Browsing "Older Posts"

  • पुलिस हवलदार की नीयत हुई खराब जप्त किये करोड़ो की विदेशी सिगरेट को चोरी करके बेच डाला !

    By fast headline india →
    पुलिस हवलदार की नीयत हुई खराब जप्त किये करोड़ो की विदेशी सिगरेट को चोरी करके बेच डाला ! 

    उसी पुलिस स्टेशन में दर्ज हुआ चोरी का मामला ! 

    कोर्ट ने सोमवार तक पुलिस रिमांड पर भेजा !

     विभागीय जांच में पुलिस स्टेशन के बड़े अधिकारी पर लटकी कार्यवाई तलवार ! 

    तस्करों से 2 करोड़ की पकड़ी गई थी विदेशी सिगरेट ! 

    पालघर- पालघर जिले के वसई - वालिव पुलिस स्टेशन के कुछ अधिकारियों की मिली भगत से पालघर जिले मे कुछ पुलिस वालों के द्वारा एक नायाब कारनामा करके पूरे पुलिस डिपार्टमेंट को शर्मसार करने वाली घटना को अंजाम देने का मामला सामने आया है. अपने ही पुलिस स्टेशन में ही चोरी की वारदात को अंजाम देकर करोड़ो रूपये की ब्रांडेड सिगरेट चोरी करने के मामले में वसई वालिव पुलिस स्टेशन का कॉन्स्टेबल शरीफ शेख को गिरफ्तार किया गया है जिन्हें शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया गया न्यायालय ने सोमवार तक पुलिस की रिमांड पर भेज दिया है. 
    पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार वसई वलिव पुलिस ने अपने ही पुलिस स्टेशन में तैनात एक पुलिस कांस्टेबल को चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया है।पुलिसकर्मी पर आरोप है कि उसने पुलिस के मुद्देमाल कक्ष में रखे गए 2 करोड़ 16 लाख की विदेशी ब्रांड की सिगरेट की चोरी कर उसे बेच दिया ।दरअसल वलिव पुलिस ने कुछ दिनों पहले एक कार्रवाई के दौरान विदेशी ब्रांड के सिगरेट की तस्करी करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया था और उनके पास से ये माल जप्त किया था।कांस्टेबल ने कुछ लोगो की मदत से उसे गायब कर बेच दिया। जब इस मामले खुलासा हुआ तो आरोपी कॉन्स्टेबल पर भारतीय दंड कानून सहित धारा ४०९ के तहत मामला दर्ज कर कांस्टेबल को गिरफ्तार कर लिया है।इस मामले में एक पुलिसकर्मी को सस्पेंड भी किया गया है और इस मामले में कई अधिकारी नपना तय है, जीन पर सक है उन सभी लोगो के खिलाफ विभागीय जांच चल रही हैं दोषी मिलने पर उनकी गिरफ्तारी भी तय है.इस मामले की वजह से पूरे पुलिस महकमे की बड़ी बदनामी भी हो रही है जब सिगरेट के लिए ऐसा हो सकता है यदि कीमती वस्तु पुलिस पकड़ती है तो उसके देखभाल को लेकर भी सवाल खड़ा होना लाजमी है !
  • उल्हासनगर और कल्याण एडोकेट संघटना के द्वारा शुरू है अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन !

    By fast headline india →
    उल्हासनगर और कल्याण एडोकेट संघटना के द्वारा शुरू है अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन !

    एडोकेट वासवानी के द्वारा पुलिस स्टेशन बुलाकर मारपीट करने का किया गया है आरोप !

    वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक के विरुद्ध लामबन्द हुए ज़िले के सभी एडोकेट !

     वासवानी द्वारा लगाया गया सारा आरोप ही झूठा है-वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुराडकर 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में हुई एडवोकेट सागर वासवानी को उनके पारिवारिक मामले में जांच पड़ताल व पुछताछ करने के लिए उल्हासनगर तीन के सेंट्रल पुलिस स्टेशन में बुलाया गया था, वहां उपस्थित वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुधाकर सूराडकर के द्वारा एडवोकेट वासवानी के साथ दुर्व्यवहार करते हुए मारपीट किया गया और उनके ख़िलाफ़ झूठी एफआईआर दर्ज की किया गया है, ऐसी शिकायत एडोकेट वासवानी द्वारा किये जाने के बाद उल्हासनगर तहसील वकील संघटना के द्वारा गुरुवार 12 सितम्बर से 13 सितम्बर को दोनों दिन कामबंद आंदोलन किया गया और चोपड़ा कोर्ट के सभी वकीलों ने समर्थन देते हुए अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन किया जाएगा जबतक पोलिस अधिकारी पर कार्रवाई नही की जाती तबतक आंदोलन चलेगा ऐसी जानकारी उल्हासनगर तहसील एडोकेट संघटना के अध्यक्ष छोटु पेन्थालिया द्वारा दी गयी है, उन्होंने कल्याण वकील संघटना का भी सहयोग मिलने की जानकारी दी है, बता दे कि इस विषय में महाराष्ट्र के विधानसभा सदस्य विधायक ओमप्रकाश कडू ने भी पुलिस उपायुक्त परिमण्डल 4 को पत्रव्यवहार करके पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग की है,     बहरहाल एडोकेट लोगो की पुलिस उपायुक्त व सहायक पुलिस आयुक्त के साथ मिलकर कार्यवाई करने को लेकर मुलाकात करके लिखित पत्र दिया गया है, उल्हासनगर व कल्याण एडोकेट संघटना ने कहा है कि जबतक वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक पर कार्रवाई नही किया जाता है तबतक यह अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन चलता रहेगा।
    वही इस विषय पर जब सेंट्रल पुलिस स्टेशन के सीनियर पीआई, सुधाकर सुराडकर से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि यह पूरा मामला झूठा है,यह उनका पारिवारिक मामला था इसी लिए हमने उनको टाइम दिया था कि आप लोग आपस बैठकर झगड़े को खत्म करलो,जब ऐसा नही हुआ तब पुलिस ने मामला दर्ज किया है,और जब वह पुलिस स्टेशन में आये थे तब सागर वासवानी ने पुलिस को यह भी नही बताए कि वह वकील है उनके द्वारा किए गए सारे आरोप झूठा है, जब पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार ही नही किया तो मारपीट होने का कोई सवाल ही नही है !
  • बप्पा के विसर्जन के दौरान 12 लोग डूबे !

    By fast headline india →
    गणपति बप्पा मोर्या अगले बरस तू जल्दी आ के जयघोष के साथ विदा हुए बप्पा,,,,

     विसर्जन के दौरान रत्नागिरी में तीन, नासिक, सिंधुदुर्ग, सतारा जिलों में दो-दो और धुले, बुलढाणा और भंडारा ज में एक-एक व्यक्ति की डूबने से हुई मौत !

     विसर्जन को लेकर पूरे शहर में 50,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात थे ! 

    मुंबई-मुंबई समेत महाराष्ट्र में गणेश उत्सव के अंतिम दिन गुरुवार को प्रतिमा विसर्जन के दौरान 12 लोगों की डूबने से मौत हो गई। गुरुवार को समूचे महाराष्ट्र में भगवान गणेश की प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया और इसके साथ ही 10 दिनों तक चलने वाला गणेश उत्सव ‘अनंत चतुर्दशी’ के अवसर पर संपन्न हो गया, लेकिन विसर्जन के दौरान लोगों के डूबने और लापता होने की घटनाओं ने कुछ जगहों पर माहौल को गमगीन कर दिया।
    पुलिस अधिकारियों ने बताया कि विसर्जन के दौरान रत्नागिरी जिले में तीन, नासिक, सिंधुदुर्ग, सतारा जिलों में दो-दो और धुले, बुलढाणा और भंडारा जिलों में एक-एक व्यक्ति की डूबने से मौत हो गई। इसके अलावा विसर्जन के लिए गए करीब छह अन्य लोग लापता हैं और उनके भी डूबने की आशंका है।गणेश चतुर्थी के साथ 2 सितंबर को गणपति उत्सव शुरू हुआ था। प्रतिमा विसर्जन के लिए मुंबई महानगर,राज्य की सांस्कृतिक राजधानी पुणे के विभिन्न मंडलों और प्रदेश के अन्य हिस्सों में ढोल-ताशों के साथ श्रद्धालुओं ने पारंपरिक श्रद्धा एवं उल्लास के साथ झांकियां निकालीं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी इको फ्रेंडली गणेश प्रतिमा के विसर्जन से पहले पूजा-अर्चना की।मुंबई में गिरगांव चौपाटी, शिवाजी पार्क, जुहू, वर्सोवा और मार्वे बीच तथा कई तालाबों सहित 129 स्थानों पर प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया। नगर पालिका के एक अधिकारी ने बताया कि दोपहर तक करीब 587 गणेश प्रतिमाएं विसर्जित की गईं। विसर्जन को लेकर पूरे शहर में 50,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। 5,000 से अधिक सीसीटीवी कैमरों से भी झांकियों की निगरानी की गई।
  • 25 लाख का प्रतिबंधित गुटखा को क्राइम ब्रांच व एफडीए ने मिलकर पकड़ा !

    By fast headline india →
    25 लाख का प्रतिबंधित गुटखा को क्राइम ब्रांच व एफडीए ने मिलकर पकड़ा ! 

    ड्राइवर समेत दो को किया गिरफ्तार ! 

    गुजरात से हो रही गुटखा तस्करी के खेल का यह एक नमूना आया सामने ! 

    उल्हासनगर के गली गली खुलेआम बिकता है यह गुटखा ? 

    जोन चार की पुलिस द्वारा तीन दिन पहले ही चारों पुलिस ठाणे दर्ज हुआ है मामला ! 

     मुंबई-मुंबई में प्रतिबंधित गुटखा की एक बड़ी खेप को मुंबई क्राइम ब्रांच व एफडीए की संयुक्त कार्यवाई के द्वारा पकडने में बड़ी कामयाबी मिली है। यह गुटखा गुजरात से एक कंटेनर के जरिये मुंबई लाया जा रहा था। जिसे मुंबई पहुचने के पहले बोरीवली में जाल बिछाकर पकड़ा गया है। 
    गौरतलब हो कि अन्न व औषधि प्रशासन व जोन 12 के अपराध शाखा से प्राप्त जानकारी के आधार पर विभिन्न निषिद्ध खाद्य लेखों के पांच प्रतिनिधि नमूने जैसे विमल पान मसाला, शुध प्लस पान मसाला, वी -1 सुगंधित तंबाकू (3 वेरिएंट) विश्लेषण व जांच के लिये, लिये गये।प्रतिबंधित गुटखा की कुल क़ीमत 23,06,000 रुपए है। गुटखा से लदे कंटेनर बॉडी ट्रक वाहन एमएच 04 एचवाई 9672 के साथ साथ वाहन चालक सलमान, नसीम अहमद शेख जो वापी, गुजरात। के रहने वाले हैं, को भी हिरासत में लिया गया। कंटेनर की लागत लगभग 25,00,000 रुपया हैं। वाहन को सील करके जांच के लिए हिरासत में लेकर कार्यालय परिसर में सुरक्षित रूप से पार्क करा दिया गया। कार्यालय परिसर में निषिद्ध लेखों का भंडार भी रखा गया है।मामले को एफआईआर नंबर 429/2019 एयूसीड यू / एस के खिलाफ दर्ज किया गया है। दहिसर पुलिस स्टेशन में 34, 188, 272, 273,आईपीसी के 328 और एफएसएस अधिनियम की धारा में संलिप्त आरोपी को दहिसर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस कार्रवाई को एफएसओ छीरसागर द्वारा सहायक आयुक्त अजित मैत्रे के निर्देशन व सह आयुक्त शैलेश आढाव के मार्गदर्शन में किया गया। जब से गुटखा बंद हुआ तब से ही मुंबई, ठाणे,उल्हासनगर, कल्याण, अम्बरनाथ, बदलापुर, डोम्बिवली, कलवा,इन सभी जगहों पर चोरी छुपे गुटखा बेचा जाता है इसका प्रमाण कई बार हुई स्थानीय पुलिस के कार्यवाई के जरिये सामने आया है,इसका मतलब ले देकर यह गोरखधंधा को अंजाम दिया जा रहा है यही कारण है कि इतने बड़े पैमाने पर गुटखा लाने का काम किया जा रहा है !
  • उल्हासनगर विधानसभा से आरपीआई का ही उम्मीदवार रहेगा -रामदास आठवले

    By fast headline india →
    उल्हासनगर विधानसभा से आरपीआई का ही उम्मीदवार रहेगा -रामदास आठवले 

     आयोजक व साउंड सिस्टम के मालिक पर पुलिस ने दर्ज की मामला ! 

