Browsing "Older Posts"

  • फिल्म अभिनेता कादर खान का 81 साल की उम्र में निधन ! विलेन नम्बर वन, कॉमेडियन नम्बर वन,बाप के किरदार में नम्बर , ने कहा सबको अलविदा !

    By fast headline india →
    फिल्म अभिनेता कादर खान का 81 साल की उम्र में निधन ! 

    कनाडा में होगा अंतिम संस्कार ! 

     मुंबई-मुंबई मशहूर अभिनेता कादर खानका कनाडा के एक अस्पताल में निधन हो गया। कादर खान के बेटे सरफराज ने 'पीटीआई से कहा, 'मेरे पिता हमें छोड़कर चले गए। लंबी बीमारी के बाद 31 दिसम्बर शाम छह बजे (कनाडाई समय) उनका निधन हो गया। वह दोपहर को कोमा में चले गए थे। वह पिछले 16-17 हफ्तों से अस्पताल में भर्ती थे।' उन्होंने कहा, 'उनका अंतिम संस्कार कनाडा में ही किया जाएगा। हमारा सारा परिवार यहीं हैं और हम यहीं रहते हैं इसलिए हम ऐसा कर रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'हम दुआओं और प्रार्थना के लिए सभी का शुक्रिया अदा करते हैं।' 
    आपको बता दें कि बॉलीवुड में अपने बेहतरीन अदाकारी और शानदार डायलॉग से लोहा मनवाने वाले मशहूर एक्टर कादर खान की हालत पिछले कुछ दिनों से नाजुक बनी हुई थी। खराब स्वास्थ्य के चलते उन्हें अस्पताल में बाइपेप(BiPAP) वेंटीलेटर पर रखा गया था। कादर खान 81 साल की उम्र में प्रोग्रेसिव सुप्रान्यूक्लीयर पाल्सी डिसऑर्डर(पीएसपी) के शिकार हो गए थे जिसके कारण उनके दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था। कादर खान की फिल्मों की बात की जाए तो वो उन अभिनेताओं में से हैं जिन पर हर रोल जचता था। फिर वह चाहे कॉमेडी हो या फिर खलनायक का किरदार हो। उन्होने लगभग 300 फिल्मों मे काम किया। आख़िरी बार उन्होंने दिमाग का दही फिल्म की थी।  इससे पहले कादर खान की खराब तबीयत पर बिग बी ने उनकी सलामती के लिए दुआ मांगी थी। बिग बी ने ट्वीट कर लिखा था कि कादर खान, एक्टर और टैलेंट से भरपूर राइटर बीमारी की वजह से हॉस्पिटल में एडमिट हैं। उनकी सेहत के लिए दुआ करें।
  • जन्म देने वाली माँ ने बच्चे को काली पन्नी में भरकर नाली में फेंका ! जाको रांखे साईंया मार सकें न कोई ,, इस कहावत को चरितार्थ किया कुछ घण्टे पहले जन्मे एक बच्चे ने !

    By fast headline india →
    जन्म देने वाली माँ ने बच्चे को काली पन्नी में भरकर नाली में फेंका !

     नवजात बच्चे को मिला जीवनदान !

     काली पन्नी के अंदर हो रही आहट सुनने के बाद नागरिकों ने बाहर निकाला ! 

    उल्हासनगर- उल्हासनगर में केवल एक घंटे पूर्व जन्मे अर्भक शिशु को काली थैली में बांधकर अज्ञात निर्दयी माता-पिता ने नाले में फेंक दिया था।अपनी जान बचाने के लिए बच्चे ने की 
     कोशिश उसकी आहट सुनकर नागरिकों ने इस बच्चे को जीवनदान दिया।
    बता दे कि शाम पौने पांच बजे उल्हासनगर पालिका की हद में स्थित वडोल गांव के एक नाले में काली थैली में बंद यह बच्चा मिला। वहां रहने वाली सामाजिक कार्यकर्ता शालिनी गायकवाड ने नागरिकों की मदद से थैली को नाले से बाहर निकाला।थैली खोलने के बाद उसमें एक नवजात बच्चे को देखकर शालीनी गायकवाड ने अशोका फाऊंडेशन के अध्यक्ष शिवाजी रगडे को फोन करके इसकी जानकारी दी।जानकारी मिलते ही रगडे वडोल गांव में पहुंच गए और तत्काल उस बच्चे को लेकर शासकीय मध्यवर्ती रुग्णालय में गए। डॉक्टरों ने अर्भक की नाल काटकर उसका तत्काल उपचार किया, जिससे उस बच्चे को जीवनदान मिला। स्त्रीभ्रूणहत्या रोको, ऐसा दिल्ली से गल्ली तक जनजागृती की जाती है, तब भी ऐसी घटना घट रही है। अज्ञात माता-पिता की शिकायत पुलिस स्टेशन में कई गई है, ऐसी जानकारी शिवाजी रगडे ने दी है।
  • वालधुनी नदी को प्रदूषण करनेवाली कंपनियों को भेजा नोटिस ! जहरीले केमिकल के चलते स्थानीय लोग हो रही कई तकलीफें !

    By fast headline india →
    वालधुनी नदी को प्रदूषण करनेवाली कंपनियों को भेजा नोटिस ! 

     विषैले रसायन के चलते स्थानीय नागरिकों आँखों में जलन,सरदर्द, सांस लेने में हुई तकलीफ ! 

     जल बिरदारी संघटना ने एमआईडीसी और महाराष्ट्र प्रदूषण नियंत्रण विभाग से की थी शिकायत ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में कुछ दिनों पहले वालधुनी नदी में छोड़े गए विषैले रसायन के कारण नदी के किनारे रहनेवाले नागरिकों के आँखों मे जलन, उल्टियां, सरदर्द और सांस लेने में तकलीफ हो रही थी ।इस विषैले रसायन को एरोमॅटिक कंपनी ने नदी में छोड़ा था, यह सिद्ध होने के बाद कंपनी को एमआईडीसी ने नोटीस भेजा है।
    गौरतलब हो कि अंबरनाथ एम आई डी सी के कंपनियों से छोड़े जा रहे जहरीले केमिकल की वजह से उल्हासनगर
     शहर में ओटी सेक्शन परिसर, वालधुनी नदीके किनारे रहनेवाले हजारों नागरिकों को महिने में एक या दोन बार बड़े पैमाने पर जल व वायू प्रदूषण की तकलीफ झेलनी पड़ती है। नदीमें छोड़े जाने वाले रसायन और उसके बाद हवा में होनेवाले प्रदूषण के कारण हवा में भयंकर दुर्गंधफैलता है, जिसके कारण नागरिकों के आँखों में जलन, उल्टियां, सरदर्द और सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। पिछले हफ्ते भी ऐसी ही समस्या उत्पन्न हुई थी, जिसके बाद वालधुनी बिरदारी नामक स्वयंसेवी संगठन के अध्यक्ष शशीकांत दायमा और उनके सहकारियों ने पता लगाया कि किस कंपनी द्वारा यह प्रदूषण फैलाया जा रहा है, तब उन्हें पता चला कि अंबरनाथ ( प ) स्थित कल्याण - कर्जत महामार्ग के किनारे एरोमॅटिक कंपनी के द्वारा रासायनिक द्रव्य वालधुनी नदी में छोड़ा जाता है। इस संदर्भ में जल बिरदारी संघटना ने एमआईडीसी और महाराष्ट्र प्रदूषण नियंत्रण मंडल के पास शिकायत दर्ज कराई थी। उस समय दोनों विभागों के अधिकारियों ने संघटना के पदाधिकारियों के साथ प्रत्यक्षरुप से इसकी जांच की। उसके बाद एमआईडीसी कार्यकारी अभियंता आर. बी. राठोड ने कंपनी को १४ दिसंबर २०१८ को नोटिस भेजा है।      इस नोटीस में कंपनी अपना विषैला रसायन खुले मैदान में अथवा वालधुनी नदी में छोड़ती है, ऐसा स्पष्ट हुआ है, इसके कारण स्थानिक नागरिकों के जीवन को खतरा निर्माण हुआ है।इसलिए यह धोखादायक कृति कंपनी बंद करें, कंपनी अपना फेंका जानेवाले रासायनिक द्रव्य अंबरनाथ केमिकल मॅनीफॅक्चर असोसिएशन के सेफ्ट  ( कॉमन एफ्यूलंट ट्रिटमेंट प्लान में भेजने की व्यवस्था होने पर भी ऐसा करना एक प्रकार का अपराध किया है। इस संदर्भ में कंपनी तत्काल उपाययोजना करें, ऐसा नोटिस में कहा गया है।             संदर्भ में एरोमॅटिक कंपनी केे संचालक जी. एम. पाटील से संपर्क किया गया तो वे उपलब्ध नहीं थे।
  • अवैध धंधों के खिलाफ टीओके व भाजपा नेता ने छेड़ी जंग !

    By fast headline india →
    अवैध धंधों के खिलाफ टीओके व भाजपा नेता ने छेड़ी जंग ! 

    अवैध हाथ भट्टी की दारू की शिकायत की भाजपा नेता ने तो टीओके नेता अवैध तरीके से चल रहे लॉजिंग बोर्डिंग होटलों पर की कार्यवाई की मांग ! 

     चुनावी मौसम को देखकर जागे नेताजी चमका रहे अपनी राजनीति ? 

     पुलिस प्रशासन के द्वारा नही हुई अभी तक कोई ठोस कार्यवाई !

     उल्हासनगर-उल्हासनगर शहर में फलफूल रहे अवैध धंधो के खिलाफ उल्हासनगर के भाजपा टी ओ के नगरसेवकों द्वारा मोर्चा खोल जाने की मुद्दा चर्चा का विषय बना हुआ है।एक तरफ पुर्व भाजपा जिलाध्यक्ष एव नगरसेवक ने हाथभट्टी शराब के धंधो को बंद करने की मांग की है।वही टी ओ के प्रवक्ता ने लॉजिंग बोर्डिंग की आड़ में खुलेआम चल रहे देह व्यापार के खिलाफ मोहिम छेड दी है। चुनावी मौसम को नजदीक आते देखर नेता गिरी चमकाने की जा रही है कोशिश स्थानीय समाजसेवकों ने किया आरोप ?
    गौरतलब हो कि पैनल 6 (ड) के भाजपा नगरसेवक महेश सुखरमनी ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री ,राज्य उत्पादन शुल्क,और पुलिस के आला अधिकारियों को लिखित पत्र देकर अवैध हाथ भट्टी शराब के अड्डे चलने की शिकायत कर तुरंत धंधो को बंद करने की मांग की है।भाजपा नगरसेवक ने 24 दिसंबर 18 को दिए अपने पत्र में स्पष्ठ लिखा है।कि जिस जगह हाथ भट्टी का धंदा चलता है।वहाँ खुलेआम शराबी शराब के लिए कतार लगा कर खड़े रहते है।जिसके उपरांत शराब के नशे में धुत होकर शराबी स्थानिक नागरिको से मारपीट तक करते है।इतना ही नही उक्त धंधो की वजह से लगातार आपराधिक घटनाओं में वृद्धि हो चुकी है।जिससे न सिर्फ परिसर में शांति भंग हो रही है।बल्कि नागरिको का जीना दुर्भर हो गया है। यहाँ ध्यान देने योग्य बात यह है कि सुखरमानी ने सिर्फ पैनल 6 में जारी 6 हाथभट्टी चलाने वालों का नाम भी पत्र में लिखा है। चौकाने वाली बात तो यह है कि इसी परिसर में राकांपा विधायिका ज्योति कालानी और महापौर पंचम कालानी भी रहती है।  वही दूसरी तरफ 27 दिसंबर 18 के दिन टीओके नगरसेविका शुभांगी निकम और टीओके प्रवक्ता कमलेश निकम ने शहर में लॉजिंग बोर्डिंग में धडल्ले से चलरहे देह व्यापार में कुछ राजनीतिक नेताओ का वरदहस्त प्राप्त होने का सीधा आरोप लगाते हुए पुलिस आयुक्त सहित परिमंडल 4 के पुलिस उपायुक्त को होटले के नाम वाली सूची दी है जिनमें सेंट्रल पार्क लॉजिंग होटल शांतिनगर,अचल प्लाजा लॉजिंग होटल विट्ठलवाड़ी,कोहिनूर लॉजिंग हीरा घाट,ब्लू बेरी लॉजिंग अशोक-अनिल टाकीज,सूर्या लॉजिंग श्रीराम पेट्रोल पंप के समीप ऐसे अन्य लॉजिंग बोर्डिंग में "रेस्टारेंट & बार" की में "देह व्यापार" का गोरखधंधा खुलेआम चलाया जा रहा है इन पर पुलिस से कार्यवाही करने सहित मालिको पर पीटा एक्ट के तहत मामला दर्ज करने की मांग की है।हैरत की बात तो यह है कि लॉजिंग बोर्डिंग पर राजनीतिक नेताओ का होने की बात कर प्रवक्ता निकम ने कुछ कालानी परिवार विरोधी राजनेताओ के खिलाफ हल्ला बोल कर उन्हें स्पष्ठ संकेत दिया है।क्यों कि यह सर्व विदित है कि शहर के ज्यादातर लॉजिंग बोर्डिंग दबंग राजनेताओ के है जो दिखावे के लिए किराये पर दिए गए है।ताकि वे किसी भी करवाई से बच सके।जब की सूची में जो पहला लॉजिंग बोर्डिंग का जिक्र किया गया है।वह भाजपा नगरसेवक का है। फिलहाल इस मामले से हरकत में परिमंडल चार के उपायुक्त प्रमोद शेवाले के आदेश पर पुलिस ने शनिवार को कई हाथभट्टी के ठिकानों पर छापा मारकर महिला सहित पुरुष चालको को गिरफ्तार किया है।जब कि पुलिस ने अभी तक लॉजिंग बोर्डिंग में चलने वाले गोखधंदे पर कोई कार्यवाही नही की है
  • 307 हुआ 302,महिला ने काट दिया था युवक का प्राइवेट पार्ट' ईलाज के दौरान हुई युवक की मौत !

    By fast headline india →
    महिला ने काट दिया था युवक का प्राइवेट पार्ट' ईलाज के दौरान हुई युवक की मौत ! 

     परेशान करने के बाद पति से भी बोला था- तुम्हारी बीवी पसंद है ! 

