• रिश्वतखोर शिंपी ने अपनी साख,बदली बचाने के लिए अवैध निर्माणों पर शुरू किया नाटकीय कार्यवाई !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    रिश्वतखोर शिंपी ने अपनी साख,बदली बचाने के लिए अवैध निर्माणों पर शुरू किया नाटकीय कार्यवाई ! 

     अपनी बदली बचाने के जुआड में हो रही अवैध बाँधकामो पर कार्यवाई ?

     ठेकेदारों के कोपभजन का शिकार बन सकते है रिश्वतखोर शिंपी ?   

    उल्हासनगर -उल्हासनगर एक अवैध बांधकाम व्यावसायिक से रिश्वत लेते रंगे हाथ गए गणेश शिंपी इस विवादित अधिकारी को तत्कालीन मनपा आयुक्त गणेश पाटील इन्होंने अवैध बांधकाम विरोधी पथक प्रमुख की पद पर नियुक्त किया गया है. शिंपी की नियुक्ती होते ही शहर में बड़े पैमाने पर अवैध बांधकाम खुलेआम बनने सुरु हो गए है. नए आयुक्त बने अच्चुत हांगे को मिल रहे अवैध बांधकाम की शिकायतो को ध्यान में रखते हुए रिश्वतखोर शिंपी को वन टू फाइव का चार्ज निकालने की तैयारी है उसी को बचाने की जुगत में रिश्वतखोर ने दिखावटी कार्यवाई करके अपने अवैध बाँधकाम निष्कासन विभाग की पोस्ट बचाने की जुआड में जुटा है इसी लिए दीपावली के बाद से नाटकीय कार्यवाई का ड्रामा चालू किया है !      
    बता दे कि गणेश शिंपी जो कि कुछ सालों पहले रिश्वत लेते रंगेहात पकडे गए थे उनका वह मामला अभी भी न्याय प्रविष्ट है इसके बायजूद मनपा के तत्कालीन आयुक्त गणेश पाटील इन्होंने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए शिंपी को प्रभारी चार्ज देते हुए अवैध बांधकाम विरोधी पथक के प्रमुख पद दिया है इससे मनपा की कार्यप्रणाली भी संदेह घेरे में आ गई थी. शिंपी के इस पद पर आते ही शहर भर में कई जगहों पर अवैध निर्माण जोरो पर शुरू है, और उनको संरक्षण देने के नाम पर लाखों की रिश्वत लेने का आरोप भी शिकायत कर्ताओ के द्वारा लगाया जा रहा है, वही नए आये मनपा आयुक्त अच्चुत हांगे को भी गणेश शिंपी के कारनामो का बहीखाता मिलना शुरू है यही कारण है कि मनपा प्रशासन इस रिश्वतखोर को उसकी असली जगह दिखाने का मन बना चुकी है, डीएमसी देयरक ने भी साफ संकेत दिया है कि जल्द ही वन टू फाइव का चार्ज किसी दूसरे अधिकारी को दिया जाएगा वह चार्ज शायद प्रभाग एक नम्बर के सहायक आयुक्त विजय मंगलानी को दिया जा सकता है क्यो जब से उनको प्रभाग एक का चार्ज मिला तब से उस प्रभाग में अवैध निर्माण पर बड़े पैमाने पर अंकुश लग गया है ! यह खबर आने के बाद से ही शिंपी अपनी बदली रुकवाने के जुआड में जुट गया है यही कारण है उसने डिएमसी ऑफिस के चक्कर लगा रहा है विश्वसनिय सूत्रों से मिली जानकारी की माने तो इस पद को बचाने के लिए डीएमसी को लाखों रुपये देकर अपनी बदली रुकवाने व नए आयुक्त को मैनेज करने की फिराक में जुटा हुआ है वही यह रिश्वतखोर यह भी कहते हुए सुना गया है पैसे से सब कुछ खरीदा व मैनेज किया जा सकता है मैने अवैध निर्माणों से इतना पैसा कमा लिया है ऐसे आयुक्त और डीएमसी को मैनेज करना मेरे बाए हाथ का खेल है ऐसा वह कई बार लोगो से चर्चा के दरम्यान बोल बचन दे चुका है, अब अगर बदली नही होता है इसका सीधा मतलब यह समझा जा सकता है मनपा अधिकारी को रिश्वतखोर ने मैनेज कर लिया है इस लिए मनपा प्रशासन को जरूरत है ऐसे भ्रष्ट्राचारी को उसकी सही जगह दिखाते हुए इसे इसके मूलपद स्टोनोग्राफर की पोस्ट भेजे ताकि इसका प्रशासन के प्रति देखने का सही नजरिया सामने आ सके ! बता दे कि कार्यवाई करने के बहाने अपनी साख बचाने में जुटे सिंपी को इसका बड़ा खामियाजा भी भुगतना पड़ सकता है क्योंकि जिन ठेकेदारों से मोटी रकम लेकर अवैध निर्माण बनने दिया अब उन्ही पर कार्यवाई कर रहे है कुछ ठेकेदार भी इसके खिलाफ बोलने लगे है अगर इनकी कार्यवाई की नोटकी बन्द नही हुआ निश्चित है इनको भी जल्द ठेकेदारों को कोप का भाजन का शिकार होना तय माना जाना है !
  • No Comment to " रिश्वतखोर शिंपी ने अपनी साख,बदली बचाने के लिए अवैध निर्माणों पर शुरू किया नाटकीय कार्यवाई ! "