• स्थाई समिति सभापति लुंड की बदौलत पानी बिल बकायेदारों को मिली अभय योजना !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    स्थाई समिति सभापति लुंड की बदौलत पानी बिल बकायेदारों को मिली अभय योजना !

    1 अप्रैल से मई की आखिरी तारीख तक चलेगी यह अभय योजना !

    उल्हासनगर -उल्हासनगर के तत्कालीन आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इन्होंने मंजूर किये उल्हासनगर पानी के बकाये बिल पर अभय योजना 1 अप्रैल से शुरू हो गई है. अप्रैल की आखिरी तारीख तक पूरे बकाये बिल पर 100 प्रतिसत व्याज व लेट फीस शुल्क की माफी मिलने वाली है .मई महिने के पहले 15 दिन 50 टक्के और आखिरी के 15 दिन 25 टक्के माफी दिया जाएगा .
    जिस तरह से बकाये मालमता कर से वसुली के लिए अभय योजना लगाकर ब्याज की रकम में छूट दिया गया था , उसी की तर्ज पर पानी के बकाये बिलपर यह अभय योजना लागू करने का प्रस्ताव सूचना स्थायी समिती सभापती कांचन लुंड व अनुमोदक के रूप में शिवसेना नगरसेवक सुनिल सुर्वे,साई पार्टी नगरसेवक शेरी लुंड इन्होंने इसकी मांग महासभा में प्रस्तुत किया था. उस मांग पर विचार करते हुए तत्कालीन आयुक्त राजेंद्र निंबाळकर इन्होंने इसे लागू करने की अनुमति दी थी .जिसके बाद निंबाळकर इनकी पूना में बदली हो गई और उनकी जगह पर नए आयुक्त का पदभार लिया गणेश पाटील इन्होंने 1 अप्रैल से पानी बिल के बकाये बिल की वसूली के लिए अभय योजना सुरू किया है ऐसी जानकारी शेरी लुंड इन्होंने दिया है. रेसिंडेन्सी पर 17 तो कमर्शियलपर 175 करोड़ का बिल बाकी है पानी बिल की एक चौकाने वाले आंकड़े सामने आया जिसके बाद बकाये बिल के आकड़ो पर भी सवाल उठना लाजमी है . उल्हासनगर में कुल नल की संख्या 45 हजार 28 रेसिंडेन्स कनेक्शन है इसमें से 26 हजार 163 शहरवासियों पर 17 करोड़ का बिल बाकी है . कमर्शियल के 3 हजार 125 कनेक्शन है जिसमें से 1 हजार 731 ब्यापारियों पर कुल 175 करोड़ 60 लाख रुपये का बिल बकाया है . बता दे कि मालमत्ता कर बकायेदारों लोगो पर कार्यवाई करके उनकी प्रापर्टी जप्त किया जाता है परंतु कमर्शियल पानी बिल बकायेदारों पर के 175 करोड़ रुपये वसूलने कोई ठोस कदम न उठाकर पाणी पुरवठा विभाग नींद में क्यों सोया हुआ है यह एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है . बहरहाल लुंड परिवार के चलते शहरवासियों को एक अच्छा मौका मिला है और इसका फायदा लोगो उठाना चाहिए !
  • No Comment to " स्थाई समिति सभापति लुंड की बदौलत पानी बिल बकायेदारों को मिली अभय योजना ! "