     महिला व उसके दो दोस्त को पुलिस ने किया है गिरफ्तार ! 

     कल्याण-कल्याण के डोम्बिवली इलाके में छेड़छाड़ से परेशान एक महिला ने युवक का प्राइवेट पार्ट ही काट दिया गया। महिला यहीं नहीं रुकी, उसने कटे हुए प्राइवेट पार्ट को कुत्तों को खाने के लिए डाल दिया था। घायल युवक का डोम्बिवली के एम्स में इलाज चल रहा था। जहां पर उसका ईलाज के दौरान मौत हो गई है । पुलिस ने इस मामले में महिला सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर किया है। गिरफ्तारोंं में महिला की मदद करने वाले उसके दोस्त प्रतीक केनिया और तेजस म्हात्रे शामिल हैं।

    बता दे कि चार दिन पहले की यह घटना हुई थी डोंबिवली के नांदीवली में रहने वाली महिला ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि युवक उसके साथ आए दिन छेडख़ानी करता था। इसके लिए उसे सबक सिखाने का प्लान बनाया। इस प्लान में अपने दोस्त प्रतीक और तेजस को भी शामिल किया। प्लान के अनुसार महिला ने मंगलवार को युवक को रेलवे स्टेशन के पास सुनसान जगह पर बुलाया। वहां आने के बाद पहले से छिपकर बैठे प्रतीक और तेजस ने उसे पकड़ कर पेड़ से बांध दिया। इसके बाद उसकी पिटाई की। पिटाई के बाद महिला ने युवक का प्राइवेट पार्ट काट दिया। इसके बाद उसे कुत्तों को खिला दिया। वहांं से गुजर रहे लोग युवक की चीखें सुन कर वहां आए और मामले की सूचना पुलिस को दी। मानपाडा पुलिस ने तुरंत घटना स्थल पर पहुंचकर युवक को डोम्बिवली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया। जहाँ पर पिछले चार दिन से ईलाज हो रहा था आखिरकार उसकी ईलाज के दौरान मौत हो गई है ! खून ज्यादा बहने के चलते उसकी मौत हुई है ऐसी जानकारी सामने आ रही है !
  • पहले हुआ बुजुर्ग ब्यक्ति अपहरण,फिर हुआ उसके साथ अमानवीय कृत्य !

    By fast headline india →
    पहले हुआ बुजुर्ग ब्यक्ति अपहरण,फिर हुआ उसके साथ अमानवीय कृत्य ! 

     बुजुर्ग की हालत नाजुक प्राइवेट अस्पताल हो रहा इलाज !

     चार अज्ञात अपरहण कर्ताओ की तलाश में जुटी पुलिस ! 

     अंबरनाथ -अंबरनाथ में काम से अपने घर आ रहे एक 64 वर्षीय बुजुर्ग ब्यक्ति का अपहरण करके चार अज्ञात लोगो ने उसे बेरहमी पिटाई किया है . आरोपी ने मानवता को शर्मसार करने वाली हरकत भी बुजुर्ग से किया उसके पिछवाड़े में बॉटल को घुसेड़ने जैसे शर्मनाक हरकत किया गया है . अभी बुजुर्ग ब्यक्ति की एक निजी अस्पताल में ईलाज किया जा रहा है. पुलिस ने मामला दर्ज करके अज्ञात अपहरण करने वाले लोगो की तलाश में जुट गए है !    
    अंबरनाथ शहर के पास के आंबेगाव के मलंगगड रोड के पास वामन ( 64 ) वर्षीय बुजुर्ग ब्यक्ति अपने परिवार के साथ रहते है. वामन यह  आनंदनगर एम आय डी सी परिसर के मेलॉग में नोकरी करते है. हर दिन की तरह वह गुरुवार की रात में 8 बजे अपने काम से सायकल से घर वापस आ रहे थे , जब वह शिरवली गाव के पास पहुचे तभी उनकी सायकल को चार अज्ञात लोगो ने रुकाकर वामन इनका हाथ पैर और मुंह को कपड़े से बांध करके उसका अपहरण करके घने अंधेरी वाली जगह पर ले जाकर पहले उसकी बेरहमी से पिटाई किया इससे भी चारो अपहरण कर्ताओ का मन नही भरा तो वो लोग मानवता को शर्मसार करने जैसी हरकते करते हुए पिछवाड़े में बॉटल डाल दिए थे . आखिरकार ऐसी क्या दुश्मनी थी आरोपीयो ने एक बुजुर्ग ब्यक्ति के साथ इस तरह से दरिंदगी को अंजाम दिया पुलिस उन्ही कारणों के जरिये जांच में जुटी है.     इस मारपीट से वामन की हालत काफी नाजुक है उनका इलाज के लिए लाईफ केअर इस प्राइवेट अस्पताल में किया जा रहा है . इस मामले में अंबरनाथ के शिवाजीनगर पुलिस स्टेशन में चार अज्ञात अपहरण कर्ताओ के खिलाफ मामला दर्ज किया है .पुलिस अज्ञात अपहरण कर्ताओ की तलाश में जुटी है !   
  • गैस बाटलो से गैस चोरी करने वाले 9 कर्मचारी हुए गिरफ्तार !

    By fast headline india →
     गैस बाटलो से गैस चोरी करने वाले 9 कर्मचारी हुए गिरफ्तार !

    शिधावाटप विभाग व ठाणे क्राइम ब्रांच के द्वारा हुई संयुक्त कार्यवाई !

        माया गैस एजन्सी के मालिक ने पहले की थी अपने तीन कर्मचारी के खिलाफ शिकायत !

    उसी कर्मचारी ने कुछ दिन पहले आफिस में आकर दी थी धमकी !


    उल्हासनगर -उल्हासनगर में भरे हुए घरेलु गैस सिलेंडर में से खाली गैस सिलेंडर में गैस निकाल कर ऐसे सिलेंडरों की बिक्री करने वाले ९ कर्मचारियों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज किया और सभी गिरफ्तार किया है। सभी आरोपियों कोर्ट में ले गए जहाँ पर कोर्ट ने ३ दिन की पुलिस कस्टडी में रखने का आदेश दिया है।      उल्हासनगर - २ स्थित गोल मैदान परिसर में एच पी कंपनी के वितरक माया गॅस एजन्सी का कार्यालय है,जिसका गोडाऊन शांतीनगर में स्थित है। इस एजन्सी के डिलिव्हरी बॉय , गोडाऊनकीपर आपस में मिलीभगत करके गैस चोरी करते हैं, ऐसी शिकायत शिधावाटप विभाग को मिली थी। इस शिकायत के मद्देनजर शिधावाटप अधिकारी धनराज जाधव, संजयकुमार भोईर ने इसपर संज्ञान लिया। गैसचोरों को रंगेहाथपकड़ने के लिए उन्होंने ठाणे गुन्हे अन्वेषण विभाग पुलिस की मदद ली। शिधावाटप और पुलिस की संयुक्त पथक ने कार्रवाई की शुरुवात की,जिसमें कुल ९ डिलिव्हरी बॉय और कर्मचारियों को गैसचोरी करते रंगेहाथों पकड़ा गया। इन आरोपियों के खिलाफ आरोपियों के खिलाफ भादवी ४२०,३४ , जीवनावश्यक वस्तु कानून १९९५ की धारा ३,७ एल पी जी रेग्युलेशन ऑफ सप्लाई एंड डिस्ट्रीब्युशन ऑर्डर सन २००० के तहत कार्रवाई की गई है।   ऐसे होती थी गैस चोरी ....  पुलिस की जानकारी के अनुसार गैस चोरी प्रकरण में अमर शहा, नरेश इताडकर , सचिन सुपागेकर , याकूब खान, संजय बिऱ्हाडे , राम उतारकर , निलेश इंगोले, आकाश व्यवहारकर , दिनेश राजभर ये शामिल है। ये आरोपी माया गैस एजन्सी के  गोडाऊन किपर, डिलिव्हरी बॉय व अन्य कर्मचारी है। घरेलु और व्यावसायिक गैस का वितरण करते समय आरोपी भरे हुए सिलेंडर ग्राहकों को पहुंचाने के पहले गैरकानूनी व असुरक्षित तरीके से स्वयं के घर पर लाकर उसमें से गैस निकालकर खाली सिलेंडर में रिफिल रॉड की सहायता से भरते है। पुलिस और शिधावाटप  अधिकारियों ने सभी आरोपियों के घर पर छापा मारा, जिसमें यह मामला उजागर हुआ। इस संदर्भ में जब अधिक जानकारी के लिए ठाणे गुन्हे अन्वेषण विभाग से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि हमारी जांच शुरू है,जांच पूरी होने के बाद ही हैम जानकारी दे सकेंगे।      शिधावाटप अधिकारी धनराज जाधव से संपर्क करने की कोशिश की तो संपर्क नहीं हो सका।    
    माया गैस एजन्सी ने किया चौकाने किया खुलासा,,,,,
     माया गैस एजन्सी के मालक बसवराज मतक्कल ( 70 ) ये सेवानिवृत्त सैनिक अधिकारी है,वे कार्यालय में उपलब्ध नहीं थे,उनके लड़के विवेक ने बताया कि पुलिस क्या कार्रवाई कर रही है, इसकी हमें जानकारी नहीं है। मेरे पिताजी ने स्वयं मध्यवर्ती पुलिस स्टेशन में जाकर ९फरवरी २०१८ को कार्यालय में हो रहे गैरकानूनी काम करने वाले ३ संशयित कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत की थी।उसमें एक कि गिरफ्तारी भी हुई थी।एक कर्मचारी ने धमकी दी थी कि अब देखो तुम्हारे ऊपर कैसी कार्रवाई होती है। उसके कारण यह कार्रवाई संशयास्पद दिखाई दे रही है।
  • मनपा का रिश्वतखोर वार्ड ऑफिसर 25 हजार की रिश्वत लेते हुआ गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    मनपा का रिश्वतखोर वार्ड ऑफिसर 25 हजार की रिश्वत लेते हुआ गिरफ्तार !

    ठाणे एंटीकरप्शन विभाग के द्वारा किया गया कार्यवाई !

     कल्याण-कल्याण  महानगर पालिका किस तरह से रिश्वतखोर अधिकारियों के चलते सुर्खियों में रहता है, वहाँ पर पहले ही कई बड़े अधिकारी रिश्वत लेते हुए जेल की हवा खा चुके उसी कड़ी में आई नव के वार्ड अधिकारी शरद पाटिल को 25 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथ ठाणे एंटीकरप्शन विभाग के अधिकारियों ने गिरफ्तार किया है ।
    गौरतलब हो की शरद पाटिल यह वार्ड अधिकारी अवैध निर्माणकर्ता से उसके अवैध बांधकाम को बचाने के लिए 80 हजार की रिश्वत मांग किया था उसी रिश्वत की पहली किस्त 25 हजार रुपये लेते हुए एंटीकरप्शन विभाग के अधिकारियों ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया है.पिछले बीते सालों में एन्टी करप्शन ब्यूरो ने केडीएमसी के कुल 33 कर्मचारियों व अधिकारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिफ्तार किया है। मिली जानकारी के अनुसार  कल्याण पूर्व, मानेरा - चिंचपाड़ा स्थित एक अवैध बांधकाम को बचाने के ऐवज में शरद पाटिल ने अवैध निर्माणकर्ता से 80,000 रुपये की मांग की थी। जिसकी शिकायत अवैध निर्माणकर्ता ने ठाणे एंटीकरप्शन को दी।और गुरुवार की दोपहर 4 बजे अवैध निर्माणकर्ता पाटिल को रिश्वत की पहली किस्त 25 रुपये  देने प्रभाग क्रमांक - 9 में  पहुँचा। जहाँ पहले से ही घात लगाये बैठे एन्टी करप्शन ब्यूरो के अधिकारियों ने शरद पाटिल को रंगे हाथों रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया है पाटिल की इस मामले कि जांच ठाणे एंटीकरप्शन विभाग के अधिकारी कर रहे है।
  • शिवसेना के गढ़ में सेंध लगाने जुटे विपक्षी दल ? वर्तमान सांसद से स्थानीय जनता है नाराज !

    By fast headline india →
    शिवसेना के गढ़ में सेंध लगाने जुटे विपक्षी दल ? 

    2019 लोकसभा चुनाव में कल्याण  सीट पर किसका फरायेगा झंडा ?

    वर्तमान सांसद शिंदे के साढ़े चार के कार्यकाल से स्थानीय जनता है खफा !

