• बिल्डर का षणयंत्र या महिला है ब्लैकमेलर ? पुलिस की जांच में खुलेंगे पत्ते !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    बिल्डर को ब्लैकमेल करने वाली महिला बीस लाख हप्ता लेते गिरफ्तार ! 

    बिल्डर का षणयंत्र या महिला है ब्लैकमेलर ? पुलिस की जांच में खुलेंगे पत्ते !


     कल्याण-कल्याण के प्रसिद्ध बिल्डर  को ब्लैकमेल करके करीब २० लाख रुपए की हफ्ता मांगने वाली महिला को कल्याण पश्चिम कि एक होटल से  हफ्ता विरोधी पथक (एंटी एक्‍स्‍टॉर्शन सेल)  ने जाल बिछाकर ब्लैकमेलर महिला को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है ! महिला का नाम  सुषमा दाते बताया  गया है !
    मिली जानकारी के अनुसार कल्याण के प्रसिद्ध बिल्डर मिलिंद कुलकर्णी का कल्याण पश्चिम में कार्यालय है कार्यालय में १४ साल पहले ब्लैकमेलर सुषमा नौकरी किया करती थी अगस्त २०१७ में ब्लैकमेलर सुषमा ने ऑफिस के फोन पर कुलकर्णी को धमकी देना शुरू किया कि “आपका मेरे पास ऑडियो क्लिप है यह क्लिप आपके परिवार को दिखाकर आपकी बदनामी करूंगी बार-बार इस तरह की कुलकर्णी धमकी देने पर बिल्डर नेसुषमा को समझाया कि वह उनकी बदनामी न करे . इसके लिए ब्लैकमेलर को ११ लाख रूपये भी दिए.सुषमा उसके बाद फिर से बिल्डर को उन पर बलात्कार का झूठा मामला दर्ज कराने की धमकी देती रही .जिसमें ४० लाख रुपए की ब्लैकमेलर ने मांग की .नही दिए तो याद रखो कि मेरी बहन पुलिस में भी है .इस तरह का की धमकी ब्लैकमेलर बिल्डर को देती रही. उसके अनुसार ४० लाख का  रुपए पहला हफ्ता देना तय हुआ. इस हफ्ते को लेने के लिए आज शाम ४ बजे के दौरान हफ्ता विरोधी पथक (एंटी एक्‍स्‍टॉर्शन सेल) के पुलिस निरीक्षक श्री ढोले ,सहायक पुलिस निरीक्षक विलास खेडेकर महात्मा फुले पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक प्रकाश लोंडे सहित महिला पुलिस कर्मचारी पथक ने मिलकर एक जाल बिछाया. यह जाल कल्याण के मुरबाड रोड स्थित एक होटल में कुलकर्णी से से २० लाख रुपए की नकदी लेते हुए सुषमा को रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है.इसके पीछे की सच्चाई पुलिस के जांच के बाद सही तरीके से सामने आएगा क्योकि इसमें इस बात से भी नकारा नही जा सकता बिल्डर महिला को केश न करने के लिए पैसा देने को हप्ता लेने का मामला बनाकर महिला को फंसाया हो ? बहरहाल पुलिस की निष्पक्ष जांच से ही कहानी की सही सच्चाई सामने आने वाले समय आने की संभावनाए है !
  • No Comment to " बिल्डर का षणयंत्र या महिला है ब्लैकमेलर ? पुलिस की जांच में खुलेंगे पत्ते ! "