• के बी रोड़ विस्तारीकरण में बांधा बने स्टे को कोर्ट ने हटाया !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    के बी रोड़ विस्तारीकरण में बांधा बने स्टे को कोर्ट ने हटाया ! 

    जल्द होगा रोड़ काम पूरा -मनपा आयुक्त हांगे

    उमपा महापौर व मनपा प्रशासन के प्रयाश से मिली बड़ी कामयाबी ! 

    2015 से लटका हुआ है यह रोड़ का मामला ! 

    शहर के कुछ नेताओं की ओझी राजनीति के चलते नहीं हो रहा था इस रोड़ का विकाश ? 
     फाईल फोटो,

    उल्हासनगर-उल्हासनगर महानगरपालिका की सीमा से जानेवाले कल्याण-कर्जत स्टेट हाईवे के चौड़ीकरण का मार्ग प्रशस्त हो गया है। सड़क चौड़ीकरण के खिलाफ कुछ दुकानदारों ने हाईकोर्ट की शरण ली। इसलिए, काम पर रोक थी, अब अदालत ने सुनवाई में रोक को हटा दिया है, जिससे जल्द ही चौड़ीकरण का काम शुरू होगा। बता दे कि १५ दिसंबर २०१५ को कल्याण-कर्जत स्टेट हाईवे के चौड़ीकरण का काम शुरू हुआ, यह सड़क MMRDA द्वारा बनाई जा रही है। प्रशासन ने उल्हासनगर नगरपालिका सीमा के क्षेत्र में लगभग 850 निर्माणों के खिलाफ कार्रवाई की थी। इसमें दुकानें, शोरूम, कई रिहायशी इमारतें, गोडाउन तोड़े गए। इस बीच, २० से २५ दुकानदारों ने इस कार्रवाई के खिलाफ उच्च न्यायालय में जाकर स्टे लाया, इसलिए चौड़ीकरण का काम रुका हुआ था। इस हाइवे के कारण इसके काम को जल्द से जल्द चौड़ा करने के लिए आवश्यक हो गया है, लेकिन स्टे के बाद काम रुकने के कारण ट्रैफिक की समस्या से परेशानी हो रही है। इस समस्या को ध्यान में रखते हुए महापौर पंचम कालानी ने संशोधित याचिका दायर करके स्टे हटाने का अनुरोध किया,जिससे चौड़ीकरण के कार्य में तेजी लाई जा सके। मनपा आयुक्त अच्युत हंगे ने भी दुकानदारों से शहर के विकास को प्राथमिकता देने का अनुरोध किया था, लेकिन दुकानदार पीछे हटने को तैयार नहीं थे। हाई कोर्ट में आज की सुनवाई जस्टिस रंजीत मोरे और भारती डांगरे की बेंच पर थी। उल्हासनगर मनपा प्रशासन की ओर से एडवोकेट संजीव बोरवारकर और एडवोकेटएस. एम. कांबले तो दुकानदारों की तरफ से एडवोकेट राम आपटे ने अपना पक्ष रखा।इस समय हाईकोर्ट ने स्टे उठाने का फैसला लिया। उल्हासनगर महानगरपालिका की ओर से महापौर पंचम कालानी, मनपा आयुक्त अच्युत हांगे विधि विभाग के राजी गुलानी आदि उपस्थित थे। मनपा के जनसंपर्क अधिकारी युवराज भदाने ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अदालत ने कल्याण-कर्जत सड़क के चौड़ीकरण की कार्यवाही पर लगे स्टे को हटा दिया है। इस कार्य के लिए, एमएमआरडीए ने १८ करोड़ रुपये की निधि मंजूर की है। लेकिन दिए गए समय सीमा में काम करना आवश्यक था, काम में देरी के कारण, धन वापस आने की संभावना थी, लेकिन अब इस राज्य सड़क का काम जल्द ही शुरू होगा।
  • No Comment to " के बी रोड़ विस्तारीकरण में बांधा बने स्टे को कोर्ट ने हटाया ! "