     कल्याण- कल्याण के ठाणे जिला का सबसे ज्यादा चर्चित कल्याण लोकसभा सीट पर शिवसेना वर्षो से अपना भगवा फहराया हैं मगर 2019 के चुनाव में चित्र कुछ बदलता नजर आएगा ऐसी चर्चा है । भले ही भाजपा सेना की युति हो जाए, मगर उन्हें टक्कर देने के लिए अब राष्ट्रवादी कांग्रेस और भाजपा अपने मजबूत उमीदवार के साथ कमर कसकर तैयार है । इसलिए लोकसभा आम चुनाव में शिवसेना के लिए यह मुश्किल भरा डगर हो सकता हैं । कांटे की टक्कर देखने को मिल सकता है । राष्ट्रवादी कांग्रेस अपना दमखम दिखा पाएगी ? शिवसेना का बालेकिला साबूत रहेगा या ढह जाएगा ? यह तो चुनाव के बाद पता चलेगा लेकिन उसके पहले राजकीय गलियारों के चर्चे मजबूत उम्मीदवार को लेकर मैदान में उतारने की तैयारी से पसीने जरुर छुटवाएंगे यह भी इस बार तय है ।
     कल्याण लोकसभा सीट पर वर्षो से शिवसेना का राज रहा है । इसलिए शिवसेना मे लोकसभा चुनाव को लेकर आत्मविश्वास छलक रहा है । लोकसभा चुनाव को लेकर हलचल शुरू हो चुका हैं, शिवसेना के सामने मजबूत उम्मीदवार उतारने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस ने बड़ी तैयारी की है जिसका खुलासा आने वाले समय में होगा । साथ ही राष्ट्रिय पार्टियों में भारतीय जनता पार्टी, राष्ट्रिय कांग्रेस , शिवसेना और राष्ट्रवादी मैदान में उतरने को तैयार है । शिवसेना के वर्तमान सांसद डॉ. श्रीकांत शिंदे कल्याण लोकसभा क्षेत्र में विकास काम करने का दावा करते हुए आत्मविश्वास से भरे है । मगर आज भी नागरिक पीने के पानी के दरदर भटक रहे है, सड़के खराब, अस्वच्छता, आरोग्य असुविधा और रेलवे समस्याए दूर नहीं होने से लोगो में नाराजगी दिखाई देती हैं । कुछ ऐसे कार्यक्रम जरुर किए जिससे वर्ष भर शिंदे चर्चित रहे । मगर यह चर्चाएँ वोटो में तब्दील होंगी क्या ? यह भी बड़ा प्रश्न है । शिवसेना के मित्र दल भाजपा ने कभी भी कल्याण लोकसभा क्षेत्र में ध्यान देने की जहमत नहीं उठाई , कई वर्षों से बाकी विपक्षी दल भी इस क्षेत्र से नदारद रहे । हालांकि शिवसेना और भाजपा की स्थानीय नेताओं के बीच एक अलग समझौता है। पालकमंत्री एकनाथ शिंदे पुत्र डॉ. श्रीकांत शिंदे को जिताने के लिए अब कौन सा रामबाण का उपयोग करेंगे यह तो आने वाला समय ही बताएगा, भाजपा इतनी आसानी से अब कल्याण लोकसभा सीट को छोड़ने के लिए अब शायद तैयार नही होगी । इसलिए शिवसेना का बालेकिला भेदने की तैयारी में भाजपा, राष्ट्रवादी कांग्रेस लग गई हैं । मनसे नेता प्रमोद ( राजू ) पाटिल के लाखों समर्थक डोंबिवली, कल्याण ग्रामीण, उल्लासनगर, अंबरनाथ, कल्याण पूर्व-पश्चिम में है । पहले भी स्थानीय चुनावों में शिवसेना मनसे की अंदरूनी युति देखने को मिली है । इसलिए पलड़ा तो शिवसेना का ही भारी है । मगर राष्ट्रवादी कांग्रेस को कमजोर समझना शिवसेना को भारी पड़ सकता है । साथही विकास कामों के अभाव में जनता बदलाव लाना चाहेगी । क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में वाटर गटर की सुविधाएं नहीं मिलने से अनेक शिवसैनिकों में ही नाराजगी है ।
    *********
     शिवसेना को छोड़ बाकी सभी पार्टियों द्वारा कल्याण लोकसभा सीट के लिए ताकतवर उमीदवार की तलाश शुरू हो चुकी हैं । राष्ट्रवादी कांग्रेस की तरफ से ठाणे जिला के पूर्व पालकमंत्री गणेश नाईक , कल्याण के पूर्व सांसद आनंद परांजपे का नाम चर्चित हैं । अगर भाजपा और शिवसेना की युति नही होती तो भाजपा की तरफ से मुरबाड के विधायक किसन कथोरे और राज्यमंत्री रविन्द्र चव्हाण, भिवंडी के भाजपा से वर्तमान सांसद कपिल पाटिल और पूर्व मंत्री जगन्नाथ पाटिल के नाम की चर्चा है | वहीं इन दोनों राष्ट्रीय दलों की सहयोगी मुख्य राजनीतिक दल शिवसेना और राष्ट्र्वादी कांग्रेस पार्टी में भी भरपूर उत्साह देखने को मिल रहा है । इन चार दलों के अलावा अन्य राजनीतिक दलों ने भी अपने संभावित उम्मीदवार तलासना शुरू कर दिए है । राष्ट्र्वादी कांग्रेस और राष्ट्रीय कांग्रेस का गठबंधन नही होता है तो सभी के उम्मीदवार चुनावी समर में उतरेंगे जिसकी तैयारी भी शुरू है । कांग्रेस की ओर से स्थानीय नेता संतोष केणे का नाम सामने आया है । 
    *******
     कल्याण-डोंबिवली में अनेक कार्यक्रमो में बड़े नेताओ की उपस्थिति दर्शाती है कि चुनाव का आगाज हो चुका है । देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी , राज्य के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फ़डनवीस, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे, केन्द्रीय मंत्री रामदास आठवले , मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे और शालिनी ठाकरे कल्याण में आ चुके है तो पूर्व उपमुख्यमंत्री अजितदादा पवार, माथाडी कामगार नेता गुलाबराव जगताप और राष्ट्रवादी प्रदेशाध्यक्ष जयंत पाटिल के साथ जनवरी माह में राष्ट्रवादी प्रमुख शरदचन्द्र पवार भी कल्याण में दौरा पर आएंगे । साथ ही पार्टियों द्वारा कार्यकर्ता मिलन सम्मेलन एवं समीक्षा बैठक भी दिखाई देने लगा है । 
    *******
     सेना-भाजपा नेताओं के परस्पर विरोधी बयानों के चलते 2019 के लोकसभा चुनाव में अगर भाजपा-शिवसेना की युति नही होती है तो कल्याण लोकसभा सीट पर कांटे की टक्कर देखने को मिलेगा । शिवसेना भाजपा एक दूसरे को हराने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा देंगी । इसका फायदा सीधे तौर पर राष्ट्रवादी और कांग्रेस को मिल सकता है । ठाणे और पालघर लोकसभा सीट राष्ट्रवादी कांग्रेस और कल्याण और भिवंडी लोकसभा सीट कांग्रेस के पाले में जाने की संभावना व्यक्त की जा रही है । वहीं कांग्रेस और राष्ट्र्वादी के नेताओं में एक दूसरे से नरम व्यवहार के चलते गठबंधन तय माना जा रहा है ।
    *******
    कल्याण लोकसभा सीट में कलवा-मुंब्रा, कल्याण ग्रामीण, डोंबिवली, कल्याण पूर्व, उल्हासनगर और अंबरनाथ छह विधासभा सीट शामिल है। कलवा - मुम्ब्रा से जितेंद्र आव्हाड औरउल्हासनगर से ज्योती पप्पू कालानी राष्ट्रवादी के विधायक हैं । हालांकि ज्योती कलानी के बहू भाजपा की नगरसेविका एवं उल्हासनगर की महापौर है ।डोंबिवली से भाजपा के रविन्द्र चव्हाण विधायक एवं मंत्री है, कल्याण पूर्व से निर्दलीय चुनाव जीतकर विधायक गणपत गायकवाड अब भाजपा के खेमे में शामिल हैं । कल्याण ग्रामीण से सुभाष भोईर और अंबरनाथ से डॉ.बालाजी किणिकर दोनों शिवसेना के विधायक है । 
    *********
     लगभग 19 लाख मतदाताओं वाली कल्याण लोकसभा के अंतर्गत करीब 40 प्रतिशत हिंदी भाषी और लगभग 40 प्रतिशत ही मराठी मतदाताओं की संख्या है । 20 प्रतिशत में साउथ इंडियन एवं गुजराती अन्य मतदान का समावेश है । अन्य में करीब 15 प्रतिशत मुस्लिम मतदारो की संख्या है ।उत्तर भारतीय समाज फेसबुक और व्हाट्सअप सोशल मीडिया साइड पर उत्तर भारतीय उमीदवार देने की मांग कर रही हैं । 
    ********
    2014 लोकसभा चुनाव में केंद्र सरकार द्वारा मतदाताओं से किए वादा पूर्ण नही करने से लोगो में नाराजगी है । नोट बंदी, जीएसटी लागू करने के चलते सरकार विरोधी लहर दिखाई दे रही है । भाजपा का हुकुम का एक्का मतलब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर अब समाप्त हो गई हैं । भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जादुई करिश्मा अब फेल होने लगा है । इसलिए मराठी - साउथ इंडियन, मुस्लिम और उत्तर भारतीय वोटो पर कांग्रेस की नजर है । साथही हालही में हुए 5 राज्यों के चुनाव में तीन राज्यो में कांग्रेस की सरकार बनी जिससे कांग्रेस के हौसले बुलंद हैं ।
  • रिश्वतखोर से दोस्ती निभाने चक्कर में मनीष हिवरे जा सकती खुद की कुर्सी ! मंत्रालय के आदेश को 3 महीने से दबा कर रखने के मामले हुआ पर्दाफाश !

    By fast headline india →
    उमपा सामान्य प्रशासन के आला अधिकारी हिवरे अनोखा कारनामें का हुआ पर्दाफाश ! 

    मंत्रालय के आदेश को 3 महीने से दबाकर अपने पास रखा, नही होने दी आयुक्त को इसकी खबर ! 

    आयुक्त हांगे ने दिया दफ्तर दिरंगाई के तहत कार्यवाई करने आश्वासन ! 

    रिश्वतखोर से दोस्ती निभाने के चक्कर अब गवा सकते अपनी कुर्सी !

     उल्हासनगर -उल्हासनगर महानगरपालिका के रिश्वतखोर अधिकारी गणेश शिंपी पर महाराष्ट्र शासन द्वारा कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू है, इसके अंतर्गत शासन ने शिंपी पर मनपा द्वारा कार्रवाई करके इसकी जानकारी शिकायत कर्ता को दें,ऐसा स्पष्ट आदेश दिया गया है, लेकिन महानगरपालिका सामान्य प्रशासन के सहायक आयुक्त मनीष हिवरे के पास शिंपी के बारे में आया हुआ शासन का पत्र लगभग ३ महीने दबाकर रखा है। इस संदर्भ में उन्होंने न आयुक्त को जानकारी दी और ना ही शासन को इस कारण शिकायत कर्ता ने यह मांग किया है कि हिवरे के विरुद्ध दफ्तर दिरंगाई की कार्यवाई करने की मांग आयुक्त से की है।    
      उल्हासनगर महानगरपालिका के सहायक आयुक्त और अवैध बांधकाम निष्कासन प्रमुख गणेश शिंपी को एक अनधिकृत बांधकाम प्रकरण में रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा गया था, जिसके बाद इनके विरुद्ध एंटीकरप्शन विभाग की तरफ से कार्रवाई की गई थी। यह प्रकरण अभी भी न्यायालय में विचाराधीन होते हुए भी शिंपी को सहायक आयुक्त और अनधिकृत बांधकाम निष्कासन प्रमुख का पद दिया गया है।शासन के अध्यादेश के अनुसार रिश्वतखोरी के प्रकरण में कार्रवाई का सामना कर रहे अधिकारी को एकांकी पद दिया जाए,लेकिन इस अध्यादेश को मनपा नजरन्दाज कर रही है।     इस संदर्भ में समाजसेवक कमलेश खतुरानी और कुछ पत्रकारों ने शिंपी के विरोध में महाराष्ट्र शासन के नगरविकास विभाग में ७सितंबर२०१८ को शिकायत दर्ज कराके शिंपी को उनके मूल पद अर्थात स्टनोग्राफर के तौर पर रखा जाए, ऐसी मांग और निवेदन किया था।         महाराष्ट्र शासन नगरविकास विभाग के उल्हासनगर मनपा कक्ष अधिकारी विणा मोरे ने इस प्रकरण में २५सितंबर २०१८ को युएमसी २०१८ / ७५९४ /नवि-२१ इस आदेशवके अनुसार शिंपी पर कार्रवाई  करने का आदेश मनपा आयुक्त अच्युत हांगे ने दिया था और इस संदर्भ में जानकारी शिकायत कर्ता को दी जाए,ऐसा पत्र में दर्ज किया था। यह पत्र उल्हासनगर मनपा के नागरी सुविधा केंद्र द्वारा सामान्य प्रशासन विभाग को सौंपा गया था,इसकी इंट्री भी की गई थी।इस संदर्भ में मनपा का  सामान्य प्रशासन विभाग के सहायक आयुक्त मनीष हिवरे से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ऐसा कोई पत्र उन्हें नहीं मिला है, मैं इसके बारे में पता करता हूं। कल कुछ पत्रकारों ने मनपा आयुक्त अच्युत हांगे के पास मनीष हिवरे के बारे में शिकायत कर उनपर दफ्तर दिरंगाई तहत कार्यवाई करने की मांग की। शिंपी पर कार्रवाई न हो,इसलिए मनीष हिवरे ने इस मुद्दे पर समय गवां रहे हैं, ऐसा पत्रकारों ने आयुक्त के ध्यान में लाया। मनपा आयुक्त ने पत्रकारों के सामने कहा कि आगे की कार्रवाई करने के लिए मुख्यालय उपायुक्त संतोष देहरकर के पास पत्र भेजा गया है। उस बात में कितनी सच्चाई है यह तो जग जाहिर है !
  • डॉक्टर बना हवस का पुजारी ! नाबालिक बच्ची की शिकायत पर हुआ गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    डॉक्टर बना हवस का पुजारी !

     डॉक्टर व मेडिकल स्टोर संचालक मिलकर करते थे नाबालिग बच्ची का शोषण !

     बच्ची की की शिकायत पर डॉक्टर को पुलिस ने किया गिरफ्तार ! 

    कल्याण-कल्याण शहर पूर्व के नेतिवली परिसर में डॉक्टर के पेशे को कलंकित करने वाला डॉक्टर तथा डॉक्टर के बगल के मेडिकल स्टोर के संचालक ने मिलकर एक नाबालिग लड़की जो डॉक्टर के यहां काम करती थी उसके साथ लैंगिक शोषण किया। कोलसेवाड़ी पुलिस ने डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया तथा मेडिकल स्टोर वाला अब भी फरार है। डॉक्टर के संबंध में पता चला है कि वह फर्जी भी है। 
    बता दे कि नेतिवली में डॉ. ताज अंसारी का हसन क्लिनिक है तथा उसके बगल में दिलदार शेख का मेडिकल स्टोर है। डॉक्टर के यहां एक नाबालिग लड़की आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण नौकरी करती थी। नौकरी से हटा देने की धमकी देकर डॉक्टर ताज उसके साथ छेड़छाड़ करता था और नौकरी सलामत रहे इस वजह से लड़की उसके कुकृत्यों को सहन कर रही थी, इसी बीच मेडिकल स्टोर चलाने वाले दिलदार शेख को जब इसकी भनक लगी तो वह डॉक्टर की निगरानी रखकर एक दिन उसके कारनामों का वीडियो बना लिया और डॉक्टर व लड़की दोनो को वीडियो वायरल करने की धमकी देकर लड़की से लगातार छेड़छाड़ करता था। लगातार दोनो के द्वारा सताए जाने से लड़की त्रस्त हो गयी और इस संबंध में अपने परिजनों को बताया तथा कोलसेवाड़ी पुलिस में इस संबंध में शिकायत दर्ज करायी। शिकायत के आधार पर पुलिस ने डॉक्टर ताज को गिरफ्तार कर लिया तथा दिलदार शेख अब भी फरार है जिसकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है।
  • रेलवे टीसी पर दर्ज हुआ हप्ता वसूली का एफआईआर ! तीन टीसी ने एक रेलयात्री से वसूले चार हजार !

