Browsing "Older Posts"

  • वालधुनी नदी प्रदूषण मामला , जुआड की राजनीति हुई शुरू !

    By fast headline india →
    वालधुनी नदी प्रदूषण मामला , जुआड की राजनीति हुई शुरू !

     जींस वाश कारखाने  के बिजली के कनेक्शन को काटना शुरू !

     जींस कारखाने वालों में मचा हड़कंप कामगार वर्ग पलायन की राह पर !

    उल्हासनगर- अंबरनाथ के ग्रामीण हल्के से उगम तथा उल्हासनगर आते आते नदी से नाले के रुप में तबदील हो चुकी स्थानीय वालधुनी नदी को प्रदूषित करने का सबब बने स्थानीय जींस वॉश के कारखानो का उमनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर की मौजूदगी में बिजली के कनेक्शनों को काटने का काम महावितरण के कर्मचारियों ने शुरू कर दिया है,जिससे इस कारोबार से जुड़े सैकड़ो जींश व्यपारियो में हड़कंप मच गया है।
    देश की सर्वोच्च अदालत की फटकार एवं वालधुनी नदी के विकास के लिए राज्य सरकार को 100 करोड़ की राशि भरने के कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश के बाद स्थानीय मनपा प्रशासन ने वालधुनी नदी को साफ सुधरा व स्वच्छ बनाने की पहल शुरू कर दी है। मनपा ने जींस कारखानों को बंद करने की नोटिस जारी की है, इसी के चलते इस परिसर को बिजली आपूर्ति करने वाली कंपनी महावितरण ने जींस की धुलाई करने का काम करने कारखानों की बिजली आपूर्ति खंडित करने का काम कल सुबह से शुरू किया है।विद्युत आपूर्ति खंडित करने के बाद जलापूर्ति भी खंडित करने का आदेश उमनपा आयुक्त ने दिया है।गौर तलब हो कि विगत दिनों शहर के टाउन हॉल में जींश वास कारखाने वालो की बैठक बुलाई गई थी जिसमे उमनपा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।उस दरम्यान अनुपस्थित उमनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बालकर ने मोबाइल कांफ्रेसिंग के जरिये जींश व्यपारियो को संबोधित किया था।                        बुधवार को आयुक्त द्वारा बड़े पैमाने पर जींश वाश व्यपारियो पर कार्यवाही शुरू करने से हड़कंप मच जींश वाश व्यापारियों ने यूटीए कैम्प पाँच के अध्यक्ष दिनेश लहरानी,शैलेश तिवारी,पीयूष वाघेला,विवेक राय के नेतृत्व में सैकड़ो व्यापारी टीओके नेता ओमी कालानी से मिले ,व्यापारियों के शिष्टमंडल के साथ ओमी कालानी,नगरसेवक राजेश वदारिया ने आयुक्त से मुलाकात की, जींश वाश व्यापारियो ने आयुक्त को अस्वस्त करते हुए कहा कि ट्रीटमेंट प्लांट बनाकर गंदे पानी को फिल्टर करने के बाद ही वालधुनी में छोड़ा जायेगा, इस पर आयुक्त ने कहा कि मामला उच्चतम न्यायालय का होने की वजह से राज्य सरकार से अनुमति लेने के बाद ही कोई निर्णय लिया जा सकता है,तब तक एक फेस विद्युत खंडित पर रोक लगाने का अश्वाशन आयुक्त ने शिष्टमंडल को दिया।
  • ब्रिटिश मेयर के हाथों हुआ विरोधी पक्ष नेता बोडारे का संम्मान !

    By fast headline india →
    ब्रिटिश मेयर के हाथों हुआ विरोधी पक्ष नेता बोडारे का संम्मान !
    उल्हासनगर का नाम गुजा ब्रिटिश पार्लियामेंट में !

    उल्हासनगर-उपमहापौर, सभागृह नेता,गट नेता और विरोधी पक्ष नेता जैसे पद महानगरपालिका में सुशोभित करनेवाले उच्च शिक्षित उल्हासनगर के धनंजय बोडारे का सात समुन्दर पार ब्रिटिश पार्लियामेंट में संम्मान किया गया, बोडारे महाराष्ट्र के पहले व्यक्ति है,जिसे यह सम्मान मिला है।
    मीडिया में, फेसबुक पर उनपर अभिनंदन की वर्षा हो रही हैं।राजनीति में उत्कृष्ट कार्य ही इस प्रकार का गौरव मिलने का कारण है। ब्रिटिश पार्लियामेंट में त्रिवेंद्रम रोटरी रॉयल, महेश कुमार द्वारा आयोजित किये गए कार्यक्रम में लंदन के मेयर फिलीप अब्राहम, कॉन्सरर्वेटिव पक्ष के सांसद ख्रीस फिलीप, स्कटिश सांसद के हाथों धनंजय बोडारे के साथ ही सुप्रसिद्ध चित्रपट लेखक सूर्या कृष्णमूर्ति, गायक एम.जी.श्रीकुमार का भी सम्मान किया गया।तीन वर्ष पहले लंदन में रहने वाले महेश कुमार मुंबई में एक कार्यक्रम में आए थे, जहां उनकी मुलाकात धनंजय बोडारे से हुई थी।तब बोडारे के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर महेश कुमार ने बोडारे को अपनी राजनीतिक जीवन की जानकारी भेजने के लिए कहा था। पिता-पुत्र का डबल धमाका जहां एक तरफ मेकैनिकल इंजीनियर धनंजय बोडारे का ब्रिटिश पार्लियामेंट ने सम्मान किया, वहीं उनका बेटा वर्धन ने लंदन की कोवेंट्री यूनिवर्सिटी में इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में मास्टर की डिग्री हासिल की है।पिता-पुत्र का यह डबल धमाका उल्हासनगर शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है।
  • सभी अखबारों की होगी जांच ! फर्जी पत्रकारो पर लगेगा लगाम !

    By fast headline india →
    ठेका कर्मचारियों को भी मजीठिया वेजबोर्ड का लाभ देना होगा !

     महाराष्ट्र के लेबर कमिश्नर ने अखबार मालिकों को दिया शख्त निर्देश !

     सभी अखबारों की होगी  जांच !

    मुंबई-महाराष्ट्र के लेबर कमिश्नर द्वारा बुलाई गई त्रिपक्षीय समिति की बैठक में लेबर कमिश्नर यशवंत केरुरे ने अखबार मालिकों के प्रतिनिधियों को स्पस्ट निर्देश दिया कि आपको माननीय सुप्रिमकोर्ट के आदेश का पालन करना ही पड़ेगा।
     केरुरे ने कहा कि वेज बोर्ड का लाभ ठेका कर्मचारियों को भी देना अनिवार्य है।मुम्बई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्श के लेबर कमिश्नर कार्यालय में बुलाई गई इस बैठक में राज्यभर के विभागीय अधिकारियों को भी आमंत्रित किया गया था।इस बैठक में सवाल उठाया गया कि जस्टिस मजिठिया वेजबोर्ड के अनुसार अपने बकाये का क्लेम लगाने में मीडिया कर्मियों में डर का माहौल है।अखबार मालिक लोगों को परेशान कर रहे हैं।ट्रांसफर टर्मिनेशन कर रहे हैं।नौकरी से निकालने या पेपर बन्द करने की धमकी देकर सादे कागज पर साइन कराया जा रहा है।कई अखबार मालिक अपने समाचार पत्र के कर्मचारियों से त्यागपत्र लेकर नई कंपनी में ठेके पर ज्वाइन करा रहेहैं।कई अखबार मालिक अपने कर्मचारियों को डिजिटल में ज्वाइन करा रहे हैं। ये मुद्दा नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट महाराष्ट्र की पत्रकार प्रतिनिधि शीतल करंदेकर ने उठाया । इसपर लेबर कमिश्नर ने कहा कि मीडियाकर्मियों को घबड़ाने की कोई जरूरत नही है।इसमे कोई संदेह नही होना चाहिए कि मजीठिया वेजबोर्ड का लाभ मीडियाकर्मियों को नही मिलेगा। उन्हें इसका लाभ जरूर मिलेगा।माननीय सर्वोच्च न्यायालय का आदेश न मानने वालों के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना का मामला चलेगा।और जहां भी मीडियकर्मियों को परेशान किया जा रहा है वे शिकायत करें।उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि ऐसे मामलों का तीन महीने में निस्तारण किया जाए।एन यू जे महाराष्ट्र ने सभी अखबारों के फिर से सर्वे करने की मांग की जिसपर सहमति बनी।इसपर अखबार मालिकों के प्रतिनिधियों ने एतराज जताया और कहा कि फिर से जांच की कोई जरूरत नही है।इस दौरान ये मुद्दा भी उठाकि सखबार मालिक सरकारी विज्ञापन लेते समय खुद को नंबर वन का ग्रेड बताकर विज्ञापन लेते हैं जबकि मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिश लागू करते समय खुद का निचला ग्रेड बताते हैं।आयुक्त ने जनवरी तक सभी समाचार पत्रों की जॉच करने का आदेश दिया।इस जॉच की डेट सभी पत्रकार प्रतिनिधियों को भी बताने की मांग की गई जिसे आयुक्त ने मान्य कर लिया।इस अवसर पर बी यू जे के इन्दरजैंन ने फिक्सेशन सार्टिफिकेट प्रत्येक कर्मचारी को देने का निवेदन किया।इस अवसर पर एन यू जे महाराष्ट्र ने मांग की कि समिति के कई सदस्य बैठक में नही आते उनकी जगह मजीठिया के जानकार लोगों को सदस्य बनाया जाए।इस दौरान शीतल करंदेकर ने ये भी मुद्दा उठाया कि लेबर विभाग ने सुप्रीमकोर्ट को जो रिपोर्ट भेजा है उसमें कई अखबारों में दिखाया है कि इन अखबारों में मानिसना वेज बोर्ड की सिफारिश लागू है इसकी भी जांच कराई जाए।इस बैठक में लेबर डिपार्टमेंट के उपसचिव कार्णिक भी मौजूद थे।बैठक का संचालन ड्यूपीटी लेबर कमिश्नर बुआ ने किया है
  • अभय योजना बढ़ाने के बाद भी नहीं मिल रही टैक्स वसूली में कामयाबी !

    By fast headline india →
    अभय योजना बढ़ाने के बाद भी नहीं मिल रही टैक्स वसूली में कामयाबी ! 

     टैक्स डिफाल्टरों पर कड़ी कार्यवाई करने का आयुक्त ने दिए संकेत !           

    उल्हासनगर - दो दिनों के बाद ७५ टक्के व्याज माफ अभय योजना समाप्त होने वाली है . बता दे की १३ दिनो में अभय योजना से महज ढाई करोड रुपये वसूली होने की बात मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर कही है और अभय योजना समाप्त होते ही हाउस टैक्स के अधिकारियों को कहा है कि टैक्स डिफाल्टरों पर कड़ी कार्यवाई करने को तैयार रहे . 
       उल्हासनगर महापालिका ने १ नवम्बर से ७५ टक्के टैक्स माफी तो १५ दिनों के लिए लागू किया था. इस अभय योजना के दरम्यान साडे २९ करोड़ की वसुली हुई थी. इसकी वजह से इस योजना को अगले १५ दिनों के लिए अभय योजना को बढ़ा ने की मांग नगरसेवक दीपक सिरवानी इन्होंने मनपा आयुक्त निंबाळकर से किया था. जिसके बाद ३० नवम्बर तक अभय योजना बढ़ा दिया गया था. परन्तु १३ दिनों में वसूली सिर्फ ढाई करोड़ की ही हुई है. इस अभय योजना के विषय पर महापौर मीना आयलानी के कार्यालय में मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इन्होंने मीटिंग बुलाई थी जिसमें टैक्स विभाग के अधिकारियो को भी शामिल किया गया था. इस मीटिंग में हर पैनेल के बड़े १०० टैक्स डिफाल्टरों पर कड़ी कार्यवाई के जरिये वसूली करते हुए सील और लिलाव करने का आदेश निंबाळकर इन्होंने टैक्स निरीक्षको को दिया है .     
  • कोणार्क रेसिडेंसी मामले आयुक्त के सदनिका हस्तांतरण स्थगति आदेश को दिखाया ठेंगा !

    By fast headline india →
    कोणार्क रेसिडेंसी मामले आयुक्त के सदनिका हस्तांतरण स्थगति आदेश को दिखाया ठेंगा !

    उल्हासनगर-उल्हासनगर की विवादित कोणार्क रेसिडेंसी प्रकल्प के भागीदारों को फरवरी २०१६ में तत्कालीन मनपा आयुक्त मनोहर हिरे ने सदनिका हस्तांतरण न करने का लिखित आदेश दिया था।इस आदेश को धता बताकर सौ से ज्यादा सदनिका का हस्तांतरण किया गया, ऐसी बात सामने आई है। 

    शहद रेलवे स्टेशन के सामने के कोणार्क रेसिडेंसी प्रोजेक्ट को मंजूरी देते समय बड़े पैमाने पर नियमों की अवहेलना करने के कारण इस प्रोजेक्ट को मंजूरी देनेवाले अधिकारियों और कर्मचारियों का नाम शासन के पास भेजकर तुरंत जांच करने का आदेश महाराष्ट्र शासन के उपसचिव संजय सावजी ने मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबालकर को दिया है। शहाड़ स्टेशन के पास बंद पड़ी हुई ईस्टर्न मशीनरी एंड ट्रेडर्स नामक कंपनी के जगह पर कोणार्क रेसिडेंसी इस बहुमंजीली इमारत के गृह प्रकल्प को मनपा के नगर रचना विभाग ने निर्माण की मंजूरी दी है।इस प्रकल्प में ७मंजिलों की १० इमारत और ३०० से ज्यादा फ्लैट रहेंगे।इस प्रकल्प का बांधकाम पूरा होने का दाखिला मिले बिना ही फरवरी २०१६ में शिवसेना नेता ठाणे के पालकमंत्री एकनाथ शिंदे, राष्ट्रवादी कांग्रेस के विधानपरिषद उपसभापति वसंत डावखरे और भाजपा सांसद कपिल पाटिल द्वारा फ्लैट धारकों को घर की चाभी बांटने के कारण यह प्रकल्प चर्चा में आया था। उस समय तत्कालीन मनपा आयुक्त मनोहर हिरे ने बिल्डर किशोर केसवानी को मंजूर नक्शे के शर्तों के अनुसार भूखंड के मनोरंजन मैदान का आरक्षण मनपा को बिना शर्त हस्तांतरित करने के विषय में पत्र भेजा था।इसीप्रकार बांधकाम क्षेत्र का २० प्रतिशत सदनिका ५० वर्गमीटर से कम का बनाना बंधनकारक है,जब तक इन सभी शर्तों का पालन नही किया जाता, तब तक बिल्डर सदनिका का कब्जा किसी को न दे,ऐसा इस पत्र में उल्लेख किया गया था।अगर कब्जा देने के बाद इमारत पर अगर कोई भी कार्रवाई होती है, तो इसका जवाबदार बिल्डर ही होगा,ऐसी चेतावनी भी पत्र में दी गई थी।ऐसा होने पर भी प्रकल्प के पूरा होने का दाखिला न मिलने के बावजूद सदनिका का हस्तांतरण कोणार्क रेसिडेंसी के भागीदारों ने किया है। जब यह बात मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबालकर के ध्यान में लाई गई तो कोणार्क रेसिडेंसी प्रकल्प के पूर्णता का दाखिला न मिलने के बावजूद सदनिका कब्जे में अगर दिया गया है तो भागीदारों पर आपराधिक मामला दर्ज किया जायेगा, ऐसा आयुक्त ने बताया है
  • डॉक्टरों को लिखनी होगी मरीजों को जेनरिक दवाए !

