• म्हारल गाव को उल्हासनगर पुलिस ठाणे हद में समावेश करने की आस्था फाऊंडेशन ने किया मुख्यमंत्री से मांग !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    म्हारल गाव को उल्हासनगर पुलिस ठाणे हद में समावेश करने की आस्था फाऊंडेशन ने किया मुख्यमंत्री से मांग ! 
    फाइल फोटो

     उल्हासनगर- उल्हासनगर शहर से लगे म्हारल गाव है इस गांव को लोकसंख्या बड़े पैमाने पर बढ़ रही जिसके चलते गांव का शहरीकरण हुआ है परंतु इस गाव से बारा किलो मीटर दूर टिटवाळा पुलिस ठाणे की हद होने की वजह से अगर कोई वारदात गांव में होती है तो पुलिस तुरन्त घटना स्थल पर पहुँच नही पाती है,इस लिए म्हारल गांव की आस्था फाऊंडेशन ने टिटवाळा पुलिस ठाणे की हद से निकालकर उल्हासनगर पुलिस स्टेशन की हद में समावेश करने की मांग महाराष्ट्र राज्य के मुख्यमंन्त्री को एक निवेदन देकर मांग किया है .    
    गौरतलब हो कि  म्हारल गाव की आबादी पिछले कुछ समय में बढ़ी तेजी से बढ़ी है जिसके चलते गांव का शहरीकरण हो चुका है. इसके चलते म्हारल गांव की सुरक्षा का प्रश्न निर्माण हुआ है . म्हारल गांव से दूर १२ किलोमीटर पर कल्याण तहसील के टिटवाला पुलिस स्टेशन में कुछ भी होता है तो उसके लिए न्याय मिलने के लिए इतनी लंबी दूरी तयकर जाना पड़ता है.यही नही कोई बड़ी वारदात गांव में होती है तो समय पर पुलिस नही पहुँच पाती है. बता दे कि गांव में एक पुलिस चौकी है जिसमें दो पुलिस कर्मी तैनात है.म्हारल गांव का बड़ा क्षेत्रफल पर दो पुलिस कर्मियों द्वारा नजर रख पाना संभव नही है यही कारण है इस एरिया में गुंडा गर्दी व चोरी चकारी के मामलों में बेतहाशा बढोत्तरी बड़े पैमाने पर हो रहा है .इस लिए ऐसे कार्यो पर लगाम लगाने के लिए जरूरी है कि उल्हासनगर पुलिस स्टेशन थाणे जो पास में है उसमें समावेश किया जाय ताकि कोई भी घटना हो तो पुलिस तुरंत घटना स्थल पर पहुचकर अपराधियों पर लगाम लगा सके इस लिए जरूरी है कि म्हारळ गाव के लोगो को न्याय देते हुए बिना समय गवाए उल्हासनगर पुलिस स्टेशन ठाणे की हद में समावेश किये जाने की मांग आस्था फाऊंडेशन के अध्यक्ष श्यामबहादुर रामराज गुप्ता, संदिप निकम,संजुलाल जाधव इन्होंने एक निवेदन देकर राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से ग्रामवासियों को न्याय देने की मांग किया है . 
  • No Comment to " म्हारल गाव को उल्हासनगर पुलिस ठाणे हद में समावेश करने की आस्था फाऊंडेशन ने किया मुख्यमंत्री से मांग ! "