    By fast headline india →
    रेलवे टीसी पर दर्ज हुआ हप्ता वसूली का एफआईआर ! 

    रेलयात्री ने तीन रेलवे टीसी पर जबरन पैसा वसूलने का लगाया था आरोप ! 
     फाईल फोटो

     मुंबई-मुंबई के बांद्रा राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने एक रेलयात्री की शिकायत पर तीन रेलवे टीसी के खिलाफ हप्ता वसूली का एफआईआर दर्ज़ किया है। यह एफआईआर रेलयात्री से टिकट होने के बावज़ूद ज़बरन की गयी धन उगाही एवं दुर्व्यवहार को लेकर दर्ज़ किया गया है । इससे पहले भी इनके इस तरह के कई कारनामें सामने आते रहे परन्तु पहली बार किसी रेलयात्री ने इनके खिलाफ मामला दर्ज कराया है ! 
    बांद्रा जीआरपी के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यात्री अखीरा सियारके ने लोवर परेल से पहली श्रेणी में बांद्रा पहुंचे.जहां प्लेटफार्म पर मौज़ूद रेलवेटीसी ने उनसे टिकट दिखाने को कहा. टिकट दिखाने के बाद भी यात्री के साथ दुर्व्यवहार किया गया और 4000 रुपये वसूले गये। ऐसा आरोप यात्री ने जीआरपी को दिये स्टेटमेंट में दर्ज़ कराया है। वसूले गये 4000रुपये में से यात्री को 2080 रुपये की पावती दी गयी। बाकी के पैसे तीन टीसी ने आपस में बंदरबाट कर लिया। बांद्रा जीआरपी ने आइपीसी की धारा 384,341,504,34 के अंतर्गत एफआईआर दर्ज़ कर मामले की छानबीन में जूट गयी है। जिन टीसी के नाम एफआईआर में दर्ज़ है उनके बांद्रा टीसी की सूची में नाम होने की पुष्टि होने के बाद ही आगे की कार्रवाई सम्भव हो पायेगी। यात्री की शिकायत पर दर्ज़ एफआईआर के बारे में जब वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुनील कुमार जाधव से बात की गयी तो उंहोंने बताया की मामले की जांच गम्भीरता पूर्वक की जा रही है। सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर जांच की जायेगी । इसके बाद जो भी तथ्य सामने आते हैं उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जायेगी। स्टेशन अधीक्षक से इस मामले पर फोन से सम्पर्क करने का प्रयास किया गया। लेकिन सम्पर्क नहीं हो सका। बता दे रेलवे टीसी का एक ऐसा पोस्ट है जो हमेशा किसी न किसी तरह से हमेशा सुर्खियों में रहता है इनकी हमेशा अलग अलग शिकायते भी सामने आते रहता है लेकिन इस बार की शिकायत ऐसी है कि जो हप्ता वसूली जैसा मामला है इस लिए ऐसे लोगो पर कड़ी कानूनी कार्यवाही होनी चाहिय ताकि दोबारा इस तरह से किसी दूसरे रेलयात्री के साथ ऐसा करने की हिम्मत कोई न करे !
  • पिकनिक मनाने आये दो युवकों की नदी में डूबने से हुई मौत !

    By fast headline india →
    पिकनिक मनाने आये दो युवकों की नदी में डूबने से हुई मौत !

    ठाणे से 13 लोगो का ग्रुप आया था पिकनिक पर !

    दो दिन बाद मिला दोनो का शव !

    दमकल कर्मियों की कड़ी मेहनत के बाद मिली सफलता !

    कल्याण-कल्याण के टिटवाला के समीप की खडवली नदी के पास पिकनिक मनाने आये जन नदी में नहाने के लिए गए उनकी नदी में डूबने से दोनो युवको के मौत होने की घटना प्रकाश में आई है। दमकल विभाग के कर्मचारियों ने दोनों युवको के शव को नदी से बरामद कर लिया है।
     पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार शनिवार दोपहर के समय थाणे के टीसीएस कंपनी में काम करने वाले 13 लोग टिटवाला के खडवली नदी पर पिकनिक मनाने आये थे। पिकनिक के दरम्यान भातसा नंदी में नहाने के लिए उतरे थे इस दरम्यान रामलखन मौर्या(25) नांमक युवक को नदी की गहराई का अंदाजा ना होने के कारण वह डूबने लगा।जिसे बचाने के लिए अभिजीत बागवे(37) गया वह भी डूब गया।घटना के उपरांत लोगों ने स्थानीय पुलिस को इस बात की जानकारी दी खबर मिलते ही स्थानीय पुलिस व दमकल विभाग ने दोनों युवकों को शव ढूढने की कोशिश में जुट गए।आखिरकार सोमवार की शाम को दमकल विभाग को दोनों युवक के शव मिल गया पूरे घटना की जांच टिटवाला पुलिस कर रही है । इससे पहले भी यहाँ इस तरह के कई हादसे हो चुके है,उसके बादजूद लोग नशे में होकर नदी में स्न्नान करते है फिर ऐसे हादसे हो जाते है !
  • स्वीफ्ट डिजायर गाड़ी पर महाराष्ट्र शासन लिखकर घूमने वाले "रईस जादे" पर चला कानून का डंडा !

    By fast headline india →
    स्वीफ्ट डिजायर गाड़ी में घूमने वाले "रईस जादे" पर चला कानून का डंडा ! 

     फर्जी तरीके से महाराष्ट्र शासन लिखकर रूवाब दिखाने के चक्कर पहुचे हवालात !

     रोड़ की ट्रेफिक की वजह से खुला फर्जी "महाराष्ट्र शासन "लिखी गाड़ी का राज ! 

    वाहतूक पुलिस कर्मी की शिकायत पर नंदलाल भोजवानी पर दर्ज हुआ मामला ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर में "स्वीफ्ट डिजायर" प्राइवेट वाहन पर "महाराष्ट्र शासन" लिखकर घूमने वाले व पुलिस प्रशासन पर रूवाब झाड़ने वाले जालसाज के मुखोटा से पर्दा उठाते हुए वाहतूक पुलिस ने उसकी सही जगह दिखाई और उसके खिलाफ उल्हासनगर पुलिस स्टेशन में मामला कराकर उसे सलाखों के पीछे पहुचाया है। 
    पुलिस से जानकारी के अनुसार दोपहर 2.45 बजे शिरू चौक रोड पर स्थित ठाकुर स्टूडियो के सामने सड़क पर " स्वीफ्ट डिजायर " गाड़ी नम्बर MH.05-BL1089 खड़ी थी जिसकी वजह से यातायात बाधित हो गया था।अम्बरनाथ वाहतूक शाखा में कार्यरत पुलिस कांस्टेबल बाबासाहेब सोपान पोटे अपने सुपीरियर एसीपी से मिलने जा रहे थे ,तो उन्होंने यातयात बाधित देख अवरुद्ध यातायात को क्लियर करने लगे।यातायात बाधित होने की वजह "स्वीफ्ट डिजायर" कार थी।पोटे कार के पास पहुचे तो फूल ब्लैक कांच के सीसे वाली कार पर "महाराष्ट्र शासन"लिखा हुआ था,जब पोटे ने वाहन चालक का लाइसेंस चेक किया तो उसकी शिनाख्त रोहित नंदलाल भोजवानी (26) के रूप में हुई,वाहन पर "महाराष्ट्र शासन " लिखने की जब वजह पूछी गयी तो पता चला कि नाकेबंदी व टोल-नाका बचाने के लिए कार पर "महाराष्ट्र शासन" लिखवाया गया था। पोटे की शिकायत पर उल्हासनगर पुलिस ने भा.द.वि.149,171,420 सह.मो.वा.100 डी 122/177 के तहत मामला दर्ज कर लिया है मामले की जांच सहायक पुलिस निरीक्षक पी.पी.चौधरी कर रहे है। बता दे कि उल्हासनगर में विभिन्न पार्टियों के बोर्ड -लोगो,प्रेस-पुलिस,मानव अधिकार आयोग स्टिकर लगाकर शहर में हजारो गाड़िया अवैध तरीके से घूम रही है,जब भी कोई वाहतूक पुलिस कर्मी इन गाड़ियों को रोकने का प्रयास करता है तो उस पर रौब झाड़कर निकल जाते है।यदि स्थानीय पुलिस व वाहतूक विभाग ऐसे लोगो की तफ्तीश शुरू करे तो शहर में सैकड़ो गाड़िया पुलिस की पकड़ में आएगी ! यह फर्जी वाड़ा ज्यादातर उल्हासनगर में देखने को मिलता है इस लिये यह जरूरी है ऐसी सभी गाडियों को रोककर उनकी सही तरीके से जांच हो ताकि पूरे फर्जीवाड़े पर अंकुश लग सके !
  • लव,सेक्स,फिर हुआ मर्डर,पुलिस ने सस्पेंस से उठाया पर्दा !

    By fast headline india →
    लव,सेक्स,फिर हुआ मर्डर,पुलिस ने सस्पेंस से उठाया पर्दा ! 

     प्रेमी डॉक्टर निकला आरोपी ! 

    सोशल मीडिया के जरिये राखी को जिंदा रखे हुए थे डॉक्टर !

     उत्तर प्रदेश-उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के चर्चित चिकित्सक व आर्यन हास्पिटल के मालिक डॉ. डीपी सिंह को यूपी एसटीएफ ने शुक्रवार को प्रेमिका राखी श्रीवास्तव की नेपाल में हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। हत्या की इस वारदात को अंजाम देने में मददगार बने डॉ. सिंह के दो कर्मचारियों को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। इन कर्मचारियों ने जुर्म कबूल भी किया है। उनके मुताबिक राखी को पोखरा में पहाड़ से खाई में ढकेल दिया गया था। 
    यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश ने शुक्रवार को पुलिस लाइन में लव...सेक्स...मर्डर.. और पूरे मामले में पड़े सस्पेंस से पर्दा उठाया। उन्होंने सिलसिलेवार बताया कि किस तरह राखी डॉक्टर के प्रेम जाल में फंसी, कैसे प्रेम परवान चढ़कर शादी तक पहुंचा और फिर उसका अंत मर्डर के रूप में हुआ।  यश के मुताबिक शाहपुर क्षेत्र के बिछिया की रहने वाली राजेश्वरी उर्फ राखी श्रीवास्तव जून में रहस्यमय हाल में लापता हो गई थी। राखी के भाई अमर प्रकाश ने शाहपुर थाने में 04 जुलाई को गुमशुदगी दर्ज कराई थी। उसने उसके दूसरे पति बिहार के वजीरगंज थाना क्षेत्र स्थित लोहगरा निवासी मनीष सिन्हा पर बहन को गायब करने का आरोप लगाया था। पुलिस ने गुमशुदगी को अपहरण व धमकी में तरमीम कर विवेचना शुरू कर दी थी। उन्हें इस केस की जानकारी हुई तो उन्होंने एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह को लगाया था। उनकी टीम इस पर काम कर रही थी। जांच में डॉक्टर डीपी सिंह की भूमिका पर संदेह हुआ। मोबाइल लोकेशन और कॉल डिटेल से जांच के बाद पता चला कि जिस समय वह गायब हुई है उस समय उसका लोकेशन नेपाल में था। एसटीएफ टीम ने नेपाल से जानकारी जुटाई तो वहां 08 जून को एक युवती की लाश मिलने की बात सामने आई। एसटीएफ ने उसकी पहचान राखी के रूप में करने के बाद जांच का दायरा बढ़ा दिया।  ऐसे आए शक के घेरे में  आईजी ने बताया कि एक से चार जून तक राखी की मोबाइल लोकेशन नेपाल में था। वह अपने पति मनीष सिन्हा के साथ फ्लाइट से नेपाल गई थी। राखी नेपाल में ही रुक गई और मनीष लौट आया। उसी दौरान राखी से बातचीत के बाद डॉ. डीपी सिंह भी अपने दो कर्मचारी प्रमोद कुमार सिंह तथा देशदीपक के साथ नेपाल पहुंच गए थे। राखी को लेकर तीनों पोखरा गए वहां उसे शराब में नशीली दवा पिलाकर तीनों ने मिलकर पहाड़ से ढकेल कर उसकी हत्या कर दी। सारंग कोटा जिला कास्की पोखरा नेपाल से 08 जून को राखी की लाश बरामद हुई थी। इस तरह डॉक्टर के प्रेम जाल में फंसी राखी  आईजी ने बताया कि वर्ष 2006-07 में राखी के पिता हरेराम श्रीवास्तव की तबीयत खराब हो गई थी। उन्हें डॉ. डीपी सिंह के आर्यन हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। तीमारदार के रूप में राखी पिता के साथ रही। इस बीच डॉक्टर से उसकी नजदीकी बढ़ी और मुलाकात का दौर बढ़ने के साथ ही उनके बीच संबंध हो गया था। इसके बाद राखी ने पत्नी का दर्जा देने का दबाव बनाना शुरू किया तो फरवरी 2011 में डॉ. डीपी सिंह ने गोण्डा के एक मंदिर में राखी से शादी कर ली। इस शादी के बारे में उस समय डॉ. डीपी सिंह की पहली पत्नी ऊषा सिंह को जानकारी नहीं थी। दोनों से एक बेटी भी पैदा हुई जिसकी अस्पताल में  इलाज के दौरान मौत हो गई थी। डॉक्टर ने राखी को खरीद कर दिया मकान  राखी को डॉक्टर ने सरस्वतीपुरम, बिछिया, थाना शाहपुर में एक मकान खरीद कर दिया था। वहीं जब डॉ. डीपी सिंह की पहली पत्नी को इस शादी की जानकारी हुई तो वह हैरान रह गईं। विवाद बढ़ने पर डॉक्टर ने राखी से किनारा कर लिया। इसके बाद राखी ने डॉक्टर के खिलाफ महिला थाने में रेप का मुकदमा भी दर्ज कराया था। इस केस में पुलिस की मेहरबानी हुई और एफआर लग गई। डॉक्टर डीपी सिंह से संबंध खत्म होने के बाद राखी ने वर्ष 2016 के फरवरी में बिहार के रहने वाले मनीष सिन्हा से दूसरी शादी कर ली। इधर डॉक्टर और उनकी पत्नी ऊषा सिंह में विवाद शुरू हो गया। इसके बाद डॉक्टर ने राखी से एक बार फिर नजदीकी बढ़ा ली। वह डॉक्टर को ब्लैकमेल भी करने लगी थी। बना ली थी हत्या की योजना  डॉक्टर डीपी सिंह ने राखी को रास्ते से हटाकर पूरे विवाद को खत्म करने की तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने इसके लिए अपने ड्राइवर प्रमोद कुमार सिंह और कर्मचारी देशदीपक को तैयार किया। आईजी के मुताबिक कर्मचारियों को इस हत्या के बाद पांच हजार रुपये वेतन में बढोतरी करने की डॉक्टर ने लालच दी थी जिसके बाद वे तैयार हो गए थे। जब राखी अपने पति के साथ नेपाल पहुंची तब डॉक्टर को जानकारी हो गई उसने मिलने के लिए कहा तो राखी ने पति को यह कहते हुए भेज दिया कि वह अभी यहां रुकेगी उसे और काम है। पति चला गया उसके बाद डॉ. अपने कर्मचारियों के साथ पहुंच गए।  सोशल मीडिया के जरिये राखी को जिंदा रखे थे आरोपित आईजी अमिताभ यश ने बताया कि हत्या के बाद आरोपियों ने सोशल मीडिया पर उसे जिंदा रखने की कोशिश की थी। उन्होंने उसका मोबाइल अपने पास रख लिया था और अलग-अलग स्थानों से सोशल मीडिया पर अपडेट कर पुलिस के साथ अन्य को गुमराह करने की कोशिश कर रहे थे। पकड़े जाने से पहले तक उन्होंने राखी का मोबाइल गुवाहाटी में फेंका था। इससे उसका वर्तमान लोकेशन गोवाहाटी बता रहा था। नेपाल पुलिस के साथ मिलकर सजा दिलाएगी एसटीएफ  आईजी अमिताभ यश ने कहा कि डॉ. डीपी सिंह और उसके साथियों के खिलाफ पुलिस के पास प्रर्याप्त सबूत हैं। शाहपुर थाने में दर्ज मुकदमें के हिसाब से इनके खिलाफ यहां कार्रवाई की जाएगी। नेपाल पुलिस भी मदद ली जाएगी। नेपाल पुलिस पोस्टमार्टम कराकर उसकी जांच कर रही है। जरूरत के हिसाब से वे भी अपने यहां उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। दोनों देश की पुलिस की मदद से डॉक्टर डीपी सिंह और उसके साथियों को सजा दिलाई जाएगी।
  • चद्दर गैंग का पुलिस ने किया पर्दाफाश ! गिरोह दस चोरों को किया गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    चद्दर गैंग का पुलिस ने किया पर्दाफाश ! 