    By fast headline india →
    डॉक्टरों को लिखनी होगी मरीजों को जेनरिक दवाए !

      उल्लंघन करने वालो डॉक्टर पर राज्य चिकित्सा परिषद करेगी कार्रवाई  !

    मुंबई - मुंबई में अब डॉक्टरों को मरीजों को विकल्प देते हुए किसी खास ब्रांड की दवा की जगह जेनेरिक दवा लिखनी होगी. जेनेरिक नुस्खे के साथ रोगी अब संबंधित दवा के किफायती विकल्पों को चुन सकते हैं. 
    राज्य सरकार ने  एक बयान में कहा कि भारतीय चिकित्सा परिषद नियम प्रावधान के तहत राज्य चिकित्सा परिषद के फैसले के अनुरूप डॉक्टरों को दवा के जेनेरिक नाम लिखने चाहिए जो स्पष्ट और मुख्यत: बड़े अक्षरों में लिखे हों. बयान में कहा गया कि वे यह भी सुनिश्चित करेंगे कि दवाओं का परामर्श और इस्तेमाल तर्कसंगत हो. महाराष्ट्र चिकित्सा परिषद के रजिस्ट्रार डॉ. दिलीप वांगे ने घटनाक्रम की पुष्टि की. उन्होंने कहा, ‘यदि कोई डॉक्टर इसका उल्लंघन करते पाया जाता है तो राज्य चिकित्सा परिषद अनुशासनात्मक कार्रवाई करेगी.’भारतीय चिकित्सा परिषद ने अप्रैल में डॉक्टरों को चेतावनी दी थी कि यदि वे जेनेरिक दवा लिखने के इसके निर्देश का पालन नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.
  • आर पी एफ वालो की हैवानियत आई सामने रिश्वत न देने पर चलती लोकल से हांकर को फेका !

    By fast headline india →
    आर पी एफ वालो की हैवानियत आई सामने रिश्वत न देने पर चलती लोकल से हांकर को फेका ! 

    घायल हाकर का चल रहा राजावाड़ी अस्पताल में ईलाज ! 

     मामले को दबाने के कुर्ला जी,आर,पी चल रही सेटिंग ! 

     मुंबई - ठाणे से मुंबई की तरफ जा रही लोकल ट्रेन में एक हाकर कुछ सामान बेच रहा था उसी ट्रेन में दो आर.पी.एफ. के जवान भी थे दोनो ने हाकर गगन को पकड़ा और रिश्वत देने की मांग करने लगे परंतु गगन ने रिश्वत देने से मना किया इसी से गुस्साए दोनो आर.पी.एफ हवलदारों ने उसे मुलुंड स्टेशन के पहले ट्रेन से नीचे फेंक दिया घायल गगन का ईलाज राजवाड़ी अस्पताल में चल रहा है ! 
    सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हर दिन की तरह गुरुवार की ठाणे से मुंबई जा रही लोकल में हांकर गगन कुछ सामान बेचने चढ़ा तभी उसी डब्बे में खड़े आर.पी.एफ के दो हवलदार जिनका नाम विमल,व मीणा बताया जा रहा है इन्होंने गगन को पकड़ा और उससे रिश्वत मांगने लगे परंतु उसने रिश्वत देने से मना कर दिया उसी बात से गुस्साए दो हवलदारों ने गगन को चलती लोकल के बाहर फेंक दिया जिसके चलते हांकर गगन गंभीर रूप से घायल हो गया है उसका ईलाज घाटकोपर के राजवाड़ी अस्पताल में चल रहा है इस मामले की जांच की जिम्मेदारी कुर्ला जी.आर.पी. को दिया गया है ! सूत्रों के द्वारा मिल रही जानकारी के मुताबिक आर.पी.एफ.के दोनों हवलदार इस मामले को दबाने के लिए सेटिंग में जुटे है इस बारे में कुर्ला जी.आर.पी. के एसीपी से मोबाईल पर संपर्क करने की कोशिश किया गया परंतु उन्होंने फोन नही उठाया इस लिए उनकी प्रतिक्रिया नही मिल पाई है बहरहाल इस मामले में आगे क्या हांकर को इंसाफ मिल पायेगा ये तो आने वाला समय ही बताएगा !
  • कोणार्क रेसिडेंसी पर लटकी कार्यवाई की तलवार !

    By fast headline india →
    कोणार्क रेसिडेंसी पुनः विवादों के घेरे में सरकार ने दिया प्रोजेक्ट को परमिशन देनेवाले अधिकारियों और कर्मचारियों की जांच करने का आदेश !

    उल्हासनगर-उल्हासनगर के शहाड़ रेलवे स्टेशन के सामने के कोणार्क रेसिडेंसी प्रोजेक्ट को मंजूरी देते समय बड़े पैमाने पर नियमों की अवहेलना करने के कारण इस प्रोजेक्ट को मंजूरी देनेवाले अधिकारियों और कर्मचारियों का नाम शासन के पास भेजकर तुरंत जांच करने का आदेश महाराष्ट्र शासन के उपसचिव संजय सावजी ने मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबालकर को दिया है।
    शहाड़ स्टेशन के पास बंद पड़ी हुई ईस्टर्न मशीनरी एंड ट्रेडर्स नामक कंपनी के जगह पर कोणार्क रेसिडेंसी इस बहुमंजीली इमारत के गृह प्रकल्प को मनपा के नगर रचना विभाग ने निर्माण की मंजूरी दी है।इस प्रकल्प में ७मंजिलों की १० इमारत और ३०० से ज्यादा फ्लैट रहेंगे।इस प्रकल्प का बांधकाम पूरा होने का दाखिला मिले बिना ही फरवरी २०१६ में शिवसेना नेता ठाणे के पालकमंत्री एकनाथ शिंदे, राष्ट्रवादी कांग्रेस के विधानपरिषद उपसभापति वसंत डावखरे और भाजपा सांसद कपिल पाटिल द्वारा फ्लैट धारकों को घर की चाभी बांटने के कारण यह प्रकल्प चर्चा में आया था। इस प्रकल्प के संदर्भ में विधानपरिषद के उपसभापति माणिकराव ठाकरे के पास विधान परिषद सदस्य भी जगताप ने शिकायत की थी।इस प्रकल्प के विषय में १४ नवंबर २०१७ को एक बैठक आयोजित की गई थी।इस बैठक में मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबालकर के अनुपस्थिति रहने पर इस प्रकल्प के अनियमितता के बारे में उपसचिव संजय सावजी ने मनपा प्रशासन को आदेश दिया है।इस आदेश में औद्योगिक से रहिवासी क्षेत्र नियम का ग़लत इस्तेमाल, जमीन मालिक के मृत होने के बाद कुलमुख्त्यार पत्र धारकों के नाम से बांधकाम का परमिशन, युएलसी कानून का उल्लंघन, शासन का महसूल कर न भरना, मनपा को अमेनिटी स्पेस तथा रूम न देना आदि त्रुटियों का इसमें उल्लेख है।इसीप्रकार इस प्रकल्प के पूरा होने का दाखिला नहीं होने का बोर्ड बांधकाम के सामने लगाकर फ्लैटों का हस्तांतरण रोका जाए, ऐसा आदेश में शामिल है।इस संदर्भ में हुई कार्रवाई की जानकारी आगामी बैठक में प्रस्तुत करने का आदेश मनपा आयुक्त राजेंद्र निंबालकर को दी गई हैं।
  • संविधान दिवस के निमित्त कार्यक्रम में राज्यमंत्री रविंद्र चव्हाण मुख्य अतिथि बनाये जाने से दलीत समाज के लोगो में आक्रोश ! 

    By fast headline india →
     संविधान दिवस के निमित्त कार्यक्रम में राज्यमंत्री रविंद्र चव्हाण मुख्य अतिथि बनाये जाने से दलीत समाज के लोगो में आक्रोश ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर स्थित महामहिन्द धम्मदूत सोसाइटी के द्वारा २६ नवंबर को संविधान दिवस मनाया जा रहा है, जिसमें दलित समाज को डुक्कर की उपमा देनेवाले राज्य के मंत्री रविंद्र चव्हाण इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहने वाले हैं।
    इस पर सुभाष टेकड़ी परिसर आंबेडकराइट एक्शन कमिटी के पदाधिकारियों ने चव्हाण के कार्यक्रम में न आने देने की भूमिका लिया है और ऐसा एक पत्र इस सोसाइटी के उपाध्यक्ष को दिया गया है, ऐसाकमिटी के पदाधिकारी एडवोकेट जय गायकवाड़ ने बताया है। २६ नवंबर को संविधान दिवस का कार्यक्रम सुभाष टेकड़ी परिसर में महामहिन्द धम्मदूत सोसाइटी द्वारा तक्षशिला महाविद्यालय के प्रांगण में मनाया जाने वाला है।इस अवसर पर इस कार्यक्रम के आयोजकों ने राज्यमंत्री रविंद्र चव्हाण को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया है।इन्हीं रविंद्र चव्हाण ने दलितों को डुक्कर का उपमा देकर संपूर्ण दलित समाज का अपमान किया था, तब राज्य भर में रविंद्र चव्हाण का निषेध करके उनका पुतला भी जलाया था।इतने पर भी जातीयवादी रविंद्र चव्हाण को संविधान दिवस के अवसर पर कार्यक्रम में बुलाने का यहां के आंबेडकराइट एक्शन कमिटी ने आक्षेप लिया है।इस कार्यक्रम में चव्हाण को प्रवेश न देने की भूमिका कमिटी ने ली है ।शहर के आंबेडकरी समाज में रविंद्र चव्हाण को मुख्य अतिथि बनाने पर आक्रोश फैल रहा है।आंबेडकराइटएक्शन कमिटी ने सोसाइटी के उपाध्यक्ष तायडे को निवेदन पत्र देकर चव्हाण को सुभाष टेकड़ी परिसर में प्रवेश नही करने देने की चेतावनी भी दी हैं।
  • 'पद्मावती' फिल्म विवाद हुआ रक्तरंजित !

    By fast headline india →
     'पद्मावती'  फिल्म विवाद हुआ रक्तरंजित !

     जयपुर के ऐतिहासिक नाहरगढ़ किले की प्राचीर पर एक युवक का लटका हुआ मिला शव ! 

     मुंबई-संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' पर विवाद अब खूनी रूप लेती जा रहा है. जयपुर के ऐतिहासिक नाहरगढ़ किले की प्राचीर से शुक्रवार को एक युवक का शव लटका मिला है.  इस शव के पास दीवार पर कोयले से जगह-जगह पद्मावती का विरोध लिखा है.  पत्थर पर लिखे एक स्लोगन में लिखा है- 'हम पुतले नहीं जलाते, लटकाते हैं.' वहीं, दूसरे स्लोगन में लिखा है- 'पद्मावती का विरोध'. यह शव किले की प्राचीर से लटका हुआ है और इस स्थिति में है कि यहां से इसे छोड़ दिया जाए तो यह 200 फुट गहरी खाई में गिर जाएगा. बताया जा रहा है शव चेतन सैनी नाम के एक शख्स का है. इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस का कहना है कि इसकी जांच की जा रही है कि 'पद्मावती' फिल्म के विरोध को लेकर लिखी धमकी का मृत व्यक्ति से संबंध है या फिर कोई शरारत है. यह भी हो सकता है कि जांच को प्रभावित करने के लिए किसी ने यह साजिशरची है. पुलस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया है.बदा दें संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' को लेकर सियासी घमासान चल रहा है. राजस्थान और मध्य प्रदेशसमेत कई राज्यों में फिल्म की रिलीज रोक दी गई है. वहीं मूवी 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली थी, लेकिन विवाद बढ़ता देख यह डेट टाल दी गई है.  
  • नगर पंचायत चुनाव मे वोटर लिस्ट से नाम गायब !

    By fast headline india →
    नगर पंचायत चुनाव मे वोटर लिस्ट से नाम गायब !

                  रिपोर्ट-विनोद कुमार गुप्ता

    बलिया - आदर्श नगर पंचायत सिकन्दरपुर, बलिया के चुनाव मे वोटर लिस्ट मे जमकर धांधली हुयी है,बालुपुर रोड,मनियर रोड,बाजार रोड के बहुत सारे मतदाताओं के पास वोटर कार्ड भी है और आधार भी,पर वोटर लिस्ट से नाम गायब है,पुरे पुरे परिवार का नाम ही वोटर लिस्ट से गायब है,ऐसे सैकड़ो परिवार है,क्या यही चुनाव आयोग और सरकार की पारदर्शिता है,
    आखिर ये सब किसके इशारे पर हुआ है और हो रहा है,क्या सच मायने मे यही लोकतंत्र है जहा पर वोटर कार्ड होते हुये भी जनता अपने मताधिकार का प्रयोग नही कर सकती,आखिर वोटरो के साथ राजनीतिकरण क्यो हो रहा है,उन्हे उनके अधिकारों से क्यो वंचित किया जा रहा है,यह चुनाव आयोग और सरकार की पारदर्शिता पर सवाल खड़ा करता है। प्राप्त सूचनाओं के अनुसार सरकारी सिस्टम के अंदर अपनी पैठ बनाये कुछ प्रत्याशीयों ने अपने विरोधी वोटरो का नाम कटवाने का काम किया है,इस बारे मे हमने पुर्व नगर पंचायत के अध्यक्षा और इस चुनाव मे निर्दल प्रत्याशी संजय जयसवाल से सम्पर्क किया तो उन्होंने कहा की अब कुछ नही हो सकता। वोटर लिस्ट से नदारद परिवारो ने चुनाव आयोग और सरकार से मांग की है कि वो इस प्रकरण की जाच कराये और दोषियों पर सख्त कार्यवाही हो।
  • अक्ट्रोसिटी मामले में उमपा आयुक्त को मुम्बई उच्चन्यायालय से मिली राहत !