     ध्वनि प्रदूषण जैसे कठोर नियम के बावजूद केंद्रीय मंत्री आठवले ने तोड़ा है कानून, इसलिए इनके खिलाफ दर्ज हो मामला-हिराली फाउंडेशन 

    उल्हासनगर- उल्हासनगर में 9 सितंबर की शाम हुई रैली में आरपीआई सुप्रीमो व केंद्रीय सामाजिक न्यायमंत्री रामदास आठवले कहा है कि उल्हासनगर विधानसभा सीट से इस बार आरपीआई का ही उम्मीदवार मैदान में उतरेगा यह तय है,इसका मतलब भगवान भालेराव उल्हासनगर विधानसभा की से विधायकी चुनाव लड़ने का रास्ता काफी हद तक साफ हो गया है, वही ध्वनि प्रदूषण जैसे कठोर नियम के बावजूद रामदास आठवले ने उल्हासनगर में खुद इस नियम को तोड़ मामला सामने आया है. इस प्रकरण में उल्हासनगर पुलिस ने कार्यक्रम के आयोजक व साउंड सिस्टम के मालिक के विरुद्ध मामला दर्ज किया है. 
    गौरतलब हो कि उल्हासनगर विधानसभा चुनाव के लिए आरपीआई आठवले गुट की तरफ से भगवान भालेराव ही एकमात्र उम्मीदवार होगे. इस तरह की घोषणा करने के लिए उल्हासनगर के गोल मैदान में एक महासम्मेलन का आयोजन किया गया था, इसके लिए बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और पार्टी के पदाधिकारी उपस्थित थे. कार्यक्रम के प्रमुख अतिथि केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री रामदास आठवले सभामंडप में 10 बजे तक पहुंचे नहीं थे, जिसके कारण कार्यक्रम के आयोजक भगवान भालेराव परेशान हो गए और उन्होंने 10 बजने में 5 मिनट बाकी रहने पर अपना भाषण शुरू कर दिया, लेकिन 10 बजते ही पुलिस ने लाउडस्पीकर बंद कर दिए. तभी थोड़ी देर में सभास्थान पर पहुंचे आठवले ने सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को ठुकराते हुए 10 बजकर 20 मिनट पर कार्यकर्ताओं के आग्रह पर अपना भाषण शुरू किया. अपने भाषण में उन्होंने पुलिस की प्रशंसा करते हुए उनका सहयोग मिलने की बात भी कही, लेकिन कार्यकर्ताओं द्वारा पुलिस पर दबाव बनाकर लाउडस्पीकर मशीन शुरू होते देखा गया. जिसकी वजह से कार्यक्रम खत्म होते ही सहायक पुलिस आयुक्त धुला टेले के आदेश पर ध्वनि यंत्र पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिए. इसके अलावा कार्यक्रम के आयोजकों पर मामला दर्ज किया गया है ऐसी जानकारी टेले ने दी है.        आगामी विधानसभा चुनाव में युति में जिसके पास ज्यादा सीटें होगी उसी का मुख्यमंत्री होगा, ऐसी जानकारी भाषण के दौरान आठवले ने दी. इसके अलावा भाजपा को ही ज्यादा सीटें मिलेंगी ऐसा विश्वास भी उन्होंने प्रकट किया. सीटों के बंटवारे में ढाई ढाई साल मुख्यमंत्री का फार्मूला यशस्वी नहीं होगा, यह कहते हुए उन्होंने आगे यह भी बताया कि शिवसेना को उपमुख्यमंत्री पद मिल सकता है, इसके लिए उद्धव ठाकरे जिसकी तरफ इशारा करेंगे वही अंतिम उम्मीदवार होगा. अपने अध्यक्षीय भाषण के दौरान आरपीआई जिल्हाध्यक्ष भगवान भालेराव कहा की मुझपर आठवले साहेब ने जो विश्वास दिखाया है में उसे सिद्ध करके दिखाऊँगा मै अपने विधानसभा का सबसे ज्यादा से ज्यादा विकाश करने का प्रयत्न करने की कोशिश करूंगा . इस कार्यक्रम में केंद्रीय उपाध्यक्ष सुरेश सावंत, बी बी मोरे, अण्णा रोकडे, नगरसेवक मंगल वाघे,  बलराम गायकवाड,  शमशाद अली , ब्रिजेश श्रीवास्तव, समाधान निकम, संतोष भगवानी , महिला आघाडी की मंगला कदम , सुरेखा पवार समेत बड़ी संख्या में आरपीआई कार्यकर्ते उपस्थित थे .       
  • कैसे होगी मनपा को 22 करोड़ की आमदनी और उस पैसों कहा होगा इस्तेमाल ! सुनिए स्थायी समिति चेयरमैन की जुबानी !

    By fast headline india →
    स्थायी समिति के सभापति वधारिया ने कल हुए स्थायी समिति की हुई बैठक के महत्वपूर्ण मुद्दे पर क्या कहे सुनिए उनकी जुबानी !

     शहर की रोड़ के खड्डे पर क्या करने वाली मनपा ! 

    शिक्षण मंडल के मुद्दे पर रखा अपना पक्ष ! 

    मनपा की आमदनी बढ़ाने के लिए क्या उठाये महत्वपूर्ण कदम ! 

    कैसे होगी मनपा को 22 करोड़ की आमदनी और उस पैसों कहा होगा इस्तेमाल !

  • महानगरपालिका प्रशासन ब्लैकमेलिंग और राजनीतिक दबाव पर कर रहा है काम - मनपा पीआरओ भदाने किया आरोप !

    By fast headline india →
    महानगरपालिका प्रशासन ब्लैकमेलिंग और राजनीतिक दबाव पर कर रहा है काम - मनपा पीआरओ भदाने किया आरोप ! 

    मनपा आयुक्त को पत्रदेकर 15 दिनों में बाकी गैरकानूनी तरीके से दी गई पदों पर की गई है कार्यवाई की मांग ! 

     कार्यवाई नही होने पर समाजसेवक के जैसे आत्मदहन का रास्ता अपनाने को प्रशासन न करे मजबूर ? 

    मनपा आयुक्त से सीधे दो दो हाथ करने के मुंड में मनपा पीआरओ ! 

     उल्हासनगर -उल्हासनगर महानगर पालिका के मनपा पीआरओ युवराज भदाने ने मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख के कामकाज की शैली पर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए, आयुक्त को एक लिखित पत्र देकर कई सारे आरोप लगाया है, भदाने को उपायुक्त के पदभार से मुक्त कर दिया गया है। उन्होंने अभी हाल में ही उल्हासनगर मनपा के मालमत्ता विभाग में उल्लेखनीय कार्य किया है। भदाने ने आरोप लगाया है कि महानगरपालिका प्रशासन राजनीतिक और ब्लैकमेलिंग करने वालो के दबाव में काम करता है। आयुक्त को यह भी चेतावनी दी है कि अगर अगले 15 दिनों के भीतर उन्हें फिर से नियुक्त नहीं किया जाता है, तो उन्हें अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा। बता दे कि युवराज भदाने, जो पिछले 17 वर्षों से मनपा में काम कर रहे थे, शुरू में उन्हें जनसंपर्क अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया था, जिसके बाद उन्हें अतिक्रमण निरोधक दस्ता, संपत्ति विभाग, LBT विभाग, सामान्य प्रशासन जैसे विभिन्न विभागों में कार्यभार दिया गया था। उन्हें कुछ महीने पहले संपत्ति विभाग में उपायुक्त का पदभार दिया गया था। दो हफ्ते पहले, एक यूनियन के नेता और एक सामाजिक कार्यकर्ता ने युवराज भदाने पर कई आरोप लगाए थे ,जिसके कारण उन्हें उनके पद से हटा दिया गया था। सामाजिक कार्यकर्ता ने पदभार वापस न लेने पर आत्मदाह की चेतावनी दी थी। इस चेतावनी के बाद, मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने भदाने के उपायुक्त का पदभार वापस ले लिया। उल्हासनगर शहर में, एक नौकरशाही अधिकारी को एक अवैध निर्माण ठेकेदार से रिश्वत लेने वाले जैसे अधिकारीयो उच्च पदों पर बैठाया गया है, वही नही कई जूनियर (ग्रेड) कर्मचारी उच्च रैंक में काम कर रहे हैं, इन्हें उनके वरिष्ठ कर्मचारियों के ऊपर का गैर-कानूनी रूप से अधिकारी का दर्जा दिया गया है। यदि हां, तो ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ आयुक्त कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे है ! भदाने ने मनपा आयुक्त पर आरोप लगाया है कि एक सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा उन्हें हटाने और आत्महत्या करने की धमकी देने के तुरंत बाद उन्हें पद से हटा दिया गया था। 15 दिनों के भीतर, वरिष्ठ स्तर के कर्मचारियों / अधिकारियों को तुरंत हटा दिया जाना चाहिए ,अन्यथा अदालत का रास्ता खुला है। साथ ही साथ जिस तरह से एक सामाजिक कार्यकर्ता ने अपनी मांग पूर्ण करने के लिए अपने हथियार का इस्तेमाल किया था (सामाजिक कार्यकर्ता ने आत्महत्या करने की चेतावनी दी थी)। भदाने ने निगम से आग्रह किया कि वह इसका इस्तेमाल करने के लिए मजबूर न करे ,ऐसी चेतावनी भी दी है । इस पर जब मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मैं प्रशासन के विषय पर बहुत अधिक टिप्पणी नहीं करूंगा, और जो भी निर्णय मुझे सही लगता है मैं वह निर्णय करूंगा ! अब यह लड़ाई किस मोड़ पर जाती है उस पर सभी शहर वाशियों की नजरे टिंकी हुई है !
  • पत्नी की हत्या करके फरार हुए पति को क्राइम ब्रांच ने गोरखपुर से किया गिरफ्तार ! चरित्र पर संशय के चलते किया

    By fast headline india →
     पत्नी की हत्या करके फरार हुए पति को क्राइम ब्रांच ने गोरखपुर से किया गिरफ्तार !

    चरित्र पर संशय के चलते किया था पत्नी की हत्या !

    इसी महीने की 2 तारीख को घटना को दिया था अंजाम !

    क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपी को किया खड़कपाड़ा पुलिस के हवाले !

    कल्याण - कल्याण के ग्रामीण इलाके की हुई घटना जिसमें अपनी पत्नी की हत्या करके फरार हुए पति को कल्याण की क्राइम ब्रांच पुलिस ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिल्हे से गिरफ्तार करके कल्याण लाई है ऐसी जानकारी सामने आई है यह हत्या की इसी महीने के 2 तारीख हुआ था ! क्राइम ब्रांच ने आरोपी को आगे की कारवाई के लिए खड़कपाड़ा पुलिस को सौप दिया है !    
    गौरतलब हो कि कल्याण पश्चिम के ग्रामीण के ऊंबर्डे गांव स्थित वसंत भोईर चाल में रहने वाले विकास भारती नामक सख्स ने इसी महीने की 2 तारीख को अपनी पत्नी रेखा भारती का खून कर दिया।बताया जाता है कि पत्नी के चरित्र पर संदेह के चलते वाद विवाद में विकास ने पत्नी रेखा की हत्या करके फरार हो गया था। जिसके बाद से ही पुलिस महिला के हत्यारे को पकड़ने के लिए पुलिस ने गहरी छानबीन की। क्राइम ब्रांच की टीम को गुप्त सूचना मिली कि हत्यारा विकास भारती उसके रिश्तेदारों से मिलने के लिए उत्तरप्रदेश जाने वाला है।इस जानकारी के आधार पर पुलिस की एक टीम ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिल्हे में चौरीचौरा तहसील के पुर्नहां गांव में जाल बिछाकर विकास को गिरफ्तार किया है।पुलिस के द्वारा की गई पूछताछ के दौरान विकास ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है, इस मामले की आगे की कारवाई के लिए क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपी विकाश को खड़कपाड़ा पुलिस को सौप दिया है। आगे की तहकीकात खड़कपाडा पुलिस के द्वारा शुरू है !
  • नोकरानी ने गहने लूटने के लिए बृद्ध महिला पर किया जानलेवा हमला !

    By fast headline india →
    नोकरानी ने गहने लूटने के लिए बृद्ध महिला पर किया जानलेवा हमला ! 

    काम के पहले दिन ही नोकरानी बनी हैवान ! 

    बिना जान पहचान के रखी थी महिला ने नोकरनी ! 

    सीसीटीवी फुटेज के जरिये पुलिस कर रही चोर नोकरानी तलाश ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर के एक नम्बर धोबीघाट परिसर में एक बृद्ध महिला के गहने लूटने के लिए एक दिन पहले ही रखी नोकरानी ने जानलेवा हमला करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है, घायल महिला का ईलाज फोर्टिज अस्पताल में चल रहा है,एक नम्बर पुलिस ने नोकरानी के खिलाफ मामला दर्ज कर उसकी तलाश में जुटी गई है,
    सूत्रों से मिली जानकारी के धोबीघाट परिसर में रहने वाली बृद्ध महिला छाबुबाई गरजे जो पेरेलिसिस की वजह से बीमार थी उन्होंने अपनी सेवा के लिए शुक्रवार को एक महिला को नोकरानी तौर पर रखा वह महिला काम पर पहले दिन शुक्रवार की रात में 11,30 के करीब अकेली बृद्ध महिला को देख पहले उनके गले से तीन तोलो की चेन निकाली जब गरजे ने इसका विरोध किया तो चोर नोकरानी ने उनपर जान लेवा हमला कर उस नोकरानी जान से मारकर उनके हाथ मे का गंगन लूटना चाहती थी परन्तुं घायल होने पर जब गरजे चीखना व चिल्लाना चालू किया तो नोकरनी ने मौका पाकर वहाँ से फरार हो गई जब इस घटना की जानकारी गरजे के रिश्तेदार को मिला तो उन्होंने इस घटना की जानकारी पुलिस को दिया और उनकी हालत को देखते हुये उन्हें फोर्टिज अस्पताल में ईलाज के लिए भर्ती किया है जहाँ पर उनकी हालत चिंता जनक बनी हुई है,रिश्तेदार की शिकायत पर एक नम्बर पुलिस ने चोर नोकरानी के विरुद्ध मामला दर्ज करके उसकी तलाश में जुट गई है,पुलिस को एक सीसी टीबी में चोरनी का फुटेज मिला है उसी के जरिये उसकी पहचान हो पाई है, बिना किसी के जान पहचान के काम पर रखना कितना घातक होता है वह इस घटना से समझा जा सकता है !
  • मनपा के आरक्षित भूखंड 705 की सनद बनाने में जुटा शहर का रसूखदार भूमाफिया ?

