• ऐरवडा जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे पप्पू कालानी की वापसी पर लगा कमल रूपी ग्रहण !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    ऐरवडा जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे पप्पू कालानी की वापसी पर लगा कमल रूपी ग्रहण ! 

    शोसल साइड पर हुआ पुलिस की भेजी रिपोर्ट की कॉपी वायरल !

     कालानी को छोड़ने पर कमल बठीजा को है जान का खतरा ? 

    उल्हासनगर-  उल्हासनगर की एक लोकप्रिय हस्ती पप्पू कालानी को हत्या के मामले में पिछले पांच साल से यरवडा जेल में उम्रकैद की सजा सुनाये जाने के बाद अपनी सजा काट रहे है। पप्पू कालानी की उल्हासनगर वापसी की आशा समाप्त हो गई है क्योंकि उनके द्वारा 14 साल बाद दी गई आवेदन को कोर्ट ने खारिज कर दिया है। ऐसा इन दिनों शोसल साइड पर वायरल हुई एक पुलिस रिपोर्ट की कॉपी के जरिये बताया जा रहा है !
    बता दे कि २७ फरवरी, १९९० को, विधानसभा चुनावों के दौरान, भाजपा नेता घनश्याम बठिजा और पप्पू कलानी के बीच फर्जी मतदान के चलते विवाद हुआ था। उसी दिन, घनश्याम बठीजा की पिंटो पार्क के बाहर खड़े रहते हुए गोलीबारी में मौत हो गई थी। घनश्याम के भाई इंदर ने मध्यवर्ती पुलिस थाने में पप्पू कालानी के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था और उन्होंने पुलिस से सुरक्षा की भी मांग की। हालाँकि, २८ अप्रैल, १९९० को पुलिस सुरक्षा में रहने के बावजूद जब इंदर पिंटो पार्क में थे, तभी बाबा गेब्रियल, बच्ची पांडे, श्याम किशोर गरिकापट्टी, हर्षद और रिचर्ड नेे इंदर की जघन्य हत्या कर दी थी। दोनों मामलों के मुख्य आरोपी के रूप में पप्पू कालानी पर मुकदमा दायर किया गया था। इंदर बठीजा हत्या मामले में पप्पू कलानी को ३ दिसंबर, २०१३ को कल्याण सत्र न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। कलानी का परिवार उसके खिलाफ उच्च न्यायालय में चला गया था। यहां तक ​​कि पप्पू कालानी की हताशा के कारण उन्हें यरवडा जेल भेज दिया गया । इस सजा से राहत पाने के लिए कलानी परिवार ने उच्चतम न्यायालय तक का दरवाजा खटखटाया है, लेकिन कमल बठीजा के अनुसरण के कारण कलानी की रिहाई की संभावना बहुत कम है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा कालानी की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया है। पप्पू कलानी को पहली बार १९९० में गिरफ्तार किया गया था। उस समय उन्हें ७ साल और २ महीने की कैद की सजा सुनाई गई थी। बाद में, वह जमानत पर बाहर थे। १९ नवंबर, २०१३ से पप्पू कालानी ५ साल और ५ महीने की कैद की सजा काट रहा है। इसप्रकार कलानी ने १३ साल जेल में बिताए हैं। १४ साल बाद सबसे अच्छा व्यवहार करने वाले कैदियों की शेष सजा को माफ कर दिया जाता है। पप्पू कालानी ने सजा माफी के लिए आवेदन किया। इस आवेदन पर प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए, महाराष्ट्र सरकार ने, विठ्ठलवाड़ी पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक रमेश भावे,जज हातरोटे और कलेक्टर नार्वेकर के पास भेजा था। इन तीनों ने कलानी के खिलाफ ६५ आपराधिक मामले दर्ज होने की बात कही हैं और कहा है कि कलानी एक शातिर अपराधी है, कालानी को छोड़ने के बाद कमल बठीजा को जान का खतरा है,ऐसी नकारात्मक रिपोर्ट दी। इनमें से विठ्ठलवाड़ी पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक रमेश भामे का वक्तव्य सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।  कमल बठीजा ने कहा कि कलानी ने मेरे भाई इंदर बठीजा की हत्या कर दी थी जब वह पुलिस संरक्षण में थे। इसके अलावा, मनपा का चुनाव लड़ते समय पप्पू कलानी ने मुझे और मेरे सुरक्षा गार्ड को मारा था। कलानी कानून को नहीं मानता ,वे सत्ता का दुरुपयोग करते हैं। इस वजह से, बठीजा ने १४ साल की सजा को माफ नहीं करने के लिए सरकारी समिति के निर्णय के प्रति आभार व्यक्त किया है।
  • No Comment to " ऐरवडा जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे पप्पू कालानी की वापसी पर लगा कमल रूपी ग्रहण ! "