    By fast headline india →
    एफ.आय.आर.स्क्वॉयश की याचिका पर सुनवाई के बाद...... 

    अक्ट्रोसिटी मामले में उमपा आयुक्त को मुम्बई उच्चन्यायालय से मिली राहत !

    नगरसेवक के मंसूबे पर फिरा पानी !


     उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगर पालिका के आयुक्त राजेन्द्र निम्बालकर पर कल्याण सत्र न्यायालय के आदेश पर जब से सेंट्रल पुलिस ने एट्रारासिटी का मामला दर्ज किया है,तब से आयुक्त छुट्टी पर है।आयुक्त की तरफ से मुम्बई उच्चन्यायालय में एफआईआर स्क्वॉयश करने के लिए याचिका दायर की गई थी,जिसकी सुनवाई करते हुए जस्टिस रंजीत मोरे की बेंच ने उमनपा आयुक्त को 6 सप्ताह का रिलीफ देते हुए ऐसा आदेश दिया है कि यदि पुलिस किसी परिस्थिति में उमनपा आयुक्त को अरेस्ट करती है तो निचली अदालत उन्हें तुरंत जमानत पर रिहा करे। 
    उच्चन्यायालय से आयुक्त को मिले इस रिलीफ से राजनीतिक द्वेष भावना का कोप भाजन बनाने वाले नेताओं के मंसूबे पर पानी फिर गया। गौर तलब हो कि आरपीआय नगरसेवक भगवान भालेराव ने उमनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर पर जातिवाचक शब्द का उच्चारण करने का आरोप लगाया था और आयुक्त पर अटरासिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करने की मांग मध्यवर्ती पुलिस से की थी।भगवान भालेराव की शिकायत पर मामले की तफ्तीश सहायक पुलिस आयुक्त विकास टोटावार ने किया था और जांचोपरांत पुलिस ने उमनपा आयुक्त को क्लीनचिट दिया था।पुलिस की तरफ से आयुक्त को मिले क्लीनचिट  से नाराज भालेराव ने कल्याण सत्र न्यायालय के प्रथम वर्गीय न्यायाधीश डी. एस. हथरोटे की कोर्ट में एडवोकेट चरण पंथालिया के जरिये 156 (3) के तहत याचिका दायर की थी,याचिका की सुनवाई करते हुए न्यायाधीश हथरोटे ने उमनपा आयुक्त सहित डीसीपी अंकित गोयल,एसीपी विकास टोटावार,तथा जाच अधिकारी अभिनाश कालदाते पर गुन्हा दर्ज करने का आदेश दिया था।कोर्ट के आदेश पर सेंट्रल पुलिस ने 17 तारीख को सिर्फ उमनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर पर अटरासिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था तब से आयुक्त छुट्टी पर है।                  इस बीच आयुक्त निम्बाल्कर ने कल्याण सत्र न्यायलय के आदेश पर दर्ज एफआईआर को स्क्वॉयश करने के लिए मुंबई उच्चन्यायालय में याचिका दायर की थी,गुरुवार को न्यायाधीश रंजीत मोरे की बेंच में इस मामले की सुनवाई थी।आयुक्त की तरफ से सीनियर काउंसिल अशोक मुंदरगी ने न्यायधीश के समक्ष पक्ष रखा,दोनो पक्षो की जिरह सुनने के बाद न्यायाधीश रंजीत मोरे ने उमनपा आयुक्त को 6 सप्ताह का रिलीफ देते हुए ऐसा आदेश दिया कि यदि मामला की जांच चल रही है और ऐसी परिस्थिति में यदि आयुक्त को अरेस्ट करने की नौबत पुलिस पर आन पड़ी तो इस स्थिति में आयुक्त को तुरन्त स्थानीय न्यायालय के समक्ष हाजिर करना होगा और स्थानीय न्यायालय के न्यायाधीश बिना शर्त उनकी  जमानत को तुरन्त मंजूर करेगे।उच्चन्यायालय के सीनियर बेंच के इस आदेश से आयुक्त को अरेस्ट करवाने का मंसूबा कई नेताओं का धरे का धरा रह गया।
  • मराठा क्रांती मोर्चा ने दिया जिल्हाधिकारी को निवेदन !

    By fast headline india →
    मराठा क्रांती मोर्चा ने दिया जिल्हाधिकारी को निवेदन ! 

    कर्तब्यनिष्ठ अधिकारी को अक्ट्रोसिटी केश में फंसाने पर व्यक्त किया निषेध ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगर पालिका आयुक्त राजेंद्र निंबालकर के ऊपर गैरकानुनी काम कराने के लिए दबाव बनाने के उद्धेश से उनपर अक्ट्रोसिटी ऍक्ट के अंतर्गत मामला दर्ज कराया गया है|
    इसी के विरोध में गुरुवार को मराठा क्रांती मोर्चा की तरफ से जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया गया| इस दौरान एक प्रतिनधि मंडल ठाणे जिलाधिकारी कार्यालय में जाकर उप जिला चुनाव अधिकारी फरोग मुकादम के पास अपना निवेदन दिया और कानून के दायरे में रहकर उचित और योग्य सहयोग करने की मांग की| इस प्रकरण में एक कार्यक्षम आईएएस अधिकारी जो शहर के विकास के लिए हर संभव प्रयास कर रहे है जिसके कारण अपना स्वार्थ सिद्ध करने में असमर्थ हो रहे मंडली ने उनपर रोक लगाने के लिए न्यायालय ने गलत जानकारी देकर अक्ट्रोसिटी का मामला दर्ज कराया है, ऐसा आरोप मावला संघटना की अध्यक्ष रुपाली पाटील ने लगाया है|  मराठा क्रांती मोर्चा के समनव्यक ऍड. संतोष सुर्यराव ने कहा समाज, राजनीती के साथ प्रशासकिय सेवा में भी मराठा जैसे ही जाति के अधिकारी है उनके द्वारा गैरकानुनी काम कराने के लिए अक्ट्रोसिटी कानुन के नाम पर ब्लॅकमेलिंग हो रही है| आयुक्त निंबालकर को न्याय दिलाने के लिए अगर जरूरत पडी तो मराठा क्रांती मोर्चा के पदाधिकारी मंत्रालय पर भी पहुंचेंगे  इस मोर्चे में रमेश आंग्रे, जयंत जगताप, भाग्यश्री शिंदे, दत्ता घुले, तेजेंद्र पोटे, श्याम आव्हारे, प्रवीण पिसाट, संतोष सूर्यराव, संतोष शृंगार, पराग मुंबरकर, नंदकिशोर शिंदे, उल्का करपे आदि मान्यवर उपस्थित थे|
  • वहसी ससुर ने अपनी बहू की बहन का किया बलात्कार !

    By fast headline india →
    वहसी ससुर ने अपनी बहू की बहन का किया बलात्कार ! 

    बहु की नहाते समय निकाली तस्वीर, वही फोटो दिखाकर बहु की बहन को करता था ब्लैकमेल ! 

    अंबरनाथ-अंबरनाथ से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां एक शख्स ने अपनी हवस मिटाने के लिए पहले अपनी बहू की नहाते वक्त न्यूड तस्वीर ली औऱ बाद में उस तस्वीर के जरिए बहू की छोटी बहन को ब्लैकमेलकरके उसका बलात्कार करता था। वो बार बार छोटी बहन को धमकी देता था कि अगर उसने उसे सेक्स करने नहीं दिया तो वो उन तस्वीरों को सबके सामने रख देगा जिससे उसकी बहन की बदनामी होगी। 
     25 वर्षीय पीड़िता का आरोप है कि बड़ी बहन और जीजा की आपत्तिजनक तस्वीरों द्वारा ब्लैकमेल कर आरोपी उसके साथ पिछले आठ महीने से शारीरिक संबंध बना रहा था। उसने इस घटना की शिकायत पुलिस में इसलिए नहीं की थी क्योंकि वह अपनी बहन की शादी खतरे में नहीं डालना चाहती थी।  फिलहाल इस मामले की शिकायत अंबरनाथ पुलिस थाने में दर्ज कराई गई है। पुलिस में दर्ज कराई गई पीड़िता की शिकायत के अनुसार आरोपी ने महिला को ब्लैकमेल कर कई बार उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए थे।
  • अक्ट्रोसिटी मामले हुआ चौकाने वाला खुलासा ! गवाह नही होने की वजह से पुलिस ने दिया था उमपा आयुक्त को क्लीन चीट!

    By fast headline india →
    अक्ट्रोसिटी मामले हुआ चौकाने वाला खुलासा !

    गवाह नही होने की वजह से पुलिस ने दिया था उमपा आयुक्त को क्लीन चीट! 

     राजेंद्र चौधरी क्यो बने गवाह ? 

     सहायक पुलिस आयुक्त की रिपोर्ट भेजी गई कल्याण कोर्ट ! 


    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगर पालिका के आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर पर आरपीआय नगरसेवक भगवान भालेराव ने जातिवाचक शब्द का उच्चारण करने का आरोप 6 जुलाई को लगाया था।जिसकी जांच उल्हासनगर के सहायक पुलिस आयुक्त विकास टोटावार ने किया था।आयुक्त के खिलाफ लगाये गए आरोप में पुलिस को कोई साक्षीदार नही मिला,जिसकी वजह से सहायक पुलिस आयुक्त ने जाँचो परांत आयुक्त पर लगे आरोपो को क्लीन चीट दिया था
    पुलिस रिपोर्ट में आयुक्त को मिली क्लीनचिट से बौखलाए नगरसेवक भालेराव को न्यायालय का दरवाजा खटखटाना पड़ा और न्यायपालिका के आदेश पर पुलिस ने आयुक्त पर अक्ट्रोसिटी का मामला दर्ज कर लिया, इस मामले में अब सहायक पुलिस आयुक्त द्वारा बनाई गई रिपोर्ट समक्ष आने के बाद ऐसा व्यतीत हो रहा है कि कुछ नेता आयुक्त को अपने कोप भाजन का शिकार बनाने पर अमादा हो गए है।                   गौर तलब हो कि उमनपा में केबिन को लेकर आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर और आरपीआय नगरसेवक भगवान भालेराव आमने-सामने हो गए थे ,तब भालेराव ने आरोप लगाया था कि जब आरपीआय के विभिन्न पक्षो के गट नेताओ के लिए केबिन की मांग की गई तब आयुक्त ने कहा था कि उमनपा को "महारवाड़ा" नही बनाना है।6 जुलाई को हुए इस वाद-विवाद की लिखित शिकायत भगवान भालेराव ने सेंट्रल पुलिस से की थी।जब कि दो-तीन दिनों बाद ही रिपाई के विभिन्न गटो के गटनेताओ को केबिन मिलने के बाद यह मामला शांत हो गया था।युवराज भदाने को निलंबित करने के लिए दिया था पत्र उल्हासनगर महानगर पालिका के जनसंपर्क अधिकारी युवराज भदाने को विशेष अधिकारी (अतिक्रमण विभाग) से हटाकर निलंबित करने के लिए भालेराव ने 2 अगस्त को उमनपा आयुक्त निम्बाल्कर को लिखित पत्र दिया था,भालेराव के पत्र पर जब आयुक्त ने भदाने को नही हटाया तब एक बार वापस "महारवाड़ा" मुद्दा गरमा गया और उसी दिन भालेराव ने उमनपा आयुक्त के खिलाफ सहायक पुलिस आयुक्त विकास टोटावार के समक्ष सेंट्रल पुलिस स्टेशन में जवाब दर्ज करवाया था,उक्त जवाब में भालेराव ने कहा कि आयुक्त ने महारवाड़ा शब्द का उच्चारण किया और बाद में दिल गिरी व्यक्त की उसके बाद शिवसेना शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी आयुक्त कार्यालय में आये और उनके सामने भी आयुक्त ने दिलगिरी व्यक्त की थी।भालेराव द्वारा पुलिस को दिए इस्टेटमेंट में पुलिस को कोई ठोस साक्षीदार नही मिला,नतीजतन सहायक पुलिस आयुक्त विकास टोटावार ने भालेराव की शिकायत पर आयुक्त को क्लीनचिट दे दी थी। आयुक्त के बचाव में उतरा मराठा समाज शिव प्रहार संघटना और मराठा समाज के प्रखर संजीव भोई पाटिल ने फेस बुक पर एक पोस्ट डाला है और उसमें स्पस्ट कहा कि उमनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर पर एट्रासिटी का जो आरोप लगाया गया वह बेबुनियाद है ऐसे बेबुनियाद आरोपो की जांच की मांग राज्य सरकार से करेंगे और यदि उमनपा आयुक्त को राजनीतिक द्वेष भावना का कोप भाजन बनाया गया तो मराठा समाज उनके पीछे शस्त्र की तरह खड़ा रहेगा,वही मावळा संघटना की महिला अध्यक्षा रुपाली पाटिल गुरुवार को ठाणे जिल्हा अधिकारी डॉ. महेंद्र कल्याणकर से मिलेगी और उमनपा आयुक्त पर दर्ज किए गए  एट्रासिटी मामले को लेकर सविस्तार चर्चा करेगी,आयुक्त के पक्ष में मराठा लाबी के उतरने से मामला और भी गरमाता जा रहा है। मनपा कामगार संघटना आयुक्त के साथ खड़ी है ऐसा उल्हासनगर मनपा में कार्यरत अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस, भारतीय कामगार महासंघ और लेबर फ्रंट इन तीनो संघटनाओं ने कहा कि आयुक्त के विरोध होने वाले आंदोलन वो शहभागी नही है ऐसा लिखित पत्र के द्वारा कही है !
  • आयुक्त  निंबालकर को न्याय दिलाने के लिए मराठा संगठनो ने  कसी कमर !

    By fast headline india →
    आयुक्त  निंबालकर को न्याय दिलाने के लिए मराठा संगठनो
    ने  कसी कमर !

    आयुक्त के विरोधियों के हुए हौसले पस्त !