     दस चोरों को पुलिस ने वसई से किया गिरफ्तार ! 

     एक करोड़ की कीमत से ज्यादा के मोबाईल अभी तक किया है चोरी ! 

     पुलिस की इस कार्यवाही से मोबाइल दुकानदारों ने ली राहत की सांस ! 


    उल्हासनगर -उल्हासनगर के ठाणे जिल्हा कल्याण-भिवंडी व उल्हासनगर शहर से ४ मोबाईल दुकानो से ताले तोड़ करके लगभग एक करोड से अधिक कीमत के मोबाईल फोन चोरी करने वाली चद्दर गैंग का पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए टोली के दस लोगो को वसई रेल्वे स्टेशन परिसर से गिरफ्तार किया है यह कारनामा उल्हासनगर डिसीपी स्कॉड व कोनगाव पुलिस के द्वारा संयुक्त कार्यवाई के द्वारा अंजाम दिया गया है . 
      गौरतलब हो कि चार दिन पहले ही कल्याण के लालचौक परिसर में एक ही रात में चद्दर गैंग ने दो दुकानो में चोरी करके पुलिस की नींद हराम कर दिया था. उससे पहले रविवारी की भोर में उल्हासनगर के केम्प नं. तीन के शिवाजी चौक की साऊंड आॅफ म्युजीक की मोबाईल दुकान के ताले तोड़कर चद्दर गैंग ने 46 लाख कीमत के मोबाईल फोन चुराकर ले गए थे. इसके बाद इस गैंग ने हाल ही मे ही कोनगांव में यश कलेक्शन इस इलेक्ट्रॉनिक्स दुकान से भी बीस लाख की किंमत की मोबाईल को चुरा ले गए थे. चार मोबाईल दुकानों स्व लगभग एक करोड मोबाईल पर इस चद्दर गैंग ने अपना हाथ फेर चुके थे इस लिए इस चद्दर गैंग की दहशत खत्म करने के लिए पुलिस ने एक टीम का गठन किया और फिर पुलिस ने इस मामले की जांच मोबाइल डिवाईस को सर्च करके एक गुप्त जानकारी निकाली और उसी के आधार पर पुलिस की संयुक्त टीम ने उस जगह पर रेट किया और चद्दर गैंग की टोली के दस सदस्यों को वसई रेल्वे स्टेशन परिसर से उन्हें गिरफ्तार करने में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है , उल्हासनगर पुलिस.उपायुक्त प्रमादे शेवाले इनके स्कॉड को यह गुप्त जानकारी मिली थी यह ग्रुप एक दुकान को लूटने वाले उसी के तहत पुलिस.उप.नि.येवले, पुलिस.ना.चव्हाण, पु.कॉ.दराडे, हिंदुराव, मोबाईल स्कॉड के पु.उप.नि.आव्हाड और पी.एस.आय.सानप, पु.कॉ.चौधरी, व कोनगाव पुलिस स्टेशन के पु.नि.रमेश काटकर व डीबी पथक के पी.एस.आय.नांद्रे इत्यादि पुलिस स्कॉड ने पु.उपायुक्त अंकित गोयल व प्रमोद शेवाले के मार्गदर्शन में वसई से छापा मारकर चद्दर गैंग का पर्दाफाश किया है, इस चद्दर गैंग के द्वारा चुराए गए एक करोड़ कीमत की मोबाईल को पुलिस रिकवरी करने में जुटी है पुलिस को आशा है कि मुबंई व आसपास के जिलों से चोरी हुए मोबाइल दुकानो के चोरी के रहस्य से पर्दाफाश होगा यह पूरी टोली बिहार राज्य के रहने वाले लोगो का समावेश है. महाराष्ट्र में मोबाईल चोरी के मामले में अभीतक की सबसे बड़ी कार्यवाई के रूप में देखा जा रहा है इनकी गिरफ्तारी से मोबाईल दुकानदारों ने राहत की सास लिया है तो जिनके दुकानो से मोबाईल चोरी हुआ है उनको अपने मोबाईल मिलने की उम्मीद जगी है !
  • तीस घण्टे पानी कटौती के विरोध में उमपा की महासभा नगरसेवकों ने जमीन पर बैठकर किया आंदोलन !

    By fast headline india →
    तीस घण्टे पानी कटौती के विरोध में उमपा की महासभा नगरसेवकों ने जमीन पर बैठकर किया आंदोलन ! 

    एमआईडीसी ने हप्ते के गुरुवार शाम 6 बजे से शुक्रवार रात 12 बजे रात तक पानी बंद करने का दिया फरमान ! 

     आयुक्त के आश्वासन के बाद नगरसेवकों खत्म किया अपना आंदोलन ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगरपालिका की गुरुवार को हुई महासभा में पानी की हो रही एम आई डी सी के द्वारा 30 घण्टे की कटौती को लेकर सत्ता विपक्ष ने महासभा में जमीन पर बैठकर अपना विरोध जताया मनपा आयुक्त के आश्वासन के बाद सभी नगरसेवक अपने कुर्सियो पर जाकर बैठे और महासभा आगे चल पाई है !
    बता दे कि उल्हासनगर शहर को पानी पिलाने वाले बारवी और आंध्र बांध के जल अस्तर को देखते हुए एम आई डी सी के कार्यकारी अभियंता ने 11 दिसम्बर को मीटिंग बुलाई थी इस मीटिंग में यह निर्णय लिया गया कि उल्हासनगर शहर के पानी सप्लाई हप्ते में 30 घण्टे की कटौती करने निर्णय लिया है यह कटौती 21 दिसम्बर गुरुवार शाम 6 बजे से शुक्रवार रात 12 बजे तक कुल मिलाकर 30 घण्टे पानी बंद रहेगा इसका असर केडीएमसी व उल्हासनगर, आसपास के ग्राम पंचायत इलाको पर होगा ! गुरुवार की हुई महासभा में इस कटौती के विरोध करते सत्ता विपक्ष के नगरसेवकों ने जमीन पर बैठकर अपना विरोध जताया इसमें गंगाजल की नगरसेविका कंचन अमर लुंड व ज्योति रमेश चैनानी,शेरी लुंड,तो शिवसेना के नगरसेवक शेखर यादव,अरुण आशान, नगरसेविका लीलाबाई आशान,सुनील सुर्वे, नगरसेविका राजश्री चौधरी, भाजपा नगरसेवक राजेश वानखेड़े इत्यादि नगरसेवकों ने इस आंदोलन में भाग लिया यह सभी सदस्य एक घंटे तक नीचे बैठ आंदोलन किया मनपा आयुक्त अच्युत हांगे के आश्वास के बाद यह आंदोलन खत्म हुआ और सभी नगरसेवक अपने सीट पर आकर बैठे उसके बाद महासभा की आगे की कार्यवाही किया गया !
  • राकपा नगरसेवक भरत गंगोत्री के जन्मदिन के उपलक्ष्य पर हुआ कई कार्यक्रम का आयोजन !

    By fast headline india →
    राकपा नगरसेवक भरत गंगोत्री के जन्मदिन के उपलक्ष्य पर हुआ कई कार्यक्रम का आयोजन ! 

     अनाथ बच्चों को दान में कपाट, कपड़े के साथ दिया गया अन्नदान , मेडिकल का किट, तो महिलाओ के लिए मुफ्त मेडिकल जांच शिबिर का किया गया ! 

     गंगोत्री समेत 40 लोगो ने किया रक्तदान !  

     उल्हासनगर -उल्हासनगर के राष्ट्रवादी काँग्रेस के नगरसेवक और प्रदेश सरचिटनीस भरत गंगोत्री इनके जन्मदिन के उपलक्ष्य पर उनके ऑफिस पर विभिन्न कार्यक्रम का आयोजन हुआ जिनमें अनाथ बच्चों पहने के लिए कपड़े, उसको रखने के लिए कपाट, मुफ्त आरोग्य जांच, अत्याधुनिक मेडिकल मशीन के जरिये  महिलाओ के मुफ्त बीमारियों की जांच , रक्तदान शिबिर ऐसे कई कार्यक्रम का आयोजन किया था .      
    गौरतलब हो कि भरत गंगोत्री इन्होंने अपने जन्मदिन को मनाने के साथ कई सामाजिक उपक्रम को किया ,जिसमें प्रमुख रहे सत्कर्म बालआश्रम के बच्चों पहने के लिए कपड़े ,उन कपड़ो को रखने के लिए कपाट व अन्नदान और उनकी फ्री मेडिकल चेकप और उनको साथ में मेडिकल किट भी दिया गया है . मॅमोग्राफी टेस्ट व्हॅन जैसे अत्याधुनिक मशीन के जरिये महिलाओ के मुफ्त बीमारियों की जांच किया गया इस जांच में प्रमुख तौर यह कि चेस्ट कॅन्सर जैसी घातक बीमारी की भी जांच करने की ब्यवस्था मुफ्त में ब्यवस्था किया गया था सबसे महा दान रक्तदान शिबीर का आयोजन किया गया जिसमें भरत गंगोत्री समेत कुल 40 लोगो ने अपना रक्तदान किया है.इस आयोजन को सफल बनाने के जिन डॉक्टरों ने योगदान दिया उनमें  डॉ महेंद्र केंद्रे ,डॉ राजकुमार पवार, नर्स कविता निमजे , आरोग्य कर्मचारी यशवंत गायकवाड , दीपक मोरे , अरविंद आगावणे  इनके जरिए आरोग्य शिबिर के लिए विशेष सहयोग दिया है ऐसी जानकारी भरत गंगोत्री इन्होंने दिया है . इस पूरे कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बागड़े,सचिन,लोकेश,नीलेश,रविंद्र, नरेश, कमलेश,शंकर,सुनील,श्याम,किरण,अजय,कुमार,अमर,पूजा,अमित,विशाल,इत्यादि कई कार्यकर्ताओ के सहयोग से इस पूरे कार्यक्रम को संपन्न किया गया है,
  • उल्हासनगर मनपा में पत्रकारों ने "काला फीता " लगाकर किया एसडीओ का विरोध !

    By fast headline india →
    उल्हास विकास के संपादक के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र शब्दो में टिप्पणी करने वाले एसडीओ के खिलाफ पत्रकारों ने किया निषेध प्रदर्शन !

     उल्हासनगर मनपा में पत्रकारों ने "काला फीता " लगाकर किया एसडीओ का विरोध ! 

     जल्द नही हुई एसडीओ पर कार्यवाही तो इस मांग को लेकर शहर के पत्रकार करेंगे कलेक्टर कार्यालय के सामने आंदोलन ! 


