• हिलाइन सीनियर पी,आई का असिस्टेंट एंटीकरप्शन विभाग के अधिकारियों को धक्का देकर हुआ फरार !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    हिलाइन सीनियर पी,आई का असिस्टेंट एंटीकरप्शन विभाग के अधिकारियों को धक्का देकर हुआ फरार ! 

    भंगार ब्यवसाई से ले रहा था 50 हजार की रिश्वत !

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में पुलिस को देख कर चोर को भागते आपने सुना और देखा होगा,लेकिन पुलिस को देखकर उनके डर से पुलिस को फरार होते पहली बार देखा और सुना होगा।यह कोई चौकाने वाली बात नही है।कल दोपहर एक 24 वर्षीय भंगार व्यवसाई से 50 हजार रुपये जैसे ही सीनियर पीआय के कलेक्टर पदमाकर आसावले ने बतौर रिश्वत ली वैसे ही एंटिकरपसन (लाच-लुचपत विभाग) ठाणे ने आसावले को पकड़ने की कोशिश की परंतु वह पुलिस अधिकारियों को धक्का देकर 50 हजार रुपये लेकर मोटर साईकिल पर फरार हो गया।बहरहाल फरार पुलिस कर्मी के खिलाफ लाच-लुचपत विभाग ने मामला दर्ज कर लिया है।
    सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आसावले सीनियर पीआय घनश्याम पलांगे का कलेक्टर है इसलिए उनपर भी लाच-लुचपत विभाव के पुलिस उप अधीक्षक पाटिल के बिछाए जाल का बवंडर मंडराने लगा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कैम्प -5 में एक 24 वर्षीय भंगार व्यवसाई की अधकृत भंगार की दुकान है,दरमाहा स्थानीय पुलिस को रिश्वत नही देने की वजह से आये-दिन हिल लाइन पुलिस का कोई न कोई पुलिस कर्मी भंगार व्यवसाई का माल से भरा लोडिंग ट्रक पकड़ लेता था और भंगार वय साई को 500-1000 देकर गाड़ी छुड़वाना पड़ता था।जिसके वजह से भंगार व्यवसाई परेशान हो गया था।सूत्रों के मुताबिक रोज-रोज स्थानीय पुलिस की तकलीफ न हो इसलिए वह सीनियर पीआय घनश्याम पलांगे से मिला तब पलांगे ने भंगार व्यवसाई को अपने कालेकर पदमाकर आसावले से मिलने को कहा ।सीनियर पीआय के कहने पर भंगार व्यवसाई ने आसावले से मुलाकात की तब आसावले ने कहा कि यदि भंगार का धंधा करना है तो 80 हजार रुपये हर माह बतौर सेक्शन बांधना पड़ेगा। आसावले की बात सुनकर दंग हुए भंगार व्यवसाई ने सोचने के लिए एक दो दिन का समय मांगा और 15 तारीख को इसकी शिकायत ठाणे लाच-लुचपत विभाग के अधिकारियों से की।तब एंटिकरपसन अधिकारियों ने भंगार व्यवसाई को उसके और रिश्वत मांगने वाले रिश्वत खोर पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों का रिकार्डिंग कंवर्सेसन रिकार्ड करने को कहा।लाच-लुचपत विभाग के आदेश पर भंगार व्यवसाई ने आसावले की बातों को रिकार्ड करना शुरू कर दिया और उक्त रिकार्डिंग में कई बार आसावले ने सीनियर पीआय का जिक्र किया था। पिछले दस दिनों तक प्रत्यक्ष व मोबाइल फोन पर बात करने के बाद आसावले व भंगार व्यवसाई के बीच 50 हजार रुपये प्रतिमाह देने की डील तय हो गयी।सीनियर पीआय के कलेक्टर आसावले के साथ तय डील की सारी दास्तां भंगार व्यवसाई ने लाच-लुचपत विभाग के अधीक्षक को बताया।तब अधीक्षक के आदेश पर उप अधीक्षक पाटिल ने मातहत पुलिस कर्मियों के साथ कल दोपहर 1.30 बजे ज्योती इंटर प्राइजेस,, सह्याद्री नगर कैम्प-5 में जाल बिछाया।घटना स्थल पर मोटरसाइकिल पर पदमाकर आसावले (47) आया और बिना नीचे उतरे ही भंगार वाले से 50 हजार रुपये लिए। जैसे ही आसावले ने पैसा लिया वैसे ही लाच-लुचपत विभाग के अधिकारी उसे पकड़ने का प्रयास किया,परंतु पकड़े जाने के डर से घबराया आसावले ने आगे बढ़े पुलिस कर्मियों पर बाइक चढ़ाने का हुल दिया और उन्हें धक्का देते हुए पैसा लेकर फरार हो गया।देर रात तक इस घटना को लेकर लाच-लुचपत विभाग के अधिकारी हिल-लाइन पुलिस स्टेशन में डेरा जमाये रखा और सीनियर पीआय घनश्याम पलांगे से भी कई सवाल जवाब किया।अब सवाल यह उठता है कि एक हवलदार इतनी बड़ी राशि खुद के लिए तो नही मांगेगा,बहरहाल लाच-लुचपत विभाग ने अब तक सिर्फ आसावले पर ही मामला दर्ज किया है जब कि सीनियर पीआय से हकीकत जानने के लिए तहकीकात में जुट गयी है।
  • No Comment to " हिलाइन सीनियर पी,आई का असिस्टेंट एंटीकरप्शन विभाग के अधिकारियों को धक्का देकर हुआ फरार ! "