• आठ दिन होलाष्टक में नहीं होंगे शुभ संस्कार

    Reporter: first headlines india
    Published:
    A- A+
    12 को होलिका दहन का शुभ मुहूर्त
    शाम - 6.30 से 8.30 बजे
    भद्रा पुंछ - 4.10 से 5.25 बजे
    भद्रा मुख - 5.25 से 7.25 बजे
    12 मार्च को होलिका दहन के आठ दिन पूर्व होलाष्टक लग जाएगा। ऐसी मान्यता है कि होलाष्टक के दौरान कोई भी शुभ संस्कार नहीं किया जाना चाहिए। इस मान्यता के चलते 5 मार्च से लगने वाले होलाष्टक से शुभ संस्कारों पर रोक लग जाएगी। शुभ संस्कारों में विवाह, जनेऊ, नामकरण, गृह प्रवेश सहित अन्य संस्कार नहीं किए जाएंगे।

    महामाया मंदिर के पुजारी पं. मनोज शुक्ला के अनुसार हिन्दू धर्म में मान्यता है कि भक्त प्रहलाद को उसके पिता हिरण्यकश्यप ने होलिका की गोद में बिठाकर जलाने से पूर्व अनेक यातनाएं दीं थी। आठ दिनों तक दी गई यातना के काल को होलाष्टक कहा जाता है।

    इस काल में किसी भी प्रकार के शुभ संस्कार करना शुभ नहीं माना जाता। शास्त्रों में मान्यता है कि होलाष्टक के दौरान किए जाने वाले शुभ कार्यों का उचित फल नहीं मिलता। इस बार होलाष्टक 5 मार्च से शुरू होकर 12 मार्च होलिका दहन तक रहेगा। चूंकि 12 मार्च को रात 9 बजे तक ही पूर्णिमा तिथि है इसलिए इससे पूर्व ही होलिका दहन किया जाना सर्वोत्तम है। अगले दिन 13 मार्च को होली (धुलेण्डी) मनाई जाएगी।


    Subjects:

  • No Comment to " आठ दिन होलाष्टक में नहीं होंगे शुभ संस्कार "