• चिंदी के कारण डंपिंग ग्राऊंड में लगती है आग - आयुक्त सुधाकर शिंद !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    चिंदी के कारण डंपिंग ग्राऊंड में लगती है आग - आयुक्त सुधाकर शिंद ! 

    उल्हासनगर के शहरवाशियो को भी सूखा व गीला कचरा अलग जमा करने की अपील!

     उल्हासनगर-उल्हासनगर शहर में गिला और सूखा कचरा को बिना अलग किये डंपिंग ग्राउंड में डाला जाता है.शहर के सैकड़ों जीन्स कारखाने और गारमेंट वाले कपड़े के चिंदी को कचरा कुंडी में डाल देते है वही फिर डंपिग ग्राउंड में पहुचती है.जिससे डंपिग ग्राउंड आयेदिन आग लगने की घटनाएं होती रहती है. इसपर कारखाने वाले और आम जनता औऱ ठेकेदारो को गीला और सूखा कचरा अलग अलग जमा करके फिर उसे डंपिग में डालने की बात मनपा आयुक्त सुधाकर शिंदे ने पत्रकार परिषद में कही. 
    आकाश कॉलनी उल्हासनगर - ५ के पास स्थित डंपिंग ग्राऊंड आये दिन आग लगने की घटना सामने आती रहती है जिससे बड़े पैमाने पर धुंआ निकलता है और जिससे वहा कि नागरिको शारीरिक व मानसिक बिमारी का शिकार होना पड़ता है.इस समस्या से निपटने के लिए मनपा आयुक्त सुधाकर शिंदे.महापौर ,उपमहापौर और गटनेताओ की एक मीटिंग बुलवाई और एक पत्रकार परिषद लेकर जानकारी दी कि उल्हासनगर शहर के सर्वसामान्य जनता ,कारखाने वाले ,व्यापारी ,दुकानदार यह अपना गिला औऱ सूखा कचरा अलग अलग किये बिना कचरा कुंडी और घंटागाडी में डालते है. फिर यही कचरा डंपिंग ग्राउंड तक पहुचता है. उल्हासनगर मनपा ने ४ लाख ५० हजार प्रतिदिन कि दर से कोणार्क कंपनी को शहर का कचरा उठाने का ठेका दिया है. मनपा के नियमो और शर्त के अनुसार ठेकेदार को गिला और सूखा कचरा दोनों को अलग अलग जमा करना आवश्यक है.पर नियमो की अनदेखी की जाती है और कचरा अलग अलग नही जमा किया जाता है.जिसके लिए ठेकेदार को कड़ी हिदायत दी है कि कचरा अलग अलग जमा करके डंप करे. आम नागरिक ,व्यापारी , दुकानदार ,कारखानदारो से भी अपील की है की गीला और सूखा कचरा अलग अलग करके कचरा कुंडी में डाले.गीला कचरा रासायनिक प्रक्रिया से नष्ट किया जाता है अगर उसमे कपड़ा और अन्य सूखा कचरा मिलने से कचरे का ढेर लग जाता है और नष्ट होने में काफी समय लगता है.इसकी जानकारी आयुक्त शिंदे ने दी.
  • No Comment to " चिंदी के कारण डंपिंग ग्राऊंड में लगती है आग - आयुक्त सुधाकर शिंद ! "