• उल्हासनगर शहर के एसडीओ जगतसिंग गिरासे बने सौदागर ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उल्हासनगर शहर के एसडीओ जगतसिंग गिरासे बने सौदागर ? 

    भू माफियाओं को बेच रहे मनचाहे प्लॉट की बनाकर सनद ! 

    पहले साई वसनशाह दरबार तो अब सतनाम साखी बिल्डिंग की जगह की सनद देने पर खड़ा हुआ बवाल !

     एसडीओ गिरासे अपनी अय्यासी व सौख को पूरा करने के लिए रिश्वत लेकर दे रहा इस तरह के कार्यो को अंजाम-राम वाधवा 

    इससे पहले भी कई जगहों की सनद को लेकर विवादों में रहे है गिरासे ! 

    क्या महाराष्ट्र की भाजपा सरकार ऐसे भ्रष्ट्र अधिकारी को दे रही है संरक्षण ? 

    इतनी शिकायतों के बाद अब तक नही हुई है कोई कार्यवाही ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर के एसडीओ जगतसिंह गिरासे जब से उल्हासनगर शहर में आये है तभी उनपर जमीनों के सनद देने पर कई सारे आरोप लग चुके है ऐसे में उनके कारनामो की एक नई दास्तान सामने आई है, उल्हासनगर के विश्व प्रसिद्ध मामला 855 अवैध बिल्डिंग मामले में तोड़ी गई पहली बिल्डिंग सतनाम साखी की जगह की अल्टर नेट सनद जारी कर दिया है, वही नही इस जगह पर कब्जा दिलाने के लिए पुलिस प्रशासन पर दबाव तंत्र का इस्तेमाल करने का आरोप भी गिरासे पर लग रहा है !
    यह पूरा मामला है उल्हासनगर पांच नम्बर स्वामी शांति प्रकाश धर्मशाला के सामने की जमीन का है जिस जमीन पर पहले सतनाम साखी नामक बिल्डिंग हुआ करती थी परन्तु 855 अवैध बिल्डिंग मामले में यह पहली बिल्डिंग थी जिसे जमीन दोज किया गया था तभी से यह जमीन खाली पड़ी थी इस बिल्डिंग में रहने वाले लोग व बिल्डर वाधवा का इस पर कब्जा था,परन्तु इस जमीन को एसडीओ ने भोईर नामक ब्यक्ति के नाम पर अल्टर नेट सनद जारी किया जिसके बाद बिल्डर सतपाल सिंग व उनके बेटों ने अपने 25 गुंडों को लेकर जमीन पर कब्जा किया है इससे पहले साई वसनशाह दरबार का भूखंड का सनद अपने नाम होने का दावा सतपाल सिंह कर चुके है इसका मतलब साफ है कि उल्हासनगर के एसडीओ जगतसिंह गिरासे सौदागर बन गए और मन चाहे जगह की सनद बनाकर भू माफियाओं को बेच रहे है ऐसा कहना गलत नही होगा,इस विषय पर गिरासे उनकी राय जानने के उनके मोबाइल नम्बर संपर्क किया परन्तु उनसे संपर्क नही हो पाया है जिससे उनकी बात सामने नही आ पाया है ! वही इस विषय पर राम वाधवा ने गिरासे पर गभीर आरोप किया उन्होंने कहा गिरासे अपनी जेब गरम करने के लिये गोल मैदान, सपना गार्डन और बाकी के प्लॉट भी अपने बिल्डर दोस्तो को देने में जुटा है अब तक गिरासे ने 100 करोड़ से ज्यादा रिश्वत वसुली है हमारे उल्हासनगर शहर से और 1000 करोड़ के प्लॉट्स की गलत तरिके से सनद दी है. गिरासे बहुत जल्द जांच के घेरे में खडे होगे और इस बार गिरासे और उसके सतपाल सिंग जैसे प्रॉपर्टी हडपू दोस्त भी जेल मे चक्की पीसते नजर आयेंगे. इस विषय पर दोनो पक्षो की रॉय देखने के लिए वीडियो जरूर देखें !
  • No Comment to " उल्हासनगर शहर के एसडीओ जगतसिंग गिरासे बने सौदागर ? "