    By fast headline india →
    मनपा के आरक्षित भूखंड 705 की सनद बनाने में जुटा शहर का रसूखदार भूमाफिया ? 

    भूखंड हड़पने के लिए भूमाफियाओं द्वारा इससे पहले भी किया गया कई बार कोशिश ! 

    इस भूखंड पर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भवन और सावित्रीबाई फुले का स्मारक के लिए है आरक्षित ! 

    मनपा प्रशासन अपनी आरक्षित भूखंडों को बचाने में दिख रही है उदासीन रवैया ! 

    शहर भर के सभी बगीचों को हड़प करने में जुटे हुई नेता+भूमाफियाओं की टोली ! 

    उल्हासनगर -उल्हासनगर मनपा के द्वारा बगीचे के लिए आरक्षित भूखण्ड क्रमांक 705 को कुछ शहर के पूंजीपति व भूमाफियाओं द्वारा हड़पने की कोशिश का भंडाफोड़ हुआ है। इन लोगो के द्वारा इस जगह की सनद बनाने के लिए एसडीओ जगत सिंह गिरासे को पत्रदेकर अपने नाम पर करने की कवायद भी जोर सोर से शुरू कर दिया है, मनपा प्रशासन का मालमत्ता विभाग की इसमें मूक सहमति देखने का मामला सामने आ रहा है क्योंकि इतने मामले सामने आने के बाद भी एसडीओ को मालमत्ता विभाग के जरिये कोई भी पत्र देकर आपजेक्शन नही लिया गया है,वही इस मामले पर एक पार्टी के अध्यक्ष ने सीडी देने का विरोध किया है !
    रांकपा विधायिका ज्योति कालानी व उनके बेटे ओमी कालानी महापौर पंचम कालानी अपने घर पर गणपति की पूजा करते हुए,

    गौरतलब हो कि भारिप बहुजन महासंघ ने मांग की है कि इस भूखंड पर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भवन और सावित्रीबाई फुले का स्मारक बनाया जाए। उल्हासनगर -२में स्थित मनपा की 705 क्रमांक की भूखंड, जो टेलीफोन एक्सचेंज के पीछे की जमीन है यह हमेशा से बहुत विवादास्पद रही है और भूखंड हड़पने के लिए भूमाफियाओं द्वारा कई बार कोशिश की गई है। हालाँकि, कुछ जागरूक सामाजिक संगठनों और भारिप बहुजन महासंघ ने समय-समय पर इस प्रयास को विफल किया है। उल्हासनगर मनपा और एसडीओ कार्यालय में क्रमांक 705 भूखंड पर कब्जा करने के लिए कई भूमाफियाओं ने बोगस योजना के साथ पत्राचार शुरू कर दिया है। इस संबंध में, दोनों प्रशासन को कानून का सख्ती से लागू करना चाहिए और इस तरह के बोगस योजना लेन वाले भूमाफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए और उन्होंने मांग की है कि भूमि का उपयोग केवल डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भवन और सावित्रीबाई फुले के स्मारक के लिए किया जाए। इस समय उल्हासनगर के जितने भूखण्ड बचे भी मनपा के गार्डन है उन पर सीडी चढ़ाने का काम जोर शोर से काम किये जाने का मामला सामने आ रहा है, इस विषय पर मनपा प्रशासन की भूमिका भी संदेह के घेरे में है क्योकि अपने आरक्षित भूखण्ड को बचाने के लिए मनपा प्रशासन ही जागरूक नही है ऐसा देखने में आ रहा है, न ही अभी एसडीओ को कोई पत्र देकर अपनी हरकत लेते दिख रहा है, इसका मतलब भूमाफियाओं के साथ स्थानीय नगरसेवकों व बड़े नेतागड़ की मिलीभगत के चलते सभी को सांप सुख गया ऐसा लगता है ?
  • 35 करोड़ की लागत से बना पम्पिंग स्टेशन हुआ फेल ?

    By fast headline india →
    35 करोड़ की लागत से बना पम्पिंग स्टेशन हुआ फेल ? 

    खेमानी नाले का मलमुत्र युक्त दुषित पानी बिना फिल्टर के जा रहा उल्हास नदी !

     उल्हासनगर, कल्याण डोम्बिवली, भिवंडी, मिरा भायंदर शहरवासियों को हो रहा प्रदूषित पानी ? 

     प्रशासन की लापरवाही से हमें पिलाया जा रहा लोगो के मलमूत्र से फिल्टर पानी ! 

     50 लाख नागरिकों की सेहत से सीधे किया जा रहा है खिलवाड़ ! 

    आम जनता से किया गया अपील गरम करके पिए पानी - वालधुनि उल्हास बिरादरी 

    उल्हासनगर -उल्हासनगर शहर के बिल्डिंगों व घरों से निकलने वाला गंदा पानी जो बहाया जाता है, वो खेमानी नाले के माध्यम से सीधा उल्हास नदी में बिना किसी प्रक्रिया के सीधे जा मिलता है, खेमानी नाला उल्हास नदी से जहा पर जा मीलता है, वहां से 40 मीटर की दुरी पे सेंच्युरी का पंपींग स्टेशन, 60 मीटर की दुरी पे एम आई डि सी (उल्हासनगर) का पंपींग स्टेशन, तो 80 मीटर की दुरी पर कल्याण का पंपींग स्टेशन, 100 मीटर की दूरी पर स्टेम प्राधिकरण का जल शुद्धिकरण केंद्र जहाँ से पानी फिल्टर करके उल्हासनगर मनपा, कल्याण डोम्बिवली मनपा, भिवंडी मनपा, ठाणे मनपा, मीरा भायंदर के करीबन 50 लाख नागरिक की रोज की ज़रूरते पूरी करने के लिये पिने के लिये व खाना बनाने के लिये इस्तेमाल किया जाने वाला पानी जो इस्तेमाल करते है, 
    गौरतलब हो कि, उल्हासनगर के खेमानी नाले से बहाया जानेवाला मलमूत्र सिवेज सीधे उल्हास में छोडे जाने से 50 लाख नागरिकों की सेहत से खिलवाड़ हो रहा था,इसके लिए तीव्र आंदोलन हुये, एन जी टी, उच्च न्यायालय, सर्वोच्च न्यायालय तक बात गयी, और उमपा द्वारा खेमानी नाला उल्हास नदी पे 35 करोड़ रुपयों की लागत से 16 एम एल डी का पम्पिंग स्टेशन अभी अभी लगाया गया, जो सुचारू रूप से इस समय चल रहा था,परन्तु भारी बरसात और प्रशासन की लापरवाही के चलते वह इस समय बन्द हो गया है, अब नाले का दूषित, मलमूत्र युक्त पानी बिना ट्रीटमेंट किये उल्हास नदी में सीधे बहाया जा रहा है, खेमानी नाले की सफाई ना होने के कारण हज़ारों किलो कचरा प्लास्टिक जमा हो जाने से उल्हास नदी पर 35 करोड़ की लागत से बना पम्पिंग स्टेशन भी फेल हो गया है, मतलब फिर से एक बार सीधे वही गंदा पानी फिल्टर करके पिलाया जा रहा है इसका मतलब लोग हम क्या पीला रहे है, एक दूसरे का मलमूत्र ? बात कड़वी मगर सच है शहर वासियों, आपके घरों में ये ही नाले का सीधा दुषित पानी आ रहा है, कृपया पानी उबालकर, छानकर पीजिए, अपने परिवार के सेहत की रक्षा आपको अब स्वयं करनी होगी, 35 करोड़ खर्च करने के बाद भी आम जनता की जिंदगी से खिलवाड़ हो रहा है ऐसे में उल्हासनगर नदी बचाओ समिति वालधुनि उल्हास बिरादरी ने एक ही प्रार्थना की ईश्वर इन सबको सद्बुद्धि दे जो 50 लाख नागरिकों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे है, बंद पड़े पम्प हाउस को जल्द चालू करके लोगो के जिंदगी से खेलना बंद हो ,
  • छह वर्षीय बच्चे की गटर में डूबने से हुई मौत !

    By fast headline india →
    छह वर्षीय बच्चे की गटर में डूबने से हुई मौत ! 

    बारिश की आफत ने फिर से ली एक कि जान ! 

    एक दिन की बारिश में पानी पानी हुई मुंबई ! 

     नालासोपारा-नालासोपारा जहाँ मायानगरी मुंबई में हालांकि अभी बारिश बंद है लेकिन बुधवार को हुई बारिश ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं, जगह-जगह जलभराव के कारण लोगों को काफी असुविधा हो रही है। मौसम विभाग ने मुंबई में अगले 24 घंटों में शहर और उपनगरों के कई हिस्सों में भारी बारिश की संभावना जतायी है और शाम तक हाइटाइड का भी अनुमान लगाया जा रह है । गौरतलब है कि बुधवार से मुंबई में लगातार बारिश हो रही है। बुधवार सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक यहां 100 मिलीमीटर बरिश हो चुकी थी। पालघर के नालासोपारा रेलवे स्टेशन पर अत्याधिक जलभराव के कारण रेल सेवा पूरी तरह से ठप हो गयी है। मुंबई के लगभग सभी हिस्सों में जल स्तर बढ़ गया है। यात्री विमान सेवा में देरी की वजह से लोगों को बारिश में एयरपोर्ट के बाहर रात गुजारनी पड़ी। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के अनुसार तीन ट्रेनें, सूरत-मुंबई सेंट्रल, मुंबई सेंट्रल-सूरत, और बांद्रा टी-वीएपीआई नालसोपारा में भारी बारिश और जल-जमाव के कारण रद्द कर दी गई हैं।
  • मनपा के बगीचे में भूमाफिया के द्वारा काटे गए चार पेंड ! दर्ज हुआ एफआईआर ?

    By fast headline india →
    मनपा के बगीचे में भूमाफिया के द्वारा काटे गए चार पेंड ! 

    करोड़ो रूपये के भूखंड पर कब्जा करने के लिए भूमाफिया ने गुंडों के द्वारा किया गया यह कारनामा ! 

    वार्ड आफिसर ने पहले प्लान कर दिया है रद्द ! 

    वार्ड ऑफिसर जाधव ने दर्ज कराया भूमाफिया पर एफआईआर ? 

    भाजपा के नगरसेवकों ने पहले ही किया लिखित पत्र देकर शिकायत !

    करोड़ो के भूखण्ड के श्रीखंड खाने में जुटी हुई शहर की कुछ नामी गिरामी हस्तियां ?

     उल्हासनगर - उल्हासनगर महानगरपालिका मुख्यालय के सामने बाबा सेवादास दरबार के बगल में महानगर पालिका का एक छोटा सा बगीचा है बुधवार को उसी बगीचे पर एक भूमाफिया के द्वारा गुंडों के द्वारा कब्जा करने का काम किया जा रहा था उन्ही गुंडों ने बगीचे में लगी कुर्सीयो व चार पेड़ काट डालने का मामला सामने आया है .पत्रकारों के द्वारा जब यह मामला मनपा के अवैध बांधकाम विभाग के उपायुक्त सोंडे के सामने लाया गया तो उन्होंने तुरंत पत्रकारों के साथ बगीचे पर पहुचे तबतक भूमाफिया के सभी गुंडे वहा से भाग गए थे, उन्होंने एक नम्बर वार्ड आफिसर जाधव व गणेश शिंपी को तुरंत पंचनामा बनाकर सामान जप्त व सेंट्रल पुलिस स्टेशन मामला दर्ज करवाने का आदेश वार्ड आफिसर को दिया है !
     मनपा विभाग के सूत्रों से जो जानकारी सामने आई है उसके द्वारा लडाकू सिरोटा नामक व्यक्ती ने सिटीएस नंबर ३०३२९, बॅरेक नंबर ७८४ सामने की महानगरपालिका के बगीचे पर महानगर पालिका प्रशासन के द्वारा रिस्क बेस प्लान पास करवा लिया था . जब उसने इस बगीचे में काम शुरू किया तो इस मामले का भांडा फूटा और स्थानीय जन प्रतिनिधि ने इस मामले का विरोध शुरू किया बता दे कि भूमाफिया2 के गुंडों ने आज चार पेड़ काट डाले बगीचे रखी कुर्सियो को तोड़ डाला यह सभी कुछ साल पहले ही मनपा प्रशासन की से हुए शुशोभीकरण के दरम्यान लगाए गए थे. परंतु अचानक शुरू हुए काम पर बांधकाम करने की प्रक्रिया सुरू होते ही भाजपा की पूर्व महापौर मिना आयलानी व नगरसेविका गीता साधनानी इन्होंने आयुक्त सुधाकर देशमुख इनके पास लिखित शिकायत देकर महानगरपालिका से यह मांग किया कि लडाकू सिरोटा इन्होंने फर्जी कागज पत्र बनाकर महानगरपालिका को फंसाया है. इस लिए इस प्लान को रद्द करके उसके विरुद्ध कानून के हिसाब से मामला दर्ज करने की मांग किया था .उसके बाद महानगरपालिका ने संबंधीत विभागा को कहा कि रिस्क बेस प्लान को रद्द करके इस विषय मे उपविभागीय अधिकारी उनको पत्रव्यवहार करके पूरी जानकारी लेकर आगे की कार्यवाई करो. जब बुधवार को पत्रकारों ने देखा कि बगीचे में भूमाफिया के द्वारा कुछ गुंडों को बैठाकर पेड़ काटने और कुर्सियों को तोड़कर फेंका जा रहा है तो सभी पत्रकारों ने इस मामले की जानकारी उपायुक्त मदन सोंडे इनको दिया गया उन्होंने तुरंत पत्रकारों को साथ लेकर बगीचे का जायजा लेने पहुचे तब सभी गुंडे वहा से फरार हो गए थे उन्होंने तुरंत वार्ड आफिसर दत्तात्रय जाधव को आदेश दिया कि यहाँ पर पंचनामा करके सभी सामान को जप्त करो और जिन्होंने ने पेड़ काटे है उसके लिए उनके विरुद्ध एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया. प्रभाग अधिकारी दत्तात्रय जाधव व गणेश शिंपी इन्होंने बांधकाम करने के लिए लाए गए रेती व खड़ी को जप्त किया और भूमाफिया के खिलाफ मामला दर्ज कराने की कार्यवाही शुरू किया है, वही इस विषय पर जब मनपा आयुक्त सुधाकर शिंदे से बात किया तो उन्होंने कहा कि हमने पहले ही कार्यवाई करने का आदेश दे दिया है इसका प्लान रद्द कर दिया है और जिसके नाम पर प्लान है और जो इस प्लान का आर्किटेक्ट है दोनो के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने को संबंधित विभाग आदेश दिया, पेड़ काटने वालो पर जाधव के द्वारा एफआईआर दर्ज किया जा रहा है जो भी इस तरीके का काम करते है उन्हें बख्सा नही जाएगा, वही इस विषय पर शिवसेना के विरोधी पक्ष नेता धनजय बोडारे ने अपना विरोध जताया और कठोर कार्यवाही की मांग किया है,यहाँ सवाल यह है कि मनपा प्रशासन मुख्यालय के सामने जब मनपा का बगीचा सुरक्षित नही है तो बाकी क्या ?
  • कुख्यात आरोपी ने किया पुलिस इंसपेक्टर पर हमला !

