• ६१ लाख के कर्ज डुबाने के लिए संचालक को फर्जी मामले में फंसाने का रचा गया षडयंत्र !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
     ६१ लाख के कर्ज डुबाने के लिए संचालक को फर्जी मामले में फंसाने का रचा गया षडयंत्र !

    कल्पतरु सहकारी पतपेड़ी के अध्यक्ष के खिलाफ दर्ज किया फर्जी मामला !

    फर्जी मामला दर्ज कराने वाले मास्टरमाइंड पर कब करेगी पुलिस कार्यवाई !

    उल्हासनगर -उल्हासनगर के कल्पतरु पतपेड़ी संस्था द्वारा लिए गए ६१ लाख रुपए का कर्ज डूबाने का प्रयास करते हुए कर्जदार उमेश राजपाल ने गवाहों की मदद से पतपेड़ी संस्था के  अध्यक्ष अमित वाधवा के खिलाफ बोगस मामला दर्ज किया है, ऐसा निवेदन अमित वाधवा ने  पुलिस महासंचालक से किया है।
    उल्हासनगर स्थित कल्पतरु पतसंस्था ,जिसके संचालक अमित वाधवा है। अमित पर मामला दर्ज करनेवाले उमेश राजपाल व उसकी पत्नी भी इस पतसंस्था के सदस्य है।इन दोनों ने व्यवसाय करने के लिये लगभग ६१ लाख का कर्ज लिया था।अनेक वर्षों से रुपये नही जमा करने के कारण पतसंस्था नेउमेश राजपाल को नोटिस भेजा था।दो दिन पहले उमेश राजपाल ने अमित वाधवा के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज कराया है।इस प्रकरण में अमित वाधवा फ़रार है,लेकिन उन्होंने पुलिस महासंचालक से निवेदन किया है और मोबाइल पर रिकॉर्ड किये हुए कॉल का रिकॉर्डिंग भेजा है।अमित वाधवा द्वारा दिए गए निवेदन के अनुसार मंगलवार रात के १२ बजकर ४० मिनट पर उमेश राजपाल का फ़ोन आया, उमेश ने बताया कि पांडे नामक व्यक्ति ने डॉल्फ़िन क्लब के पास उससे बहुत ज्यादा मारपीट की है।उसके बाद उसने अमित से मिलने की इच्छा जताते हुए उसके घर पर आ गया।उमेश के आने के बाद कर्ज में साक्षी तौर पर रहे रोशन माखिजा अमित के इमारत के निचे आया।उसने अमित को उमेश के साथ नीचे बुलाया।जब अमित और उमेश नीचे आ गए तब रोशन और उसके साथियों ने दोनों को मारने की शुरूआत कर दी।अमित ने अपना बचाव करते हुए घर जाकर फोन पर पुलिस को इस घटना की जानकारी दी।इसके बाद अमित और उमेश के दरम्यान फोन पर बात हुई,जिसमे अमित ने उमेश को पुलिस स्टेशन जनेबको कहा और बोला कि तुम चलो,मैं भी आता हूं।यह सभी रेकॉर्डिंग निवेदन के साथ अमित ने भेजा है। मध्यवर्ती अस्पताल में अमित वाधवा का उपचार भी किया गया, उसका मेमो भी उसके पास उपलब्ध है।इसके बावजूद उमेश राजपाल ने धमकी देकर केवल कर्ज की रकम डूबने के चक्कर मे खड़यंत्र के तहत मुझ पर मामला दर्ज कराया है।इस संदर्भ में अमित ने पुलिस महासंचालक के पास न्याय की गुहार लगाई है और निवेदन किया है
  • No Comment to " ६१ लाख के कर्ज डुबाने के लिए संचालक को फर्जी मामले में फंसाने का रचा गया षडयंत्र ! "