    उल्हासनगर -उल्हासनगर पिछले हफ्ते उल्हासनगर मनपा के आयुक्त राजेंद्र निंबालकर पर एट्रोसिटी कानून के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया था।यह मामला दर्ज होने के बाद शिवसेना व रिपाई पार्टी की तरफ से आयुक्त को गिरफ्तार करने का निवेदन किया था।यह सब शुरू होते ही संपूर्ण महाराष्ट्र में कार्यरत मराठा संगठनो ने आयुक्त निंबालकर के पक्ष में सोशल मीडिया पर सन्देश वायरल होने से आयुक्त के विरोधियों में दहशत फैलने लगा है !६जुलाई २०१७ को मनपा आयुक्त कार्यालय में रिपाई नगरसेवक भगवान भालेराव का आयुक्त राजेंद्र निंबालकर के साथ शाब्दिक वाद विवाद हो गया था, इस समय निंबालकर ने हम पर जातिवाचक टिप्पणी की, ऐसा भालेराव ने आरोप लगाया था।इसके बाद भालेराव का समर्थन करते हुए अन्य राजकीय नेताओं ने आयुक्त पर मामला दर्ज करने की मांग की थी।लेकिन बाद में मध्यरात्रि इस प्रकरण को पूर्णविराम लगा दिया गया था,ऐसा समझा जा रहा था।लेकिन गुरुवार १६ नवंबर को कल्याण न्यायालय ने मनपा आयुक्त राजेन्द्र निंबालकर, पुलिस उपायुक्त अंकित गोयल, सहायक पुलिस आयुक्त विकास तोटावार,मध्यवर्ती पुलिस स्टेशन के जांच अधिकारी अविनाश कालदाते के खिलाफ मामलादर्ज करने का आदेश दे दिया।परन्तु भगवान भालेराव इन्होंने शिकायत देते समय सिर्फ आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर के नाम मामला दर्ज करवाया . आयुक्त पर अँट्रॉसिटी अंतर्गत मामला दर्ज कराने में जिस तरह से भालेराव ने मामले में टाइम पास किया इससे ये साफ है कि उसके पीछे कुछ स्वार्थ छुपा हुआ था परंतु वो नही हुआ तब ये सब हुआ ऐसी चर्चा शहर भर हो रही है, वैसी ही चर्चा पुलिस के नाम पर मामला दर्ज न कराने पर भी हो रही है.                   मामला दर्ज होने के बाद आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इनकी गिरफ्तारी करने की मांग को लेकर शिवसेना-रिपाई इन्होंने शनिवार से आंदोलने सुरु किया है . शनिवार और सोमवार को होनी वाली दोनो महासभा आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर उपस्थित नही होने की वजह से रद्द किया गया. इसके चलते शहर विकास के मुद्दे हल कैसे होंगे ऐसा प्रश्न भी उपस्थित होने लगा है .                 दुसरी तरफ इस सारे मुद्दे को देखते हुए सभी महाराष्ट्र के मराठा संघटन भी आयुक्त के समर्थन में आ खड़े हुए है ऐसे मैसेज सोशल मिडिया में घूम रहे है जिससे ये अंदाजा लगा है . कोपर्डी मामले के निर्णय पर अभी सभी  मराठा संघटनाओ का लक्ष केंद्रीत होने की वजह से आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इनसे साध सोबत फोन के जरिये संपर्क में होने की बात सामने आ रही है . मराठा संघटनां के पदाधिकारी जल्द मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, ठाणे जिल्हा पालकमंत्री एकनाथ शिंदे इनके अलावा सभी मराठा मंत्रियो भेट करके इस मामले की जांच पारदर्शक पद्धती से करने की मांग करने वाले है .              इस विषय में शिवप्रहार संघटना के पदाधिकारी संजिव भोर पाटील इन्होंने कहा कि सारे मामले को मैने सारी बारीकी से देखने के बात ऐसा लगता है कि इस मामले में किसी का स्वार्थ और राजकीय षडयंत्र रचा गया है ऐसा दिख रहा है . इस प्रकार के मामलों से उच्च पद पर कार्यरत मराठा व दूसरे ऊंची जाती के अधिकारी त्रस्त है, इसके लिए ही विविध मराठा संघटनाओ के पदाधिकारियो का संघटन हमनें बनाया है और निंबाळकर को इंसाफ दिलाने के लिए बड़ी लड़ाई लड़ने के लिए हम तैयारी कर चुके है. कोपर्डी मामले के फैसला आने के बाद आयुक्त निंबाळकर पर दर्ज मामले पर उनको इंसाफ दिलाने के लिये हमारा अगला कदम होगा .
  • अपने मंसूबो में असफल नेता ने रचा राजनीतिक षणयंत्र !

    By fast headline india →
    अपने मंसूबो में असफल नेता ने रचा राजनीतिक षणयंत्र !

    पहले सुलह. फिर करोड़ो फंड.अधिकारी का तबादला. जब नही मिली सफलता ? तब चली अपनी चाल !

    उल्हासनगर - उल्हासनगर मनपा आयुक्त राजेंद्र निम्बालकर पर दर्ज हुआ अक्ट्रोसिटी मामले में कुछ रोचक जानकारियां सामने आ रही है ! अपने मंसूबे को पूरा करने में जब कामयाबी नही मिला तब राजनीतिक षणयंत्र के तहत आयुक्त को सबक सिखाने के लिए पुराने दबे मुद्दे को फिर से ऊपर लाया गया फिर कोर्ट ले जाया गया जहाँ कोर्ट में सुनवाई होने के बाद कोर्ट ने आयुक्त, डी.सी.पी, ए.सी.पी व पी.आई पर मामला दर्ज करने का आदेश दिया था।परंतु इस मामले में पुलिस विभाग के आलाधिकारियों के आदेश पर शिकायत कर्ता ने सिर्फ मनपा आयुक्त पर मामला दर्ज करवाया इस पर अब सवाल उठने लगा है।
    सूत्रों के मुताबिक ठाणे पुलिस आयुक्त और जिले के एक कद्दावर मंत्री के जरिये पुलिस विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों पर मामला दर्ज करने से बचा लिए है।जिसके चलते पुलिस के तीन आलाधिकारियों पर कोर्ट के आदेश के बावजूद अक्ट्रोसिटी का मामला अब तक दर्ज नही किया गया है। इसके पीछे की राजनीतिक मंसा क्या है वह समझ में आ रहा है ! गौरतलब हो कि यह पूरा मामला मनपा में गट नेताओं केबिन को लेकर शुरू हुआ था ! केबिन न मिलने से नाराज रिपाई नगरसेवक भगवान भालेराव जब आयुक्त से मिलने उनके केबिन में गये थे तभी केबिन की मांग को लेकर आयुक्त व भालेराव के बीज नोकझोक हो गई उसी दरम्यान मनपा आयुक्त ने भालेराव को कहा था कि हमें मनपा को ,,,,,,,,, नही बना है , जिस समय यह पूरा मामला हुआ उस समय आयुक्त के केबिन में भगवान भालेराव मनपा आयुक्त राजेंद्र निम्बालकर, उपायुक्त मुख्यालय सन्तोष देहरकर, मालमत्ता ब्यवस्थापक विशाखा सावंत, आयुक्त के पीए प्रकाश तरे यही चार लोगों की मौजदूगी में यह पूरी घटना हुई है ऐसा विश्वसनीय सूत्रों द्वारा जानकारी मिली है, इसके कुछ देर बाद भालेराव ने अपने साध हुए घटना की जानकारी देने पत्रकार कक्ष में आये और पत्रकारो को पूरी जानकारी दी फिर पत्रकार कक्ष में मौजूद सभी पत्रकारों के साथ मनपा आयुक्त से मिलने वापस आयुक्त के केबिन में गये जब तभी पत्रकारो ने आयुक्त पूछा कि आप ने भालेराव को जाती को लेकर कुछ बोला है क्या तो आयुक्त ने कहा कि मै कोनवाड़ा बोलने जा रहा गलती से जाति वाचक शब्द निकल गया अगर मेरे शब्द से भालेराव को तकलीफ हुआ है तो उसके लिए हम माफी मांगते है ! इसके बाद भालेराव ने पुलिस को लिखित पत्र देकर मनपा आयुक्त पर अक्ट्रोसिटी के तहत मामला दर्ज करने की मांग किया, परंतु पता नही किन्ही येनकेन कारणों से मामला धीरे - धीरे ठंडे बस्ते में चला गया था परंतु जब अपना मंसूबा पूरा करने में अपने आप को असफल होते देखा तो दबे हुए मामले को स्थानीय कोर्ट में ले जाया गया जहाँ इस मामले की सुनवाई करने के बाद कोर्ट ने आदेश दिया कि आयुक्त समेत चार लोगो के विरुद्ध अक्ट्रोसिटी के तहत मामला दर्ज करें ! कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने मनपा आयुक्त के विरुद्ध अक्ट्रोसिटी की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया परंतु बाकी तीन पुलिस विभाग के लोगो पर मामला दर्ज नही हुआ ? सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ठाणे पुलिस आयुक्त और जिले के एक कद्दावर मंत्री के जरिये पुलिस विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों पर मामला दर्ज होने से बचा गया है । जिसके चलते पुलिस के तीन आलाधिकारियों पर कोर्ट के आदेश के बावजूद अक्ट्रोसिटी का मामला अब तक दर्ज नही किया गया है। बहर हाल इस मामले में वो कौन सी मंसा थी जो पूरी नही हुई और ये दबा हुआ मामला कोर्ट तक पहुँचने की नोबत आई ! दूसरा जब पुलिस को अर्जी दी गई थी तब पुलिस के बुलाने के बाद भी शिकायत दर्ज कराने क्यो नही गए ! मनपा के विश्वसनीय सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अपने वार्ड के विकाश के लिए करोड़ो की निधी न मिलने और मनपा के पीआरओ को दिए गए अतिक्रमण विभाग के विशेष उपायुक्त पद से न हटाना भी एक बड़ा कारण बताया जा रहा है ! बहर हाल पूरे मामले की जांच अम्बरनाथ के एसीपी सुनील पाटिल कर रहे है ! कुल मिलाकर इस रानीतिक षणयंत्र में किसका दांव किसके ऊपर भारी पड़ेगा वो तो आने वाला समय ही बताएगा !
  • घनश्याम बठीजा मर्डर मामले में पूर्व विधायक पप्पू कालानी सहित 6 लोग कोर्ट ने किया बाइज्जत बरी !

    By fast headline india →
    घनश्याम बठीजा मर्डर मामले में पूर्व विधायक पप्पू कालानी सहित 6 लोग कोर्ट ने किया बाइज्जत बरी ! 

     27 साल तक चले मामले में मिली कलानी को राहत इसका फायदा मिलेगा दूसरे केश में ?

     उल्हासनगर -इंदर बठिजा हत्या के आरोप में पूर्व विधायक पप्पू कालानी सहित अन्य 4 लोगो को आजीवन कारावास की सजा कल्याण की सत्र न्यायालय 29 नवम्बर 2013 में सुनाया था।शनिवार को कल्याण सत्र न्यायालय के न्यायाधीश डी. एस. हातरोटे के कोर्ट में घनश्याम बठिजा हत्या की सुनवाई हुई जिसमें सत्र न्यायालय ने सबूतों के आभाव में सभी आरोपियों को बाइज्जत कर दिया। 
    गौर तलब हो कि 27 फरवरी 1990 में के दिन घनश्याम सुन्दरदास बठिजा की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी।उस समय इंदर बठिजा की शिकायत पर विट्ठलवाड़ी पुलिस ने तत्कालीन विधायक पप्पू कालानी सहित डॉ. नरेंद्र रामसिंघानी,अरशद शेख,बच्ची पांडेय,बाबा गैबलियर,किशोर गारिकापट्टी तथा रिचर्डसन सात लोगो पर पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज किया था।27 साल तक कल्याण सत्र न्यायालय में विचारधीन मामले की सुनवाई विगत कुछ दिनों से प्रथम वर्गीय न्यायाधीश डी. एस. हाथरोटे के समक्ष सुनवाई चल रही थी।पूर्व विधायक पप्पू कालानी व अन्य लोगो की तरफ से सीनियर एडोवोकेट हर्षद पोंडा और एडोवोकेट भोजराज जेशवानी आर्गुमेंट कर रहे थे। जब कि मृतक घनश्याम बठिजा की तरफ से उनके छोटे भाई कमल बठिजा की तरफ से सरकारी वकील विकास पाटिल ने आर्गुमेंट किया था। दोनो पक्षो का आर्गुमेंट सुनने के बाद शनिवार को न्यायाधीश डी. एस हथरोटे ने घनश्याम बठिजा हत्या मामले की सुनवाई करते हुए पूर्व विधायक पप्पू कालानी,डॉ. नरेंद्र रामसिंघानी,अरशद शेख,बच्ची पांडेय,बाबा गैबलियर,किशोर गारिकापट्टी तथा रिचर्डसन सभी आरोपियों को आज सबूतों के आभाव में बाइज्जत बरी कर दिया।यहां बता दे कि इंदर बठिजा मर्डर केस में तलोजा जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे पूर्व विधायक पप्पू कालानी की बड़ी बेटी सीमा कालानी की 12 नवंबर को मुम्बई के रमाडा होटल में शादी थी,इसी वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पूर्व विधायक पप्पू कालानी को 10 तारीख को पैरोल मिली हुई है,इसलिए पप्पू कालानी सहित अन्य सभी नामजद आरोपी कल्याण कोर्ट में मौजूद थे।जैसे ही कल्याण सत्र न्यायलय ने घनश्याम बठिजा मामले में पप्पू कालानी को बाइज्जत बरी का फरमान सुनाया वैसे ही शहर वाशियो में उत्साह फैल गया।
  • वरिष्ठ अभियंता का नाटकीय आंदोलन !

    By fast headline india →
    वरिष्ठ अभियंता का नाटकीय आंदोलन !

    सभापति के अपील का उत्तर न होने के कारण लिया पुलिस स्टेशन की शरण !

