• नौकरी के लिए अभी भी डटे हैं प्रदर्शनकारी ! मुंबई में रेल सेवा बहाल !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    मुंबई में रेल सेवा बहाल !

    नौकरी के लिए अभी भी डटे हैं प्रदर्शनकारी !

      मुंबई-मुंबई में छात्रों का नौकरी को लेकर किया जा रहा प्रदर्शन खत्म हो गया है। ट्रेनों की पटरियों को खाली करवाया जा रहा है। प्रदर्शन की वजह से करीब 4 घंटे रेलवे का यातायात प्रभावित हुआ। कुछ स्थानों पर छात्र अभी भी मौजूद हैं। दादर से माटूंगा रेल सेवा बहाल कर दी गई है। मुंबई में छात्रों ने रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर प्रदर्शन शुरू किया था। छात्रों को पता था कि लोकल ट्रेन मुंबई की जान है और वहां की जिंदगी की रफ्तार है, इसलिए उसने अपने विरोध के लिए इसी को निशाना बनाया था।
    प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने माटुंगा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनिल रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया था। प्रदर्शनकारियों को कांग्रेस और एमएनएस का समर्थन मिला था।  छात्र रेलवे पटरियों पर बैठ गए थे और अपनी मांगों पर अड़े हुए थे। ट्रेनों के आवागमन बाधित हो रहा था और आम-जनजीवन प्रभावित हो रहा था। ऑफिस टाइम होने और सीएसटी-माटुंगा की लाइन पर ज्यादा ट्रैफिक होने से लोगों को भी परेशानी हो रही थी। लोकल ट्रेनों के साथ ही लंबी दूरी के ट्रेनें भी प्रदर्शन के कारण देर हो रही थी। छात्रों को रेल पटरियों से हटाने के लिए पुलिस मौके पर पहुंची थी। मध्य रेलवे के एक अधिकारी ने बताया था कि छात्रों ने आज सुबह करीब सात बजे रेल पटरी को जाम कर दिया जिससे माटुंगा और सीएसएमटी के बीच उपनगरीय के साथ- साथ एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन भी प्रभावित हुआ।अधिकारी ने बताया कि माटुंगा और सीएसएमटी के बीच सभी चार लाइनें प्रभावित हैं। पुलिस और रेलवे अधिकारी छात्रों के साथ बातचीत कर रहे हैं।प्रदर्शन के बाद सेंट्रल लाइन पर करीब 30 ट्रेनें रद्द हो गई थी। रेलवे की ओर से यात्रियों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया था। (हेल्पलाइन नंबर - 23004000) प्रदर्शन के असर को देखते हुए कुर्ला इलाके में बेस्ट की अतिरिक्त बसें चलाई गई थी ताकि यात्रियों को अधिक परेशानियों का सामना ना करना पड़े। प्रर्दशन को देखते हुए सेंट्रल रेलवे भी एक्टिव हो गया था। ट्विटर के जरिए ताजा रूट की जानकारियां दी जा रही थीं।जानकारी के मुताबिक प्रशासन को चक्का जाम को लेकर बिल्कुल भी अंदेशा नहीं था। सुबह पीक आवर होने की वजह से लाखों यात्री अलग-अलग स्टेशनों पर फंसे हुए थे। यात्रियों को जब पता चला कि ट्रेन रूट को जाम कर दिया गया है तो यात्री बस और कैब के लिए सड़कों की तरफ भागे, जिसकी वजह से रोड ट्रैफिक का हाल बहुत बुरा हो गया है। सड़कों पर वाहन रेंगती नजर आ रही थी। प्रदर्शन कर रहे एक छात्र ने कहा था कि, ‘पिछले चार साल से कोई भर्ती नहीं हुई है। हम एक जगह से दूसरी जगह लगातार संघर्ष कर रहे हैं। 10 से अधिक छात्र आत्महत्या कर चुके हैं। हम ऐसा होने नहीं दे सकते। एक अन्य छात्र ने कहा, ‘हम यहां से तब तक नहीं हटेंगे जब तक रेल मंत्री पीयूष गोयल हमसे आकर नहीं मिलते। डीआरएम ( मुंबई डिविजन के मंडल रेल प्रबंधक) से किए हमारे सभी अनुरोध अनसुने रहे हैं।’ पुलिस की कोशिश थी कि जल्दी से जल्दी रेलवे ट्रैक को खाली करवा लिया जाए वर्ना मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। बता दें कि प्रदर्शनकारी छात्रों की मांग थी कि 20 फीसदी कोटा को हटा दिया जाए और स्थायी नौकरी दे दी जाए।खबरों की मानें तो ये अप्रेंटिस स्टूडेंट सालों तक काम कर चुके हैं लेकिन इन्हें नौकरी नहीं मिल पा रही है।

    Subjects:

  • No Comment to " नौकरी के लिए अभी भी डटे हैं प्रदर्शनकारी ! मुंबई में रेल सेवा बहाल ! "