तलाक का मामला तीन बिंदुओं (न्याय, समानता और सम्मान) को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी उठाएगी।

    यूपी चुनाव के बाद बड़ा फैसला शनिवार को गाजियाबाद में एक प्रेस वार्ता में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि केंद्र सरकार उप्र विधानसभा चुनावों के बाद तीन तलाक बंद करने की दिशा में बड़ा कदम उठा सकती है।

    केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि यह परंपरा महिलाओं के सम्मान के खिलाफ है और इस पर प्रतिबंध लगाए जाने की जरूरत है। बता दें कि घोषणा पत्र में भाजपा ने तीन तलाक के मुद्दे पर प्रदेश की मुस्लिम महिलाओं से राय लेकर सुप्रीम कोर्ट में पक्ष रखने का वादा किया है।

    बंद होंगे अवैध स्लाटर हाउस रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने पर अवैध स्लाटर हाऊस बंद होंगे।

    उन्होंने अखिलेश, राहुल और मायावती पर भी जमकर हमला बोला। साथ ही तीन तलाक के मुद्दे पर राहुल गांधी, अखिलेश यादव और मायावती को अपना पक्ष स्पष्ट करने की चुनौती दी है।

  • 3 लाख से ज्यादा नकद में लिया तो भरना होगा उतना ही जुर्माना

    By Unknown →
    नई दिल्ली। तीन लाख रुपये से ज्यादा नकद में लिया तो महंगा नहीं, बहुत महंगा पड़ेगा। एक अप्रैल से तीन लाख रुपये से ज्यादा कैश में लेनदेन करने वालों पर उस पूरी राशि के बराबर जुर्माना ठोका जाएगा।

    राजस्व सचिव हसमुख अढिया ने यह बात कही है। 2017-18 के बजट में तीन लाख रुपये से ऊपर के नकद ट्रांजैक्शन पर पाबंदी लगा दी गई है।

    अढिया ने बताया कि मान लीजिए कि अगर आप चार लाख रुपये का नकद ट्रांजैक्शन करते हैं तो इसका जुर्माना भी चार लाख रुपये ही होगा। ऐसे ही 50 लाख रुपये के कैश ट्रांजैक्शन पर जुर्माने की राशि 50 लाख रुपये होगी।

    जुर्माना राशि को प्राप्त करने वाले पर लगेगा। इस तरह यदि कोई व्यक्ति नकद में महंगी घड़ी खरीदता है तो दुकानदार को इसका टैक्स देना होगा।

    यह सब इसलिए किया जा रहा है ताकि लोग बड़ी राशि के कैश लेनदेन से तौबा करें। नोटबंदी का कदम काले धन को सामने ले आया है। अब सरकार इसको दोबारा पैदा होने से रोकना चाहती है। सभी बड़े ट्रांजैक्शन पर सरकार की नजर है।

    वह उन सभी सुराखों को बंद करने की कोशिश में जुटी है जिससे काला धन घूम सके। जिन लोगों के पास काला धन होता है वे अक्सर इसे मौज-मस्ती या महंगी कार, घड़ी और ज्वैलरी जैसी चीजों पर खर्च करते हैं।

    अढिया ने यह भी बताया कि दो लाख रुपये से ज्यादा के कैश ट्रांजैक्शन पर पैन नंबर देने का नियम अब भी लागू है। वित्त मंत्री अरुण अरुण जेटली ने बजट भाषण में आयकर कानून में 269एसटी की धारा को शामिल करने का प्रस्ताव किया था।

    इसका मकसद यह है कि किसी एक दिन में कोई व्यक्ति दूसरे शख्स से तीन लाख रुपये से ज्यादा की रकम न ले सके। हालांकि यह नियम सरकार, बैंकिंग कंपनी, डाकघरों या सहकारी बैंकों पर नहीं लागू होगा।


  • एक करोड़ बैंक खातों पर आयकर विभाग की नजर

    By Unknown →
    नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद बैंक खातों में जमा काले धन का पता लगाने के लिए सरकार तनिक भी सुस्ती बरतने के मूड में नहीं है।

    इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए आयकर विभाग अब तक करीब एक करोड़ बैंक खातों की जांच कर चुका है। उसकी ओर से 18 लाख लोगों को नोटिस जारी किए गए हैं।

    इन लोगों से बैंक में जमा धन का स्रोत बताने के लिए कहा गया है। आयकर विभाग के सूत्रों ने बताया कि तमाम करदाताओं की प्रोफाइल का मिलान किया जा रहा है।

    इसके लिए विभाग अपने डाटा बैंक का इस्तेमाल कर रहा है। रिकॉर्ड्स के अनुसार, ऐसे 3.65 करोड़ लोग हैं जिन्होंने आयकर रिटर्न फाइल किया है।

    इसके अलावा सात लाख से ज्यादा कंपनियां, 9.40 लाख हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) और 9.18 लाख फर्में हैं, जिन्होंने आकलन वर्ष 2014-15 के दौरान आइटीआर फाइल किया।

    साथ ही वित्तीय समावेश अभियान के तहत 25 करोड़ शून्य राशि वाले जन धन खाते खोले गए। विभाग सभी श्रेणियों के खातों की छानबीन कर रहा है और ऑपरेशन क्लीन मनी के तहत संदिग्ध खाताधारकों को एसएमएस व ईमेल भेजे जा रहे हैं।

    इन सभी खातों में 10 नवंबर से लेकर 30 दिसंबर तक पांच लाख और उससे अधिक रुपये जमा किए गए हैं। आयकर विभाग ने 31 जनवरी को ऑपरेशन क्लीन मनी शुरू किया था।