    उल्हासनगर-उल्हासनगर मनपा में भ्रष्टाचार का अड्डा बन सार्वजनिक बांधकाम विभाग के ही सभापति ने विभाग का काला चिठ्ठा खोलने की शुरुआत कर दी है।उनके १५ माहिती के अधिकार की अपील शुक्रवार को दोपहर सार्वजनिक बांधकाम विभाग में था।उस अपील से बचने के लिए मध्यवर्ती पुलिस स्टेशन में सभापति के लड़के के खिलाफ गाली-गलौज का मामला दर्ज कर दबाव बनाने का प्रयास हो रहा है।
    पिछले 3 दिनों से सार्वजनिक बांधकाम विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ सभापति सरोजिनी टेकचंदानी ने खुलकर इसके संदर्भ में मुख्यमंत्री से शिकायत की थी।उसके बाद आयुक्त निंबालकर और महापौर मिना आयलानी द्वारा किए गए जांच में इस काम मे रेती की जगह ग्रीड का उपयोग हो रहा है,ऐसा पता चला है।इसके कारण अभियंता पर कार्रवाई की तलवार लटक रही थी।आयुक्त निंबालकर ने शहर अभियंता राम जैस्वार को सरोजिनी टेकचंदानी द्वारा मांगी गई संपूर्ण जानकारी देने की मांग की थी।यह अपील कल दोपहर 3 बजे थी।इस माहिती के कारण अभियंता का भ्रष्टाचार उजागर होने वाला था।इस कारण वे माहिती देने में टालमटोल कर रहे थे।इससे बचने के लिए एक ठेकेदार से सलाह लेकर शहर अभियंता राम जैसवार, कार्यकारी अभियंता महेश शितलानी,उप अभियंता जीतू चोइथानी, संदीप जाधव, अश्विनी आहुजा, लिपिक एन. पी. नागदेव,दीप्ती लादे ने शुक्रवार दोपहरको मध्यवर्ती पुलिस थाने पहुंच गए।उन्होंने सभापति सरोजिनी टेकचंदानी, उनके लड़के राजेश टेकचंदानी, नारायण पंजाबी के खिलाफ गाली-गलौज करके दबाव बनाने का लिखित शिकायत दर्ज कराया है।
  • साधुबेल गर्ल्स स्कूल के शिक्षकों ने बेतन नही मिलने पर काला फीता बांधकर किया काम !

    By fast headline india →
     साधुबेल गर्ल्स स्कूल के शिक्षकों ने बेतन नही मिलने पर काला फीता बांधकर किया काम !

    फाईल फोटो

     उल्हासनगर - शहर के कैम्प 1 स्थित   साधुबेला गर्ल्स स्कूल ट्रस्ट में चल रही आपसी लड़ाई के चलते गत 7 माह से   इंग्लिश प्राइमरी स्कूल की  शिक्षिकाओं को सात महीने से वेतन नहीँ मिलने से शिक्षकों में नाराजगी व्याप्त हो गया है। जिससे नाराज शिक्षकों ने  अपने हाथ मैं काला फीता बांधकर काम किया ।  प्राप्त जानकारी अनुसार उल्हासनगर कैम्प 1 स्थित साधुबेला इंग्लिश प्राइमरी स्कूल मैनेजमेंट में चल रही आपसी लड़ाई का शिकार बच्चो को शिक्षा देने वाली शिक्षकों को भुगतना पड़ रहा है। और गत 7 माह से उन्हें बिना बेतन का पढ़ाना पड़ रहा है। जिससे शिक्षकों का परिवार चलाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। और बेतन पाने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाने को मजबूर हो गयी है। वही मिल रही जानकारी अनुसार आपस मे लड़ रहे मैनेजमेंट के लोगो ने अपना गुस्सा शिक्षकों पर उतारने लगे है। बेतन मांगने पर उन्हें स्कूल से निकालने की धमकी दी जाने लगी है।जिसके चलते टीचरों में नौकरी से निकाले जाने का भय भी उन्हें सताने लगा है।  वही शक्षको को  वेतन नहीँ मिलने पर बुधवार के दिन सभी टीचरों ने मिलकर स्कूल प्रशासन के खिलाफ अपने हाथ मैं काला फीता बांधकर पूरा दिन काम किया । महिला  शिक्षकोंओ का कहना है कि अगर साथ दिन के अंदर उनका पूरा वेतन जोड़ कर नहीँ दिया गया तो वह स्कूल के सामने सभी  शिक्षकाये भूख हड़ताल करेगी। और भले भूख हड़ताल करते हुए उनकी जान चली जाए लेकिन वह पीछे नहीँ हटेगी । टीचरों ने कहाँ है कि भूख हड़ताल के दौरान कुछ हो गया तो इसका जिमेदार मनपा शिक्षा अधिकारी , स्थानीय पुलिस और स्कूल सचिव नितिन बागवे होंगे ।                 महीनों से वेतन नही मिलने से धैर्य खो चुकी साधुबेला की शिक्षिका  सोनिया चावला, नीतू रायसिंघानी,विद्या चुग, रीता चौधरी,वर्षा पदमा, सुनीता,सोनिया गर्ग,ममता, पूनम , सिमरन ने  सहित कई शिक्षकों ने काला फीता बांधकर स्कूल मैं काम किया ।                
  • अभय योजना 75 प्रतिशत छूट की समय सीमा बधाई गई !

    By fast headline india →
    अभय योजना 75 प्रतिशत छूट की समय सीमा बधाई गई ! 

    15 नवम्बर से 30 नवम्बर तक 75 प्रतिशत छूट का शहरवासी उठा सकते है लाभ! 

     3 दिन में मनपा कोष में जमा हुये 17 करोड़ टैक्स। 

     उल्हासनगर- मनपा आयुक्त द्वारा शहरवासियों के ऊपर बकाया करोड़ो रुपया टैक्स वसूलने को लेकर 1 नवंबर से 31 दिसम्बर तक लाये गये अभय योजना में मनपा प्रशासन के आर्थिक कोष में 16 दिन में 29 करोड़ रुपया जमा होने की जानकारी पत्रकारों को मनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बालकर ने गुरुवार को पत्रकारों को दी है। ध्यान देने की बात है मनपा आयुक्त ने प्रथम चरण 1 नवम्बर से 15 नवम्बर तक बकाया टैक्स भरने वालो को 75 प्रतिशत व्याज में छूट दिया था। परंतु तेजी से हो रही वसूली को ध्यान में रखकर आयुक्त ने 75 प्रतिशत छूट दिये गये व्याज की अवधि 15 दिन और बढ़ा दिया है। जो 15 नवम्बर से बढ़कर 30 नवंबर कर दिया है। उक्त जानकारी मनपा आयुक्त ने दी है।  प्राप्त जानकारी अनुसार अभय योजना को मिल रहे प्रतिसाद को आयुक्त ने गम्भीरता से लिया है। वही साई पार्टी के नगरसेवक दीपक सिरवानी द्वारा अवधि बढ़ाने की आयुक्त से मांग किये जाने पर उन्होंने  75 प्रतिशत छूट की अवधि बढ़ा दी है।जिससे  निर्धारती अवधी तक टैक्स नही भर पाने वाले शहरवासियों में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी है। आयुक्त ने बताया की अभी तक 11 हजार शहरवासियों ने अभय योजना का लाभ उठाकर 16 दिन में मनपा के कोष में 29 करोड़ रुपया जमा किया है। बता दे की गत 3 दिन में मनपा ने अभय योजना के तहत 17 करोड़ रुपया की वसूली करने में सफलता हासिल की है।मनपा के इतिहास में यह पहली बार हुआ है की तीन दिन में इतनी बड़ी रकम की वसूली मनपा कोष में जमा हुआ है।
  • विकास कार्यो में रेत की जगह हो रहा ग्रिट का हो रहे इस्तेमाल का पी,डब्लू,डी के सभापति ने किया भंडाफोड़ !

    By fast headline india →
    विकास कार्यो में रेत की जगह हो रहा ग्रिट का हो रहे इस्तेमाल का पी,डब्लू,डी के सभापति ने किया भंडाफोड़ !

    आयुक्त ने शहर अभियंता को लगाई फटकार। 
      
    महापौर ने भ्रष्ट ठेकेदार के खिलाफ की आयुक्त से कार्यवाही की मांग !     

     उल्हासनगर- उल्हासनगर शहर विकास कार्यो में हो रहे  कामो का मुवायना करने निकले मनपा आयुक्त महापौर व सार्वजनिक बांधकाम विभाग सभापति के सामने विकास से जुड़े काम मे ठेकेदार द्वारा भारी भ्र्ष्टाचार किये जाने का मामला सामने आने से अचंभित हो गये। शहर विकास से जुड़े कार्य मे घटिया सामग्री उपयोग होने से नाराज मनपा आयुक्त ने सम्बंधित विभाग के अधिकारी शहर अभियंता समेत उनके सहकारी कर्मचारियों की जमकर फटकार लगाया है।
    वही ठेकेदार द्वारा घटिया किस्म का रेती ग्रिट बांधकाम में उपयोग किये जाने को मनपा महापौर मीना आयलानी ने गम्भीरता से लिया है।और मनपा आयुक्त से भृष्ट ठेकेदार के खिलाफ कठोर कार्यवाही करने की मांग की है।महापौर की मांग के बाद शहर के ठेकेदारों समेत सम्बंधित विभागीय अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। प्राप्त जानकारी अनुसार महाराष्ट्र शासन द्वारा सुवर्ण जयंती अनुदान के अंतर्गत शहाड रेलवे से मनपा मुख्यालय तक 17 करोड़ रुपये का मुलसुबिधा कार्य व 20 करोड़ मुख्य रास्ता का डामरीकरण काम के साथ खड्डामय रास्ते के डामरीकरण के लिए सवा करोड़ रुपया।व प्रत्येक वार्ड पैनल में 65 लाख रुपये के तहत 12 करोड़ रुपया विकास काम करने को लेकर कुल मिलाकर 55 करोड़ रुपये की विकास निधि मंजूर कर विकास कार्य शुरू कराया गया है। वही ठेकेदारों द्वारा मनपा से मंजूर निधि के रकम से घटिया किस्म की सामग्री उपयोग कर विकास कार्य किये जाने की शिकायत सार्वजनिक बांधकाम विभाग की सभापति सरोजनी टेकचंदानी ने मनपा आयुक्त व महापौर से की थी। बांधकाम सभापति के शिकायत को मनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बालकर व महापौर मीना आयलानी ने गम्भीरता से लेकर किये जारहे विकास कार्यो का जायजा लेने के लिए महापौर आयुक्त व बांधकाम सभापति से शहर का दौरा किया। आयुक्त महापौर के दौरे के बाद शहर विकास कार्य करने वाले ठेकेदारों के द्वारा किये जारहे भ्र्ष्टाचार का पोल खुलकर सामने आ गया है। शहर के मध्य गोल मैदान से नेहरू चौक के रास्ते के चालू डीवाईडर काम का ठेकेदार द्वारा घटिया किस्म का ग्रिट पावडर का उपयोग कर काम किये जाने का मामला प्रकाश में आया है। वही विकास कार्य मे हो रहे भ्र्ष्टाचार को सामने आने पर मनपा आयुक्त ने शहर अभियंता राम जैसवार व उनके सहकर्मी सन्दीप जाधव तरुण सेवकानी को जमकर फटकार लगाया ।  बता दे की शहर विकास कार्य को लेकर मंजूर हुए निधि से घटिया किस्म का सामग्री उपयोग कर विकास कार्य करने को लेकर मनपा महापौर ने आयुक्त से सम्बंधित ठेकेदार व विभागीय अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही करने की मांग की है।महापौर के मांग के बाद ठेकेदारों में हड़कम्प मच गया है।
  • अतिरिक्त उपायुक्त का विवादित वीडियो सोशल मीडिया में हुआ वायरल !

    By fast headline india →
    अतिरिक्त उपायुक्त का विवादित वीडियो सोशल मीडिया में हुआ वायरल !
    अवैध निर्माण को बचाने के लिए पैसे मांगने का लग रहा आरोप !
    किसी का षड्यंत्र या साजिस की शिकार बनाया गया !

    उल्हासनगर -उल्हासनगर महानगर पालिका की अतिरिक्त उपायुक्त विजया कंठे की एक वीडियो क्लिप शोशल मीडिया ग्रुपो पर वायरल हुआ वीडियो में विजया कंठे किसी निर्माण को लेकर पैसो की बात करते हुए दिखाया गया है वीडियो कब का है और ये किसने बनाया है इसकी पुष्टि नही हो पाया है, 
    सूत्रों से मिली जानकारी की मुताबिक यह वीडियो पांच छ महीने पहले का है इस बारे विजया कंठे से संपर्क करने की कोशिश किया गया परंतु उनसे संपर्क नहीं हो पाया बता दे कि कंठे को इससे पहले एक दिन का प्रभारी आयुक्त का पदभार मिला था तब भी उनपर कई आरोप लगे थे जिसकी वजह से उनको वो पद तुरंत छोड़ना पड़ा था अब ऐसे में ये वायरल वीडियो से कंठे की मुसीबत बढ़ सकती है ! सवाल उठता है कि क्या मनपा प्रशासन इस वीडियो की जांच करा कर कोई ठोस कार्यवाई करेगी ? दूसरा क्या मनपा का कोई अधिकारी ही इस वीडियो को वायरल करवा कर अपना हित साधने की कोशिश तो नही कर रहा है ! क्या कोई जानबूझकर कंठे की छबि खराब करने चाहता है ? इस लिये ये जरूरी है कि पूरे मामले की जांच होनी चाहिए ताकि इस वायरल वीडियो के पीछे की सच्चाई जनता के सामने आए और दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाइ हो ताकि भविष्य में इस तरह का वीडियो किसी का वायरल करने के पहले दस बार सोचे इस लिए ये जरूरी है !
  • 15 दिनों के अंतराल जीन्स कारखाने बंद करने का आदेश अन्यथा बिजली और पानी की आपूर्ति बंद !

    By fast headline india →
    उल्हासनगर वालधुनी नदी प्रदूषित मामले में सुको का चला हथौड़ा ! 
     एनजीटी द्वारा निर्धारित की गई 100 करोड़ की दंड !

    राज्य सरकार अदा करेगी दो किश्तों में पैसा !

