• भावनात्मक मुद्दों पर लोकसभा चुना जितने का निकाला सभी नेताओं ने जुआड !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
     भावनात्मक मुद्दों पर लोकसभा चुना जितने का निकाला सभी नेताओं ने जुआड !

      एनसीपी-कांग्रेस, शिवसेना-भाजपा के पास विकास के मुद्दों पर बोलने को कुछ नही ?

     कल्याण- कल्याण लोकसभा चुनावों में शिवसेना भाजपा कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस के नेताओं ने केवल भावनात्मक बनाने वाले मुद्दों पर प्रचार शुरू है जबकि स्थानीय समस्या, विकास कार्य व अन्य मुद्दे पर चुप्पी साधे नेताओं ने केवल मोदी और गांधी का गुणगान कर उनके नाम पर भावनात्मक मुद्दा उठाकर  विकास कामो के मुद्दे से नागरिको को गुमराह कर समस्याओं से कन्नी काट रहे हैं । हालही में हुए शिवसेना-भाजपा और राष्ट्रवादी कांग्रेस -कांग्रेस कार्यकर्ता मिलन समारोह में यह भावनात्मक भाषण देखने को मिला ।
    शिवसेना-भाजपा सभा मे नेताओं के साथ उमीदवार कपिल ने कहा कि, मुझसे अगर आप नाराज हैं तो पालकमंत्री एकनाथ शिंदे और राज्यमंत्री रविन्द्र चव्हाण के नाम पर वोट करें, उनसे नाराज हैं तो मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के नाम पर वोट कीजिए, उनसे नाराज है तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के लिए वोट करिए और अगर उनसे भी नाराजी है तो देश के लिए मुझे मतदान करिए ऐसा भाषण किया, मगर विकास कार्यो के लिए मतदान करने की अपील करने से शायद भूल गए । भाजपा -शिवसेना गठबंधन उमीदवार श्रीकांत शिंदे का प्रचार व कार्यकर्ता सम्मेलन में पालकमंत्री एकनाथ शिंदे कहा कि, देश मे फिर से एक बार नरेंद्र मोदी को जिताने के लिए मतदान करें । देश के लिए , नरेंद्र मोदी के लिए और मुख्यमंत्री के लिए वोटिंग करने की अपील राज्यमंत्री रविंद्र चव्हाण ने किया हैं । कल्याण पश्चिम में हुए राष्ट्रवादी कांग्रेस और कांग्रेस ने स्थानीय मुद्दे व समस्याओ को छोड़कर राहुल गांधी और शरद पवार पर भाषण करते नजर आए जबकि क्षेत्रीय समस्याओं से नागरिक बुरी तरह परेशान हैं मगर ऐसो मुद्दों पर कोई बात करता नजर नही आ रहा है । कल्याण की समस्याएं  कल्याण लोकसभा क्षेत्र में समस्याओं का अंबार हैं, जगह जगह अस्वच्छता पसरा है, रेलवे की समस्या से यात्री परेशान है, ममहिला सुरक्षित का सवाल है, खासकर डोंबिवली शहर महिला यात्री जो हर दिन नौकरी निमित्त मुंबई की ओर जाती हैं । शहर की ट्रैफिक नियोजन शून्य, यूनियन की दादागिरी और राजनीतिकों के कारण रिक्शा चालकों की मनमानी से हर तरफ ट्रैफिक से नागरिक परेशान हैं । कहते हैं विकास किया मगर आज भी पानी की किल्लत से नागरिक परेशान हैं । वर्तमान सांसद श्रीकांत शिंदे खुद डॉक्टर हैं मगर उनके क्षेत्र में  आरोग्य सुविधा एकदम चरमराई हुई हैं । चौक चौराहे लोग कचरे से परेशान, गड्ढे रहित सड़के व अच्छी सड़कें नही होने का कारण कई लोगो ने अपनी जान गवाई हैं । अच्छी शिक्षण से वंचित बच्चे, बेरोजगार युवक, अवैध भवन निर्माण की समस्या बड़ी समस्या है ।  कल्याण पश्चिम और भिवंडी की समस्याएं भिवंडी लोकसभा क्षेत्र का कल्याण पश्चिम में सबसे बड़ा डंपिंग ग्राउंड का सवाल है, साथही भिवंडी शहर और आसपास के क्षेत्र पावरलूम उद्योग का मानचेस्टर शहर के रूप में अपनी पहचान पूरे एशिया में रखता है । लेकिन पावरलूम उद्योग के लिए अब तक किसी भी सरकार ने सही तरीके से कोई ठोस कार्य नही किया, जिसके चलते पावरलूम उद्योग पूरी तरह बर्बादी के कगार पर आगया है । मिनी हिंदुस्तान के रूप में विख्यात भिवंडी शहर सड़क, पानी, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं को देने के नाम पर सभी दलों ने सिर्फ वादा तो किये लेकिन किसी दल ने कोई ठोस उपाय योजना जमीन पर नही लाई ।  इन मुद्दों पर बात नही इतना ही नही तो 27 गांव की नगरपालिका बनाने का आश्वासन, एमएमआरडीए द्वारा बनने वाली ग्रोथ सेंटर, मुख्यमंत्री द्वारा साढ़े छह हज़ार पैकेज की घोषणा, एमआयडीसी परिसर में हुई दुर्दशा, प्रदूषण युक्त डोंबिवली , जमीन के मुद्दे पर स्थानीय भूमिपुत्रों की नाराजगी के साथ डोंबिवली के भाजपा व आरआरएस कार्यकर्ता के पास मिले हथियारों का जखीरा, नेवाली के किसानों का आंदोलन आदि मुद्दों के पर कोई बात नही करना चाहता है । ऐसे अनेक समस्याओं से ग्रस्त कल्याणकरो को समस्याओं छुड़ाने के आश्वासन नही तो भाजपा और कांग्रेस की सत्ता बनाने की भावनिक भाषणे की जा रही हैं ।
  • No Comment to " भावनात्मक मुद्दों पर लोकसभा चुना जितने का निकाला सभी नेताओं ने जुआड ! "