• उल्हासनगर में भूमाफिया का गुंडा राज ? कानून हुआ इनके सामने नतमस्तक !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उल्हासनगर में भूमाफिया का गुंडा राज ? कानून हुआ इनके सामने नतमस्तक ! 

     करोड़ो की जमीन पर कब्जा करने के लिये दुकान पर रातोरात चलवाया बुलडोजर !

     दुकानदार व जगह मालिक को पुलिस ने बिना शिकायत लिए भेजा वापस ! 

    आदर्श चुनावी आचारसंहिता का फायदा उठाने में जुटी भूमाफिया मंडली ! 

     20 से 25 लाख के फर्नीचर माल के साथ दफन हुई दुकान ! 

     सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार महेश साधवानी के साथ महेश मारवाड़ी व अनिल भाटिया के बीच हुआ डेप्लोमेन्ट एग्रीमेंट के तहत करोड़ोहुई डील ? 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर में पिछले एक हप्ते के अंदर भूमाफिया का गुंडा राज देखने में सामने आया है और इसके सामने कानून के रक्षक नतमस्तक दिखाई दे रहे है,पहले बनाया जाता है जमीन के फर्जी कागजात और फिर रातों रात जमीन पर बने गालों पर चलाकर बोल्डोजर किया जाता है भूखंड हड़प ! ऐसा ही एक मामला में माया होटल के पीछे स्थित एक करोड़ो के भूखण्ड पर कब्जा जमाने के लिए भूमाफियाओं ने रातोरात दुकान पर बुलडोजर चलाकर जमीदोस्त कर दिया.यही नही दुकान के किरायदार का लाखो का माल व कागजात मलबे में दब गए हैं, जब वो लोग पुलिस के पास इसकी शिकायत करने गए तो उनकी शिकायत लेने से पुलिस ने मनाकर करके उन्हें पुलिस स्टेशन से भगा दिया जाता है,मतलब सीधा भूमाफियाओ के सामने कानून के पहरे दार भी नतमस्तक हो चुके है !
     बता दे कि उल्हासनगर दो नम्बर के बैक ऑफ इंडिया के पास माया हॉटेल के पीछे एक दुकान थी जिसके भड़ोत्तरी जावेद बी खान नामक व्यक्ति पिछले कुछ सालों से यह दुकान किराए पर लेकर इस दुकान में न्यु राज फर्निचर नाम से अपना व्यवसाय चला रहे थे, रविवार रात 11 बजे को दुकान ताला बंद कर अपने घर गए थे इसी बीच अज्ञात भूमाफिया के लोगो ने बुलडोजर लगाकर दुकान को जमीदोस्त कर दिया.इसकी जानकारी जब मालिक व किरायेदार जावेद को लगी तो उनके उनके पैरों तले जमीन खिसक गयी।और वह इंसाफ की आस में उल्हासनगर के सेंट्रल पुलिस स्टेशन गए जहाँ पुलिस प्रशासन ने घण्टो बिठाए रखने के बाद दोनों को डराधमकाकर वापस भेज दिया.पुलिस व भूखण्ड माफिया के डर से मालिक नरेश व किरायेदार जावेद सदमे में है कुछ जवाब नही दे पा रहे हैं. विश्वसनीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस दुकान पर भूखण्ड माफियाओ को काफी सालो से नजर थी.यही नही इसके मालिक से यह जमीन कौड़ियों के भाव खरीदना चाहते थे.पर मालिक ने देने से इंकार कर दिया था.तब से इस दुकान पर भूखण्ड माफिया  की नजर थी. दरसल में वहा पर एक चार महले की पुरानी बिल्डिंग है जिसका री डेवलपमेंट करने के लिए बिल्डिंग तोड़ी जा रही है उसी सटे इस गालों के चलते पूरा एरिया एल टाइप में था इस लिए यह डेवलपमेंट में एक रोड़ा बन रहे गाले को रातों रात तोड़कर हड़प किया गया ताकि उनका प्लॉट सीधा हो सके, इस जमीन को अपनी जमीन के साथ मिलाकर उस पर कब्जा जमाकर एक डेप्लोमेन्ट प्लान तैयार किया गया है जिसके तहत महेश साधवानी के साथ महेश मारवाड़ी और अनिल भाटिया के बीच एक डेप्लोमेन्ट प्लान के तहत करोड़ो की डील भी हो चुकी है। इसी लिए यह सब हुआ है ऐसी जानकारी सामने आ रही है, यहाँ सवाल यह है कि यदि जमीन बिल्डर की ही थी तो उसे दिन के उजाले में यह काम करना था उस काम को रात के अंधेरे किया गया है मतलब दाल में कुछ काला है कानून को अपना काम करना चाहिए था इस मामले एफआईआर दर्ज होंनी चाहिये थी जो अबतक नही हुआ है ऐसा ही एक मामला चोपड़ा कोर्ट के बगल में हुआ है उस जमीन के भी फर्जी पेपर बनाकर जमीन हड़प किया कि सालों से गाले में एक धोबी कपड़ा प्रेस करता था उसे भी रातो रात हटाकर उस गाले पर कब्जा कर लिया गया है,इसका मतलब उल्हासनगर में कानून के राज की जगह भूमाफिया राज चालू है ऐसा इन मामलों को देकर लगता है !
  • 1 comment to ''उल्हासनगर में भूमाफिया का गुंडा राज ? कानून हुआ इनके सामने नतमस्तक ! "

    ADD COMMENT
    1. Abhi kaafi late ho Gaya hai ye Sab rokna
      Jadaen kaafi majboot ho gayee hain illegal kaam karne walon ki

      ReplyDelete