     जीन्स कारखाने बंद होने से 5 हजार मजदूरों पर लटकी बेरोजगारी की तलवार। 

    उल्हासनगर-अंबरनाथ तथा उल्हासनगर से कभी शुद्ध पानी के रूप में बहने वाली वालधुनी नदी बदलापुर, अंबरनाथ तथा उल्हासनगर की विविध केमिकल कंपनियों द्वारा छोडे जाने वाले रसायन युक्त पानी के चलतें अब एक दूषित नाले के रूप में तब्दील हो चुकी है, नदी को उसका पुराना वैभव दिलाने एवं इसके पानी से उल्हास नदी भी प्रदुषित न हो इसको लेकर वनशक्ति नामक एक एनजीओ द्वारा जारी लड़ाई के अब अच्छे परिणाम दिखाई देने लगे है।उच्चतम न्यायालय ने नगरविकास के प्रिंसिपल सचिव को 100 करोड़ भरने का निर्देश दिया है।वालधुनी कि स्वकछता को लेकर उमनपा ने शहर के 510 जीन्स कारखानों को नोटिस देकर 15 दिनों में बंद करने का आदेश दिया अन्यथा उनकी बिजली और पानी सप्लाई कट करने की चेतावनी दी है। एनजीटी के बाद अब देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट भी वालधुनी को लेकर सख्त हो गई है. मंगलवार को सुको में वालधुनी नदी के मुद्दे पर सुनवाई थीं, सर्वोच्च अदालत ने सुनवाई के दौरान अदालत में उपस्थित राज्य के मुख्य सचिव सुमित मुलिक को स्पष्ट निर्देश दिए कि राष्ट्रीय हरित अधिकारण( एनजीटी ) ने कल्याण - डोंबिवली, उल्हासनगर मनपा, अंबरनाथ तथा बदलापुर नपा पर 95 करोड़ का जो दंड निर्धारित किया, उसको उन्हें भरना ही होगा और यदि वह स्थानिक स्वराज्य संस्थाए दंड की राशि भरने की स्थिति में नहीं है। तो वह राशि राज्य सरकार को भरनी पड़ेगी, सुको में उमनपा आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर मौजूद थे। उनके मुताबिक मुख्य सचिव मुलिक को हामी भरनी पड़ी, राज्य सरकार को आगामी 60 दिनों के भीतर दो किश्तों में 100 करोड़ रुपए भरने होंगे, एक महीने के भीतर 50 करोड़ देने का लिखित आश्वासन मुलिक ने राज्य सरकार की ओर से दिया है. सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस मदन लुकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच में यह मामला चला। गौरतलब हो कि वनशक्ति नामक एनजीओ पिछले पांच साल से वालधुनी तथा उल्हास नदी की स्वच्छता व प्रदूषण की लड़ाई लड़ रहीं है, पहले राष्ट्रीय हरित अधिकरण ( एनजीटी ) पुणे में यह मामला चला और एनजीटी ने ऊक्त नपा व मनपाओं को इसका दोषी माना था, नदी को अच्छा साफ सुधरा बनाया जा सके तथा जिस औधौगिक क्षेत्र से प्रदुषित पानी नदी में आता है उसी क्षेत्र में ही दूषित पानी पर प्रक्रिया करने के लिए सीईटीपी बनाने एवं आवश्यक खामियों को पूरा करने के लिए ऊक्त राशि का इस्तेमाल करने के आदेश दिए थें, केडीएमसी, उल्हासनगर मनपा, अंबरनाथ तथा बदलापुर नपा ने पैसा न भरना पड़े इसलिए सर्वोच्च अदालत में गुहार लगाई थीं।वनशक्ति एनजीओ के अश्विन अघोर ने मंगलवार की शाम को बताया की सर्वोच्च अदालत ने जल्द से जल्द ऊक्त निधी से वालधुनी को साफ सुधरा बनाने के आदेश राज्य सरकार को दिए है, आयुक्त राजेन्द्र निम्बाल्कर ने बुधवार को पत्रकार परिषद में कहा कि अगली सुनवाई 18 दिसंबर को होनी है और सुको ने स्पस्ट निर्देश दिया है कि केमिकल (प्रदूषण) फैलाने वाली जीन्स कारखाने सहित एमआईडीसी की हद में चल रहे अवैध कंपनियों पर तत्काल अंकुश लगाया जाए,सुको के आदेश पर आयुक्त ने शहर के 510 जीन्स कारखानों को नोटिस देते हुए 15 दिनों में जीन्स कारखाने बंद करने का आदेश दिया है,आयुक्त ने बताया कि 21 नवंबर को जीन्स कारखाना चालको की बैठक टाउन हॉल में 3 से 5 के दरम्यान बुलाई गई है,जहां उन्हें कारखाने तुरन्त बंद करने का निर्देश दिया जायेगा ऐसा नही करने पर कारखाना चालको के पानी और बिजली आपूर्ति बंद कर दी जायेगी।सुको के इस आदेश से जीन्स कारखानों में कार्यरत 5000 मजदूरों पर बेरोजगारी की तलवार लटकने लगी है।
  • नाबालिग छात्रा से दो वर्षों से लगातार कुकर्म करने वाला पादरी और उसकी प्रेमिका को पुलिस ने किया गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    नाबालिग छात्रा से दो वर्षों से लगातार कुकर्म करने वाला पादरी और उसकी प्रेमिका को पुलिस ने किया गिरफ्तार ! 

    प्रेमिका के जरिये पादरी ने बनाया था छात्रा को हवस का शिकार !  

    छात्रा को ब्लू फ़िल्म दिखाकर किया जाता था उत्तेजित !

     उल्हासनगर-प्रार्थना घर (चर्च) में प्रेयर करवाने की आड़ में एक पादरी अपनी प्रेमिका के साथ मिलकर चर्च में अपनी माँ के साथ आने वाली एक 15 वर्षीय छात्रा से पहले नजदीकी बनाया और फिर अपनी प्रेमिका के साथ मिलकर दो वर्षों तक ब्लू फिल्म दिखाकर छात्रा में सेक्स के प्रति उत्तेजना पैदा कर महिला समलैंगिक और उसका प्रेमी चर्च का पादरी छात्रा को अपनी हवस का शिकार बनाता रहा।छात्रा की शिकायत पर विट्ठलवाड़ी पुलिस ने पादरी और उसकी प्रेमिका के खिलाफ बलात्कार ,पोक्सा के तहत मामला दर्ज कर दोनो को गिरफ्तार कर लिया।           प्राप्त जानकारी के अनुसार कैम्प पाँच में रहने वाली महिला जो एक निजी कंपनी में कार्यरत है वह अपनी 10 वी में पढ़ने वाली बेटी के साथ कैम्प-4 स्थित चर्च में प्रेयर करने आती थी।वहां उसकी मुलाकात चर्च के पादरी गीत कुमार उर्फ श्रीजीत पिल्ले (41) से हुई थी।पादरी की नीयत बच्ची को देखकर खराब हो गयी और उसने अपनी प्रेमिका के जरिये बच्ची को अपनी जाल में फसाने का षड्यंत्र रचा।पादरी पिल्ले की प्रेमिका ने छात्रा को दो साल पहले अपने जाल में फसाकर चर्च में प्रेयर करने के बाद उसे पादरी के घर ले गयी और फिर वहां से पादरी के इशारे पर उसकी प्रेमिका ने छात्रा को उत्तेजित करने का काम शुरू कर दिया।पुलिस के मुताबिक पादरी की प्रेमिका छात्रा को ब्लू फिल्म दिखाकर पहले अपने साथ समलैंगिक संबंध बनवाती थी उसके बाद जब उसका मन भर जाता तब पादरी छात्रा को अपनी हवस का शिकार बनाता था।           करीब दो वर्षों तक लगातार यह सिलसिला जारी रहा और छात्रा की माँ को शक हुआ कि बेटी के साथ कुछ तो दुष्कर्म हो रहा है,तब उसने बेटी से पूछताछ शुरू की और बेटी ने दो वर्षों से चल दुष्कर्म की सारी हकीकत अपनी माँ को बयां किया।बेटी की बाते सुनकर आश्चर्यचकित हुई मा के पैरों से जमीन खिसक गई और वह बेटी को लेकर विट्ठलवाड़ी पुलिस स्टेशन पहुच गयी और सारी हकीकत वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक के समक्ष बयान किया।छात्रा की बाते सुनकर पुलिस ने ततकाल पादरी गीत कुमार उर्फ श्रीजीत पिल्ले व उसकी महिला प्रेमिका के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कर अशेला पाड़ा में रहने वाले पादरी और शहद फाटक पर रहने वाली उसकी प्रेमिका को गिरफ्तार कर लिया।इस गिरफ्तारी के बाद अब सवाल उठता है कि चर्च में प्रेयर करवाने वाले पादरी ही ऐसी घिनौनी हरकत करेंगे तो चर्च में जाने वाली महिलाये कैसे महफूज रहेगी।
  • कल्याण कोर्ट ने उमपा आयुक्त, डी, सी,पी, एसीपी,पी,आई पर अक्ट्रोसीटी कानून के तहत मामला दर्ज करने का दिया आदेश !

    By fast headline india →
    कल्याण कोर्ट ने उमपाआयुक्त,डी,सी,पी,एसीपी,पी,आई पर अक्ट्रोसीटी कानून के तहत मामला दर्ज करने का दिया आदेश !


    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगरपालिका आयुक्त सहित तीन पुलिस अधिकारियों पर कल्याण जिला सत्र न्यायालय ने एक सुनवाई के दौरान अनुसूचित जाति जमाती कानून के अनुसार मामला दर्ज करने के आदेश के बाद महानगरपालिका में खलबली मच गई है।
    फरवरी में हुए उल्हासनगर महानगरपालिका चुनाव में चुनकर आये हुए रिपाई(आठवले गट),भारिप, पीआरपी सहित कांग्रेस व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के गट नेताओँ को कार्यालय और अन्य सुविधाएं पालिका ने दिया था।लेकिन अचानक ६जुलाई को आयुक्त निंबालकर ने इन पांचों कार्यालयों को सील कर दिया था।इस प्रकरण से रिपाई के पांचों पक्षों। के नगरसेवक चिढ़ गए थे, आयुक्त ने दलील दी थी कि इन पांचों पक्षों ने अवैध रूप से कार्यालय लिया था।कार्यालय सील होने के विवाद में रिपाई गट नेता व शहर जिलाध्यक्ष भगवान भालेराव और आयुक्त राजेंद्र निंबालकर के बीच कहासुनी हो गई थी, जिसमे आयुक्त ने हीन दर्जे का जातिवाचक शब्दों का इस्तेमाल किया था।इसके बाद पुलिस द्वारा आयुक्त पर कार्रवाई करने की मांग की गई थी।लेकिन पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई न करने के बाद इसके विरोध में भालेराव ने कल्याण जिला सत्र न्यायालय की शरण में गए थे।उसी संदर्भ में कल सुनवाई के दौरान न्यायालय ने आयुक्त राजेंद्र निंबालकर, परिमंडल ४ के पुलिस उपायुक्त अंकित गोयल, सहायक पुलिस आयुक्त विकास कोटावाला और पी आई अविनाश कालदाते इन चारों के विरुद्ध अनुसूचित जाति जमाती कानून के अनुसार मामला दर्ज करने का आदेश पुलिस को दिया है, ऐसी जानकारी भालेराव के वकील जय गायकवाड़ ने दी है।
  • म्हाडा लॉटरी में पत्रकार के कोटे के फ्लैट का हुआ झोलझाल !

    By fast headline india →
    म्हाडा लॉटरी में पत्रकार के कोटे के फ्लैट का हुआ झोलझाल !

    मुंबई के २२ पत्रकारों को मिले फ्लैट ! 

    पर इनमें कितने हैं असली पत्रकार ?

    मुंबई- मुंबई में अपना घर होने का सपना पालने वाले लोगों में पत्रकारों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। म्हाडा के ९१९ घरों की लॉटरी शुक्रवार को बांद्रा स्थित रंग शारदा में घोषित की गई। इसमें २२ फ्लैट पत्रकारों के लिये आरक्षित रखे गये थे। ८१९ घरों के लिए ६५००० लोगों ने अपनी किस्मत आजमाई थे, लेकिन सबका सपना पूरा नहीं हो सका। उन्हें अगली लॉटरी तक इंतजार करना पड़ेगा। जिन २२ पत्रकारों के नाम म्हाडा ने घोषित किया है, उनमें कई नाम ऐसे भी हैं जो संभवत: पहली बार सुनाई दिए हैं। फिलहाल कुछ लोगों ने ये भी संदेह जताया है कि पत्रकार कोटा के नाम पर कुछ ना कुछ झोल हुआ है 
    जिसकी जांच की जानी चाहिये। फिलहाल आरटीआई डालकर पत्रकारों को आवंटित फ्लैट का पूरा डिटेल मंगाया जा रहा है  ताकि दूध का दूध पानी का पानी हो सके। आश्चर्य की बात यह है कि  म्हाडा  ये भी जानकारी नहीं देती कि जिन पत्रकारों को फ्लैट दिये जा रहे हैं वे किस समाचार पत्र या चैनल में काम करते हैं। अगर ये जानकारी दे तो भ्रष्टाचार पर लगाम लगाया जा सकता है। 
  • चलती ट्रेन में 15 साल की बच्‍ची से रेप की हुई कोशिश !

    By fast headline india →
     चलती ट्रेन में 15 साल की बच्‍ची से रेप की हुई कोशिश ! 
    बच्ची को बचाने के लिये माँ , बेटी ट्रेन से लगाई छलांग !

    कानपूर -एक माँ की साहस के चलते अपनी नाबालिग बच्ची की इज्जत लूटने से बचाने का मामला सामने आया है बता दे कि अपनी बच्ची को अपराधियों से बचने के लिए मां-बेटी ने हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस से छलांग लगा दी। 
    घटना रात की है। बताया जाता है कि मां और बेटी कोलकाता से दिल्ली आने के लिए ट्रेन के अनारक्षित कोच में सफर कर रही थीं। तब कुछ दरिंदों ने 15 साल की युवती को जबरन बाथरूम में खींचने की कोशिश की, ऐसे में दोनों ने बचने के लिए ट्रेन से छलांग लगा दी। घटना चंदारी और कानपुर रेलवे स्टेशन के बीच की है। बेहोशी की हालत में दोनों करीब दो घंटे तक ट्रेक पर पड़े रहे। होश आने के बाद मां-बेटी चंदारी रेलवे स्टेशन पहुंचे। जहां यात्रियों ने उन्हें गंभीर हालत में देख तुरंत एंबुलेंस को बुलाया। तब दोनों को लाला लाजपत राय हॉस्पिटल ले जाया गया। घटना की जानकारी गर्वमेंट रेलवे पुलिस को रविवार (12 नंवबर) देर रात लगी। घटना के संबंध में कानपुर एसएचओ ने बयान जारी कर कहा, ‘हम मामले में एफआईआर दर्ज करने की तैयारी कर रहे हैं।’ दूसरी तरफ पीड़ित महिला ने पुलिस को दिए बयान में बताया, ‘करीब 10-15 लोगों के संगठन ने हावड़ा पार करते ही मेरी बेटी को परेशान करना शुरू कर दिया। उन्होंने उसके साथ शारीरिक छेड़छाड़ करने की कोशिश की। मैं रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) कांस्टेबल के पास पहुंची। मैंने दो बार बेटी के साथ हो रहे दुर्व्यवहार की शिकायत की। पहली बार तब जब ट्रेन इलाहबाद पहुंचने वाली थी जबकि दूसरी बार ट्रेन के इलाहबाद पहुंचने पर की।’ खबर के अनुसार महिला की शिकायत पर कांस्टेबल ने तीन आरोपियों को धर-दबोचा। लेकिन कांस्टेबल के साथ मारपीट कर वो वहां से भाग निकले। ये बात महिला ने हॉस्पिटल में हिंदुस्तान टाइम्स से कही है। महिला ने आगे बताया कि करीब तीस मिनट बाद आरोपी दोबारा वापस आए और मेरी बेटी को ड्रग्स देने और उसे बेचने की धमकी दी। रात करीब दस बजे पांच में से चार लोगों ने मेरी बेटी के चेहरे पर हमला किया। ऐसा तब हुआ जब वो बाथरूम जा रही थी। मुझे डर था की कहीं बेटी के साथ कुछ गलत ना हो जाए इसलिए हमारे पास ट्रेन से छलांग लगाने के अलावा दूसरा रास्ता नहीं बचा। गौरतलब है कि महिला के पति दिल्ली की किसी निजी फर्म में कार्य करते हैं जबकि युवती कोलकाता में कक्षा 9 की छात्रा है।
  • एक इंसान जिसने सबको किया हैरान ! पढ़े आखिर कौन है वो जिसने सबको किया हैरान !

