• उमपा आयुक्त हांगे कोर्ट ऑफ कंटेम्ट के जाल में ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उमपा आयुक्त हांगे कोर्ट ऑफ कंटेम्ट के जाल में ?

     15 फरवरी तक का कोर्ट ने दिया अपना पक्ष रखने समय !

     305 रोजनदारी कामगारों का है यह पूरा मामला ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगरपालिका पूर्व आयुक्त के द्वारा दिया गया हलफनामा वर्तमान आयुक्त हांगे की गले का फ़ांस बनता दिखाई दे रहा है कोर्ट ने उन्होंने 15 फरवरी तक जवाब देने का समय दिया है पिछले 2 दिनों से लगातार मनपा आयुक्त समेत मनपा के मनीष हिवरे व उपायुक्त मुख्यालय देयरकर भी कोर्ट के चक्कर लगाते दिख रहे है ऐसा विश्वसनीय सूत्रों से पता चला है ! 
    बता दे कि पूरा मामला 305 रोजनदारी काम पर हुई भर्ती से जुड़ा मामला है जिनको बाद में मनपा ने निकाल दिया था और पिछले गई सालों से न्याय की तलाश में न्यायालय जा पहुचे और लंबे समय से यह मामला न्यायालय में चल रहा है इसी मामले में कोर्ट ने आदेश दिया सभी कामगारों को काम वापस रखने के लिए उस समय के उमपा आयुक्त मनोहर हीरे कोर्ट को हलफनामा दिया था कि हमें समय दिया जाय और हम इनको काम पर वापस लेगे इसके बाद मामला ठंडे बस्ते में चला गया इसी दरम्यान मनपा के दो नए आयुक्त आये और गए भी कुछ महीनों पहले ही अच्युत हांगे ने मनपा के नए आयुक्त बने है इसी दरम्यान 305 कामगारों के मुद्दे को लेकर मनपा की सभी यूनियन ने एक बार फिर से कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और मामले की गंभीरता को देखते हुए कोर्ट ने मनपा आयुक्त पर कोर्ट ऑफ कंटेम्ट के तहत कार्यवाई करने की बात कह कर मनपा प्रशासन की मुश्किलें बढ़ा दिया कोर्ट ने मनपा प्रशासन को 15 फरवरी तक अपना पक्ष रखने की बात कही हुई है ! 305 कामगारों में से कुछ कामगारों की मौत हो गई कुछ की उम्र 60 साल के पार हो गया कुछ लोग ही बचे है जो अभी भी नोकरी करने लायक बचे है ! बहरहाल मनपा आयुक्त पुराने आयुक्त की वजह से मुसीबत में आ चुके बहरहाल 15 फरवरी को समझ में आयेगा की आखिरकार आयुक्त इस कोर्ट ऑफ कंटेम्ट के जाल में आते है या वह बचते है इस पर पूरे शहरवासियों की नजरे टिकी हुई है ! इस बारे में मनपा प्रशासन के विधी विभाग से संपर्क किया गया तो वो बात करने में टालमटोल किया और कहा कि इस विषय पर आयुक्त से जानकारी लीजिए हम जानकारी नही दे सकते है आयुक्त का फोन कवरेज क्षेत्र के बाहर बता रहा था जिससे उनसे संपर्क नही हुआ और उनका पक्ष हमें नही मिल सका !
  • No Comment to " उमपा आयुक्त हांगे कोर्ट ऑफ कंटेम्ट के जाल में ? "