     उल्हासनगर-उल्हासनगर से प्रकाशित स्थानीय दैनिक "उल्हास विकास" के संपादक हीरो बोधा की तेज तर्रार लेखनी से बौखलाए "एसडीओ" उप विभागीय अधिकारी ने विगत 14 तारीख को सोशल मीडिया के एक वाट्सअप ग्रुप पर अपनी अभद्रता  का परिचय दिया था।एसडीओ की अभद्रता से नाराज शहर के पत्रकारों ने आज एसडीओ का निषेदार्थ करते हुए "काला फीता" बांधकर एसडीओ का विरोध किया है।

    गौर तलब हो कि उल्हासनगर में एसडीओ विभाग द्वारा जारी बोगस डॉक्यूमेंट के बल पर शहर के भूमाफिया राजनीतिक संरक्षण में खुलेआम "लैंड ग्रेपिंग "के गोरखधंधे को अंजाम दे रहे है,जिसका खुलासा "उल्हास विकास " कर रहा था,उल्हास विकास की खबरों से बौखलाए एसडीओ जगत सिंह गिरासे ने विगत 14 तारीख को उल्हास विकास के संपादक हीरो बोधा को सोशल मीडिया पर अभद्र गाली गलौज किया।"एक क्लास वन " अधिकारी द्वारा की गई ऐसी हरकत से शहर के पत्रकार नाराज हो गए और एसडीओ पर उचित कार्यवाही की मांग को लेकर पत्रकारों ने  इसकी लिखित शिकायत ठाणे के जिल्हाधिकारी नार्वेकर तथा पुलिस उपायुक्त प्रमोद शेवाले से की।शिकायत को 6 दिन बीत चुके है बावजूद अब तक ठाणे कलेक्टर व पुलिस उपायुक्त द्वारा एसडीओ जगत सिंह गिरासे के खिलाफ कोई कार्यवाही नही करने से नाराज शहर के पत्रकारों ने आज उमनपा मुख्यालय में "काला फीता" लगाकर एसडीओ का निषेध किया। इसमें शहर के सभी पत्रकार ने हिस्सा लेकर निषेध ब्यक्त किया जिसमें दैनिक उल्हास विकाश के संपादक हीरो बोधा, फस्ट हेडलाइन इंडिया के संपादक धर्मेन्द्र दुबे,मुंबई लक्ष्यद्वीप संजय राजगुरू, नवभारत टाइम्स अरबिंद त्रिपाठी, टी,वी,9 के अजय शर्मा,गुलाब पवार,आनंद शुक्ला, कमर काजी,अजय दुधाने, टोनी लालवानी,किशोर पिंजवानी,मनीष नारा,सोनू शिंदे,चीना,कुनाल, सैम, नंदू चौहान,सरफराज,गौतम वाघ,आकाश साहने,दबंग हेडलाइन्स के संपादक दिलीप मिश्रा इत्यादि पत्रकार उपस्थित थे सब ने कहा कि यदि एक सप्ताह के अंतराल एसडीओ गिरासे पर कोई कार्यवाही नही की गई तो जिल्हाधिकारी कार्यालय के बाहर शहर के सब पत्रकार एक दिवसीय धरना देगे जिसकी जिम्मेदार सरकार होगी।
  • डी, टी, कॉलेज कैम्पस के बाहर विद्यार्थियों के दो गुटों में हुआ लफड़ा !

    By fast headline india →
    डी, टी, कॉलेज कैम्पस के बाहर विद्यार्थियों के दो गुटों में हुआ लफड़ा ! 

     शराब पीने के पैसे मांगने पर हुआ था विवाद !  

    उल्हासनगर-उल्हासनगर में शराब पीने के लिए पैसे मांगने के चलते विद्यार्थियों के दो गुटों में लफड़ा इस कदर बढ़ गया इसमें चाकू व बेल्ट लात मुक्केबाजी जमकर हुई इसमें कुछ बच्चे घायल भी हुए है.इस घटना की सी सी टीवी फुटेज भी सोशल साइड पर वायरल हुआ है पुलिस ने इस मामले तीन लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है. 
     विज्ञापन ईमेज

        पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार की दोपहर 1.30 बजे के करीब उल्हासनगर - 1 के डी टी कलानी कॉलेज कैम्पस के सामने यह घटना हुई है . कॉलेज के कैटीन के गुरुसेवक प्रीतपाल सिंग संधु इस विद्यार्थी अपने दोस्त रौनक पाठक व राहुल गुप्ता इनके साथ बात कर रहे थे तभी आरोपी सैफ , मोहम्मद और शहजाद उनके पास आये और शराब पीने के लिए पैसा करने लगे उस समय गुरुसेवक और उनके दोस्त ने पैसे देने से सीधे मना कर दिया उसी बात से नाराज आरोपी  सैफ , मोहम्मद और शहजाद इन्होंने गुरुसेवक , रौनक और राहुल इनके ऊपर लात मुक्के मारना चालू कर दिया बात यही नही रुकी बेल्ट और चाकू से हमला करके जख्मी कर दिया .  कालेज कैम्पस पे लगे सी सी टीवी में पूरी घटना रिकार्ड हुआ और किसी ने इसे सोशल साइड पर वायरल भी कर दिया जिसमें पूरे लफड़े की कहानी दिखाई दे रहा है, इस विषय मे गुरुसेवक इन्होंने उल्हासनगर पुलिस स्टेशन मामला दर्ज कराया है. पुलिस ने मामला दर्ज करके आरोपी छात्रों की तलाश में जुट गई है इस मामले की आगे की जांच पुलिस द्वारा किया जा रही है. 
     विज्ञापन ईमेज

  • ईमान अधिकारी के छुट्टी पर जाते ही रिश्वतखोर अधिकारी ने शुरू किया अपना खेल !

    By fast headline india →
    ईमान अधिकारी के छुट्टी पर जाते ही रिश्वतखोर अधिकारी ने शुरू किया अपना खेल ! 

    शहद रोड़ के बंद पड़े अवैध आरसीसी निर्माणो को लाखों की रिश्वत लेकर दी बनाने छूट ? 

    मनपा आयुक्त का हर दिन इसी रोड़ से है आना जाना फिर भी बन रहे खुलेआम अवैध निर्माण ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर मनपा की हद से गुजरने वाला कल्याण मुरबाड़ रोड़ के चौडा करने का काम चल रहा है उसी रोड़ से शहद के पास रोड़ कटिंग के बहाने अवैध आर सी सी निर्माण इन दिनों खुलेआम शुरू है इस निर्माण को संरक्षण देने का काम मनपा का रिश्वतखोर अधिकारी अवैध बांधकाम विभाग प्रमुख शिंपी के द्वारा किया जा रहा है इस संरक्षण के नाम पर लाखों की रिश्वत लिया गया है ऐसा विश्वसनीय सूत्रों से बाते सामने आ रही है,क्यो जबतक इस प्रभाग के एक ईमानदार अधिकारी विजय मंगलानी थे तबतक यह सारे अबैध निर्माण पूरी तरह से बंद थे,कुछ अबैध निर्माण कर्ताओ द्वारा उनपर हमला भी किया गया था फिर भी वो अपनी ड्यूटी ईमानदारी से कर रहे थे परंतु फैमली कारणों के चलते इन दिनों वो छुट्टी पर है बस इसी फायदा उठाते हुए रिश्वतखोर ने इस मौके फायदा उठाते हुए सभी कामो को शुरू करवाकर उसे अप्रत्यक्ष रूप से संरक्षण देकर इन अवैध निर्माणों को शुरू करवा दिया है यही कारण है एक ये सारे अबैध निर्माण जोर शोर से दिन दहाड़े बनाये जा रहे है ,मनपा आयुक्त का भी रोज उसी रोड़ से आना जाना उसके बादजूद यह निर्माण बदस्तुर जारी है !

     बता दे दी कि उल्हानगर महानगरपालिका के मागासवर्गीय भरती घोटाला जैसे अनेक मामले का खुलासा हुआ था. कुछ दिनों पहले राजेंद्र अढांगले इस सफाई कर्मचारी ने अपने भाई के नाम 15 सालों से नोकरी करने का मामले का पर्दाफाश हुआ . इस मामले में अढांगले इनके विरुद्ध मामला दर्ज कराया गया और उसे जेल जाना पड़ा है. इस मामले में तत्कालीन मनपा के कुछ अधिकारियों की मिली भगत होने का भी मामला प्रकाश में आया है उन वरीष्ठ अधिकारी और कर्मचारियो जांच होना अभी बाकी है.ऐसे में मनपा के विवादित अधिकारी गणेश शिंपी को सहाय्यक आयुक्त और अनधिकृत बांधकाम निष्कासन प्रमुख की जबाबदारी देने से मनपा प्रशासन की कार्य प्रणाली पर भी सवालिया निशान लगने लगा .

    शिंपी का मूल पद यह स्टेनोग्राफर आहे . ये 8 / 5 / 2013 में मनपा के तत्कालीन आयुक्त बालाजी खतगावकर के पीए (स्वीय सचिव) पद पर काम करते समय ठाणे एंटीकरप्शन विभाग ठाणे ने इन पर कार्यवाई करते हुए 25 हजार की रिश्वत लेते रंगेहात गिरफ्तार किया था इनके साथ बिट मुकादम  इनको भी जाल बिछाकर 50 हजार की रिश्वत लेते पुलिस ने गिरफ्तार किया था. इस दरम्यान शिंपी को कुछ समय के लिए निलंबित किया गया था उसके कुछ समय बाद तत्कालिन मनपा आयुक्त मनोहर हिरे इनके कार्यकाल में गणेश शिंपी इनकी सहाय्यक आयुक्त पद पर बहाली किया गया इस दरम्यान इनके कार्यकाल के दरम्यान बड़े पैमाने इनके प्रभाग में हुए है ,अभी शिंपी के पास सहाय्यक आयुक्त और अवैध बांधकाम निष्कासन प्रमुख पद भी दिया गया है. इनको पद संभालने के बाद पूरे शहर में अवैध निर्माण बनाने में बड़े पैमाने पर तेजी आई है. यहा देखने वाली बात यह है कि महाराष्ट्र शासन निर्णय क्र निप्रआ -1111/प्र क्र 86 / 11 -अ  प्रमाण के अनुसार जिस भी शासकीय अधिकारी / कर्मचारी विरुद्ध बेहिसाब संपत्ती प्रॉपर्टी, नैतिक अधःपतन, रिश्वतखोरी ,हत्या,या हत्या का प्रयास , बलात्कार ऐसे गंभीर मामले किसी पर भी फौजदारी मामले दर्ज हुए है और उन्हों इसकी वजह से निलंबित किया गया है और खटला / अपील / विभागीय चौकशी प्रलंबित होने के दरम्यान उसको पुनस्थापित करने निर्णय हुआ है तो ऐसे में ऐसे मामले के अधिकारी / कर्मचारी को ऐसा पद दिया जाय जहाँ पर अधिकारी का पब्लिक से जनसंपर्क या रिश्वत लेने की संभावना न बने ऐसे पदपर नियुक्ती दी जाय ऐसा महाराष्ट्र के जीआर में स्पष्ट लिखा है. ऐसे में मनपा के द्वारा ऐसे अधिकारी को मलाईदार पोस्ट देकर क्या साबित करना चाहती या इसके पीछे की मंशा भ्र्ष्टाचार को बढ़ावा देने का तो नही है क्यो       गणेश शिंपी जिनकी मनपा में स्टेनोग्राफर इस पदपर नियुक्ती किया गया था यह पद एकांकी था इस पद पर काम करने वाले ब्यक्ति को दूसरा कोई पद कानून के हिसाब से नही दिया जा सकता है, ऐसे में अपने पद का इस्तेमाल कर रिश्वत लेते हुए रंगेहात पकड़ा गया है उसे शासन के जीआर के नियमो को ताख पर रखकर ऐसा मलाईदार पद देने की पीछे के कारण क्या है ! इनके प्रभाग अधिकारी पद पर बैठने के बाद से अवैध निर्माण का बड़े पैमाने से इतना स्पष्ट है कि रिश्वत का खेल कैसे हुआ है क्यो किसी काम पर कार्यवाई हुई भी तो फिर दूसरे दिन बनकर खड़े हो गए है . यह रिश्वतखोर अपनी वसूली करके सभी अधिकारियों को मैनेज करके अवैध निर्माण कर रहा है यह जग जाहिर हो चुका है,इस विषय पर जब मनपा आयुक्त अच्युत हांगे से बात किया गया तो उन्होंने भी माना कि शहद रोड़ पर रोड़ कटिंग की आड़ में अबैध आर सी सी निर्माण किया जा रहा है परंतु कार्यवाई की बात पर वह भी टाल मटोल करते दिखाई दिए इसका मतलब है कि रिश्वत का खेल मनपा की पूरी जड़ो तक पहुचकर खोखला बना चुकी है जबतक ऐसे भष्ट्र अधिकारी पर कार्यवाई नही होगी तब तक इस शहर में ऐसे ही अबैध निर्माण बनते रहेंगे और रिश्वतखोरी का धंधा फलता फूलता रहेगा !
     विज्ञापन ईमेज

  • करंट से हुई बच्चे की मौत के मामले में स्कूल प्रशासन,मनपा अधिकारी,विद्युत विभाग के विरुद्ध पुलिस ने दर्ज किया एफआईआर !

    By fast headline india →
    बच्चे की मौत के मामले में स्कूल के मैनेजर व प्रधानाध्यापक व मनपा प्रशासन और विद्युत विभाग के विरुद्ध दर्ज हुआ मामला ! 

     उल्हासनगर -उल्हासनगर के गुरुनानक हायस्कुल की बिल्डिंग पर बैनर निकाल ने गए बच्चे के मौत के मामले में विठ्ठलवाडी पुलिस स्टेशन ने स्कूल के मैनेजर व प्रधानाध्यापक , विद्युत विभाग महामंडल व मनपा के संबंधीत अधिकारी के विरुद्ध सदोष मनुष्य वध का मामला दर्ज किया गया है. 
    पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार प्रमोद  पंडित यह शनिवार की सुबह गुरुनानक स्कूल की बिल्डिंग पर लगे बैनर को निकाल ने गया था तभी बिल्डिंग के बगल से गुजरे लाइट के वायर उसे टच हो गया और उसकी जगह पर ही मौत हो गया था . इस मामले में स्कूल के ट्रस्ट पंजाब सेवक सभा संस्था के अध्यक्ष व सभी पदाधिकारी गुरुनानक हायस्कुल व ज्युनिअर कालेज की मुख्याध्यापिका रिना शिवकुमार, शिक्षक धीरज पुतनानी, महाराष्ट्र राज्य विद्युत वितरण महामंडल, उल्हासनगर महानगरपालिका के संबंधीत अधिकारी के ऊपर सदोष मनुष्य कायदा ३०४(ब), ३४ के तहत विठ्ठलवाडी पुलिस स्टेशन ने प्रमोद के पिता भगवान पंडित इनकी शिकायत पर मामला दर्ज किया है.इस मामले की आगे की जांच पुलिस उपनिरीक्षक शेलके कर रहे है .
  • चद्दर गैंग का उल्हासनगर में कहर ! 46 लाख कीमत के मोबाईल की गई चोरी

    By fast headline india →
    चद्दर गैंग का उल्हासनगर में कहर ! 

