• आयुक्त  निंबालकर को न्याय दिलाने के लिए मराठा संगठनो ने  कसी कमर !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    आयुक्त  निंबालकर को न्याय दिलाने के लिए मराठा संगठनो
    ने  कसी कमर !

    आयुक्त के विरोधियों के हुए हौसले पस्त !

    उल्हासनगर -उल्हासनगर पिछले हफ्ते उल्हासनगर मनपा के आयुक्त राजेंद्र निंबालकर पर एट्रोसिटी कानून के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया था।यह मामला दर्ज होने के बाद शिवसेना व रिपाई पार्टी की तरफ से आयुक्त को गिरफ्तार करने का निवेदन किया था।यह सब शुरू होते ही संपूर्ण महाराष्ट्र में कार्यरत मराठा संगठनो ने आयुक्त निंबालकर के पक्ष में सोशल मीडिया पर सन्देश वायरल होने से आयुक्त के विरोधियों में दहशत फैलने लगा है !६जुलाई २०१७ को मनपा आयुक्त कार्यालय में रिपाई नगरसेवक भगवान भालेराव का आयुक्त राजेंद्र निंबालकर के साथ शाब्दिक वाद विवाद हो गया था, इस समय निंबालकर ने हम पर जातिवाचक टिप्पणी की, ऐसा भालेराव ने आरोप लगाया था।इसके बाद भालेराव का समर्थन करते हुए अन्य राजकीय नेताओं ने आयुक्त पर मामला दर्ज करने की मांग की थी।लेकिन बाद में मध्यरात्रि इस प्रकरण को पूर्णविराम लगा दिया गया था,ऐसा समझा जा रहा था।लेकिन गुरुवार १६ नवंबर को कल्याण न्यायालय ने मनपा आयुक्त राजेन्द्र निंबालकर, पुलिस उपायुक्त अंकित गोयल, सहायक पुलिस आयुक्त विकास तोटावार,मध्यवर्ती पुलिस स्टेशन के जांच अधिकारी अविनाश कालदाते के खिलाफ मामलादर्ज करने का आदेश दे दिया।परन्तु भगवान भालेराव इन्होंने शिकायत देते समय सिर्फ आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर के नाम मामला दर्ज करवाया . आयुक्त पर अँट्रॉसिटी अंतर्गत मामला दर्ज कराने में जिस तरह से भालेराव ने मामले में टाइम पास किया इससे ये साफ है कि उसके पीछे कुछ स्वार्थ छुपा हुआ था परंतु वो नही हुआ तब ये सब हुआ ऐसी चर्चा शहर भर हो रही है, वैसी ही चर्चा पुलिस के नाम पर मामला दर्ज न कराने पर भी हो रही है.                   मामला दर्ज होने के बाद आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इनकी गिरफ्तारी करने की मांग को लेकर शिवसेना-रिपाई इन्होंने शनिवार से आंदोलने सुरु किया है . शनिवार और सोमवार को होनी वाली दोनो महासभा आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर उपस्थित नही होने की वजह से रद्द किया गया. इसके चलते शहर विकास के मुद्दे हल कैसे होंगे ऐसा प्रश्न भी उपस्थित होने लगा है .                 दुसरी तरफ इस सारे मुद्दे को देखते हुए सभी महाराष्ट्र के मराठा संघटन भी आयुक्त के समर्थन में आ खड़े हुए है ऐसे मैसेज सोशल मिडिया में घूम रहे है जिससे ये अंदाजा लगा है . कोपर्डी मामले के निर्णय पर अभी सभी  मराठा संघटनाओ का लक्ष केंद्रीत होने की वजह से आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इनसे साध सोबत फोन के जरिये संपर्क में होने की बात सामने आ रही है . मराठा संघटनां के पदाधिकारी जल्द मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, ठाणे जिल्हा पालकमंत्री एकनाथ शिंदे इनके अलावा सभी मराठा मंत्रियो भेट करके इस मामले की जांच पारदर्शक पद्धती से करने की मांग करने वाले है .              इस विषय में शिवप्रहार संघटना के पदाधिकारी संजिव भोर पाटील इन्होंने कहा कि सारे मामले को मैने सारी बारीकी से देखने के बात ऐसा लगता है कि इस मामले में किसी का स्वार्थ और राजकीय षडयंत्र रचा गया है ऐसा दिख रहा है . इस प्रकार के मामलों से उच्च पद पर कार्यरत मराठा व दूसरे ऊंची जाती के अधिकारी त्रस्त है, इसके लिए ही विविध मराठा संघटनाओ के पदाधिकारियो का संघटन हमनें बनाया है और निंबाळकर को इंसाफ दिलाने के लिए बड़ी लड़ाई लड़ने के लिए हम तैयारी कर चुके है. कोपर्डी मामले के फैसला आने के बाद आयुक्त निंबाळकर पर दर्ज मामले पर उनको इंसाफ दिलाने के लिये हमारा अगला कदम होगा .
  • 1 comment to ''आयुक्त  निंबालकर को न्याय दिलाने के लिए मराठा संगठनो ने  कसी कमर !"

    ADD COMMENT
    1. अॅट्रॉसिटी कानून की दुरुपयोग नही होता है यह कहनेवाले जातीअंतवादी कार्यकर्ता इस घटना को किस अंदाज में ले रहे है यह देखकर दुख होता है..
      मराठा क्रांती मूक मोर्चा इसी बात को उजागर कर रहा था.. की अॅट्रॉसिटी कानून का दुरुपयोग ना हो... इसी मुद्दे को इन ढोंगीयोनें धूत्कार दिया था..
      मगर इस मुद्दे पर मराठा लडेगा.. लढता रहेगा एकजूट होकर..

      ReplyDelete