    By fast headline india →
    कुख्यात आरोपी ने किया पुलिस इंसपेक्टर पर हमला ! 

    गुप्ती के हमले में पुलिस इंस्पेक्टर का अंगूठा कटा ! 

     हमला करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार ! 

     आरोपी को बचाने वाली उसकी माँ-बहन व सुरेश नामक सभी लोग है फरार !       

    उल्हासनगर में धड़ल्ले से चल रहे नशे के कारोबार का है यह परिणाम !          

     उल्हासनगर-उल्हासनगर स्टेशन के समीप स्थित संजय गांधी झोपड़पट्टी में एक युवक नशे की हालत में धुत होकर नंगी गुप्ती लेकर परिसर में आतंक का पर्याय बनकर लोगो को धमका रहा है,इसकी सूचना मिलते ही सेंट्रल पुलिस स्टेशन का डीबी स्टाफ आरोपी को पकड़ने पहुचे तभी आरोपी को जैसे ही पुलिस ने पकड़ा वैसे ही आरोपी युवक रवि गणेश गांजगी (22) के परिवार वाले  उसे छुड़ाने के लिए फिल्मी स्टाइल में पुलिस से भिड़ गए।बीस मिनट तक चले इस तमासे के बाद सेंट्रल पुलिस स्टेशन के डीबी इंचार्ज सहायक पुलिस निरीक्षक असलम ख़ातिब अन्य दल-बल के साथ वहां पहुचे,जहां आरोपी रवि ने अपने आप को पुलिस से बचाने और उन्हें डराने के लिए पहले खुद पर वार किया,बावजूद जब पुलिस के चंगुल से बच पाने में असमर्थ हुआ तो अपने परिवार वालो के साथ मिलकर एपीआई असलम ख़ातिब को ढकेल कर उनपर नंगी गुप्ती चलाई जिससे उनके अंगूठा लहूलुहान हो गया।पुलिस ने रवि गणेश गांजगी को गिरफ्तार कर लिया ।जब कि तीन लोग अभी भी फरार है। 
                                         
    गणपति पंडाल के जरिये शहर के हालात को दिखाया गया उसी की झलक !

    प्राप्त जानकारी के अनुसार कल संजय गांधी नगर की झोपड़पट्टी में रहने वाला रवि गांजगी नशे की हालत में धुत होकर नंगी गुप्ती लेकर परिसर में दहशत फैला रहा था, स्थानीय लोगो की सूचना पर जब सेंट्रल पुलिस स्टेशन का स्टाफ उसे गिरफ्तार करने संजय गांधी नगर में पहुचा तो उसने पुलिस के साथ भी धक्का मुक्की शूरी कर दी,बीट मार्शल पुलिस ने पुलिस स्टेशन में फोन कर अन्य पुलिस की मदद मांगी तब डीबी इंचार्ज एपीआई असलम ख़ातिब मातहत कर्मियों के साथ संजय गांधी नगर पहुचे और रवि को दबोच लिया,जैसे ही रवि को दबोचा वैसे ही पुलिस के चंगुल से बचने और उन्हें डराने  के लिए उसने खुद पर गुप्ती से वार कर लिया बावजूद जब उसे नही छोड़ा तब उसकी माँ-बहन व सुरेश नामक उसके एक सहयोगी ने पुलिस के साथ हाथापाई शूरु कर दी।
     
    भाजपा नगरसेवक विजू पाटिल घर पर विराजमान बप्प्पा की झलक !

    इस हाथापाई में एपीआई ख़ातिब का पैर फिसल गया और वह जमीन पर पड़े वैसे ही आरोपी रवि ने उनपर गुप्ती से वार करने का प्रयास किया तो बचाव में उनके अंगूठे पर गुप्ती लगी,उसके बाद पुलिस ने रवि को दबोच लिया।महिला पुलिस कर्मी नही होने का फायदा उठाकर आरोपी को बचाने के लिए पुलिस से भिड़ने वाली उसकी माँ और बहन वहां से भाग निकली।बहरहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। उल्हासनगर शहर में कई ऐसी जगह है जहाँ पर खुलेआम चरस, गांजा अफीम जैसे नशे का सामान बेचा जा रहा है यही कारण है आये दिन उल्हासनगर स्टेशन परिसर के स्काई वाक से जाने वालों मुसाफिरों को लूटने व उनपर हमले की खबरे आते रहती है, अगर पुलिस को अपराध रोकना है तो पहले इस नशे के कारोबार को पूरी तरह से बंद करना होगा तभी फिर से ऐसा कोई मामला सामने नही आ पायेगा !
    सुभाष टेकड़ी उल्हासनगर नम्बर 4 पांडेय चाल में विराजमान बप्पा की झलक !
  • महक बिल्डिंग के रहिवासियों का चार दिनों से जारी है भूख हड़ताल !

    By fast headline india →
    महक बिल्डिंग के रहिवासियों का चार दिनों से जारी है भूख हड़ताल ! 

    रहवासियों को घर देने की मांग को लेकर शुरू हुआ यह आमरण उपोषण ! 

    चार दिन हो गए अभी तक नही आया कोई सुध लेने ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में झुकी हुई महक नामक इमारत का दरवाजा लॉक होने की संकेत मिलने पर खाली कराई गई महक दूसरे दिन ही ताश के पत्तों जैसी धराशायी हो गई। इस इमारत में रहनेवाले 31 परिवार अनपेक्षितरूप से बेघर हो गए।इस घटना के 15 दिन बीतने के बाद भी मनपा द्वारा कुछ कार्यवाही नहीं हुई, इस कारण 30 अगस्त से महक इमारत के रहिवासियों ने बेघरों को घर देने की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। 13 अगस्त को सुबह अचानक दरवाजों के जाम होने के बाद महक के रहिवासियों ने फोन पर फोन करने लगे। मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख के आदेश पर सहायक आयुक्त गणेश शिंपी,भगवान कुमावत, अग्निशमन अधिकारी भास्कर मिरपगार वहां तुरंत पहुंचे ,जहां इमारत झुकने के कारण दरवाजे जाम हो गए हैं, यह बात सामने आई। इस इमारत को तुरंत खाली करने का निर्णय लिया गया। गहने,रुपये,महत्वपूर्ण कागदपत्र,पुस्तक लेने की सुचना देकर उसी दिन इमारत खाली करवाया गया। दूसरे दिन 14 अगस्त महक बिल्डिंग पत्तों के समान भरभरा का गिर गई। 20अगस्त को हो रहे महासभा के दिन रहिवासियों ने मुकमोर्चा निकालकर घर देने की मांग की लेकिन मनपा की तरफ से कोई निर्णय न लेने पर 30 अगस्त से रहिवासियों ने आमरण अनशन पर बैठने का निर्णय लिया है, इस अनशन को सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी सपोर्ट किया है। वही चार दिन अनशन को हो गया परन्तु अभीतक प्रशासन की तरफ से कोई सुध लेने नही आया है, इस संदर्भ में मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख से बात की गई,,विधायक ज्योती कालानी,विधायक डॉ.बालाजी किणिकर, महापौर पंचम कालानी,स्थायी समिती सभापती राजेश वधारिया, विरोधी पक्षनेता धनंजय बोडारे सहित नगरविकास सचिव नितिन करीर से मुलाकात की गई है। उनके पास उल्हासनगर के बेघरों को कल्याण-डोंबिवली,ठाणे स्थित ट्रांजीस्ट कैंप में मध्ये भाडेतत्व पर आश्रय देने की मांग की गई है, ऐसा देशमुख ने बताया है।
  • दंडाधिकारी गिरासे ने किया 'सायबर क्राइम एक्ट' का आविष्कार - राम वाधवा

    By fast headline india →
    भारत देश में जो कायदा कानून ही नही, ऐसे कायदे वाला शहर उल्हासनगर !

     दंडाधिकारी गिरासे ने किया 'सायबर क्राइम एक्ट' का आविष्कार - राम वाधवा

     कानून की नही है जानकारी ऐसा दंडाधिकारी से कैसे मिलेगा आम जनता को इंसाफ ?

     जल्द ही चिफ जस्टिस के पास होगी गिरासे की शिकायत !

    सनद घोटालों व अपनी अवैध संपत्ति के खुलासे से सदमे है एसडीओ ?

     उल्हासनगर-उल्हासनगर के एसडीओ जगत सिंह गिरासे ने हाल ही में सेंट्रल पुलिस को पत्र देकर मामला दर्ज करने की मांग किया है इस पत्र में लिखा गया इंडियन राजनीति वाट्सएप ग्रुप में अपने ऊपर हुए आपत्ति जनक पोस्ट को लेकर यह शिकायत देने का मामला है ! 
    इस मामले पर राम वाधवा ने पत्रकारों को जवाब देते हुए कई संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि ये कैसा अधिकारी है जिसे कानून की ही जानकारी नही ऐसे में जो जनता इनके पास इंसाफ मांगने के लिए आएगी उसे क्या इंसाफ मिलेगा! ऐसे अधिकारी समाज के लिए घातक है और क्या कहा है देखिए वीडियो के जरिये,,,,,,
  • उल्हासनगर की बड़ी गणेश मूर्तियों का होगा कल्याण खाड़ी में विसर्जन -डीसीपी प्रमोदकुमार शेवाले

    By fast headline india →
     उल्हासनगर की बड़ी गणेश मूर्तियों का होगा कल्याण खाड़ी में विसर्जन -डीसीपी प्रमोदकुमार शेवाले  

    शुक्रवार की शाम टाउन हॉल में हुए गणेश मंडलों के कार्यक्रम दी गई यह जानकारी ! 

    छोटी गणेश मूर्ति रखकर पूजा करने का मंडलों से किया मनपा आयुक्त ने निवेदन ! 

    कानून का पालन करते हुए मनाए यह उत्सव,नियमो की अनदेखी करने वालो पर होगी कड़ी कार्यवाई -एसीपी टेले 

