• तेजाब के ढेर पर उल्हासनगर की गोल्ड बाजार ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    तेजाब के ढेर पर उल्हासनगर की गोल्ड बाजार ? 

     सोनारों के द्वारा तेजाब बिना परमिशन के ही किया जा इस्तेमाल !

     स्थानिय रहिवासियों के जान के साथ किया जा रहा खिलवाड़ !

     मनसे ने शासन व पुलिस प्रशासन को लिखित पत्र देकर की कार्यवाई की मांग ! 

    बंद हो सकते सोनार के कारखाने ! 
     फाईल फोटो

    उल्हासनगर -उल्हासनगर शहर में स्थित सोनार गल्ली में लगभग ३०० सोनारों की दुकान है,जहां पर सारे नियमो को ताख पर रखते हुए अवैध तरीके से प्योर ऍसिड का उपयोग होता है, जिसके कारण स्थानिय रहिवासियों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ किया जा और कभी भी इसकी वजह से वहाँ पर रहने वाली की जिंदगी की शामत की संभावना का आरोप मनसे संघटक दिनेश आहुजा ने किया है। इस मामले में उन्होंने स्थानिय पुलिस स्टेशन व प्रदूषण नियंत्रण मंडल और महानगरपालिका में लिखित शिकायत देकर कार्यवाई की मांग किया है।      उल्हासनगर - 1 स्थित सोनारगल्ली यह एक भीड़वाला परिसरात है,यहां सोना खरिदने के लिए ग्राहकों की भीड़ रहती है।इस परिसर में लगभग ३०० सोनारों की दुकाने है,और प्रत्येक सोनार अपने दुकान में सोना

    को चमकाने के लिए ऍसिड का प्रयोग करता है । साधारण 35 लिटर ऍसिड का ड्रम अपने पास रखता है। यह ऍसिड का पानी नाली में छोड़ा जाता है, कभी कभी यह पानी रास्ते पर भी आ जाता है। अगर कभी यहां आग लगी तो संकरी गलियों के कारण अग्निशमन दल की गाडी भी यहां नहीं जा सकती है।इसके कारण इस धोखादायक पद्धति से होनेवाली ऍसिड का प्रयोग बंद करने की मांग मनसे ने किया है।      इस संदर्भ में ज्वेलर्स असोसिएशन के अध्यक्ष अशोक वलेचा से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह एक धोखादायक कार्य है,इस कार्य को नियोजित तरीके से करना चाहिए। कुछ सोनार भाड़े से घर लेते हैं और उसमें सोना गलाने का काम करते हैं। इसके लिए व्यावसायिक गाले बनाना चाहिए और एसिड युक्त पानी बाहर निकालने की समुचित व्यवस्था करनी चाहिए।
  • No Comment to " तेजाब के ढेर पर उल्हासनगर की गोल्ड बाजार ? "