    साउंड ऑफ म्यूजिक मोबाईल दुकान से 46 लाख के मोबाईल किया चोरी !    

    उल्हासनगर - उल्हासनगर शहर के सबसे ब्यस्त शिवाजी चौक परिसर के साउंड ऑफ म्युजिक इस दुकान से बीती रात में चद्दर गैंग के चोरो ने  46 लाख रुपये किंमत के  मोबाईल चुरा लिया है . यह चोरी की घटना दुकान में लगे सी सी टीव्ही कैमरे कैद हुआ है, जिस तरह से उन्होंने चोरी को अंजाम दिया है वह सिर्फ चद्दर गैंग के द्वारा किया जाता है इससे पहले इसी तरह की घटना को अंजाम दिया गया कल्याण हुआ है .     

    पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार उल्हासनगर - 3 के सबसे ब्यस्त इलाका कल्याण - अंबरनाथ महामार्ग के शिवाजी चौक के सामने साउंड ऑफ म्युजिक यह एक सुप्रसिद्ध मोबाईल का दुकान है . बीती रात में 5 बजकर 10 मिनिट पर 6 चोरों की टोली इस दुकान के शटर के सामने पहले चद्दर लगाते है फिर शटर को तोड कर अंदर घुसकर लगभग 46 लाख रुपये किंमत के मोबाईल को चोरी किया है . जब सुबह 10 बजे जब दुकान को नोकर खोलने आया तो उसने देखा कि शटर के ताले टूटे हुए और अंदर गया तो देखा कि सब सामान बिखरा पड़ा है . यह सब देखकर नोकर को लगा कि दुकान में चोरी हुई है उसने दुकान के मालिक लक्ष्मण तेजुमल ब्रह्मणी उर्फ लाली इनकी फोन करके दुकान में हुई चोरी की घटना के8 जानकारी दी जिसके बाद वो तुरन्त ब्रह्मणी ने दुकान के लिए और उन्होंने इस घटना की जानकारी स्थानीय सेंट्रल पुलिस स्टेशन को दिया है उनकी सूचना के बाद पुलिस ने घटना स्थल पर पहुचकर मुवायना किया और मालिक की शिकायत पर अज्ञात चोरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.       इस विषय में सोशल मीडिया पर आए सी सी टीवी फुटेज में बीती रात की भोर में 5 बजकर 10 मिनिट पर 6 चोरों को गैंग दुकान के बाहर आकर पहले इधर उधर देखते फिर एक बैग से चद्दर निकाल करके शटर के बाहर लगा देते फिर शुरू होता है शटर के तालों को तोड़ते है और अंदर घुस गए और चोरों ने आय फोन , सॅमसंग, विवो व अन्य कंपनी के कुल 46 लाख रुपये किमत के मोबाईल को चोरी किया है . चोर ने मोबाईल के डब्बे दुकान में फेंक दिए उसमें का सिर्फ मोबाईल चुराकर ले गए है .इसकी वजह से दुकान के अंदर डब्बो के ढेर लग गए थे .        साऊंड ऑफ म्युजिक दुकान के मालिक लक्ष्मण ब्रम्हणी  उन्होंने कहा कि मेरा दुकान शहर के सबसे ब्यस्त इलाके में मेन चौक पर है. पास में ही छत्रपति शिवाजी महाराज का पुतला भी है , यहाँ पर हमेशा पुलिस बंदोबस्त रहता है परंतु मेरी दुकान के चोरी के समय पुलिस नही थी यह चौकाने वाला है , वही इस मामले में सेंट्रल पुलिस ने अज्ञात चोरों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है वही यह घटना पुलिस के लिए अपनी इज्जत बचाने के लिए कितने जल्दी चद्दर गैंग को सलाखों के पीछे पहुचाती वह देखना होगा क्योंकि यह चोरी पुलिस की नाक के नीचे हुआ है इस लिए यह भी किसी चैलेंजिंग केश से कम नही है. 
  • न्यूज से बौखलाए उल्हासनगर के एस, डी, ओ, गिरासे का नवीनतम कारनामा सोशल मिडीया पर खोया आपा !

    By fast headline india →
    न्यूज से बौखलाए उल्हासनगर के एस, डी, ओ, गिरासे का नवीनतम कारनामा सोशल मिडीया पर  खोया आपा ! 

    उल्हास विकाश के संपादक से किया आपत्तिजनक भाषा में टिप्पणी !   

    उल्हासनगर -  उल्हासनगर शहर के नामांकित एक हिंदी दैनिक उल्हास विकाश में प्रसिद्ध हुई एक न्यूज से आहत हुए एस डी ओ ( प्रांत अधिकारी) जगतसिंग गिरासे इन्होंने अपना आपा खोते हुए पत्रकार से उनके माँ को लेकर गाली व अश्लिल टिप्पणी सोशल मीडिया पर करने का घृणित मामला सामने आया है.इस मामले का शहर के सभी पत्रकारों निषेध ब्यक्त करते हुए सभी पत्रकाराने मिलकर पुलिस उपायुक्त के पास लिखित शिकायत देकर मामला दर्ज करने की मांग किया है.           
    गौरतलब हो कि उल्हासनगर शहर से दैनिक उल्हास विकास यह हिंदी दैनिक पिछले 35 सालों से लगातार प्रकाशित हो रहा है. इसी पेपर में पिछले दो दिन से एस डी ओ कार्यालय के द्वारा दिये जा रही सनद वितरण की प्रक्रिया को लेकर प्रश्नचिन्ह निर्माण करते हुए न्यूज लगाई गई थी. उस न्यूज की शहर भर में जोरदार चर्चा शुरु है. इसी न्यूज की कटिंग उल्हास विकास के संपादक हिरो बोधा इन्होंने उल्हासविकास फॅन क्लब इस व्हाट्सअँप ग्रुपवर शुक्रवार को डाली थी. इस न्यूज से आहत हुए उपविभागीय अधिकारी जगतसिंग गिरासे इन्होंने अपना आपा खो दिया. और उन्होंने गाली, व अश्लीलता जैसे आपत्तिजनक शब्दो का इस्तेमाल करते हुए पेपर के संपादक से सोशल साइड पर लिखना शुरू किया. उनके लिखे शब्द इतने आपत्तिजनक व गिरे हुए स्तर के थे उसे थोड़ा रोकने की कोशिश एक पत्रकार शशिकांत दायमा इन्होंने करने का प्रयाश किया परन्तु वो रुकने को तैयार नही हुए और आगे भी उसी तरह की टिप्पणी करते रहे और आखिर में गिरासे उन्होंने लिखा कि हमारी साइड न्यूज में नही लिखा गया और ग्रुप से छोड़ कर चले गए. इस घटना से नाराज सभी उल्हासगनगर शहर के पत्रकाराने ने पुलिस उपायुक्त प्रमोदकुमार शेवाळे इनसे मुलाकात किया और उप विभागीय अधिकारी पर मामला दर्ज करने की मांग किया है . शहर के पत्रकार रविन्द्र धांडे,नवनीत भराटे, धर्मेन्द्र दुबे,टोनी लालवानी,आनंद शुक्ला,नंदू चौहान ,गुलाब पावर,सुनील इंगले,रामेश्वर गवई,हरेश बोधा,सोनू हटकर,महेश गायकवाड़,अजय दुधाने,पद्मिनी राजपूत,शशिकांत दायमा,सहित अन्य कई पत्रकार शामिल थे,सभी पत्रकार शनिवार को ठाणे जिल्हाधिकारी राजेंद्र नार्वेकर इनसे मिलकर गिरासे इनको निलंबित करने की मांग करने वाले है .  
  • सर कटी लाश की हत्या के रहस्य का पुलिस ने किया पर्दाफाश !

    By fast headline india →
    सर कटी लाश की हत्या के रहस्य का पुलिस ने किया पर्दाफाश !

    थ्री डायमेस्न सुपर सायंस टेकनॉलॉजी की सहायता हत्या के रहस्य उठा पर्दा !


    अबैध संबंध के चलते प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के पति की हत्या !

    अंबरनाथ-अंबरनाथ के पश्चिम में जावसाई के जंगल में 10 अप्रैल 2018 को बिना सर की एक पुरुष की बिना सर वाली लाश और 500 मीटर की दूरी पर झाडिय़ों में कटा सर पुलिस को मिला था चेहरे का चमडा काट-काटकर निकाला गया था ताकि लाश की पहचान ना हो सके लेकिन पुलिस ने केईएम अस्पताल के डॉक्टरों की मदद से थ्री डायमेस्न सुपर सायंस टेकनॉलॉजी की सहायता से खोपडी से चेहरा बनाकर इस केस को हल करवाया है इसमें तीन आरोपियों,    को  गिरफ्तार किया इसमें मृतक बिंदरा प्रजापति की पत्नी सावित्री प्रजापति(30) उसका आशिक किसनकुमार कनोजिया, दोस्त राजेश यादव को अंबरनाथ,  पुलिस ने मुंबई से गिरफ्तार करके 18 दिसम्बर तक रिमांड पर भेज दिया है ।
     विज्ञापन इमेेेज
    गौरतलब हो कि गुरुवार को पुलिस उपायुक्त प्रमोद शेवाले ने अंबरनाथ पुलिस स्टेशन में पत्रकार परिषद लेकर पत्रकारों को अधिक जानकारी देते हुए बताया कि ये हत्या का केस हल करना मुश्किल था क्योंकि मृतक व्यक्ति की पहचान नहीं हो पा रही थी और किसी ने उसके गुम होने की शिकायत भी नहीं की थी लेकिन अंबरनाथ के सह.पु.आयुक्त सुनील पाटील ने डॉ. हरिश पाठक केईएम अस्पताल से संपर्क करके मदद मांगे, वैद्यकीय शा से डॉ. पाठक और डॉ. हेमलता पांडे व अन्य डॉक्टरों ने सुपर कम्पोजिशन पध्दत से मृतक की मिलता  चेहरा बनाया पुलिस ने बनाए गए चेहरे का फोटो यहां के लोगों को बताया तो मालूम पड़ा कि यहां का निवासी बिंद्रेश अप्रैल 2018 से लापता है।
    विज्ञापन इमेेेज

     पत्नी पर शक होने के बाद उसे पकड़कर पूछताछ की गई तो उसने बताया कि पास के जंगल के प्रति बिंद्रेश को उसके आशिक किसनकुमार और उसने ले जाकर हत्या कर दी। हत्या का कारण सावित्री और किसन के अनैतिक संबंध बताए गए हैं। पत्रकार परिषद में सह.पु.आयुक्त सुनील पाटील, व.पु.नि. चव्हाण, क्राईम निरीक्षक नरेंद्र पाटील, उपनि. सावंत आदि उपस्थित थे। पुलिस की कड़ी मेहनत एवं सायंस टेकनॉलोजी के आधुनिक तरीके से आरोपियों को पकड़ा गया और इस केस को हल किया गया है।
    विज्ञापन इमेेेज

  • उमपा प्रशासन का नायाब कारनामें का हुआ पर्दाफाश ! रिश्वतखोर को प्रभारी चार्ज,सदोष मनुष्य हत्या का मामला दर्ज होने वाले को दिया प्रमोशन !

    By fast headline india →
    उमपा प्रशासन का नायाब कारनामें का हुआ पर्दाफाश ! 

    रिश्वतखोर,बोगस प्रमाण पत्र,मागसवर्गीय भर्ती घोटाले व मामला दर्ज होने के बाद भी अधिकारी की दी पदोन्नती और प्रभारी चार्ज !

     उल्हासनगर -उल्हासनगर महानगरपालिका प्रशासन का नायाब कारनामो का पर्दाफाश हुआ जहाँ एट्रोसिटी का मामला दर्ज होने के कारण जनसंपर्क अधिकारी युवराज भदाणे की पदोन्नती को महासभा ने रद्द कर दिया। वही रिश्वतखोरी के मामले गिरफ्तार ही चुके स्टोनोग्राफर गणेश शिंपी को प्रभारिचार्ज दिया गया है तो मागसवर्गीय घोटाले बोगस प्रमाण पत्र देने के मामले में आरोपित महिला कर्मचारी का प्रमोशन दिया गया वही वरिष्ठ लिपिक अजित गोवारी पर सदोष मनुष्य हत्या का मामला दर्ज होने के बाद भी उनको भी अधिक्षक पद पर पदोन्नति कैसे किया गया है यह एक बड़ा सवाल खड़ा हुआ है।इसकी वजह से मनपा प्रशासन के कार्य प्रणाली पर प्रश्नचिन्ह निर्माण हो गया है ! 
     विज्ञापन इमेेेज

    बता दे कि उल्हासनगर महानगरपालिका के ६ वरिष्ठ लिपिकों की अगस्त महीने में पदोन्नती की गई, इस पदोन्नती की सूची में सहायक आयुक्त अजित गोवारी का भी समावेश है । वरिष्ठ लिपिक के पद से अधीक्षक पद पर उनकी पदोन्नती की गई है लेकिन अजित गोवारी पर सदोष मनुष्य हत्या का मामला दर्ज होने के बाद भी उनकी पदोन्नती कैसे की गई, ऐसा प्रश्न उपस्थित हुआ है।
    विज्ञापन इमेेेज