    उल्हासनगर -उल्हासनगर के गणेश उत्सव के गणेश मंडलो कि बड़ी मूर्ती का विसर्जन कल्याण खाडी में करने का परमिशन मिला है ऐसी जानकारी उल्हासनगर पुलिस परिमंडळ - 4 के उपायुक्त (डीसीपी) प्रमोदकुमार शेवाले ने दी है .
    बता दे कि शुक्रवार की शाम में हुए टाऊन हॉल में पुलिस प्रशासन, मनपा प्रशासन, राजकीय पक्ष व विविध गणेश मंडलो के पदाधिकारी इनका गणेश उत्सव की तैयारी व उत्सव के दौरान होने वाले कार्यक्रम को लेकर संयुक्त बैठक का आयोजन किया गया था इसी कार्यक्रम के संबोधन के दौरान पुलिस उपायुक्त प्रमोदकुमार शेवाले ने बोलते समय यह जानकारी दी उल्हासनगर शहर के पास ऐसा कोई नदी नही न ही कोई खाड़ी व समुद्र है जहाँ बड़ी गणेश मूर्ति का विसर्जन हो सके इस लिए इसका एकमात्र विकल्प है कल्याण की खाड़ी इस लिए बड़ी मूर्ति का विसर्जन के लिए कल्याण की खाड़ी में किये जाने की मांग हमने ठाणे पुलिस आयुक्त (सीपी) विवेक फणसालकर से किया था ,उन्होंने विषय की गम्भीरता को देखते हुए कल्याण खाडी में बड़ी मूर्तियों के विसर्जन के परमिशन इस बार के लिए दिया है.  पिछले कुछ सालों से कल्याण पुलिस और कल्याण - डोंबिवली महानगरपालिका इन्होंने उल्हासनगर के गणेश मूर्तीं को कल्याण खाडी में विसर्जन करने के परमिशन को मना कर दिया था, ट्रैफिक जाम, प्रदूषण , कायदा कानून बिगड़ने जैसे कई प्रश्न को कारण बताया था.        उल्हासनगर मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने कहा है कि इसबार कुछ लोगो ने गणेश मूर्तीं की ऊँचाई को कम किया है अगर सारे लोग छोटी मूर्ति को प्रधानता दे तो जो बड़ी मूर्ति लाने के समय घटनए हुई जिसमें बिजली के करंट के चलते कुछ लोग को जान गवानी पडी तो मूर्ति छोटी रहने पर ऐसे घटनाओं का सामना नही करना पड़ता है बड़ी मूर्ति को ले जाते समय की ताजी घटना सूरत का भी जिक्र किया यही नही तीन चार साल पहले उल्हासनगर में भी ऐसी घटना में दो लोगो की मौत हुआ था अगर गणेश मूर्तीं का आकार छोटा होगा तो ऐसी घटनाओं से बचा जा सकता है, मनपा के बिना परमिशन के सार्वजनिक मंडल मंडप और मूर्ती का स्थापना करे नही ,किसी मंडल को कोई परेशानी हो नही इसके लिए मनपा ने ऑनलाइन परमिशन व्यवस्था किया है .       वही शिवसेना के जेष्ठ नगरसेवक धनंजय बोडारे ने कहा कि शांतता क्षेत्र का एरिया जो घोषित किया गया है , वहा पर ध्वनी प्रदूषण हो नही यह समझा जा सकता परन्तु यदि कोई शांतता का पालन करके गणेश मूर्तीं की स्थापना किया जा सकता है ऐसी जगहो का परमिशन पुलिस के द्वारा नकारा जा रहा है उसको कैसे दिया जा सकता उसका भी कुछ उपाय ठूठना चाहिए ! शिवसेना शहरप्रमुख राजेंद्र चौधरी, सुरेश जाधव सहित अनेक गणेश मंडल के पदाधिकारियो ने अपने मनोगत को ब्यक्त किया ,                14 दिनो हर दिन चलने वाले गणेश मूर्ती के विसर्जन जो उल्हासनगर शहर में सुरू रहता है यह ठीक नही है गणेश मूर्तीं का आकार छोटा करे और प्रदूषण व डीजे मुक्त गणेश उत्सव मनाने का आवाहन उपस्थित पुलिस अधिकारी व मनपा के अधिकारियो द्वारा गणेश मंडलो से किया है .       इस कार्यक्रम में सहाय्यक पुलिस आयुक्त डी डी टेले, उल्हासनगर पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुशील जावले  , मध्यवर्ती पुलिस स्टेशन के वरीष्ठ पुलिस निरीक्षक सुधाकर सुरवडकर ,विठ्ठलवाडी पुलिस स्टेशन के वरीष्ठ पुलिस निरीक्षक रमेश भामे, हिल लाईन पुलिस स्टेशन के वरीष्ठ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र मायने, वाहतूक पुलिस सहाय्यक आयुक्त , मनपा प्रशासन के उपायुक्त सोंडे , चारो प्रभाग के सहाय्यक आयुक्त और विविध गणेश मंडल के पदाधिकारी उपस्थित थे . 
  • उल्हासनगर मनपा के आयुक्त ने प्रकाशित किया प्रारूप श्वेतपत्र !

    By fast headline india →
    उल्हासनगर मनपा के आयुक्त ने प्रकाशित किया प्रारूप श्वेतपत्र ! 

     महानगरपालिका की तिजोरी पर 335 करोड़ का बोझ ! 

     आगामी तीन सालों में नहीं हो सकेगा कोई नया विकास कार्य ! 

    श्वेतपत्र के आने से नगरसेवकों के विकास कार्यो के मंसूबो फिरा पानी ! 

    नगरसेवकों और शहरवासियों से महानगरपालिका के वित्तीय संकट से बाहर निकालने में मदद किया मनपा आयुक्त ने अनुरोध ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर मनपा के नगरसेवकों के दावों की हवा तब निकल गई जब मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने एक श्वेत पत्र के मसौदे के कारण बजट को स्थायी और सामान्य महासभा में पेश किया है। आयुक्त ने घोषणा की है कि जबरन काम के अलावा नए विकास कार्यों को नहीं लिया जाएगा, क्योंकि नगरपालिका आयुक्त इस श्वेत पत्र में अनुमान लगाते हैं कि नगरपालिका पर लगभग ३३५ करोड़ रुपए का बोझ पड़ रहा है ! 
    बता दे कि उल्हासनगर मनपा गंभीर वित्तीय स्थिति में है। विकास के लिए काम करने वाले ठेकेदारों को २०१६ से कोई बिल का भुगतान नहीं किया गया है। इसलिए, ठेकेदार अनिवार्य कार्य करते समय निविदा नहीं भरते हैं। जब मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख द्वारा इस मामले पर ध्यान दिया गया और जब उन्होंने महानगरपालिका की वित्तीय स्थिति को देखा, तो पाया गया कि महानगरपालिका पर ऋण, आय और व्यय से बचा नहीं जा सकता है। इसलिए, उन्होंने सभी विभागों से चल रहे काम की जानकारी लेकर श्वेतपत्र को लाने का फैसला किया था। श्वेत पत्र गुरुवार शाम को प्रकाशित किया गया था। इस श्वेत पत्र को जारी करते समय पिछले पांच वर्षों की रिपोर्ट को ध्यान में रखा गया है। इस श्वेतपत्र में पहले चरण में विभिन्न विभागों द्वारा एकत्र किए गए करों के कर संग्रह और दरों की जानकारी है। दूसरा चरण जमा और लागत पक्ष पर प्रकाश डालता है। २०१४ से २०१९ तक उल्हासनगर मनपा के महासभा के बजट से जमा और वास्तविक आय के बीच पचास प्रतिशत का अंतर है। हालाँकि, चूंकि यह व्यय आय से अधिक है, इसलिए श्वेतपत्र में यह बात सामने आया है कि मनपा ने भारी ऋण और ठेकेदारों को भुगतान किया है। लेखा विभाग द्वारा लगभग ११० करोड़ रुपये विकास कार्यों को पूरा करने के बाद प्राप्त हुए हैं, काम पूरा हो गया है, लेकिन लगभग २२ करोड़ रुपये के भुगतान हैं जो नहीं किए गए हैं। जनादेश प्राप्त करने के बाद, २८ करोड़ रुपये के कार्य हैं और १४ करोड़ रुपये के विकास कार्य हैं, जिन्हें शुरू नहीं किया गया है। विभागीय दायित्व श्वेतपत्र में कहा गया है कि गारंटी शुल्क, बकाया ऋण, जीआईएस प्रणाली सर्वेक्षण, खेमानी नालियों और अपशिष्ट परिवहन निविदा विविधताओं के लिए कुल महानगरपालिका पर ३३५ करोड़ रुपये का दायित्व है। इन सभी मामलों पर अंतिम चरण में जोर दिया गया है ,जिसमें मनपा आयुक्त ने समस्या और समाधान योजना का प्रस्ताव किया है। इनमें कर्मचारी वेतन, सेवानिवृत्ति वेतन, एमआईडीसी जल बिल, बिजली बिल, टेलीफोन बिल, हाइड्रोलिक मरम्मत, प्रकाश जुड़नार, स्टेशनरी खर्च शामिल हैं। श्वेतपत्र में कहा गया है कि नगरसेवकों के छोटे स्तर के कार्य भी नहीं किए जा सकते हैं। आय और व्यय के अंतराल में सुधार के लिए आय के नए स्रोतों को खोजना, पानी की दरों में सुधार करना, सामग्री खरीदने के लिए सरकार के वेब पोर्टल का उपयोग करना, बड़ी कंपनियों से कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी निधि प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित करना, प्रमुख विकास के लिए एमएमआरडीए से धन प्राप्त करना, जीआईएस सिस्टम सर्वेक्षण कार्य को तुरंत पूरा करना, इन उपचारात्मक योजनाओं का समावेश उद्देश्य है। गौरतलब है कि आगामी तीन वर्षों में कोई नया विकास कार्य नहीं किया जाएगा। जब मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख से इस बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि ये सभी उपाय शहर के भविष्य के लिए किए गए हैं और उन्होंने नगरसेवकों और नागरिकों से महानगरपालिका को वित्तीय संकट से बाहर निकालने में मदद करने का अनुरोध किया था।
  • सीमेंट कंक्रीट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने के मामले में मनपा आयुक्त की मूक सहमति !

    By fast headline india →
    सीमेंट कंक्रीट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने के मामले में मनपा आयुक्त की मूक सहमति !

     कंगाल मनपा नायाब कारनामा अपने दिए बयान से पलटे आयुक्त !

     रोड बनाने में तीन से चार करोड़ रुपये लगते,वही काम केवल 45 लाख पेवर ब्लॉक से हुआ तो मनपा को फायदा हुआ ऐसी नई खोज किया मनपा आयुक्त ! 

    क्या किसी मंत्री के दबाव के चलते मनपा आयुक्त हुए नतमस्तक ? 

    16 करोड़ के काम रुकाने वाले आयुक्त का बोगस काम के समर्थन के पीछे का क्या है रहस्य ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर में एक ओर जहां महानगरपालिका की अर्थव्यवस्था बहुत ही कमजोर है, वहीं मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने हेमराज डेयरी रोड पर पेवर ब्लॉक के निर्माण को मंजूरी दी है। इसकी वजह से यदि ठेकेदार के काम पूरा हुआ तो उसके बाद मनपा की तिजोरी पर 45 लाख रुपए का बोझा आनेवाला है । 

     बता दे कि उल्हासनगर कैंप 2 के हेमराज डेयरी क्षेत्र में, नगरसेविका सरोजनी टेकचंदानी के प्रयास में अच्छी तरह से बनाए हुए सीमेंट कंक्रीट सड़क पर पेवर ब्लॉक स्थापित की जा रही है। इस कार्य पर 45 लाख खर्च किए जा रहे हैं। विशेष रूप से, जबकि उच्च न्यायालय ने पेवर ब्लॉक की स्थापना पर ही प्रतिबंध लगा दिया है, इस आदेश का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। उल्हासनगर के मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने शहर के कई विवादास्पद अनुबंधों की जांच शुरू की है और 16 करोड़ रुपये के काम को रोक दिया है। फिर भी कंक्रीट ब्लॉक बनाए हुए सड़कों पर पेवर्स ब्लॉक लगाए जा रहे हैं, जबकि बड़े-बड़े अनुबंधों के बिलों को रोक दिया गया है । जब इस मामले को पिछले हफ्ते मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख के संज्ञान में लाया गया था, तब उन्होंने तत्कालीन उपायुक्त देहेरकर और शहर के इंजीनियर महेश सितलानी से संवाद करके काम रोकने का मौखिक आदेश दिया था। लेकिन उसके बाद ठेकेदार ने काम पूरा कर दिया। जब मामला मनपा आयुक्त के संज्ञान में लाया गया, तो वे अपने दिए बयान से पलटते नजर आए । उमपा आयुक्त देशमुख ने स्पष्टीकरण दिया है कि इस सड़क की कंक्रीट खराब अवस्था में थी। हालांकि, सड़क अच्छी स्थिति में थी। सड़क को फिर से कंक्रीट करने में तीन से चार करोड़ रुपये लगते, लेकिन केवल ४५ लाख रुपये की लागत वाले पेवर ब्लॉक से महानगरपालिका को फायदा हुआ है,ऐसी नई खोज मनपा आयुक्त ने की है। पिछली महानगरपालिका के आयुक्त के आदेश को सुधाकर देशमुख ने किया खारिज 2014 में, तत्कालीन मनपा आयुक्त मनोहर हीरे ने कंक्रीट सड़कों पर पेवर ब्लॉक नहीं लगाने के लिए एक सख्त आदेश जारी किया था। हालांकि, इस आदेश को हाल ही में सेवानिवृत्त आयुक्त अच्युत हांगे ने नकार दिया था, और लगभग 45 लाख रुपये के काम को मंजूरी दी थी। जब काम शुरू हो गया था, तो आयुक्त सुधाकर देशमुख, जो वित्तीय मामलों में सख्त हैं, , जबकि लग रहा था कि वे हांगे की गलती को सुधारेंगे और इंजीनियरों पर कार्रवाई करेंगे लेकिन उन्होंने भ्रष्ट इंजीनियरों के काम को मूक सहमति दे दी है !
  • फर्जी पत्रकार व समाजसेवक के भेष में ब्लैकमेलिंग करने वाले गिरोह का खंडनी पथक ने किया पर्दाफाश !

    By fast headline india →
    फर्जी पत्रकार व समाजसेवक के भेष में ब्लैकमेलिंग करने वाले गिरोह का खंडनी पथक ने किया पर्दाफाश ! 

    5 हजार का हप्ता लेते तीन फर्जी पत्रकार व समाजसेवक हुए गिरफ्तार !

     गिरोह का सरगना सूरज अभी है फरार !

     इससे पहले भी फ्राड के कई मामलों में रह चुका है आरोपी ! 

    ठाणे खंडनी पथक की कार्यवाई से समाजसेवकों के रूप ब्लैकमेलिंग का धंधा करने वालो में मचा हडकंप !

     पुलिस की जांच में शहर के कई और ब्लेकमेलरो के चेहरों से उठ सकता है नकाब ?

