• सिंधी एजुकेशन सोसायटी के प्रिंसिपल पद को लेकर मचा कोहराम !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    सिंधी एजुकेशन सोसायटी के प्रिंसिपल पद को लेकर मचा कोहराम !

     स्कूल के सेकेटरी और प्रिंसिपल दोनो पदों पर भाजपा नगरसेविका की नियुक्ति से मचा हड़कंप !

     एस.ई.एस.स्कूल के प्रेसिडेंट के निधन के बाद प्रेसिंडेट पद पर कोणार्क के डायरेक्टर का रातोरात कब्जा !

     उल्हासनगर-उल्हासनगर के प्रसिद्ध सिंधी एजुकेसन सोसायटी (एस.ई. एस.) के प्रेसिंडेन्ट कुमार आहूजा के निधन के बाद स्कूल के नियमो को नजरअंदाज कर स्कूल ट्रस्ट के प्रेसिंडेन्ट के पद पर कोणार्क कम्पनी के डायरेक्टर नंद जेठानी ने कब्जा जमा लिया।यही नही प्रेसिंडेन्ट बनते ही नंद जेठानी ने अपने खासम खास भाजपा नगरसेविका को कैम्प 5 वाली हाईस्कूल और जूनियर कालेज में बतौर प्रिंसिपल सहित स्कूल के सेक्रेटरी पद पर भी नियुक्ति कर दिया।शिक्षा जगत के नियमो की धज्जियां उड़ाकर रेखा ठाकुर की कि गयी नियुक्ति को लेकर सवाल खड़ा हो गया है।
     गौर तलब हो कि सिंधु एजुकेशन सोसायटी (एस. ई.एस.) स्कूल का शहर में अलग-अलग 3 हाईस्कूल और जूनियर कालेज है जिसके फाउंडर कुमार आहूजा थे,कुमार आहूजा का स्वामी शांती प्रकाश आश्रम व वहां के वयो वृद्ध पूर्व प्रोफेसर दादा दयाल आशा पर अटूट विश्वास था,इसी के चलते दादा दयाल आशा के बोलने पर फाउंडर प्रेसिंडेन्ट कुमार आहूजा ने स्कूल के ट्रस्ट में बायलॉज लाया और बायलॉज नुशार इस ट्रस्ट द्वारा संचालित सभी स्कूलों में मैनयोरटी के चलते सिर्फ सिंधी लेडीज या जेंट्स को ही बतौर प्रिंसिपल का पद दिया जा सकता था।तीन महीने पहले वयो वृद्ध के चलते कुमार आहूजा का निधन हो गया तब से स्कूल के प्रेसिंडेन्ट का पद रिक्त था।इस ट्रस्ट में कुमार आहूजा के निधन के बाद उनके बेटे नवीन कुमार आहूजा को बतौर सदस्य के रूप में लिया। ट्रस्ट में दर्जनों पुराने सदस्य है जिसमें राजू सिधवानी ने ट्रस्ट के अध्यक्ष पद की दावेदारी की थी।स्कूल सूत्रों के मुताबिक ट्रस्ट के कई पुराने सदस्यों ने अध्यक्ष पद की दावेदारी की थी परंतु स्कूल के मनेजमेंट द्वारा पिछले कई वर्षों में किये गए अकूत घोटालो का पर्दाफाश करने की धमकी देकर सदस्यों का मुह बंद कर दिया गया और बिना कोई मीटिंग व सहमति के रातो रात में ट्रस्ट के अध्यक्ष पद का गेम बदला और कोणार्क कंपनी के डायरेक्ट नंद जेठानी ने सभी दावेदारों को मात देकर सिंधु एजुकेशन सोसायटी के अध्यक्ष पद पर कब्जा जमा लिया। सिंधु एजुकेसन ट्रस्ट के अध्यक्ष पद पर कब्जा जमाने के बाद नंद जेठानी ने 24 नंबर स्कूल की प्रिंसिपल व भाजपा नगरसेविका रेखा ठाकुर को कैम्प 5 के नेताजी स्कूल का प्रिंसिपल बना दिया जब कि कैम्प एक 24 नंबर स्कूल के प्रिंसिपल मोटवानी को हटाकर रेखा ठाकुर के कहने पर दूसरे को नियुक्त कर दिया गया।हाल ही में स्कूल में प्रिंसिपल के पद पर की गई नियुक्ति को लेकर सवाल खड़ा हो गया कि स्कूल में इतने पुराने शिक्षक जो विगत 17-18 वर्षों से स्कूल में अपनी सेवाएं दे रहे है उन्हें सिंधी-गैर सिंधी वाद के चलते नजर अंदाज कर दिया गया।एक शिक्षिका ने नाम नही छापने की शर्त पर बताया कि सभी शिक्षक पूर्व विधान परिषद सदस्य रामनाथ मोते की यूनियन से जुड़े हुए है बावजूद ट्रस्ट के मनमाने रवैये के खिलाफ़ यदि जिल्हा परिषद या राज्य सरकार से मनेजमेंट की अनियमितताओ की शिकायत की गई तो शिक्षकों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है।सूत्र ने बताया कि वेतन बढ़ाने के लिए रामा,ज्योति साधवानी तथा विजय सहाकर नामक शिक्षकों ने मनेजमेंट के खिलाफ न्यायालय का सहारा लिया था,इसलिए रामा और ज्योती साधवानी को नौकरी से हाथ धोना पड़ा जब कि विजय सहाकर ने मनेजमेंट के समक्ष घुटना टेक दिया नतीजतन न्यायालय ने मनेजमेंट के पक्ष में फैसला सुनाया।शिक्षा के नियमो को ताक पर रखकर आनन-फानन में सिंधु एजुकेशन सोसायटी के अध्यक्ष पद पर नंद जेठानी तथा प्रिंसिपल पद पर भाजपा नगरसेविका रेखा ठाकुर की नियुक्ति को लेकर मनेजमेंट में ही बवाल मचा हुआ है।
  • No Comment to " सिंधी एजुकेशन सोसायटी के प्रिंसिपल पद को लेकर मचा कोहराम ! "