• नाबालिग बच्चों की खरीद फरोख्त करने वाली गैंग का हुआ पर्दाफाश !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
     नाबालिग बच्चों की खरीद फरोख्त करने वाली गैंग का हुआ पर्दाफाश ! 

    पुलिस ने, चार महिला सहित पांच आरोपियो को किया गिरफ्तार !


     आठ नाबालिक बच्चो को किडनेप कर अलग अलग राज्य में लाखो रूपए अभी तक गैंग ने बेचा !


    मुंबई-मुंबई पुलिस की अपराध शाखा यूनिट छह ने एक गुप्त सूचना के आधार पर नाबालिग बच्चों की खरीद फरोख्त करने वाले गैंग का पर्दाफाश कर ४ महिला और एक पुरुष को गिरफ्तार करते हुए २ नाबालिग बच्चो को आज़ाद कराया है। जबकि आगे की जाँच चल रही है, इसमें और भी गिरफ्तारी होने की आशंका है। इससे पहले भी मानखुर्द के साठे नगर इलाके से नाबालिग बच्चो को अपहरण कर बेचने वाले गिरोह को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।  
    मुंबई अपराध शाखा यूनिट छह के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक ए के सोनवणे ने बताया की पुलिस निरीक्षक चंद्रकांत दलवी को विश्वसनीय सूत्र से खबर मिली की महिलाओं की एक गैंग है जो नाबालिग लड़कों और लड़कियों की ख़रीद फ़रोख़्त का कारोबार करते है। इस गैंग ने मानखुर्द के साठे नगर इलाके में भी एक गरीब महिला को लालच देकर उसके दो माह के बच्चो को दूसरे दंपत्ति लाखो रुपये में बेच दिया है। गिरफ्तार आरोपियों ने महिला से यह कहकर अपने विश्वास में ले लिया की तुम गरीब हो और परवरिश कैसे करोगे और हम तुमको चार लाख रूपए दिलाएंगे और तुम जब चाहो अपने बच्चे से मिल सकती हो। लेकिन पीड़ित महिला को सिर्फ एक लाख रूपए दिए और उसके बाद से गायब हो गए थे।  इस सूचना के मिलने के बाद हमने पुलिस उपायुक्त (अपराध) अकबर पठान और सहायक पुलिस आयुक्त (अपराध) शेखर तोरे के नेतृत्व में पुलिस निरीक्षक चंद्रकांत दलवी, पुलिस निरीक्षक अर्पणा जोशी, सहायक पुलिस निरीक्षक अनिल गायकवाड़, सहायक पुलिस निरीक्षक महेश तोरस्कर, सहायक पुलिस निरीक्षक महेंद्र घाग, पुलिस उप निरीक्षक योगेश लामखडे और आदि कॉन्स्टेबल की टीम तैयार की और इस टीम ने एक महिला को मानखुर्द, कुर्ला, ठाणे और कल्याण से गिरफ्तार किया है और इनके कब्ज़े से एक तीन साल और एक तीन माह के दो बच्चे छुड़ाए है।  मुंबई अपराध शाखा यूनिट छह के पुलिस निरीक्षक चंद्रकांत दलवी ने बताया की गिरफ्तार आरोपी महिला भाग्यश्री कोली (२६)२६), सुनंदा मसाने (३०), सविता सालुंखे (३०), ललिता डेनिस जोसेफ (३१) और अमर देसाई (२८) और फरार महिला आरोपी सारिका देसाई (२८) है।  िकनको धारा ३७० (४), ३४ आईपीसी व अन्य धारा के तहत गिरफ्तार किया है। अभी हम इस बात की तहकीकात कर रहे है की इन्होने और कितने बच्चो को बेचा है और इस गैंग में और कौन कौन शामिल है।    इससे पहले भी ०५ दिसम्बर २०१६ में मानखुर्द के साठे नगर से एक साल के लड़के का अपहरण कर बेचने के मामले में मानखुर्द पुलिस ने उस समय पांच महिलाओं समेत 6 आरोपियो को गिरफ्तार कर बच्चे को आज़ाद कराया था। तहकीकात में उस समय इस गैंग ने कबूल किया की हमने अभी तक ८ नाबालिक बच्चो को किडनेप कर अलग अलग राज्य में लाखो रूपए में बेचा है। मानखुर्द पुलिस ने परिमंडल छह पुलिस थानों की एक टीम बनाई और सभी बच्चो को गोवा, अहमदाबाद, कर्नाटक और दूसरे शहरो से आज़ाद कराया था और उस समय भी सहायक पुलिस निरीक्षक अनिल गायकवाड़ टीम का हिस्सा थे और इन्होने अहमदाबाद से दो बच्चो को आज़ाद करा कर तीन लोगो को गिरफ्तार किया था। 
  • No Comment to " नाबालिग बच्चों की खरीद फरोख्त करने वाली गैंग का हुआ पर्दाफाश ! "