    By fast headline india →
    एक इंसान जिसने सबको किया हैरान ! पढ़े आखिर कौन है वो जिसने सबको किया हैरान !

    मुंबई -दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं हमारे भारत देश में कई  गोल्ड के दीवाने देखने को मिलते हैं ऐसे में कुछ लोगों की दीवानगी चर्चा का विषय बन जाती है जो हमेशा चर्चा में रहते हैं और जिन्हें  हमेशा चर्चाओं में  रहना पसंद है वैसे ही कुछ खास लोग होते हैं जो अपनी लाइफ स्टाइल से लोगों को हैरान और प्रभावित करते रहते हैं 
    अभी इसी लिस्ट में एक नया नाम सामने आ रहा है जिसने अपनी दीवानगी की हद से लोगों को आकर्षित कर रखा है ऐसा ही एक नया नाम है सनी वाघचौरे का जिसे लोग गोल्डन मैन के नाम से भी जानते हैं जिसकी शाही लाइफ स्टाइल  को देखकर हर कोई अचंभित हो रहा है सनी अपनी बॉडी पर कई किलो सोना पहनना पसंद करते हैं वह खुद को गोल्ड का सबसे बड़ा दीवाना बताते है वह सिर्फ गोल्ड का फोन और गोल्ड के जूते  पहनना पसंद करते है सनी के बारे में कहते हैं कि उनका बॉलीवुड में भी अच्छा खासा लिंक और कई बॉलीवुड अभिनेताओं के साथ उनकी फ्रेंडशिप है ऐसे में विवेक ओबराय उनके  बेस्ट फ्रेंड है उनका पॉलिटिक्स में भी अच्छा खासा रुतबा है सनी कपिल शर्मा शो में भी जा चुके हैं सनी हमेशा अपनेगले में गोल्ड की चेन,हाथ में कड़ा, ब्रेसलेट और गोल्ड की घड़ी पहनते हैं सनी के पास गोल्डन कलर की ऑडी कार, गोल्ड के ही जूते और गोल्ड प्लेटेड iPhone है सनी को गोल्ड बहुत पसंद है|वह बचपन से ही गोल्ड के दीवाने है|महाराष्ट्र के पुणे शहर के करीब चिचवड में रहते हैं| वह हमेशा अपने साथ दो बॉडीगार्ड लेकर चलते हैं| उनकी तरह उनके एक दोस्त  को भी सोना पहनना पसंद है| वह भी कई किलो सोना अपनी बॉडी पर लेकर चलता है| इनके शाही ठाठ देखकर हर कोई सोच में पड़ जाते है ऐसे लाइफ स्टाइल के लिए हर कोई दुआ करता है जो लाइफस्टाइल सनी हर दिन जी रहा है|


  • बदलापुर में गुंडाराज , पत्रकार पर दिनदहाड़े जानलेवा हमला !

    By fast headline india →
    बदलापुर में गुंडाराज , पत्रकार पर दिनदहाड़े जानलेवा हमला !

    पत्रकार की गाड़ी को किया आग के हवाले !

    स्थानीय पुलिस ने पत्रकार की शिकायत लेने में किया टालमटोल, वरिष्ठ अधिकारियों के हस्तक्षेप पर दर्ज हुआ मामला !

    बदलापुर - बदलापुर में गुंडो के आतंक के सामने पुलिस प्रसाशन बौना होता दिख रहा है शहर में हुई दिनदहाड़े एक पत्रकार पर हमला होना इसका जीता जागता उदाहरण है, इतना ही नही जब पत्रकार कामत इस मामले की शिकायत दर्ज कराने गए तो मामला दर्ज करने में आनाकानी करते हुए मामला दबाने का प्रयास किया बाद बड़े अधिकारियों के हस्तक्षेप पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है ! 
    गौरतलब हो कि बदलापुर विकाश न्यूज़ पेपर के उपसंपादक पर जानलेवा हमला करके उन्हें जान से मारने की कोशिश किया गया और उनकी चार पहिया गाड़ी को पत्थरो से मारकर छतिग्रस्त किया बाद में उसे आग के हवाले कर दिया इस हमले में महेश कामत की जान तो बच गई है बहर हाल कामत का  इलाज सेंट्रल हास्पिटल में चल रहा है। बतादे की बदलापुर विकास न्यूज़ पेपर में कुछ दिन पहले एक समाचार लिखा गया था जो कि भ्रष्टाचार से जुड़े  कारोबारियों के विषय था  राजनीति में  ऊंची पहुंच रखने वालों के लिए यह बड़ी बात लिखी गई थी  उसी का मन मे राग रखते हुवे पिछले महीने एक  अज्ञात फोन कामत के मोबाइल पर  मुझे आपको मिलना है तभी उसके बातो से लग रहा था कि मुझे मारने की कोई साजिस होने वाली है  उसके बताए हुवे पत्ते पर नही गया किसी काम से शाम को 4 बजे रमेशवाड़ी परिसर में जा रहे थे उसी दरम्यान एक अज्ञात ब्यक्ति आया और अपनी पल्सर बाइक मेरे गाड़ी के सामने खड़ा कर दिया और गाली गलौज करने लगा उस पल्सर पर भावेश म्हात्रे बैठा हुवा था बाइक से उतर कर भावेश म्हात्रे ने लकड़े डंडे से कार में बैठे महेश कामत पर हमला करते हुए पहले गाड़ी तोड़ी फिर कामत की जमकर पिटाई की और बाद में गाड़ी को आग लगाकर चलते बने जब कामत घायल अवस्था में इसकी शिकायत बदलापुर पश्चिम पुलिस में करने गये तो उन्होंने शिकायत नही लिया गया बाद में वरिष्ठ अधिकारियों के दबाव के बाद मामला दर्ज किया गया है! इस मामले की शुरुवात हुई जब 31 तारिक को डीसीपी ऑफिस को पत्र लिखा उसी का मन मे राग रखते हुवे शुकवार की दोपहर को  मेरी चारपहिया गाड़ी को रोक कर  पहले तो पत्थरो से तोड़ा गया मुझपर जानलेवा हमला किया गया पुलिस के पंचनामा से पहले ही मेरी गाड़ी को भी जला दिया गया  बहर हाल पुलिस ने दो लोगो के विरुद्ध नामजद मामला दर्ज कर जिसमें तुकाराम म्हात्रे व बंड्या म्हात्रे है पुलिस ने इनको गिरफ्तार किया है पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है इसके पीछे किसका षड्यंत्र हो सकता है यह पूरा मामला जांच के बाद ही पता चल सकेगा ! पुलिस इस तरह के गुंडों पर कड़ी कार्यवाई करने की जरूरत है ताकि दोबारा इस तरह की वारदात न हो !
  • ६१ लाख के कर्ज डुबाने के लिए संचालक को फर्जी मामले में फंसाने का रचा गया षडयंत्र !

    By fast headline india →
     ६१ लाख के कर्ज डुबाने के लिए संचालक को फर्जी मामले में फंसाने का रचा गया षडयंत्र !

    कल्पतरु सहकारी पतपेड़ी के अध्यक्ष के खिलाफ दर्ज किया फर्जी मामला !

    फर्जी मामला दर्ज कराने वाले मास्टरमाइंड पर कब करेगी पुलिस कार्यवाई !

    उल्हासनगर -उल्हासनगर के कल्पतरु पतपेड़ी संस्था द्वारा लिए गए ६१ लाख रुपए का कर्ज डूबाने का प्रयास करते हुए कर्जदार उमेश राजपाल ने गवाहों की मदद से पतपेड़ी संस्था के  अध्यक्ष अमित वाधवा के खिलाफ बोगस मामला दर्ज किया है, ऐसा निवेदन अमित वाधवा ने  पुलिस महासंचालक से किया है।
    उल्हासनगर स्थित कल्पतरु पतसंस्था ,जिसके संचालक अमित वाधवा है। अमित पर मामला दर्ज करनेवाले उमेश राजपाल व उसकी पत्नी भी इस पतसंस्था के सदस्य है।इन दोनों ने व्यवसाय करने के लिये लगभग ६१ लाख का कर्ज लिया था।अनेक वर्षों से रुपये नही जमा करने के कारण पतसंस्था नेउमेश राजपाल को नोटिस भेजा था।दो दिन पहले उमेश राजपाल ने अमित वाधवा के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज कराया है।इस प्रकरण में अमित वाधवा फ़रार है,लेकिन उन्होंने पुलिस महासंचालक से निवेदन किया है और मोबाइल पर रिकॉर्ड किये हुए कॉल का रिकॉर्डिंग भेजा है।अमित वाधवा द्वारा दिए गए निवेदन के अनुसार मंगलवार रात के १२ बजकर ४० मिनट पर उमेश राजपाल का फ़ोन आया, उमेश ने बताया कि पांडे नामक व्यक्ति ने डॉल्फ़िन क्लब के पास उससे बहुत ज्यादा मारपीट की है।उसके बाद उसने अमित से मिलने की इच्छा जताते हुए उसके घर पर आ गया।उमेश के आने के बाद कर्ज में साक्षी तौर पर रहे रोशन माखिजा अमित के इमारत के निचे आया।उसने अमित को उमेश के साथ नीचे बुलाया।जब अमित और उमेश नीचे आ गए तब रोशन और उसके साथियों ने दोनों को मारने की शुरूआत कर दी।अमित ने अपना बचाव करते हुए घर जाकर फोन पर पुलिस को इस घटना की जानकारी दी।इसके बाद अमित और उमेश के दरम्यान फोन पर बात हुई,जिसमे अमित ने उमेश को पुलिस स्टेशन जनेबको कहा और बोला कि तुम चलो,मैं भी आता हूं।यह सभी रेकॉर्डिंग निवेदन के साथ अमित ने भेजा है। मध्यवर्ती अस्पताल में अमित वाधवा का उपचार भी किया गया, उसका मेमो भी उसके पास उपलब्ध है।इसके बावजूद उमेश राजपाल ने धमकी देकर केवल कर्ज की रकम डूबने के चक्कर मे खड़यंत्र के तहत मुझ पर मामला दर्ज कराया है।इस संदर्भ में अमित ने पुलिस महासंचालक के पास न्याय की गुहार लगाई है और निवेदन किया है
  • डेरे से मिला राम रहीम का ब्लैक सूटकेस खजाना देख पुलिस के उड़े होश !

    By fast headline india →
    डेरे से मिला राम रहीम का ब्लैक सूटकेस खजाना देख पुलिस के उड़े होश !

    लड़कियों के बायोडाटा , यूरो करेंसी,10 हार्डडिस्क,92 पेन ड्राइव बरामद !   

    चंडीगढ़ - सिरसा में डेरा सच्चा सौदा की तलाशी के दौरान पुलिस को जहां कई हार्ड डिस्क मिली वहीं एक ऐसा ब्लैक सूटकेस मिला है जिसे गुरमीत राम रहीम का सूटकेस बताया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि सूटकेस से जो मिला वे हैरान करने वाला है। सूटकेस से यूरो करेंसी, कई पैन ड्राइव, तस्वीरें, वीडियो कैसेट्स और दस्तावेज मिले हैं। साथ ही कुछ लड़के लड़कियों के बायोडाटा भी मिले हैं।
    बताया जता है कि जिन लड़के लड़कियों के बायोडाटा मिले हैं वे सब अवविवाहित हैं। इसके अलावा एक लैपटॉप औरथाईलैंड व ताइवान में निर्मित 10 कंप्यूटर हार्ड डिस्क भी बरामद मिली हैं। सूटकेस में भारी संख्या में यूरो करंसी भरी थी। करंसी के अलावा 92 पेन ड्राइव, 17 वीडियो कैसेट और गुरमीत राम रहीम के ताइवान दौरे की एक हार्ड डिस्क भी मिली है। हालांकि आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है लेकिन कहा जा रहा है कि इस हार्ड डिस्क में राम रहीम और हनीप्रीत की तस्वीरें हैं। 
  • प्रद्युम्न हत्याकांड का हुआ पर्दाफाश !

    By fast headline india →
    प्रद्युम्न हत्याकांड पर्दाफाश !

    आरोपी छात्र स्कूल में देखता था पॉर्न फिल्में, बैग में लाता था चाकू !


