• 27 गांव के भू माफियाओ,रजिस्टार की मिलीभगत हुआ पर्दाफाश !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    27 गांव के भू माफियाओ,रजिस्टार की मिलीभगत हुआ पर्दाफाश ! 

     जाली सिक्के, जाली कागजात के जरिए हो रहा रजिस्ट्रेशन ?

    कौन है जिसके संरक्षण में चल रहा यह पूरा कारोबार ?

     फर्जी कागजात पर हो रहा अवैध बांधकाम की रजिस्ट्री ! 

    रजिस्टार, बिल्डर, नेताओ के दलालों की मिलीभगत से गरीब ग्राहकों को बनाया जा रहा है शिकार ! 

    लोकसभा चुनाव जीतने के लिए पैसे का किया जा रहा है जुआड-मनसे 

    हमने ऐसी कोई भी रजिस्ट्रेशन की इजाजत नहीं दी-जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर 

     कल्याण-कल्याण डोंबिवली के करीब २७ गांव में अवैध बांधकामो पर लगाम लगाने के लिए कुछ बिल्डरों ने कोर्ट में याचिका दायर की थी, उसके बाद रजिस्ट्रेशन बन्द कर बिल्डरों की कमर तोड़ने का काम किया था, मगर कुछ दिनों से लाखों रुपए लेकर, जाली कागजातों के सहारे, शासन के नियमो को पैरों तले रौंदते हुए  रजिस्ट्रेशन शुरू किया गया हैं । एक रजिस्ट्रेशन पर लाखों रुपए लेकर लोकसभा चुनाव के लिए पैसे जुटाया जा रहा है ऐसा आरोप भी मनसे ने किया है ।रजिस्टार, बिल्डर, नेताओ के साथ दलालों की मिलीभगत से गरीब ग्राहकों को फंसाया जा रहा है । मनपा आयुक्त बोडके का कहना है कि राज्य सरकार अवैध बांधकाम का रजिस्ट्रेशन कर रही हैं । जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर का कहना है कि हमने ऐसी कोई भी रजिस्ट्रेशन की इजाजत नहीं दी है जल्द ही छानबीन कर जानकारी प्राप्त कर रिपोर्ट पेश किया जाएगा ।
    बता दे कि  कल्याण ग्रामीण और 27 गांव में सरेआम अवैध बांधकाम किया जा रहा है, राज्य सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं, मनपा आयुक्त व सबंधित अधिकारी इन अवैध बांधकाम की तरफ अनदेखी कर रहे हैं । अवैध बांधकाम को रोकने के लिए शासन ने डेढ़ साल पहले रजिस्ट्रेशन बंद किया था, जिसे शुरू कराने के लिए बिल्डर माफिया, नेताओं ने एड़ी चोटी का जोर लगाया । लोकसभा चुनाव करीब आते ही कल्याण-४ के दुय्यम निबन्धक कार्यलय में रजिस्ट्रेशन करवाने का काम बड़ी जोरो से शुरू हुआ है जिससे आश्चर्य व्यक्त किया जा रहा हैं । स्थानीय बिल्डर, राजकीय नेता, दलाल, रजिस्टार की मिलीभगत से जाली सिक्के, जाली कागजात के जरिए रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है । अगर राज्य सरकार और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इन्होंने जांच पड़ताल करवाया तो एक बड़ा महाघोटाला बाहर आने की संभावना है ।
     ◆ हालही में मनसे पदाधिकारियों ने रजिस्ट्रेशन कार्यालय में जाकर रजिस्ट्रेशन घोटाला का भंडाफोड़ करना चाहा जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है ।  इस बारे में मनसे शहराध्यक्ष राजेश कदम से सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि, हमारा विरोध रजिस्ट्रेशन करने पर नही है, बल्कि रजिस्ट्रेशन के नाम पर ज्यादा पैसे ग्राहकों ऐंठे जा रहे हैं इसपर हमारा विरोध हैं । यह पूरा पैसा लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इस्तेमाल किया जाएगा ऐसा भी मनसे ने आरोप किया है ।
     ◆ सूत्रों के अनुसार एक रजिस्ट्रेशन के पीछे ८० हज़ार से एक लाख रुपए जैसी बड़ी रकम रजिस्टार ले रहे है । रजिस्ट्रेशन के समय ऐसा कहा जाता है कि हमे इस प्राप्त रकम में वरिष्ठों को भी हिस्सा देना पड़ता है । बिना स्ट्रक्चर ऑडिट व घटिया मटेरियल से इमारत धड़ल्ले से बन रहे है जिसकी जीवन बहुत कम होती हैं । बीते कुछ दिनों में कई सैकड़ो रजिस्ट्रेशन किये गए ऐसी भी जानकारी प्रकाश में आया है । 
     ◆ रजिस्ट्रेशन के बाद यहां पर घर लेने वालों को यहां के बिल्डर नेशनल बैंक के माध्यम से लोन दिलाने की बात करते है । इसी कारण वश नियमों के अनुसार निर्माण काम करने वाले बिल्डर जो नियमों के अनुसार टैक्स भरते है उनका व्यवसाय खतरे में आया है । अवैध बांधकाम को वैध बताकर रजिस्ट्रेशन करके सस्ते में फ्लैट मिल रहा है ऐसा झूठा हवाला दिया जाता है । महंगाई के दौर मे सस्ते में घर पाने के लिये ऐसे बहकावे में आकर सामान्य नागरिक बली पड़ रहे है, अगर शासन ने ध्यान नही दिया तो भविष्य में बड़ी जीवित हानि हो सकती है । जाली रजिस्ट्रेशन करवाकर ग्राहकों को गुमराह करने वाले ठगों को सही समय पर गिरफ्तार करवाकर यह महाघोटाला जनता के सामने लाने मांग की जा रही है । 
     ◆ महसूलमंत्री चन्द्रकांत पाटिल इन्होंने कहा था कि कोई भी रजिस्ट्रेशन बन्द नही है, राज्यशासन एवं जिलाधिकारी की तरफ से कोई लिखित पत्र भी नही है, नियमों के साथ , रेरा नम्बर के साथ अधिकृत निर्माण करने वालो का रजिस्ट्रेशन चालू है । लेकिन रजिस्टार व दलाल लोगो को गुमराह कर रजिस्ट्रेशन बंद होने की अफवाह फैला बन्द दरवाजे से रजिस्ट्रेशन करके बड़ी रकम वसूल रहे थे, मगर अब यह रजिस्ट्रेशन खुलेआम शुरू हुआ है ऐसी भी जानकारी सूत्रों से मिली ।
  • No Comment to " 27 गांव के भू माफियाओ,रजिस्टार की मिलीभगत हुआ पर्दाफाश ! "