     इस संदर्भ में सामान्य प्रशासन विभाग के लिपिक अच्युत सासे से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनका चुनाव समिती के आदेश द्वारा सादर किए गए पदोन्नती के प्रस्ताव पर तत्कालीन आयुक्त गणेश पाटील ने निर्णय लेकर पदोन्नती दी थी। गोवारी पर क्यों हुआ मामला दर्ज ४ दिसंबर २०१४ को कल्याण-बदलापुर रोड को १०० फुट तक चौड़ा करने का काम मनपा ने अपने हाथ में लिया था। उस समय १७ सेक्शन परीसर के दुकानों पर मनपा ने बुलडोजर चलाने की शुरूवात की थी । गुल मदनानी के टिल्सन शॉपिंग कॉम्पलेक्स सामने दुकानों पर बुलडोजर ने कारवाई शुरू की,इस कार्रवाई के शुरू रहते ही न्यायालय का स्टे ऑर्डर आने पर इस दुकान का तीसरा मंजिल हवा में तैर रहा था। न्यायालय ने दिए गए आदेश में कहा था कि जबतक निर्णय नही होता है, तबतक इस धोखादायक बांधकाम को न तोड़ा जाए,लेकिन मनपा ने इसे नजरअंदाज किया।१९ जुलाई २०१५ को जोरदार बरसात में दोपहर ढाई बजे के लगभग गुल की दुकान गिर गई और इस मलबे के नीचे दबने से वायरमैन का काम करनेवाले अशोक पाल(४३)की मृत्यु हो गई। इस प्रकरण में मध्यवर्ती पुलीस स्टेशन में अकास्मात मृत्यू का मामला दर्ज किया गया था और पुलिस की जांच शुरू थी ।पूरे एक वर्ष बाद मध्यवर्ती पुलिस ने ही अजित गोवारी के विरुद्ध मामला दर्ज किया था। इस प्रकरण में अभी तक पुलिस ने चार्जशीट भी पेश नही किया। ऐसा होते हुए एक कलंकित अधिकारी को पदोन्नती कैसे दी गई, ऐसी चर्चा महानगरपालिका में हो रही है ।
    विज्ञापन इमेेेज

    उल्हानगर महानगरपालिका के मागासवर्गीय भरती घोटाला जैसे अनेक मामले का खुलासा हुआ था. कुछ दिनों पहले राजेंद्र अढांगले इस सफाई कर्मचारी ने अपने भाई के नाम 15 सालों से नोकरी करने का मामले का पर्दाफाश हुआ . इस मामले में अढांगले इनके विरुद्ध मामला दर्ज कराया गया और उसे जेल जाना पड़ा है. इस मामले में तत्कालीन मनपा के कुछ अधिकारियों की मिली भगत होने का भी मामला प्रकाश में आया है उन वरीष्ठ अधिकारी और कर्मचारियो जांच होना अभी बाकी है.ऐसे में मनपा के विवादित अधिकारी गणेश शिंपी को सहाय्यक आयुक्त और अनधिकृत बांधकाम निष्कासन प्रमुख की जबाबदारी देने से मनपा प्रशासन की कार्य प्रणाली पर भी सवालिया निशान लगने लगा है.मनपा प्रशासन ऐसे लोगो पर अपनी साख बचाती है या इनके साथ खड़ी रहकर अपने ऊपर लग रहे आरोपो को साबित करवारी यह तो आने वाले समय में ही सामने आएगा !
    विज्ञापन इमेेेज

  • रिश्वतखोर मनपा अधिकारी अपनी बदली रुकवाने के जुआड में अवैध निर्माणकर्ताओं से कर रहा है दुगुनी वसूली ?

    By fast headline india →
    रिश्वतखोर उमपा अधिकारी अपनी बदली रुकवाने के जुआड में अवैध निर्माणकर्ताओं से कर रहा है दुगुनी वसूली ?
    मंत्रालय के मुख्य सचिव के आदेश की उड़ाई जा रही है खिल्ली !

    नगरविकास सचिव के अधिकारी तक पहुचाई जा रही बदली रोकने के लिए रिश्वत ?

    नियमो की धज्जियां उडाकर दिए गए अजीत गवारी के प्रमोशन से मनपा प्रशासन उठ रही उंगलिया !

    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगर पालिका के अवैध बांधकाम निष्कासन विभाग प्रमुख पद पर बैठे अधिकारी की बदली की अटकलें तेज हो चुकी है, परंतु इसी बीच एक सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है वह रिश्वतखोर अधिकारी अपनी इस पोस्ट को बचाने के लिए अवैध निर्माणकर्ताओं से दुगुनी वसूली करके अपने मनपा व मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारीयो को रिश्वत देकर अपनी बदली रुकवाने के जुआड में जुट गया है,उमपा आयुक्त अच्युत हांगे भी इस रिश्वतखोर पर कार्यवाई करने की बजाय उस पर मेहरबान हुए बैठे उसके पीछे की वजह भी यही बताई जा रही है !मंत्रालय के मुख्य सचिव (सेवा) सीताराम कुठे के द्वारा इस रिश्वतखोर पर कार्यवाई करने के विषय मे नगरविकास प्रधान सचिव मनीषा महैस्कर को लिखित आदेश दिया है उसके बायजूद अभी तक इस पर किसी विभाग के द्वारा कोई कार्यवाई किया नही गया है ! 
    बता दे दी कि उल्हानगर महानगरपालिका के मागासवर्गीय भरती घोटाला जैसे अनेक मामले का खुलासा हुआ था. कुछ दिनों पहले राजेंद्र अढांगले इस सफाई कर्मचारी ने अपने भाई के नाम 15 सालों से नोकरी करने का मामले का पर्दाफाश हुआ . इस मामले में अढांगले इनके विरुद्ध मामला दर्ज कराया गया और उसे जेल जाना पड़ा है. इस मामले में तत्कालीन मनपा के कुछ अधिकारियों की मिली भगत होने का भी मामला प्रकाश में आया है उन वरीष्ठ अधिकारी और कर्मचारियो जांच होना अभी बाकी है.ऐसे में मनपा के विवादित अधिकारी गणेश शिंपी को सहाय्यक आयुक्त और अनधिकृत बांधकाम निष्कासन प्रमुख की जबाबदारी देने से मनपा प्रशासन की कार्य प्रणाली पर भी सवालिया निशान लगने लगा .  शिंपी का मूल पद यह स्टेनोग्राफर आहे . ये 8 / 5 / 2013 में मनपा के तत्कालीन आयुक्त बालाजी खतगावकर के पीए (स्वीय सचिव) पद पर काम करते समय ठाणे एंटीकरप्शन विभाग ठाणे ने इन पर कार्यवाई करते हुए 25 हजार की रिश्वत लेते रंगेहात गिरफ्तार किया था इनके साथ बिट मुकादम इनको भी जाल बिछाकर 50 हजार की रिश्वत लेते पुलिस ने गिरफ्तार किया था. इस दरम्यान शिंपी को कुछ समय के लिए निलंबित किया गया था उसके कुछ समय बाद तत्कालिन मनपा आयुक्त मनोहर हिरे इनके कार्यकाल में गणेश शिंपी इनकी सहाय्यक आयुक्त पद पर बहाली किया गया इस दरम्यान इनके कार्यकाल के दरम्यान बड़े पैमाने इनके प्रभाग में हुए है ,अभी शिंपी के पास सहाय्यक आयुक्त और अवैध बांधकाम निष्कासन प्रमुख पद भी दिया गया है. इनको पद संभालने के बाद पूरे शहर में अवैध निर्माण बनाने में बड़े पैमाने पर तेजी आई है. यहा देखने वाली बात यह है कि महाराष्ट्र शासन निर्णय क्र निप्रआ -1111/प्र क्र 86 / 11 -अ  प्रमाण के अनुसार जिस भी शासकीय अधिकारी / कर्मचारी विरुद्ध बेहिसाब संपत्ती प्रॉपर्टी, नैतिक अधःपतन, रिश्वतखोरी ,हत्या,या हत्या का प्रयास , बलात्कार ऐसे गंभीर मामले किसी पर भी फौजदारी मामले दर्ज हुए है और उन्हों इसकी वजह से निलंबित किया गया है और खटला / अपील / विभागीय चौकशी प्रलंबित होने के दरम्यान उसको पुनस्थापित करने निर्णय हुआ है तो ऐसे में ऐसे मामले के अधिकारी कर्मचारी को ऐसा पद दिया जाय जहाँ पर अधिकारी का पब्लिक से जनसंपर्क या रिश्वत लेने की संभावना न बने ऐसे पदपर नियुक्ती दी जाय ऐसा महाराष्ट्र के जीआर में स्पष्ट लिखा है. ऐसे में मनपा के द्वारा ऐसे अधिकारी को मलाईदार पोस्ट देकर क्या साबित करना चाहती या इसके पीछे की मंशा भ्र्ष्टाचार को बढ़ावा देने का तो नही है क्यो       गणेश शिंपी जिनकी मनपा में स्टेनोग्राफर इस पदपर नियुक्ती किया गया था यह पद एकांकी था इस पद पर काम करने वाले ब्यक्ति को दूसरा कोई पद कानून के हिसाब से नही दिया जा सकता है, ऐसे में अपने पद का इस्तेमाल कर रिश्वत लेते हुए रंगेहात पकड़ा गया है उसे शासन के जीआर के नियमो को ताख पर रखकर ऐसा मलाईदार पद देने की पीछे के कारण क्या है ! इनके प्रभाग अधिकारी पद पर बैठने के बाद से अवैध निर्माण का बड़े पैमाने से इतना स्पष्ट है कि रिश्वत का खेल कैसे हुआ है क्यो किसी काम पर कार्यवाई हुई भी तो फिर दूसरे दिन बनकर खड़े हो गए है . शिंपी का मामला न्यायलय में चल रहा है फिर कर्मचारियों की प्रमोशन यादि में इसका उल्लेख ही नही किया गया यह दर्शाता है कही क्लीन चिट देने का षणयंत्र नही किया गया है . जब से इसको अवैध बांधकाम विभाग प्रमुख पद का प्रभारिचार्ज दिया गया तभी से पूरे शहर में अनगिन अवैध निर्माण बनाये जा रहे है अब उन्ही अवैध निर्माणकर्ताओ से अपनी पोस्ट बचाने के नाम पर दुगुनी वसूली शुरू किया है,विश्वसनीय सूत्रों से में मिली जानकारी के अनुसार अपने पद को बचाने के लिए यह मंत्रालय से लेकर मनपा के अधिकारीयो को मोटी रकम देकर अपनी बदली रुकवाने का जुआड निकाला है ऐसा सामने आ रहा है ! उमपा आयुक्त हांगे इस रिश्वतखोर पर आखिरकार कब कार्यवाई करते उस पर पूरे शहरवासियों की नजर टिकी हुई है !
  • 5 हजार की रिश्वत लेते आरोग्य अधिकारी हुआ गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    5 हजार की रिश्वत लेते आरोग्य अधिकारी हुआ गिरफ्तार ! 

    मनचाहा पोस्ट देने के लिए अपने कर्मचारी ले रहा था रिश्वत ! 

    कल्याण -कल्याण डोंबिवली महानगर पालिका का एक और रिश्वतखोर हुआ गिरफ्तार ! केडीएमसी के आरोग्य अधिकारी अपने ही कर्मचारी से रिश्व्त लेने के मामले में एंटीकरप्शन विभाग ने गिरफ्तार किया है कल्याण पूर्व के जे 4 वार्ड में वरिष्ठ आरोग्य निरीक्षक के पद पर कार्यरत मोहन राजाराम दिघे को ने ५ हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है ।
     पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार जे 4 वार्ड के वरिष्ठ आरोग्य निरीक्षक मोहन दिघे ने मनपा के शिकायतकर्ता को नोकरी मनचाहा जगह के अनुसार विभाग में लगाने के कारणों के लिए दस हजार रुपये की मांग की थी इसकी शिकायत विनोद वाघेला ने ठाणे के एंटीकरप्शन विभाग से शिकायत किया उसी शिकायत पर ठाणे एंटीकरप्शन ने जाल बिछाया आज रिश्वत की पहली किस्त के 5 हजार रुपये लेते हुए मोहन दिघे को रंगे हाथों गिरफ्तार किया है इस मामले की आगे की जांच ठाणे एंटीकरप्शन के पुलीस उप अधीक्षक अंकुश बांगर के द्वारा किया जा रहा है ।
  • जनता के बगैर शामिल हुए स्वच्छता मिशन सफल होना संभव नही - अच्युत हांगे

    By fast headline india →
    जनता के बगैर शामिल हुए स्वच्छता मिशन सफल होना संभव नही - अच्युत हांगे 

    ब्यापारियों को प्रेम पत्र देकर बुलाने का किया निवेदन-मनपा आयुक्त

     उल्हासनगर -उल्हासनगर के शहीद अरुण कुमार वैद्य सभागृह में स्वच्छता अभियान विषय को लेकर महानगरपालिका के द्वारा जनजागृती करने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था . लेकिन इस कार्यक्रम में सामाजिक संघटना व व्यापारी संघटना इन्होंने अपनी अनुपस्थिति रही है . कोई भी शासकीय योजना सफल करने के लिए जनता के बिना उपस्थिती उसे सफल करना संभव नही है अगर उनके पास टाइम नही तो या व्यापारी संगठनाओ के पास समय नही है तो मै खुद इनके दरवाजे तक जाऊंगा ऐसा मनपा आयुक्त अच्युत हांगे इन्होंने अपने दिए संभाषण के दौरान ब्यक्त किया था .
    जनता के बिना उपस्थिती के स्वच्छता स्वच्छ सर्वेक्षण २०१९ इस विषय पर मनपा प्रशासन के द्वारा जनजागृत करने का कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. महानगर पालिका के सफाई कर्मचारी तो अपना कर्तव्य का पालन करते हुए शहर को स्वच्छ रखने का प्रयत्न करते है .परंतु शहर को स्वच्छ रखने जिम्मेदारी उनकी ही नही बल्कि पूरे शहरवासीयो का  कर्तव्य है . शिक्षको अपने विद्यार्थीयो के पढ़ाई के साथ स्वच्छता के महत्व की भी जानकारी दी जानी चाहिए.यह मेरा शहर है अगर हम अपना घर साफ रखते है तो हमें अपना शहर भी स्वच्छ रखने का कर्तव्य पालन भी करना चाहिए यही सभी कर्तब्य भी है .ऐसा मनपा आयुक्त अच्युत हांगे इन्होंने उपस्थित लोगों दिए गए अपने संबोधन के दौरान कही है.इस कार्यक्रम में महापौर पंचम कलानी, सभागृह नेता जमनू पुरसवानी,  नगरसेवक राजेश वधारिया, नगरसेविका अंजली सालवे, प्रकाश माखिजा  राधाकृष्ण साठे मुख्य स्वच्छता निरीक्षक विनोद केनी,बैद्यकीय अधिकारी राजा रिज्वानी इत्यादि मान्यवर उपस्थित थे.