• महापौर पद की खींचतान का असर पड़ेगा नौ समिती के चुनाव पर ! महापौर पद में रोड़ा बनी पार्टी की चाल का जवाब देगी टीओके ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    महापौर पद की खींचतान का असर पड़ेगा नौ समिती के चुनाव पर !

    महापौर पद में रोड़ा बनी पार्टी की चाल का जवाब देगी टीओके ?

    हंगामेदार  महासभा होने के आसार !

    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगरपालिका के महापौर पद को लेकर टीओके व भाजपा में लंबे समय से उठापटक की राजनीति शुरू है अभी उमपा की महापौर मीना आयलानी द्वारा अब तक इस्तीफा नही देने की वजह से सत्ताधारियों में मतभेद बढ़ता जा रहा है।मीना आयलानी महापौर पद से इस्तीफा नही दे इसके लिए साईपक्ष प्रमुख जीवन इदनानी अपनी चाल पहले ही चल दिया है, ऐसे में उनको इसका खामियाजा नौ विशेष समितियों के चुनाव में सत्तापक्ष को उठाना पड़ सकता है,समितियों को लेकर अब तक सस्पेंस बरकरार है,टीओके प्रमुख ओमी कालानी अपने नगरसेवकों से साईपक्ष के उम्मीदवारों को वोट करवाते है या नही इस पर सभी की निगाहें टिकी हुई है। वही हालात को देखते हुए साई पार्टी व सत्तापक्ष के सभाग्रह नेता जमनु पुरस्वनी ने अपने अपने नगरसेवकों "व्हिप" जारी कर दिया है।      
     गौर तलब हो कि महापौर का सवा वर्षीय कार्यकाल पूर्ण हो चुका है बावजूद मीना आयलानी साईपक्ष प्रमुख जीवन इदनानी के कहने पर इस्तीफा देने में आनाकानी कर रही है।जब कि कुछ दिनों पहले सभाग्रह नेता जमनु पुरस्वनी,प्रकाश माखीजा,डॉ. प्रकाश नाथानी,अर्चना कर्णकाले ने एक प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर स्पस्ट किया था कि नैतिकता के आधार पर सशर्त अनुशार मीना आयलानी को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए परन्तु सूत्र बताते है कि उप महापौर जीवन इदनानी पंचम कालानी के महापौर बनने में सबसे बड़ा रोडा बन रहे है,इदनानी नही चाहते कि पंचम कालानी महापौर बने इसलिए वह राज्य मंत्री से मिलकर चाल पर चाल चल रहे है।             साईपक्ष प्रमुख के इसी चाल के चलते अब टीओके प्रमुख ओमी कालानी सत्तापक्ष के लोगो को टशन देना शुरू कर दिए है।चार दिन पहले मैन्युफैक्चर एसोसियेसन के अध्यक्ष पित्तु राजवानी के बर्थडे प्रोग्राम में शिवसेना शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी व रिपाई शहर अध्यक्ष भगवान भालेराव की मौजूदगी सत्ता धारियों के लिए कही न कही नींद हराम कर दिया है ।सूत्र बताते है कि ओमी कालानी के नगरसेवक साईपक्ष के चारो उम्मीदवारों के विपरीत मतदान करने पूरी तैयारी करके साई पार्टी को सबक देने के मुंड में दिख रहे है। बहरहाल दोनो पार्टियों ने इसी बगावत को ध्यान में रखते हुए व्हिप जारी करके बगावत की चिंगारी को दबाने की कोशिश कर रहे है, अब सवाल यह है टीओके के लोग जो कमल के फूल पर चुनाव जीत कर आये है वो व्हिप को मानते है या ओमी कलानी के कहे अनुसार चलते है यह तो कल होने वाले नव समितियों के चुनाव होने के बाद ही पता चलेगा कुल मिलाकर यह चुनाव रोचक व हंगामे दार होने वाला है इतना पक्का है !
  • No Comment to " महापौर पद की खींचतान का असर पड़ेगा नौ समिती के चुनाव पर ! महापौर पद में रोड़ा बनी पार्टी की चाल का जवाब देगी टीओके ? "