• जीआयएस मॅपिंग का विरोध करने वाले व्यापारी पर दर्ज हुआ डकैती का एफआईआर !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    जीआयएस मॅपिंग का विरोध करने वाले व्यापारी पर दर्ज हुआ डकैती का एफआईआर ! 

    कोर्ट ने दो दिन की पुलिस रिमांड भेजा ! 

    सरकारी दस्तावेज फाड़ने का वीडियो खुद किया था वायरल ! 

    कानून को हाथ में लेने वालों के ऊपर कार्यवाई हुई है-उमपा आयुक्त

     उल्हासनगर-उल्हासनगर महापालिका महासभा में पिछले दिनों हाउस टैक्स विभाग द्वारा शुरू किया गया जीआयएस मॅपिंग का महासभा में बहुमत से रद्द कर दिया गया था.परंतु यह ठेका अभी तक मनपा प्रशासन के द्वारा रद्द नही किया है,इस लिए जीआयएस मैपिंग का कार्य शुरु था. वही जीआयएस मैपिंग कॉलब्रो कर्मचारियों का विरोध करने वाले व्यापारी पर विठ्ठलवाडी पुलिस ने डकैती का मामला दर्ज किया है,और सोमवार को आरोपी को कोर्ट में हाजिर किया जहां पर कोर्ट ने दो दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है, वही इस मामले में शहर के कई सामाजिक संस्थाओं ने अपना विरोध जताया हैं, 
    बता दे कि उल्हासनगर महापालिका के महासभा में सर्व पक्ष के नगरसेवको ने जीआयएस मॅपिंग का कड़ा विरोध किया था.जिसे गंभीरता से लेते हुए महापौर पंचम कलानी ने जीआयएस मॅपिंग का ठेका रद्द करने का आदेश मनपा प्रशासन को दिया था पर मनपा प्रशासन ने ठेका रदद् करने का आदेश जारी नही किया.वही नागरिको ने जीआयएस मॅपिंग करनेवाले कर्मचारियों का विरोध करना शुरू कर दिया. शनिवार की दोपहर कॉलब्रो कंपनी के कर्मचारी सतीश शिंदे, रोशन दुबे और गोपाळ राठोड उल्हासनगर कॅम्प ४ के बाजारपेठ परिसर में हेमा कलेक्शन नामक दुकान में जीआयएस मॅपिंग का कार्य कर रहे थे, कि वहाँ व्यापारी नेता परमानंद गेरेजा आये और जीआयएस मॅपिंग करने वाले कर्मचारियों के साथ गालीगलौच करते हुए उनके कागज फाड़ दिए, और उसका माप लेना वाला डिजिटल मशीन ले लिया।इस मामले में सतीश शिंदे नामक कॉलब्रो कंपनी के कर्मचारी ने विठ्ठलवाडी पुलिस स्टेशन में सरकारी काम मे अड़चन,चोरी के तहत मामला दर्ज कराया। इस बारे व्यापारी नेता जगदीश तेजवानी ने कहा कि छुट्टी के दिन यह कर्मचारी दुकान में आये थे.इनसे परमानंद गेरेजा ने परिचय पत्र मंगा तो कर्मचारियों ने असमर्थता दिखाई,तो उनका कागज फाड़ दिया.और स्वम इस घटना का व्हिडिओ व्हायरल किया.साथ ही किसी कर्मचारियों का कोई मैपिंग मशीन नही ली। वही पालिका आयुक्त सुधाकर देशमुख ने कहा कि उल्हासनगर महापालिका का पदभार स्वीकार करने से पहले जीआयएस मॅपिंग स्थायी समिती में पास किया गया था.उसी आधार पर ठेकेदार ने काम शुरू किया है.महासभा में इसका विरोध किया किया गया.अभी तक कोई ठराव मिला नही है.ठराव आने के बाद कोई निर्णय लिया जाएगा.तब तक नागरिक कायदा अपने हाथ मे न ले।
  • No Comment to " जीआयएस मॅपिंग का विरोध करने वाले व्यापारी पर दर्ज हुआ डकैती का एफआईआर ! "