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में होटल ब्यवसाई को ब्लैकमेल करके उनसे हप्ता वसूली करने वाले फर्जी पत्रकार व समाजसेवक का चोला पहन कर ब्लैकमेलिंग करने वाली टोली का पर्दाफाश ठाणे खंडनी पथक के द्वारा किया गया है पुलिस ने गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है जबकि टोली का सरगना सूरज मनवानी अभी भी फरार है !
    पुलिस से मिली जानकारी के उल्हासनगर के होटल ब्यवसाई रवि शेट्टी को पिछले कुछ दिनों से एक सक्रिय टोली के जरिये ब्लैकमेल करके पैसे की मांग किया जा रहा था परेशान होकर शेट्टी ने इसकी शिकायत ठाणे खंडनी पथक से उसी शिकायत पर ठाणे खंडनी पथक ने एक जाल बिछाया जब उस गिरोह के तीन लोग शेट्टी से 5 हजार रुपये ले रहे थे तभी ठाणे खंडनी पथक ने तीनों को पैसे लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया गिरफ्तार लोगो के नाम तरुण असरानी, जावेद अली सय्यद और सुरजीत बंगाली, है जबकि इस गिरोह का सरगना सूरज मनवानी अभी भी फरार है जिसकी तलाश में पुलिस जुटी हुई है बता दे कि सूरज मनवानी नामक कथित पत्रकार व कथित समाजसेवी महादान कल्याण संस्था के नाम पर लोगो की शिकायत कर उनको बदनाम करने की धमकी देकर धन उगाही का कम करते है इस मामले भी शेट्टी के होटल की शिकायत कर उससे 25 हजार रुपयों का हफ्ता मांगा था जिसके बाद ठाणे जिला खण्डनी विरोधी पथक द्वारा 5000 रुपये हफ्ता लेते हुए 27 अगस्त की देररात रंगेहाथ पकड़े गए। समाजसेवकों भेस में ऐसे और कितने ब्लेकमेलर शहर घूम रहे पुलिस अगर सही तरीके से जांच करेगी तो कई ओर लोगो के चेहरे से नकाब हट सकता है !
  • गणेश उत्सव से पहले सड़क के खड्डे भरने को लेकर शिवसेेना के नेताओ नेे किया आयुक्त से मुलाकात !

    By fast headline india →
    गणेश उत्सव से पहले सड़क के खड्डे भरने को लेकर शिवसेेना के नेताओ  नेे किया आयुक्त से मुलाकात ! 

    उल्हासनगर प्रशासन की आंखे खोलने के लिए शिवसेना उतरी मैदान में ! 

    गणेश विसर्जन घाटों की अवस्था है दयनीय ! 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में भले ही गणेशोत्सव नजदीक आ रहा हो, लेकिन शहर की हालत खराब है। इस मुद्दे पर चर्चा के लिए शिवसेना का प्रतिनिधिमंडल आज मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख से मिला। उल्हासनगर शहर के सभी प्रमुख मार्गों पर गड्ढों का साम्राज्य फैल गया है। हालांकि, इन गड्ढों ने कई नागरिकों की जान ले ली है, लेकिन मनपा प्रशासन की आँखें अभी तक नहीं खुली हैं। गणेश उत्सव का समय आ रहा है, लेकिन यह दर्शाता है कि प्रशासन कितनी लापरवाह है। गणेश घाट पर और अन्य विसर्जन स्थल पर प्रशासन ने अभी तक विसर्जन की व्यवस्था नहीं की है,
    इसलिए विसर्जन के समय बाधा आ सकती है। मनपा प्रशासन ने यातायात में बाधा पड़ने के कारण कुछ गणेश मंडलों को अनुमति देने से इनकार कर दिया है, लेकिन दूसरी ओर, शिवसेना ने सवाल उठाया है कि मनपा प्रशासन कई वर्षों से अवैध निर्माण, कई सड़कों पर अवैध पार्किंग, सड़कों पर मलबा डालने पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रहा है। इस अवसर पर चौधरी और शिवसे वरिष्ठ नगरसेवक धनंजय बोडारे, अरुण आशान, दिलीप गायकवाड़, शेखर यादव, रमेश चव्हाण, सुनील सुर्वे, सुरेश जाधव ,कुलदीप सिंह, उप शहर प्रमुख राजू साहू, शहर अधिकारी बाला श्रीखंडे, ज्ञानेश्वर मरसाले व पप्पू जाधव ने मनपा आयुक्त देशमुख से मिलकर इस संदर्भ में एक लिखित निवेदन दिया है। मनपा आयुक्त ने किया सड़कों का निरीक्षण मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख, उपायुक्त संतोष देहरकर, पूर्व विधायक कुमार आयलानी ने सड़कों का निरीक्षण किया और प्रशासन को तुरंत गड्ढों को ठीक करने का आदेश दिया।
  • उल्हासनगर में गणेश पंडालों को परमिशन के नामपर किया जा रहा है परेशान !

    By fast headline india →
    उल्हासनगर में गणेश पंडालों को परमिशन के नामपर किया जा रहा है परेशान ! 

    मनपा के द्वारा हुई कुछ गणेश पंडालों पर कार्यवाई से शिवसेना आई हरकत में ! 

    सोमवार को डीसीपी व मनपा आयुक्त से शिवसेना शहर प्रमुख चौधरी करेंगे मुलाकात !

     20 से 25 सालों से मना रहे गणेश उत्सव के पंडालों को भी परमिशन देने में मनपा व ट्रैफिक विभाग के द्वारा आनाकानी ! 

    दूसरे हिन्दू संगठनों की चुप्पी पर भी खड़े हुआ सवाल ? 
     फाईल फोटो

    उल्हासनगर-उल्हासनगर शहर के सभी गणेश पंडालों को परमिशन के नाम पर परेशान का मामला सामने आया है,20 से 25 सालों से लगाये जा रहे गणेश पंडालों को भी परमिशन के नाम पर उठापठक कराया जा रहा है, इन्ही सारी शिकायतों को देखते हुए शिवसेना शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी अपने सहयोगियों के साथ मनपा आयुक्त व जोन 4 के डीसीपी से मुलाकात करने वाले है !
    गौरतलब हो कि उल्हासनगर शहर में हर साल की तरह इस साल भी लोग गणेश पंडाल लगाने के लिए ऑनलाइन परमिशन के फार्म भरे है उन लोगो को परमिशन देने के बजाय उन्हें धक्के खिलाया जा रहा है कभी मनपा के विभागों द्वारा तो कभी ट्रेफिक पुलिस विभाग के जरिये कोई भी कारण बताकर परमिशन देने में आनाकानी करते दिखाई दे रहे है,मनपा प्रशासन के द्वारा दो तीन दिनों में कुछ गणेश पंडालों पर कार्यवाई भी किया है,इस बात की जानकारी जब शिवसेना शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी को मिला उन्होंने तुरंत ट्रैफिक विभाग की एसीपी से मुलाकात किया और टैफिक विभाग के द्वारा परमिशन में हो रही देरी को लेकर चर्चा किया और आगे ऐसा न हो इसका ध्यान देने की मांग किया है इसी विषय को लेकर चौधरी अपने शिवसैनिकों के साथ सोमवार को मनपा आयुक्त व जोन 4 के डीसीपी से मुलाकात कर गणेश पंडालों के परमिशन हो रही देरी पर बात करेंगे, यदि प्रशासन ने समय पर हमारे गणेश पंडालों की समस्या को दूर नही किया गया तो शिवसेना इस मुद्दे पर आंदोलन करने से भी पीछे नही रहेगी,इस बार जिस तरह से यह मामला देखने में आ रहा है वह कहि न कही जानबूझकर हिन्दू के त्यौहारो को मनाने वाले लोगो परेशान करने की कोशिश तो नही ऐसा सवाल खड़ा होना स्वाभाविक है ! मनपा प्रशासन के द्वारा पिछले कुछ दिनों में जिस तरह से गणेश पंडालों पर कार्यवाई किया गया उसको देखने बात यह लगता है कि इस परेशानी के पीछे की मानसिकता कही कोई सोची समझी रणनीति का हिस्सा तो नही है, इस विषय पर हिन्दू संगठनों की आगे की भूमिका क्या होगी वह भी देखने वाली बात होगी, वही गणेश पंडाल लगाने वालों बताया कि हम पिछले 20 से 25 सालों गणेश पंडाल लगाकर भगवान गणेश की पूजा करते आ रहे परंतु इस साल परमिशन के नाम पर जिस तरह से परेशान किया जा रहा है वह पहले देखने को नही मिला जब हमारा पंडाल हमेशा वही पर लगता है फिर इस बार उसमें नया क्या है जो परमिशन के नाम पर इतना ड्रामा किया जा रहा है ऐसा सवाल गणेश पंडाल लगाने वालों के द्वारा उठाया जा रहा है, वही इस विषय पर जब शिवसेना शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी से बात किया गया तो उन्होंने साफ शब्दों कहा कि पूरे शहर में 12 महीने ट्रेफिक की समस्या रहती है परन्तु जब गणेश पूजा के पंडाल लगाने की बात आती है तब इन्हें कानून की याद आता है,मेरा सवाल है कि जो रोड़ के किनारों पर अतिक्रमण करके कानून को ठेंगा दिखाकर गाड़ी पार्क करके धंधा करते है उन पर ये लोग कार्यवाई क्यो नही करते कही इसके पीछे कोई सेटिंग तो नही है अगर नही है इनपर कार्यवाई क्यो नही करते इनको पूरी ट्रैफिक समस्या गणेश पंडालों के जरिये क्यो दिखाई देता है, नियम और कानून सब पर समान लागू होना चाहिए सोमवार को इस विषय पर डीसीपी व मनपा आयुक्त से मुलाकात करने वाले है उसमें गणेश पंडाल के परमिशन व रोड के खड्डों के विषय पर चर्चा होगी और आगे किसी गणेश पंडाल को परेशानी नही होगी ऐसा आसा करते है,अगर आगे ऐसा फिर हुआ तो शिवसेना उसका अपने स्टाइल में जवाब देगा !
  • अनाथ बच्चों को सही दिशा मिले इस लिए इन बच्चों का जन्मदिन अपने घर पर लाकर साथ में मनाए-सांसद शिंदे

    By fast headline india →
    अनाथ बच्चों को सही दिशा मिले इस लिए इन बच्चों का जन्मदिन अपने घर पर लाकर साथ में मनाए-सांसद शिंदे 

    10 सालों से उल्हासनगर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया व मराठी पत्रकार संघ के द्वारा आयोजित की जाती है यह दहीहांडी उत्सव ! 

    बच्चों ने अपने डांस के जरिये कार्यक्रम को लगाया चार चांद ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर के केंम्प नम्बर 5  तहसीलदार कार्यालय के बगल सरकारी अनाथालय में बड़े ही धूमधाम से मनाई गई दही हंडी का उत्सव उसमें प्रमुख उपस्थिती शिवसेना के सांसद डॉक्टर श्रीकांत शिंदे व शिवसेना के पदाधिकारियों के साथ उपस्थित थे।
      गौरतलब हो कि डॉक्टर शिंदे ने दहीहंडी पर्व पर अपने विचार ब्यक्त करते हुए कहे कि उल्हासनगर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया व मराठी पत्रकार संघ का विगत 10 वर्ष से अनाथ बच्चों के साथ मिलकर दहीहंडी का उत्सव मनाना करते है यह एक सराहनीय कदम है।इतना ही नही डॉक्टर शिंदे ने शिवसेना के उपस्थित पदाधिकारियों को सलाह दी कि अनाथालय में आकर लोग अपना जन्मदिन मनाते हैं।अब आगे से जिस अनाथ बच्चे का जन्मदिन हैं ।उसे अपने घर पर ले जाकर यदि उसका अपने परिवार के साथ जन्मदिन मनाते हैं तो वह बच्चा अपने आप को अनाथ नही समझेगा। इस पर उल्हासनगर के शिवसेना शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी ने पहले पहल करते हुए कहा कि जिस भी बच्चे का अभी जन्मदिन आएगा उसका जन्मदिन हम अपने घर ले जाकर मनाएंगे।शिवसेना के उमपा के विरोधी पक्ष नेता धनंजय बोडारे ने भी अपने संबोधन कहा कि अगर इन अनाथ बच्चों को सही संस्कार देना है तो ऐसी पहल के जरिये किया जा सकता है ! इस दहीहंडी उत्सव में डॉक्टर श्रीकांत शिंदे के साथ डॉक्टर बालाजी किनिकर, सुनील चौधरी, धनजंय बोडारे,दिलीप गायकवाड़, अरुण आसान, बाला श्रीखण्डे, प्रभु लहाने,गणेश शिंपी,अजित गवारी, अनाथालय की संचालिका ठाकरे,महिला बालकल्याण समिति की सदस्य श्रीमती ठाकरे उपस्थित रही।इसके अलावा एसएसटी महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने भी अनाथ बच्चों के साथ मिलकर दहीहंडी फोड़ने का आनंद लिये।अंत मे अनाथ बच्चों के साथ स्वादिष्ट भोजन का आनंद उपस्थिति लोगो ने लिया।
  • चार मंजिला इमारत ढहने से अबतक 2 लोगों की मौत, 5 गंभीर रूप से घायल !

    By fast headline india →
    चार मंजिला इमारत ढहने से अबतक 2 लोगों की मौत, 5 गंभीर रूप से घायल ! 

    10 से ज्यादा लोग फंसे होने की संभावना ! 

    दमकल विभाग व (एनडीआरएफ) के कर्मी मलबे में फंसे लोगों को बचाने में जुटे ! 

    8 साल पहले बनी थी यह अवैध ईमारत ! 

