• वालधुनी नदी में सारे नियमो को ताख पर किया जा रहा एस टी पी योजना का काम !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    वालधुनी नदी में सारे नियमो को ताख पर किया जा रहा एस टी पी योजना का काम ! 

     अमृत योजना के तहत भूयारी गटर योजना के तहत हो रहा विकाश कार्य ! 

    नदी के बीच से घूमी हुई पाइप लाइन से बरसात में निचले इलाकों घुसेगा बारिस का पानी ? 

    ठेकेदारों के द्वारा पैसे बचाने के चक्कर में किया जा रहा है खटिया दर्जे का काम ! 

    पहली बारिस में ही कई जगहों की पाइप लाइन है टूटने का खतरा !  

    उल्हासनगर-उल्हासनगर के वालधुनी नदी पर बन रहे तीन एस टी पी को आपस जोड़ने के लिये राज्य सरकार और उल्हासनगर मनपा व अम्बरनाथ नपाके द्वारा अमृत योजना के अन्तर्गत सीमेंट पाइपलाइन डालने का कार्य जोरदार तरीके से किया जा रहा है,इस कार्य को करने नियमो को ताख पर रख कुछ काम हो रहा है ऐसा देखने में सामने आ रहा है जिसके चलते बारिस के समय नदी के निचले इलाकों बसे लोगो को घरों में पानी घुसने की संभावनों को जन्म दिया है ऐसा कहना सही होगा यदि ऐसा हुआ तो बड़े पैमाने पर जानो माल का नुकसान होना तय है !
    बता दे कि पिछले कुछ महीनों से बलधुनी नदी में सीमेंट की बड़ी पाइपलाइन बिछाने के लिये नदी के अंदर में ट्रकों के आवागमन के लिये रास्ते बनाये गये, खुदाई की गई और पाइपलाइन निर्माण कार्य मे आड़े आनेवाले कई अवैध निर्माणों को भी प्रशासन और ठेकेदार द्वारा तोड़ा गया है, यही नही पाइप लाइन को नदी के एक किनारे से डालने की योजना है परंतु सारे नियमो की अनदेखी करते हुए ठेकेदारों के द्वारा कुछ जगहों पर नदी के एक किनारे से दूसरे किनारे तक पाइप लाइन डाली जा रही जिसके चलते नदी में डाली गई यह पाइप लाइन एक छोटे बांध का काम करने वाले है यही नही बरसात में पानी के बहाव में इनका उखड़ने का डर भी और इनकी वजह से जो जल जमाव होगा उसका खामियाजा नदी के किनारे पर बसे लोगो को झेलना पड़ेगा यह भी तय है यही नही बरसात शुरू होते ही नदी में बनाये गये मिट्टी के रास्ते, निर्माणों का तोड़ा गया मलबा और डेब्रिज़ नदी के बहाव को रोकने का कार्य कर सकते है, परिणामतः नदी का पानी घरों में घुस सकता है, साथ ही ठेकेदार द्वारा अपनी मर्ज़ी से मनमाने तरीके से पाइपलाइन और रास्ता मोड़कर कार्य करने की वजह से बाढ़ बरसात का पानी इमारतों में घुसने की संभावना प्रबल है, ऐसी शिकायत नदी के आसपास के इमारत वासी कर रहे है, बरसात के समय कोई मुसीबत का सामना ना करना पड़े इसलिये इसकी उपाययोजना पहले ही की जाये, तकनीकी तरीके से पाइपलाइन रास्ता निकाला जाये और कार्य पुर्ण होते ही नदी पात्र में बनाये गये कच्चे रास्ते की मिट्टी पत्थर, डेब्रिज़ और अन्य मलबा हटाया जाये ताकि कोई पर्यावरण हानी ना हो और इमारतें भी सुरक्षित रहे।ऐसा वालधुनी उल्हास बिरादरी ने प्रशासन से मांग किया है जल्द ही पत्र देने की बात कही है !
  • No Comment to " वालधुनी नदी में सारे नियमो को ताख पर किया जा रहा एस टी पी योजना का काम ! "