       गुरुग्राम - रायन इंटरनैशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न हत्याकांड अब एक नया मोड़ ले चुका है। सीबीआई ने मंगलवार को एक 11वीं के छात्र को गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान उसने  प्रद्युम्न की हत्या की बात कबूली है। 
    छात्र ने बताया कि एग्जाम और पीटीएम टालने के लिए उसने प्रद्युम्न की हत्या की।  सीबीआई जांच में पता चला है कि आरोपी कई दिनों से इसके लिए कोई तरीका खोजने में जुटा था और आखिरकार उसे हत्या के अलावा कोई और रास्ता नहीं सूझा। उसे लगता था कि 'कुछ बड़ा' होने पर ही स्कूल को बंद किए किया जाएगा। पूछताछ के दौरान आरोपी स्टूडेंट ने सीबीआई को बताया, 'मुझे कुछ समझ नहीं आया। मैं पूरा तरह ब्लैंक हो गया था और बस मैंने उसे मार डाला।' सीबीआई अधिकारी ने बताया कि आरोपी 11वीं के छात्र ने प्रद्युम्न को किसी बात का लालच देकर बाथरूम के अंदर बुलाया और अंदर ही उसका गला रेत दिया। सीबीआई ने बताया कि अशोक को आरोपी बताते हुए हरियाणा पुलिस ने जिस चाकू को 'हत्या के हथियार' के तौर पर पेश किया था, आरोपी स्टूडेंट ने उसी का इस्तेमाल किया था। इस चाकू को हरियाणा पुलिस ने टॉइलट के कमोड से बरामद किया था। सीबीआई के मुताबिक, क्राइम स्पॉट का कई बार निरीक्षण, सीसीटीवी फुटेज की गहन जांच, कॉल रेकॉड्र्स खंगालने और टीचर्स, स्टूडेंट्स सहित कई लोगों से पूछताछ के बाद वह आरोपी तक पहुंच पाई।    आरोपी छात्र स्कूल में देखता था पॉर्न फिल्में आरोपी छात्र के सहपाठियों का कहना है कि वह हमेशा मारपीट पर उतारू रहता है और बुहत ही बदमाश छात्र है। बताया जा रहा है कि आरोपी छात्र स्कूल बैग में चाकू लेकर आता था। साथ ही वह पोर्न एडिक्ट भी बताया जाता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार वह स्कूल में पोर्न फिल्म देखता था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वह छोटी-छोटी बात पर अपने सहपाठियों और दूसरे छात्रों पर हाथ उठाने को तैयार रहता था।   केंद्रीय जांच एजेंसी ने हरियाणा पुलिस द्वारा मुख्य आरोपी बनाए गए कंडक्टर अशोक कुमार को एक तरह से क्लीन चिट दे दी है। हरियाणा पुलिस ने दावा किया था कि प्रद्युम्न का यौन उत्पीडऩ करने की कोशिश के दौरान अशोक ने उसे मार डाला था, लेकिन सीबीआई को अपनी जांच में उसके खिलाफ कुछ नहीं मिला।  
  • विठ्ठलवाड़ी पुलिस का अजब गजब कारनामा ! चायनीज सेंटर वाले की गुंडागर्दी ग्राहक पर गरम तेल डालकर जान से मारने का क्रिया प्रयास !

    By fast headline india →
    विठ्ठलवाड़ी पुलिस का अजब गजब कारनामा ! क्रूरतापूर्ण मामले में लिया क्रास कम्पलेन !

    चायनीज सेंटर वाले की गुंडागर्दी  ग्राहक पर गरम तेल डालकर जान से मारने का क्रिया प्रयास !

    चाइनीज सेंटर वालो को बचाने के लिए यूज किया क्रास कम्पलेन का फार्मूला !

     उल्हासनगर-उल्हासनगर चार में एक सनसनी खेज घटना से शहर में कोहराम मच गया ! बता दे कि एक चायनीज कार्नर मालिक ने बिल के विवाद को लेकर एक 21 वर्षीय युवक पर कड़ाई के गरम तेल फेंककर जान से मारने का प्रयास किया.जिस से ग्राहक गंभीर रूप से जख्मी हो गया उसका इलाज मध्यवर्ति अस्पताल में चल रहा है।यह पूरी घटना सीसी टीव्ही में कैद हो गयी है।फिर भी पुलिस ने दोनों पक्ष की तरफ से मामला दर्ज कर आरोपी चायनीज कॉर्नर वाले को बचाने का प्रयास किया।
    इस मामले में विट्ठलवाड़ी पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार उल्हासनगर-४ व्हीनस चौक, पेट्रोल पंप के सामने स्थित मनोज चाइनीज कोळीवाडा में मंगलवार की रात विकी म्हस्के चायनीज चायनीज खाने गया था. खना होने के बाद बिल को लेकर विकी का काउंटर पर बैठे सुरज विनोद राय से विवाद हो गया.इस विवाद को लेकर विकी ने अपने भाई दीपक को भी चनीयज कॉर्नर पर बुला लिया.दोनो का विवाद इतना बढ़ गया कि गुस्से में आकर चायनीज कॉर्नर मालिक दर्शन राय ने होटल के भीतर से जग लेकर आया और गैस पर रखे कड़ाई से खोलता तेल निकलकर दिपक पंर फेक दिया. इस घटना से दिपक चेहरा,कंधा और छाती बुरी तरह से जल गया.पुलिस ने दिपक को उपचार के लिए मध्यवर्ती अस्पताल में भर्ती कराया. वही पुलिस द्वारा सीसी टीव्ही में यह सारी घटना कैद होने के बायजुद चायनीज कॉर्नर में काम करने वाले भोला प्रसाद सुरेंद्र राय की शिकायत पर पीड़ित पंर भी मारपीट के तहत मामला दर्ज किया है. बता दे कि उल्हासनगर में पुलिस के सरक्षन और आशीर्वाद अवैध के विभिन जगहों पर चायनीज कार्नर की आड़ में शराब बेधकड परोसी जाती है कैम्प 3 सपना गार्डन के पास बड़ी संख्या में चायनीज के धंध देर रात तक बेधड़क चलाये जाते हैं जहाँ कबाब के साथ बेधड़क शराब भी परोसी जाती है यही नही मोरया नगरी. विनाश चौक से नेताजी चौक रोड, फॉरवार लाइन,शांति नगर इत्यादि ठिकानों पर शराबियो का जमावड़ा लगा रहता है.जहा आये दिन गली गलौच मारामारी की वारदात होती रहती है. इन चायनीज दुकानो पर बेधकड शराब पिलाई जाती है स्थानीय पुलिस और दारूबंदी विभाग कभी इन पर कार्यवाही न करने के कारण इनका मनोबल बढ़ता है।
  • सनसनीखेज खुलासा - IPS अफसर ही सिविल सर्विस परीक्षा में कराता था नकल !

    By fast headline india →
    सनसनीखेज खुलासा - IPS अफसर ही सिविल सर्विस परीक्षा में कराता था नकल !

    ब्लूटूथ डिवाइस के जरिये होता था सारा खेल !

    चेन्नई- UPSC मेंस के एग्जाम में नकल करते पकड़े गए आईपीएस अफसर सफीर करीम को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. इस मामले की जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है कि करीम ने सिविल सर्विसेस परीक्षा फर्जी तरीके से पास करने के लिए दूसरे परीक्षार्थियों की भी मदद करता था.  
    पुलिस ने बताया कि करीम ने जो परीक्षा केे दौरान ब्लूटूथडिवाइस प्रयोग की थी वह एक बहुत ही छोटे कैमरे से जुड़ा था. यह कैमरा करीम की शर्ट की बटन में लगा था. इस कैमरे में लगे एक वायरलेस मॉडम की सहायता से प्रश्न-पत्रों की तस्वीरें खींचकर हैदराबाद में बैठी करीम की पत्नी जॉयसी जॉय और केरल में उसके सहयोगियों को भेजी जाती थी.  जांच में पता चला है कि करीम तिरुवनंतपुरम, कोच्चि और हैदराबाद में यूपीएससी परीक्षाओं की कोचिंग सेंटर चलाता है. इसी तरह की चीटिंग से वह उसकी कोचिंग सेंटर में पढ़ने वाले छात्रों की भी मदद करता था. इसके बदले करीम छात्रों से मोटी रकम लेता था. अब करीम का गूगल ड्राइव अकाउंट खंगाला जा रहा है क्योंकि उसने चैन्ने में हुई मुख्य परीक्षा से पहले मदुरई में हुई यूपीएससी की प्रारंभित परीक्षाओं में प्रश्नपत्र की तस्वीरें भेजी थीं. संभव है कि इसी तरह की इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस उसने प्रयोग की हो और गूगल क्लाउड स्टोरेज सिस्टम में वह स्टोर हों.  करीम के साथ काम करने वाले सहयोगी पी रामबाबू जो हैदराबाद में लॉ एक्सलेंस कोचिंग सेंटर चलाता था. करीम के दूसरे सहयोगी मोहम्मद शाहीब खान और समजाद को भी पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. शाहीब और समजाद करीम के केरल वाले सेंटर के इंचार्ज थे.  गिरफ्तार किए गए सभी लोगों के पास से 11 मोबाइल फोन, एक टैबलेट, एक लैपटॉप, चार हार्ड डिस्क और एक पेन ड्राइव मिले हैं. बरामद किए गए सभी सामान फरेंसिक जांच के लिए माइलापुर भेजे गए हैं. फरेंसिक जांच से करीम और उसकी पत्नी की और धोखाधड़ी सामने आएगी.
  • हाफ मर्डर मामले में कल्पतरु बैंक का डायरेक्टर फरार !

    By fast headline india →
    हाफ मर्डर मामले में कल्पतरु बैंक का डायरेक्टर फरार !   

    मोबाइल फोन के जरिये फरार डायरेक्टर की तलाश में जुटी पुलिस ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर के रसूखदार नेताओ की शह पर  पठानी  सूदखोर का धंधा करने वाले कल्पतरु बैंक के डायरेक्टर को हत्या के प्रयास के मामले में उल्हासनगर पुलिस सरगर्मी से तलाश रही है,कल्पतरु बैंक के डायरेक्टर पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज होने से उसके साथ जुड़े रसूखदार नेताओ में हड़कंप मच गया है।फरार अमित वाधवा को गिरफ्तार  करने के लिए पुलिस उसका मोबाइल फोन ट्रेस करने में जुट गई है।                  प्राप्त जानकारी के अनुसार  कल्पतरु बैंक के डायरेक्टर अमित मामा वाधवा ने बीती देर रात रमेश राजपाल उर्फ पापड़ी को अपने पाले हुए गुर्गों के जरिये अपने घर के नीचे बुलाया और पठानी व्याज का पैसा मांगा तब पापड़ी ने कहा कि अभी पैसा नही है थोड़ा मोहलत चाहिए,पापड़ी की बातों से नाराज अमित वाधवा अपने गुर्गों के साथ रमेश राजपाल उर्फ पपड़ी को    बेरहमी से पीटने लगा जब उससे भी दिल नही भरा तब उसने धारदार हथियार से पापड़ी पर सपासप कई वार किया।इस हमले से पापड़ी घटना स्थल पर ही ढेर हो गया,जख्मी हालत में पापड़ी के परचित व्यक्ति उसे पुलिस स्टेशन ले गए जहाँ पापड़ी को खून से लतपथ देख पुलिस ने उसे उपचार के लिए तत्काल मध्यवर्ती हॉस्पिटल में एडमिट करवाया।रात के समय उल्हासनगर पुलिस ने रमेश राजपाल की शिकायत पर अमित वाधवा व अन्य पर हथियार की नोक पर मारपीट का मामला दर्ज किया था,परन्तु पापड़ी की नाजुक हालत को देखते देर शाम पुलिस ने अमित सहित उसके अन्य गुर्गों पर हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर पुलिस  अमित वाधवा की तलाश में जुट गई है।                यहां बता दे कि कल्पतरु बैंक की आड़ में अमित वाधवा व मामा वाधवा के पठानी व्याज का गोरखधंधा धंधा जमकर फल फूल रहा है।यदि पठानी व्याज दर देने में कोई लेट लतीफ हुआ तो अमित वाधवा के पाले हुए गुर्गे गरीबो से पैसा वसूलने के लिए कई लोगो का किडनैप करके उसकी बेरहमी से पिटाई करते थे,इन गुंडों की पिटाई का शिकार हुआ व्यक्ति यदि पुलिस स्टेशन जाता तो वहां पुलिस ही शिकायत करता को भगा देती थी।इसके पहले भी उल्हासनगर में सुशील माखीजा नामक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज करवाई थी।बताया जाता है कि अमित वाधवा पर विभिन्न पुलिस स्टेशन में कई संगीन अपराधिक मामले दर्ज है परंतु राजनीतिक रसूख के चलते पुलिस उसपर अब तक कोई ठोस कार्यवाही नही कर पा रही है।यही कोई छोटा-मोटा गरीब या छुटभैये गुन्डो पर दो से तीन मामले भी दर्ज हो जाते है तो पुलिस ऐसे समाज कंठको को ताडिपार कर देती है,परन्तु पठानी व्याज खोर अमित वाधवा पर पुलिस ऐसी कार्यवाही क्यू नही कर रही है यह प्रश्न खड़ा हो गया है।सूत्रों के मुताबिक अमित वाधवा झूठे मामले दर्ज करवाने में महारत हासिल किया हुआ है इसलिए पुलिस अमित वाधवा को गिरफ्तार करने के लिए उसके मोबाइल फोन को ट्रेस करने में जुटी हुई है।
  • प्राइवेट हॉस्पिटल में महिला कर्मचारी की संदेहास्पद परिस्थिति में मौत ! हादसा या मर्डर पोस्ट मार्टम रिपोर्ट आने पर हो पर होगा खुलासा !

    By fast headline india →
    मीरा एन, एक्स हॉस्पिटल में महिला कर्मचारी की संदेहास्पद परिस्थिति में मौत !

    हादसा या मर्डर पोस्ट मार्टम रिपोर्ट आने पर हो पर होगा खुलासा ! 

    ये हॉस्पिटल इससे पहले भी विवादों रह चुका है !

    उल्हासनगर-उल्हासनगर कैम्प 3 स्थित मीरा NX नामक हॉस्पिटल में दो वर्षो से ऑपरेशन थिएटर में इंचार्ज के तौर पर काम करने वाली प्रतिभा जालिंदर भागवत (32) वर्षीय महिला की अस्पताल में नाइट शिफ्ट के दौरान संशयास्पद परिस्थिति में मौत से सनसनी फैल गयी है. फिलहाल मध्यवर्तिय पुलिस ने अकस्मात मौत का मामला दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए मुम्बई जेजे हॉस्पिटल में भेजा है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कोई खुलाशा हो सकता है। 
    मिली जानकारी के अनुसार उल्हासनगर कैम्प नंबर 3 मीरा हॉस्पिटल में काम करनेवाली प्रतिभा भागवत हरदिन की तरह गुरुवार को भी हॉस्पिटल में काम पर आयी थी अचानक उसे चक्कर आने पर उसे उसी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती करा दिया गया.इस घटना पर अस्पताल वालो ने प्रतिभा के परिवार को आत्महत्या करने का प्रयास करने की जानकारी डॉक्टरों ने दी.सोमवार शाम उपचार के दौरान प्रतिभा की मौत हो गयी.प्रतिभा के मौत पर शंका उत्तपन होने पर प्रतिभा के भाई गणेश और पति जलिन्दर ने इस घटना की सूचना स्थानीय पुलिस को दी।  घटना की जानकारी मिलते ही शिवसेना उल्हासनगर शहर प्रमुख राजेंद्र चौधरी और छावा संघटन के निखिल गोळे मीरा हॉस्पिटल में पहुच कर घटना की जानकारी ली. कहा कि अगर इस घटना में अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार होगा तो उन पर कार्यवाही करने की मांग पुलिस से की जाएगी. हॉस्पिटल प्रशासन से प्रतिभा कि मौत को लेकर प्रतिक्रिया लेने का प्रयास किया गया पंर उन्होंने कुछ कहने से इंकार कर दिया। बता दे कि ये अस्पताल पहले से विवादों में रह चुका है !