• ठगी के शिकार युवक ने ही की ठग की जासूसी !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    ठगी के शिकार युवक ने ही की ठग की जासूसी ! 

    फिर भिजवाया ठग को जेल !

     कल्याण-कल्याण अपना कैब बिजनेस शुरू करने के इच्छुक लोगों के साथ ठगी करने के आरोपी को पिछले हफ्ते गिरफ्तार कर लिया गया है। खास बात यह है कि आरोपी को पकड़वाने में उसके द्वारा ठगे गए एक पीड़ित की सूझबूझ से की गई जासूसी काम आई है।
     कल्याण निवासी अर्पित कपूर (29) के साथ कुछ समय पहले 1 लाख रुपये की ठगी हुई थी, उसने पहले पुलिस को अप्रोच किया लेकिन आरोपी रोहित गायकवाड़ के खिलाफ कार्रवाई करने में कोई फुर्ती न दिखाने पर अर्पित ने खुद ही अपनी तफ्तीश करनी शुरू कर दी। रोहित द्वारा ठगे गए दूसरे पीड़ितों की पहचान करने के साथ ही फेक क्लाइंट को गायकवाड़ के पास भेजकर कच्चा चिट्ठा खुलकर सामने आ गया।  दरअसल पॉप्युलैरिटी की वजह से कैब बुकिंग ऐप्स बिजनस मॉडल को बढ़ावा दे रही हैं जिसके तहत लोग कार खरीदकर उसे टूरिस्ट वीइकल के रूप में रजिस्टर कराकर ड्राइवर को किराये पर रख सकते हैं। गायकवाड़ लोगों को गाड़ी खरीदने और ड्राइवर हायर करने के लिए कम ब्याज वाले लोन को हासिल कराने की बात कहकर ठगी करता था। वह कस्टमर से पैसा लेकर फरार हो जाता था।कल्याण के महात्मा फूले पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर अर्जुन पांडव ने बताया, 'हमने गायकवाड़ को गिरफ्त में लेकर उसके खिलाफ धोखाधड़ी, अज्ञात संचार के जरिए आपराधिक धमकी और दूसरे मामले दर्ज किए हैं।' उन्होंने बताया कि गायकवाड़ के खिलाफ पहले से ही दूसरों के साथ धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। हम जल्द ही उन्हें मुंबई पुलिस को सौंप देंगे। अर्पित एक सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन असिस्टेंट के रूप में वर्ली के एक फर्म में काम करते हैं। कुछ समय पहले उन्होंने कैब बिजनस शुरू करने का विचार किया और गाड़ी खरीदने व ड्राइवर किराये पर रखने के लिए ऑनलाइन जानकारी की। अर्पित ने बताया कि गायकवाड़ ने कई वेबसाइट्स पर बॉम्बे ड्राइवर सर्विस और अपोलो ड्राइवर सर्विस नाम से ऐड पोस्ट किए थे। उससे संपर्क करने पर गायकवाड़ ने बताया कि वह ड्राइवर ढूंढने के अलावा कम ब्याज दरों में लोन भी दिला सकता है।  अर्पित ने आगे कहा, ' इसके बाद उन्होंने मुझसे 1.35 लाख प्राइमरी पेमेंट लेने की बात कही लेकिन मैंने उसे 1.08 लाख रुपये ही दिए। इसके बाद उसने अचानक फोन उठाने बंद कर दिया। पुलिस से शिकायत करने पर उसने पैसे लौटाने का वादा किया लेकिन हर बार वह टाल देता था। इसके बाद मैंने उन विक्टिम्स से मुलाकात की और फ्रॉड एजेंसी नाम से वॉट्सऐप ग्रुप बनाकर गायकवाड़ के षडयंत्रों का खुलासा किया। 
  • No Comment to " ठगी के शिकार युवक ने ही की ठग की जासूसी ! "