• अवैध बांधकाम ठेकेदारों को दे रहे रिश्वतखोर सहायक आयुक्त संरक्षण ? शहर में खुलेआम बन रहे अवैध निर्माण !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    अवैध बांधकाम ठेकेदारों को दे रहे रिश्वतखोर सहायक आयुक्त संरक्षण ? 

    शहर में खुलेआम बन रहे अवैध निर्माण !

    मनपा आयुक्त को नही दिख रहा अवैध निर्माण !


    उल्हासनगर -उल्हासनगर एक अवैध बांधकाम व्यावसायिक से रिश्वत लेते रंगे हाथ गए गणेश शिंपी इस विवादित अधिकारी को मनपा आयुक्त गणेश पाटील इन्होंने अवैध बांधकाम विरोधी पथक प्रमुख की पद पर नियुक्त किया गया है. शिंपी की नियुक्ती होते ही शहर में बड़े पैमाने पर अवैध बांधकाम खुलेआम बनने सुरु हो गए है . इस मामले में एक समाज सेवक ने राज्यशासन से शिंपी के बारे में शिकायत भी किया है.    
    बता दे कि गणेश शिंपी जो कि कुछ सालों पहले रिश्वत लेते रंगेहात पकडे गए थे वह मामला अभी भी न्याय प्रविष्ट है इसके बादजूद मनपा के आयुक्त गणेश पाटील इन्होंने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए शिंपी को प्रभारी चार्ज देते हुए अवैध बांधकाम विरोधी पथक के प्रमुख पद दिया है इससे मनपा की कार्यप्रणाली भी संदेह घेरे में है. शिंपी के इस पद पर आते ही शहर में कई जगहों पर अवैध निर्माण जोरो पर शुरू है उसमें उल्हासनगर -1 के चेलाराम मार्केट,में आर,सी,सी,अवैध निर्माण तो दूसरा बॅरेक नं 335 में दो महले का अवैध कमर्शियल बांधकाम सुरू है , उल्हासनगर - 2 के टेलिफोन एक्सचेंज के पास की रोड़ पर उपमहापौर के निवास स्थान के पास एक अवैध आर सी सी अवैध बांधकाम सुरू है .  उल्हासनगर -2 के गोलमैदान के सामने के एफसी फूड के बगल में अवैध आर,सी,सी व्यावसायिक बिल्डिंग का निर्माण शुरू हुआ है. उल्हासनगर -3 के पवई चौक के पास  एक जिम सेंटर के बगल में , उल्हासनगर -4  के सतराम दास हॉस्पिटल के बगल , उल्हासनगर -4 के लाल चक्की चौक, भवानी स्वीट के पीछे, उल्हासनगर -5 में वजन माप कार्यालय के पास , उल्हानगरात - 5 के कैलास कॉलनी चौक में इन जगहों पर खुलेआम आम अवैध निर्माण को अंजाम दिया जा रहा है .इस विषय में एक समाज सेवक में राज्यशासन से गणेश शिंपी इनके बारे में लिखित शिकायत देकर कार्यवाई की मांग किया है कि इनका वार्ड ऑफिसर, अवैध बाधकांम विरोधी पथक विभाग प्रमुख से तुरंत हटाया जाय .       मनपा आयुक्त गणेश पाटील इन्होंने इस विषय में बात किया गया तो उन्होंने कहा कि मेरे से पहले वाले आयुक्त ने गणेश शिंपी को रिश्वत मामले के बाद उनको प्रभारी सहाय्यक आयुक्त पदभार दिया था, मैने तो केवल अवैध बांधकाम विभाग के प्रमुख का पदभार दिया है. वैसे शहर में किधर भी अवैध निर्माण हो रहा है ऐसा मुझे तो नही दिखा है ऐसा बोलते हुए उन्होंने गणेश शिंपी को क्लीन चिट दिया है . वही इस विषय मे अवैध बाधकांम विभाग प्रमुख ने कहा कि हमारी कार्यवाई अवैध निर्माण पर शुरू है अभी हाल ही में कुछ लोगो के विरुद्ध एमआरटीपी भी दर्ज किया गया है अभी गणेशोत्सव पंडाल की परमिशन के काम में बिजी है इससे फुर्सत मिलते ही अवैध बांधकामो पर कार्यवाई किया जाएगा ऐसी प्रतिक्रिया गणेश शिंपी इन्होंने दिया है,बता दे कि उल्हासनगर में प्रचलित 855 की एक पीआइल हाई कोर्ट में डाली गई थी उसी की सुनवाई करते समय 2005 में हाई कोर्ट ने आदेश दिया था इसके बाद उल्हासनगर में एक भी अवैध निर्माण नही होना चाहिए,परंतु उस आदेश को ठेंगा दिखाकर इस शहर में आज खुलेआम अवैध निर्माण को अंजाम दिया जा रहा यह देखा जा रहा है,      
  • No Comment to " अवैध बांधकाम ठेकेदारों को दे रहे रिश्वतखोर सहायक आयुक्त संरक्षण ? शहर में खुलेआम बन रहे अवैध निर्माण ! "