     भिवंडी- भिवंडी में एक चार मंजिला इमारत गिर गई है। भिवंडी में इमारत ढहने की जगह पर बचाव अभियान जारी है। इस हादसे में अबतक 2 लोगों की मौत हो गई है।पांच लोग गंभीर रूप से घायल हैं। मृतकों की पहचान सिराज अहमद अंसारी (27) और आकिब अंसारी (22) के रूप में हुई है। वहीं घायल होने वाले लोगों में अब्दुल अजीज सैयद मुलानी (55), जावेद सलीम शेख (34), नरेंद्र बावने (35), देवीदास वाघ (34) और सूफियान अब्दुल हसन (23) शामिल हैं।

    इन सभी घायलों को भिवंडी के इंदिरा गांधी मेमोरियल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया हैं, शनिवार की सुबह भिवंडी में एक इमारत ढहने की घटना सामने आई। भिवंडी-निजामपुर नगर निगम के आयुक्त अशोक रांखम के मुताबिक यह इमारत जीर्ण-शीर्ण अवस्था में थी और जब यह हादसा हुआ तब इसे खाली किया जा रहा था। भिवंडी-निजामपुर नगर निगम के आयुक्त ने आगे कहा, 'लोगों ने हमें सूचित किया था कि इमारत गिर सकती है। मैं अधिकारियों के साथ घटनास्थल पर पहुंचा और इमारत को खाली करने के लिए कहा। लोगों ने इमारत को खाली कर दिया, लेकिन तब कुछ लोग अपना सामान लेने के लिए अंदर गए। इस बीच, इमारत गिर गई। यह 8 साल पुरानी इमारत है और ये अवैध रूप से बनाई गई थी। इसकी जांच की जाएगी। आपदा प्रबंधन अधिकारी संतोष कदम ने बताया कि दमकल विभाग और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) के कर्मी मलबे में फंसे लोगों को बचाने के लिए एक अभियान चला रहे थे। मलबे में अभी भी 10 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका है।
  • आवारा कुतिया के साथ बलात्कार करने वाले नराधम को पुलिस ने किया गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    आवारा कुतिया के साथ बलात्कार करने वाले नराधम को पुलिस ने किया गिरफ्तार ! 

     एनिमल एक्टिविस्‍ट विजय रंगारे ने रेप के आरोपी व्‍यक्ति के खिलाफ दर्ज कराई एफआईआर ! 

    आरोपी व्‍यक्ति के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के तहत दर्ज हुआ मामला ! 

     इस मामले 10 साल की हो सकती है सजा ! 
     फाईल फोटो 

    नवी मुंबई- नवी मुंबई इलाके में एक व्‍यक्ति को आवारा कुतिया के साथ रेप के आरोप में अरेस्‍ट किया गया है। वन्‍यजीवों के लिए काम करने वाली संस्‍था 'पीटा' के सहयोग से एनिमल एक्टिविस्‍ट विजय रंगारे ने रेप के आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। पीटा ने आरोप लगाया कि आरोपी व्‍यक्ति पहले भी कई जानवरों के साथ इस तरह की हरकत कर चुका है।बताया जा रहा है कि आरोपी ने खारगर इलाके में रेप की घटना को अंजाम दिया। आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के तहत मामला दर्ज किया गया है। धारा 377 के मुताबिक एक पशु के साथ इंसान का रेप करना अपराध है और इसके लिए दोषी व्‍यक्ति को 10 साल तक की सजा हो सकती है।
    गौरतलब हो कि इस विषय पर मनोचिकित्सको का मानना है कि पशुओं के साथ रेप की घटना को अंजाम देने वाला मानसिक रूप से काफी डिस्‍टर्ब होता है। बता दें कि स्‍वतंत्रता दिवस के दिन कुतिया के साथ रेप का विडियो वायरल हो गया था। इसके बाद एनिमल एक्टिविस्‍ट विजय रंगारे ने आरोपी व्‍यक्ति की तलाश की और उसे पुलिस के हाथों अरेस्‍ट कराया। रंगारे ने कुतिया की भी तलाश की और उसका मेडिकल परीक्षण कराया। बताया जा रहा है कि अगर मेडिकल रिपोर्ट में रेप का आरोप साबित हो जाता है तो आरोपी व्‍यक्ति को 10 साल तक की सजा हो सकती है। वायरल विडियो में नजर आ रहा है कि आरोपी व्‍यक्ति कुतिया के मुंह में अपना प्राइवेट पार्ट डाल देता है। वह कुतिया की पिटाई भी करता है।
  • मनपा के टैक्स विभाग मचा अफरातफरी !

    By fast headline india →
    मनपा के टैक्स विभाग मचा अफरातफरी ! 

    पद मुक्त किए गए भदाने ने किया था मनपा को साढ़े तीन करोड़ का फायदा ! 

    क्या ऐसे कर्तब्य निष्ठ अधिकारी को मनपा आयुक्त वापस देगे पदभार ? 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर मनपा के अपने कामो के चलते विवादों में रहने वाले अधिकारी युवराज भदाने, स्थानीय निकाय कर विभाग के प्रभारी के रूप में, आठ व्यापारियों के कर का पुनर्निधारण किया है और मनपा की तिजोरी में 3 करोड़ रुपये जमा किए हैं। इसलिए, यह सवाल उठ रहा है कि क्या मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख भदाने को पुनः काम पर लेने का फैसला लेंगे या नहीं ।
    बता दे कि २०१२ में, महाराष्ट्र सरकार द्वारा महानगरपालिकाओं में स्थानीय कर लागू किया गया था। यह टैक्स २०१५ तक शुरू था। इस अवधि के दौरान,१५,००० व्यापारियों ने स्थानीय संगठन कर में रजिस्ट्रेशन दर्ज किया था। २०१५ में कर बंद करने के बाद, इन व्यापारियों को कर का अंतिम विवरण प्रस्तुत करना आवश्यक था। लेकिन उन्होंने नहीं किया। परिणामस्वरूप, मनपा ने सेवानिवृत्त बिक्री कर अधिकारियों को नियुक्त किया था। ५ कर अधिकारियों में से ३ अधिकारियों ने काम छोड़ दिया था। इन अधिकारियों ने पहले ही ९७० व्यापारियों के अंतिम कर का निर्धारण किया था। इसके कारण, अभी भी १४०५० व्यापारियों की कर निर्धारण बकाया है। अंतिम कर निर्धारण नहीं करने वाले छह व्यापारियों को नोटिस जारी करने के बाद, पिछले मार्च में, मनपा आयुक्त अच्युत हांगे ने स्थानीय आयकर विभाग के उपायुक्त पद पर युवराज भदाने को नियुक्त करने के बाद १४०५० व्यापारियों को कर निर्धारण के लिए नोटिस भेजा था। तत्कालीन उप आयुक्त जमीर लैंगरेकर, विनायक फासे और सेवानिवृत्त कर अधिकारी विसपुते ने १,००० व्यापारियों के कर का अंतिम मूल्यांकन किया था और महानगरपालिका के तिजोरी में २ करोड़ ७९ लाख रुपए भरे थे और पांच व्यापारियों को ९० लाख रुपए का रिफंड देने का आदेश दिया था। ब्याज के साथ रिफंड १० करोड़ १० लाख रुपए तक चला गया। इसलिए, महानगरपालिका में प्रत्यक्ष रूप से १ करोड़ ६९ लाख रुपए की राशि जमा की गई थी। भदाने को इसमें कुछ गोलमाल लगा, जिसके लिए उन्होंने कुछ व्यापारियों के अंतिम कर निर्धारण को फिर से शुरू किया। इस प्रक्रिया में, उन्होंने उन्हें भुगतान की जाने वाली ९० लाख रुपए की धनराशि को रद्द कर दिया, और गजानन मार्केट के दुबई दुपट्टा और शगुन इन दो खाताधारकों से ४७ लाख रुपए और एक व्यापारी, कुमार टेक्सटाइल से १५ लाख रुपए वसूल किए। परमानंद आहूजा, जो कि पीजी टेक्सटाइल के व्यापारी हैं, उनसे अभी तक १ करोड़ ३९ लाख रुपए मिलने हैं। चूंकि आहूजा नगरपालिका में इस राशि का भुगतान करने के लिए तैयार नहीं हैं, इसलिए भदाने ने आहूजा के बैंक खातों को सील कर दिया है। इस कार्रवाई के कारण नगरपालिका को ३ करोड़ रुपए का फायदा हुआ है। उल्हासनगर महानगरपालिका आयुक्त सुधाकर देशमुख, जिन्हें मनपा के अधिकारियों ने ४० महीने में १करोड़ ६९लाख रुपए काम के दिया है वहीं जिस भदाने को पदमुक्त किया गया, उसी भदाने ने पिछले चार महीनों में ३ करोड़ 19 लाख रुपए का लाभ मनपा को दिया,ऐसा लगता है आयुक्त ने भदाने को इसका इनाम पदमुक्त करके दिया है। भदाने ने तत्कालीन कमिश्नर अच्युत हांगे से इस तथ्य की जांच करने की मांग की थी कि बाकी व्यापारियों के अंतिम निर्धारण में कुछ गोलमाल है और तत्कालीन अधिकारियों ने मामले में बहुत भ्रष्टाचार किया था। यह सब नए आयुक्त के संज्ञान में आने से पहले ही, यह प्रतीत होता है कि व्यापारियों के समर्थकों ने और भ्रष्टाचार में लिप्त व्यापारियों ने भदाने को पदमुक्त करने के लिए मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख पर दबाव डाला है। सभी का ध्यान इस पर लगा है कि क्या १६ करोड़ रुपए के विकास कार्यों को रद्द करने वाले मनपा आयुक्त देशमुख फिर से युवराज भदाने को पदभार दे रहे हैं क्या ?
  • मनपा पीडब्ल्यूडी विभाग का नायाब कारनामा, अच्छे सीमेंट रोड़ पर लगवा रहे है पेवर ब्लॉक !

    By fast headline india →
    मनपा पीडब्ल्यूडी विभाग का नायाब कारनामा, अच्छे सीमेंट रोड़ पर लगवा रहे है पेवर ब्लॉक !

    10 लाख के काम को 45 लाख रुपये से पेवर ब्लॉक लगाने दिया गया है ठेका !

    मनपा अधिकारी व ठेकेदार और स्थानीय नगरसेवक की मिलीभगत हो रहा झोलझाल !

    मनपा आयुक्त ने दिया काम रोकने का आदेश,जांच करके पेवर ब्लॉक के काम को रद्द करने का दिया संकेत !

    जिस मनपा के पास दूसरे नगरसेवकों के गटर के ठक्कन व शौचालयो के टूटे दरवाजे के लिए नही है पैसे !

    वही मनपा अच्छे खासे सीमेंट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने के नाम लुटा रही है 45 लाख !

    उल्हासनगर- उल्हासनगर दो नम्बर परिसर में हेमराज डेरी के सामने की अच्छा खासा सीमेंट रोड़ पर पेवर ब्लॉक लगाने का नायाब कारनामा मनपा के पीडब्ल्यूडी व ठेकेदार के द्वारा किए जाने का मामला सामने आया है, वही यह विषय की जानकारी जैसे मनपा आयुक्त सुधाकर शिंदे को मिला तो उन्होंने काम रोकने का आदेश दिया है और जांच कर उचित कार्यवाही करने को कहा है ! जहाँ पर 10 लाख में काम हो जाता उसी काम को करने के लिए 45 लाख का किया जा रहा है इसका मतलब इ का में बड़ा घोटाला होने का भी अंदेशा है ऐसा आरोप आम जनता के द्वारा किया जा रहा है !
     बता दे कि उल्हासनगर - 2  में हेमराज डेरी परिसर में नगरसेविका सरोजिनी टेकचंदानी इनके प्रभाग में एक अच्छा सीमेंट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने का काम किया जा रहा है, इस काम को करने के लिए 45 लाख की मनपा के जनरल निधी से खर्च किया जा रहा है . विशेष तौर पर देखा जाय तो उच्च न्यायालय ने पेवर ब्लॉक को रोड़ पर लगाने पर बंद किया है वही नही तो उमपा के पूर्व आयुक्त मनोहर हीरे ने रोड पर पेवर ब्लॉक का काम नही करने का आदेश निकाला था उसके बाद इन आदेशों की धज्जियां उठाते हुए यह काम किया जा रहा है .एक ओर जहां मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख के द्वारा शहर के कई विवादित कामो की जांच किया जा रहा है, यही नही 16 करोड़ के काम को भी रद्द किया है ऐसे में सारे नियमो को ताख पर रखकर मनपा के पीडब्ल्यूडी विभाग के द्वारा टेंडर के जरिये 15 लाख के तीन काम कुल 45 लाख के पेवर ब्लॉक सीमेंट रोड पर किया जा रहा है, इसके पीछे की क्या मंसा यह समझना कोई मुश्किल बात नही है जो काम 10 लाख में हो सकता 45 लाख रुपये खर्च किया जा रहा है,मतलब मनपा पीडब्ल्यूडी व ठेकेदार और स्थानीय नगरसेवक मिलकर इस घोटाले को अंजाम दे रहे है,मंगलवार की महासभा में सत्ताधारी व विरोधी पक्ष समेत सभी नगरसेवक अपने वार्ड के काम नही होने के चलते जमीन पर बैठक विरोध किया कुछ नगरसेवकों ने शौचालय के दरवाजे की मरम्मत व गटर के ठक्कन तक के काम करने की निधी नही मिल रहा है वही दूसरी तरफ अच्छे खासे रोड़ पर पेवर ब्लॉक लगाकर क्या दिखाने की कोशिश किया जा रहा है क्या मनपा प्रशासन भी नगरसेवकों में भेदभाव कर रही क्या ऐसा सवाल खड़ा हो रहा है,10 लाख में होने वाले काम पर 45 लाख खर्च करने का नायाब कारनामा करने वाले लोगो पर मनपा आयुक्त क्या कार्यवाई करते है वह देखने वाली होगी ! वही जब इस विषय पर स्थानिक नगरसेविका सरोजिनी टेकचंदानी से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि रोड खराब था इसके लिए हम बार बार मनपा प्रशासन व पीडब्ल्यूडी से पत्र लिखकर काम करने की मांग किया उसी का नतीजा है कि यह काम पास हुआ है .अगर किसी को हमारे इस काम से दिक्कत है तो मनपा में अपनी शिकायत दे अगर मनपा प्रशासन के अधिकारी यह काम का बंद करेगे, अगर वो काम बंद किया तो हम इसके लिए कोर्ट जाने की भी तैयारी है अगर गलत काम है तो मनपा आयुक्त पहले पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों पर कार्यवाई करे फिर काम बंद करे , वही जब मनपा के पीडब्ल्यूडी के उप अभियंता संदीप जाधव से बात किया गया तो उनका कहना था कि रोड खराब था पानी की पाइप लाइन के लिए रोड खोदा गया था जिससे रोड ज्यादा खराब थी और यह मार्केट का रोड़ है तो इस लिए पेवर ब्लाक लगाने का निर्णय लिया गया ताकि काम जल्दी हो और ब्यापारियों को कोई तकलीफ़ नही हो,इसके बाद मनपा उपायुक्त मुख्यालय संतोष देहरकर से इस मामले पे बात किया गया तो उन्होंने कहा कि अगर पेवर ब्लॉक का काम सीमेंट रोड पर किया जा रहा है यह तो गलत है,और काम की जानकारी लेकर काम तुरंत रोकने का आदेश देता हूं, इसके बाद मनपा आयुक्त सुधाकर देेेशमुुुख से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि काम रोकने का आदेश दिया गया है और इस काम की जांच करके कार्यवाई करने की बात आयुक्त ने कही है, इसके बाद कल देखना होगा कि काम चालू रहता है या बंद ! बहरहाल इस काम में बड़ा घोटाला भी हुआ है किसने किया किसकी मिली भगत से यह काम पास हुआ वह टी जांच में सामने आएगा ऐसे यह सवाल उठता जब मनपा प्रशासन के पास गटर के ठक्कन व शौचालय के टूटे हुए दरवाजे बनाने के लिए पैसे नही है तो फिर 45 लाख रुपये अच्छे खासे सीमेंट रोड पर खर्च करके क्या दिखाना चाहती मनपा प्रशासन ? 

