• धुरु डांस बार की रेड से बढ़ सकती है उल्हासनगर के नवनियुक्त सीनियर पीआय की मुश्किलें !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    धुरु डांस बार की रेड से बढ़ सकती है उल्हासनगर के नवनियुक्त सीनियर पीआय की मुश्किलें ! 

    बार को संरक्षण देने के लिए पुलिस ने महिला समाजसेविका सहित कई लोगो पर कार्यवाही!

     उल्हासनगर-उल्हासनगर पुलिस स्टेशन की हद में स्थित धुरु डांस बार में दो दिन पहले ठाणे क्राइम ब्रांच व कल्याण क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम द्वारा की गई रेड में 17 महिला डांसरों की गिरफ्तारी।उल्हासनगर पुलिस स्टेशन के नवनियुक्त सीनियर पीआय की मुसीबत बढ़ा सकती है।आर्केस्ट्रा की आड़ में चल रहे इस डांस बार मे सिर्फ 4 लडकिया वो भी बतौर सिंगर के रूप में रख सकती है लेकिन 17 महिला डांसरों की गिरफ्तारी ने स्थानीय पुलिस को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है।अहम बात यह है कि 5 माह पहले इस विवादित बार को बंद करने के लिए जिस समाजसेविका ने मुद्दा उठाया था पुलिस ने उसपर और उसके लोगो पर ही सरकारी काम मे ब्याधा डालने  का मामला दर्ज कर सलाखों के पीछे भेज दिया था अब् वह मामला भी उभर कर आ गया है। 
    गौर तलब हो कि दो दिन पहले धुरु डांस बार मे ठाणे क्राइम ब्रांच की (एच. एस. टी.सी.) शाखा के सीनियर पीआय आर.आर.दौंडकर और कल्याण क्राइम ब्रांच के सीनियर पीआय नागरकर द्वारा देर रात 12 बजे धुरु होटल में मारे गए छापे में पुलिस ने 17 महिला डांसर,2 वाचमैन,37 ग्राहक,3 मैनेजर,1 कैशियर कुल 75 लोगो को हिरासत में लेकर उनपर मामला दर्ज कर उल्हासनगर पुलिस के हवाले कर दिया था।दूसरे दिन स्थानीय पुलिस ने सभी को न्यायालय में हाजिर किया जहां सभी की जमानत मंजूर कर ली गयी।अब् यहां सवाल यह उठता है कि जब धुरु बार को आर्केस्ट्रा का लाइसेंस दिया गया है तो बार मे नियमानुसार सिर्फ 4 महिला वो भी सिंगर होनी चाहिए परंतु रेड में 17 डांसरों की गिरफ्तारी ने स्थानीय पुलिस के कान खड़े कर दिए है,वही पुलिस सूत्रों के मुताबिक बड़ी खेप में डांसरों की गिरफ्तारी के मामले में नवनियुक्त सीनियर पीआय डी. डी. पालवे को पुलिस के आलाअधिकारियों को जवाब देना पड़ सकता है। यहां बतादे की बुकी राजेश कुकरेजा की हत्या के बाद उससे जुड़े लोग खासा आहत थे और कुकरेजा की मौत का गम भुला नही पा रहे थे।इसलिए कई बार कुकरेजा से जुड़े समर्थको ने धुरु डांस बार बंद करने का लिखित निवेदन पुलिस से किया था परंतु उनके निवेदन को नजर-अंदाज कर दिया गया और बार अपनी लह में गुले-गुलजार रहा।पुलिस की नजर अन्दाजगी से नाराज महिला समाजसेविका रजनी ठाकुर 5 महीने पहले देर रात 1 बजे अपने 15 से 20 समर्थको के साथ धुरु होटल के नीचे पहुच कर होटल बंद करने की कवायद की थी।इस बीच रजनी ठाकुर और उसके समर्थको के साथ पुलिस की हाथापाई हो गयी और डांस बार को संरक्षण देते हुए पुलिस ने महिला समाजसेविका रजनी ठाकुर,मनोज वाल्मीकि,विक्की वाल्मीकि सहित कई लोगो पर सरकारी काम मे व्यवधान पैदा करने की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर मनोज वाल्मीकि,विक्की वाल्मीकि व कई अन्य लोगो को गिरफ्तार कर लिया जब कि पुलिस ने रजनी ठाकुर को फरार बताया था,रजनी ठाकुर ने अग्रिम जमानत ले ली थी।धुरु डांस बार को संरक्षण देने के लिए समाजसेविका और उनके समर्थकों पर की गई पुलिसिया कार्यवाही के बाद धुरु बंद करवाने की कवायद करने की हिम्मत किसी ने नही की जिसकी वजह से विवादित डांस बार आज भी गुले-गुलजार है।
  • No Comment to " धुरु डांस बार की रेड से बढ़ सकती है उल्हासनगर के नवनियुक्त सीनियर पीआय की मुश्किलें ! "