• उल्हासनगर के एसडीओ गिरासे के दोस्त बिल्डर सतपाल सिंह निकला दहेज खोर -राम वाधवा

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उल्हासनगर के एसडीओ गिरासे के दोस्त बिल्डर सतपाल सिंह निकला दहेज खोर -राम वाधवा

     अपने दो बेटों के साथ खा चुके है जेल की हवा ! 

     बहू ने लगाया है दहेज के लिए अत्याचार करने के आरोप ? 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर शहर के एसडीओ जगतसिंह गिरासे के परम मित्र बिल्डर सतपाल सिंह एक दहेज खोर इंसान निकले यही नही वह खुद अपने परिवार के साथ मध्यप्रदेश के जेल की हवा खा चुके और उन पर अपने ही बहु पर दहेज उत्पीड़न, व मानसिक पीड़ा देने का मामला न्यायालय में अभी चल रहा है,जो ब्यक्ति पैसों के लिए अपनी ही बहु के साथ इस तरह की हरकत कर सकता वह जमीन हड़पने के लिए किस अस्तर तक गिर सकता है यह बात आप लोग आसानी से समझ सकते है ,ऐसा आरोप बिल्डर राम वाधवा के द्वारा किया गया है !
     बता दे कि यह पूरा मामला उल्हासनगर कैंप 5 स्थित शांतिप्रकाश आश्रम के सामने सतनाम साक्षी व वसंत शाह दरबार से जुड़े एक भूखंड से जुड़ा हुआ है, सतनाम साखी नामक इस भवन का निर्माण १९९९ में बिल्डर राम वाधवा के चाचा व प्रख्यात भवन निर्माता घनश्याम वाधवा ने कराया था। इस भूमि पर जयपाल रोहरा का स्वामित्व था। इस इमारत को लेने से पहले, इस इमारत में १७ परिवार और ६ दुकानें थीं। वर्ष २००४ में, उच्च न्यायालय ने उल्हासनगर में अनधिकृत भवनों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया। उस समय, सतनाम सखी भवन को तत्कालीन आयुक्त के आदेश पर जमींदोज कर दिया था।सतनाम साखी इमारत का जमींदोज होने के बावजूद आज वर्षो से उक्त भूखंड का मालिकाना हक बिल्डर राम वाधवा के चाचा घनश्याम वाधवा व अन्य के पास ही था ।बावजूद दो दिन पहले नामी-गिरामी विवादास्पद बिल्डर सतपाल सिंह ,करण सिंह चावला व सुनील भोईर ने 30-40 गुंडो के साथ उक्त भूखंड पर जाकर फैंसी लगा दी,शिकायत के बावजूद गुंडो के नंगे नाच को देखकर हिल-लाइन पुलिस मूक दर्शक बनी रही।जब बिल्डर राम वाधवा अपने सतनाम साखी इमारत भूखंड के लिए मैदाने जंग में उतर गए तो सतपाल सिंह चावला व पुत्र करण चावला के कई नकाबपोश चेहरे की परत-दर परत खुलने लगी है। इसी लड़ाई को आगे बढ़ाते हुए राम वाधवा ने बिल्डर सतपाल सिंह के एक नए कारनामो की पोलखोल करते हुए बताया कि इसने अपनी बहू पर दहेज को लेकर उसके ऊपर अत्याचार किया इस अत्याचार परेशान बहु ने 2016 में उत्तरप्रदेश के गोरखपुर के थाने में आईपीसी 498,34 के तहत एफआईआर नम्बर 234/2016 दर्ज कराया और इस मामले में सतपाल सिंह, बेटे किरनदीप सिंह,हरसिमर सिंह व पत्नी के साथ जेल की हवा खानी पड़ी है इसके अलावा भी कुछ मामले है जिसमें इनके खिलाफ वारंट निकला हुआ है,यह सभी मामले अभी न्यायालय में विचाराधीन है,जो अपने आप को उल्हासनगर में सबको पाकसाफ बिल्डर बताता यह है उसकी करतुत बहु बेटी के समान होती है यह लोग पैसे के चक्कर में उनको भी नही बख्शते है इससे समझा जा सकता है यह कितने ईमानदार लोग है,इन लोगो ने एसडीओ गिरासे को मोटा माल देकर शहर के सभी शासकीय जमीनों की एडिसन सीडी बनाकर उन जमीनों पर कब्जा करने का पूरा षड्यंत्र रचा है यह तो अभी एक खुलासा हुआ है ऐसे और ढेर सारे कारनामो से पर्दा उठना बाकी है ऐसा राम वाधवा ने कही उन्होंने एक कहावत को भी कहा जंग व प्यार में सब कुछ जायज होता है ! वही इस बारे में बिल्डर सतपाल सिंह से संंपर्क किया गया तो उनका कहना है कि राम वाधवा जमीन के मामले से लोगो का ध्यान भटकाने के लिए मेरे परिवार के निजी लड़ाई को सामने लेकर आ रहे है ताकि जमीन के विषय से लोगो का ध्यान हटाया जा सके, वाधवा के पास जमीन के सही पेपर नही इस लिये वह ऐसा कर रहे है, यह मामला आगे क्या और नए मोड़ लेता वह देखने लायक होगा !
  • 4 comments to ''उल्हासनगर के एसडीओ गिरासे के दोस्त बिल्डर सतपाल सिंह निकला दहेज खोर -राम वाधवा"

    ADD COMMENT
    1. Apna cheating case chupane ke liye mudda bhatkane ke liye ..yeh hatkande fail hai...flat owners se..without plan pass..without ownership documents of land..building banane ke liye..aap pee case ki tayari ho rahe hai...so aap muddey se haat ke ..kabhi sr. PI..per...kabhi Sdo Girase sir t..to kabhi satpal per personal allegations laga ker..main mudda bhatkane ki koshish nahi chalegi......aap flat owner ka mehnat ka paise joo aapne cheating kerke ...khaya hai..saab kanoon ke daiyre mei reh ker vasoola jayga...us ke liye aap jeh faltoo ke hatkande apnaye ye nahi apnaye..aap per depend hai.. aap jaise dogley bacche se yehi ummed rakhta hai..unr mei aap kya hai saab ko pata hai.. mai aap ke level tak girne wala nahi hu.....aab bhi sudhar jayo and flatowners ka paise vapas ker do...in baato se aap bach nahi payege....personal alligations ke liye aap ke upper karvahi kerne ka maan nahi kerta ...reham aata hai aap per......koi baat nahi do baap ki ollad se yehi ummed hai

      ReplyDelete
    2. Hatti chale bazaar..kuttey bhoke hazar...Satpal singh...

      ReplyDelete
    3. Lagta hai..iski bhen se saadi ki hai ..mere batey ne...satpal singh

      ReplyDelete