      

  • ट्रैफिक पुलिसकर्मी के साथ हुआ मारपीट, तीन युवक को पुलिस ने किया गिरफ्तार !

    By fast headline india →
    ट्रैफिक पुलिसकर्मी के साथ हुआ मारपीट, तीन युवक को पुलिस ने किया गिरफ्तार !

    नाबालिग लड़कों को मोटरसाइकल चलाते देखकर हवादार ने रुकाया !

    हवलदार को पकड़ लिया और फिर किया धक्का-मुक्की व गाली-गलौज कर यूनिफॉर्म फाड़ दिया !

     ठाणे-ठाणे के मुंब्रा यातायात पुलिस चौकी में तैनात कॉन्स्टेबल अंगद मुंडे ने पुलिस में दर्ज शिकायत में बताया कि वरिष्ठ निरीक्षक लंबाते के साथ वह ड्यूटी पर तैनात थे। जब वे मुंब्रा के तनवीर नगर से गुजर रहे थे, तो उन्होंने कई नाबालिग लड़कों को मोटरसाइकल चलाते देखा। जब उनको रोका तो वो लोग ट्रैफिक पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट किया है। ट्रैफिक पुलिस की शिकायत पर मामला दर्ज कर पुलिस ने तीन नाबालिगों को गिरफ्तार किया है।प्राप्त जानकारी के अनुसार, यातायात पुलिस ने मोटरसाइकल चलाने वाले कुछ लड़कों को पकड़ा था, जो नाबालिग थे। इसी बात को लेकर यह घटना हुई। यातायात पुलिस चौकी के बाहर जमा युवकों ने एक कॉन्स्टेबल को पकड़ लिया और उसके साथ धक्का-मुक्की व गाली-गलौज कर यूनिफॉर्म फाड़ दी। घटना के लिए जिम्मेदार तीन युवकों को मुंब्रा पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जबकि एक अब भी फरार है। आरोपी अफनान कुरैशी, फैजान शेख, शमसुद्दीन बांगी तथा तमसील कुरैशी के खिलाफ आईपीसी 332, 504, 34, 353 तथा 427 के तहत मामला दर्ज किया गया है। मुंब्रा यातायात पुलिस चौकी में तैनात कॉन्स्टेबल अंगद मुंडे ने पुलिस में दर्ज शिकायत में बताया कि वरिष्ठ निरीक्षक लंबाते के साथ वह ड्यूटी पर तैनात थे। जब वे मुंब्रा के तनवीर नगर से गुजर रहे थे, तो उन्होंने कई नाबालिग लड़कों को मोटरसाइकल चलाते देखा। वरिष्ठ निरीक्षक लंबाते के आदेश पर टोइंग वैन मंगाकर 7 मोटरसाइकल को पकड़ा। सभी को लाइसेंस और गाड़ी के कागजात सहित पुलिस चौकी पर आने को कहा। पुलिसकर्मी जब तक पुलिस चौकी पर पहुंचते, उससे पहले ही युवकों का हुजूम चौकी के बाहर पहुंच गया। पुलिसकर्मियों ने जब उनसे लाइसेंस और गाड़ी के कागज की मांगे, तो युवकों ने बिना कुछ दिखाए बाइक छोड़ने की जिद की। पुलिसकर्मियों ने जब बाइक देने से मना किया, तो युवकों ने हंगामा शुरू कर दिया। इसी बीच, कुछ युवकों ने ड्यूटी पर तैनात कॉन्स्टेबल अंगद मुंडे को पकड़ लिया और उसके साथ धक्का-मुक्की व गाली-गलौज की। हंगामा बढ़ता देख मुंब्रा पुलिस को घटना की सूचना दी गई, जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने तीन युवकों को पकड़ लिया।
  • उमपा की महासभा में दिखा नगरसेवकों की गैर जिम्मेदाराना रवैया ! महापौर ने ली सभी की क्लास !

    By fast headline india →
    उमपा की महासभा में दिखा नगरसेवकों की गैर जिम्मेदाराना रवैया ! 

     महापौर पंचम कलानी ने ली नगरसेवकों की क्लास ! 

    शिवसेना व भाजपा नगरसेवकों के बीच हुआ शाब्दिक संग्राम ! 

    शहरवासियों की मूलभूत समस्याओं की बहस के दरम्यान आपस में गप्पा मारते दिखे कुछ नगरसेवक ! 

    माझ्या बोलण्याकडे आयुक्त लक्ष देत नाहीत" मी काय शूद्र आहे काय " -शिवसेना नगरसेविका जाधव

    उल्हासनगर -उल्हासनगर की मंगलवार की महासभा सुरू होते हुए भी कुछ नगरसेवक यह आपस में एक जगह खड़े होकर चर्चा करते दिखे तो कुछ नगरसेवक महापौर की बिना अनुमति के ही बोलने लगे यही नही जिस विषय पर चर्चा हो रही उस विषय से हटकर बोलने वाले ऐसे नगरसेवको को कई बार महापौर पंचम कलानी इन्होंने रोकने का प्रयास भी किया निवेदन किया परन्तु जब इसके बावजूद भी जब इनकी बाते बंद नही हुआ तो महापौर इन सब की अच्छे से क्लास लेते हुए फटकार लगाकर महासभा की मर्यादा ख्याल रखने की नसीहत दी !
    बता दे कि मनपा महासभ में कुछ नगरसेवको के द्वारा गैरजिम्मेदाराना हरकतें देखने को मिला मंगलवार की महासभा में उल्हासनगर शहर में बेघर हुए लोगो के पुनर्वसन को लेकर इस विषय पर गंभीर मुद्दे पर चर्चा सुरू थी तभी कुछ नगरसेवक महापौर के सामने ही खड़े होकर बिना वजह की दूसरे किसी विषय पर आपस में चर्चा शुरू कर दी थी .   यह पूरा गैरजिम्मेदाराना रवैया सुरू होते देख कर भी उसे नजरअंदाज करते हुए शिवसेना नगरसेविका ज्योतस्ना जाधव इन्होंने शहर के शौचालयो की हो रही दुर्दशा की तरफ प्रशासन का ध्यान देने की बात कर रही थी इतने गभीर विषय के वावजूद जब उनकी बात को नजरअंदाज किया तो उन्होंने उपायुक्त संतोष देहरकर और उपमहापौर जीवन ईदनानी की हो रही चर्चा पर अपना ध्यान केंद्रीत करने के लिए यह आरोप करते हुए कहा कि "माझ्या बोलण्याकडे आयुक्त लक्ष देत नाहीत" मी काय शूद्र आहे काय " ऐसा वादग्रस्त शब्द का उच्चारण किया . दूसरी तरफ भाजप नगरसेवक जमनू पुरुसवानी यह महासभा बोल रहे तभी शिवसेना मनोनीत नगरसेवक सुरेंद्र सावंत इन्होंने बीच रुकाते हुए उनसे अरे तरे की भाषा जैसे शब्दों का उल्लेख किया जिसके बाद शिवसेना और भाजपा नगरसेवको में शाब्दिक वादविवाद हुआ .इसके चलते महासभा में तनावपूर्ण माहौल भी देखने को मिला .       भाजप नगरसेवक प्रदीप रामचंदानी ने कहा कि मनपा प्रशासन किसी प्रकार का काम करने नही दे रही है जिसकी वजह से हम लोगो को जनता के सामने जाकर अपना मुंह दिखाने में शर्म आता है इससे अच्छा होगा कि हम सारे नगरसेवक अपना राजीनामा देदे ऐसी धमकी दी जिस पर भाजपा के नगरसेवक डॉ प्रकाश नाथानी इन्होने आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि हम क्यू राजीनामा दे ऐसा प्रश्न रामचंदानी से किया . जिसके चलते भाजपा के नगरसेवक आपस में भिड़ते नजर आए.  इन सारे मामले को देखते हुए महापौर पंचम कलानी इन्होंने पहले सभी नगरसेवको से विनती किया और फिर सभी नगरसेवको महासभा की मानमर्यादा खयाल रखने की हिदायत दिया , और गैरजिम्मेदाराना रवैया आगे से बर्दास्त नही किया जाएगा ऐसे बोलते हुए सबकी क्लास भी ली !
  • उमपा के शिक्षण विभाग में हुए घोटालो का हुआ भंडाफोड़ ?

    By fast headline india →
    उमपा के शिक्षण विभाग में हुए घोटालो का हुआ भंडाफोड़ ? 

    मनपा आयुक्त ने दिए दिए शिक्षण मंडल के सभी कामो के जांच के आदेश !

     मनविसे के अध्यक्ष शेलार की शिकायत पर जागा मनपा प्रशासन ! 

    प्रशासन के द्वारा जो पद ही नही है ऐसे मनमुताबिक नए पद बनाकर देने का भी लगा है आरोप ! 

    उल्हासनगर -उल्हासनगर मनपा शिक्षा विभाग पिछले कुछ वर्षों से विवादों के घेरे में आ गया है। मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने शिक्षा विभाग द्वारा किए गए काम की जांच शुरू कर दी है और शिक्षा विभाग द्वारा महत्वपूर्ण अनुबंधों को अब वापस ले लिया है।
    बता दे कि उल्हासनगर मनपा में 28 स्कूल हैं, जिनमें मराठी, सिंधी, हिंदी और गुजराती स्कूल शामिल हैं। इन स्कूलों को दी जाने वाली शैक्षिक सामग्री, वर्दी, रेनकोट, चिक्की और स्कूल पोषण के अनुबंध हमेशा विवाद के घेरे में पाए गए हैं। इसके अलावा, महिला डिप्टी क्लर्क को उपलेखाधिकारी का पद दिया जाता है, यह पद भी विवादों के घेरे में पाया गया है। मामले की अब जांच चल रही है। महाराष्ट्र नवनिर्माण विद्यार्थी सेना के उल्हासनगर शहर के अध्यक्ष मनोज शेलार ने शिक्षा विभाग की अनियमितताओं के खिलाफ राज्य के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े और विपक्षी नेता धनंजय मुंडे से मुलाकात की थी और शिक्षा बोर्ड के भ्रष्टाचार की जांच की मांग की थी। उन्होंने आरोप लगाया है कि उल्हासनगर मनपा स्कूलों में, बच्चों के बैंक खाते को जानबूझकर नहीं खोला गया है और छात्रों की अधिक संख्या बताकर स्कूल साहित्य, यूनिफॉर्म व पौष्टिक भोजन आदि में भ्रष्टाचार हो रहा है और वरिष्ठता को धता बताकर उप लेखाधिकारी का पद दिया जा रहा है। इस मामले में मनपा शिक्षा अधिकारी बीएच मोहिते से पूछे जाने पर, उन्होंने कहा कि मनपा के स्कूली छात्रों का पंजीकरण ऑनलाइन किया गया है, कई छात्र गरीब हैं और उनके माता-पिता के पास बैंक के लिए आवश्यक दस्तावेज नहीं हैं, इसलिए छात्रों के बैंक खाते खोलने की प्रक्रिया अभी भी जारी है। उप लेखाधिकारी के पद के लिए पूछताछ चल रही है, और मैं आगे टिप्पणी नहीं कर सकता। मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने अब शिक्षा विभाग की जांच शुरू कर दी है और स्कूल की मरम्मत और विकास की जिम्मेदारी शिक्षा विभाग से हटा दी गई है,इस मुद्दे पर और सख्त कार्रवाई किए जाने की संभावना है।