• आखिरकार एसडीओ गिरासे कोरकमेटी के सामने हुए नतमस्तक !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    आखिरकार एसडीओ गिरासे कोरकमेटी के सामने हुए नतमस्तक ! 

    वसणशाह दरबार,व पुलिस वसात की जगह की सनद को किया रद्द ! 

    जय बाबा धाम के लोगो ने किया प्रदर्शन ! 

    नव सौ चूहे बिल्ली खाकर चली हज करने,,, इस कवाहत को चरितार्थ करते दिखे गिरासे हक मांगने वालों को बताया ब्लैकमेलर ! 

    हजार करोड़ो का घोटाले बाज एसडीओ के खिलाफ मेरी जंग जारी रहेगा -वाधवा 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर के साई वसणशाह दरबार के पास की ज़मीन पे कब्ज़े को लेकर कटघरे में खड़े उल्हासनगर उपविभागीय अधिकारी के ख़िलाफ़ शहर के व्यापारी, संतों की बड़ी जीत हुआ वसणशाह दरबार व पुलिस वसात की जगह की सनद को रद्द कर दिया है,जिसके चलते महाभूख अनशन को वापस ले लिया गया है, जय बाबा धाम के लोगो ने सोमवार को अपना विरोध जताया उनको भी आश्वसन मिलने के बाद अपना विरोध बंद किया ! 
    बता दे कि 10 जुन को निकली विशाल मोटरसाइकिल रैली में दरबार के करीबन तीन हजार सेवाधारियों ने हिस्सा लिया, समाज के गणमान्यों की उपस्थिति में उल्हासनगर एस डी ओ जगतसिंग गिरासे को निवेदन दिया गया जिसमें एस डी ओ ने उपस्थितों को 3 दिन का समय मांगा और जांच करके अग्रिम कारवाई करने का आश्वासन भी दिया, इस दौरान जिनकी ज़मीन की वजह से ये घमासान शुरू हुआ वो सुनील भोईर और उनके सहयोगी सतपालसिंह के द्वारा एक विडियो जारी कर ये जानकारी दी गयी कि सुनिल भोईर अपनी ज़मीन का हिस्सा छोड़ने को तैयार है, 3200 वाल ज़मीन पर जो सीडी दी गई है वो भी रद्द करके दरबार को दे दिए जाएं, जब दोनों पार्टी तैयार थे, और एस डी ओ गिरासे के गले की हड्डी बना ये मामला सुलझने को तैयार था, उतने में फिर से सुनील भोईर ने मराठी राग अलापते हुए सोशल मिडिया पे यह लिखा कि, मेरी ही 500 वाल की सी डी क्यु रद्द की जा रही है, बाकी सबकी भी करो, आंदोलनकारियों को गिरासे ने आश्वासन दिया था कि आगामी 3 दिन 72 घंटों में उल्हासनगर एस डी ओ दरबार के पक्ष में कुछ सोचेंगे, दुसरे दिन ही उन्होंने ओमी कालानी और ओमी साईं की बुलाकर एक पत्र थमा दिया जिसमें सी डी होल्डर सुनील भोईर को एस डी ओ द्वारा ये आदेश दिए गए कि, जबतक कागजातों की पूर्तता नही हो जाती तबतक उक्त प्लॉट पर वो कोई भी निर्माण या गतिविधि नही कर सकते, आश्वासन की पुर्तता ना होते देख स्टे की कॉपी सोमवार वसनशाह दरबार के निर्देश पर कोअर कमिटी द्वारा एसडीओ कार्यालय को वापस कर दिया गया है , साथ ही यह घोषणा भी की गई कि, मांग जल्द ही पुरी ना होने पर 8 जुलाई के दिन महा भूख हड़ताल होगी, इस भुख हड़ताल में हज़ारों की संख्या में वसणशाह दरबार के सेवाधारी शामिल होंगे। परन्तु उससे पहले ही पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी हरकत में आ गए कानून ब्यवस्था को ध्यान में रखते हुए इस विषय की मध्यस्थता जोन चार के डीसीपी प्रमोद सेवाले एसीपी टेले व स्थानिय पुलिस अधिकारियों की उपस्थिति में एसडीओ गिरासे व एसबीसी कोर कमेटी की बैठक बुलाई लंम्बी चले इस बातचीत में यह निर्णय एसडीओ ने लिया कि वसनशाह दरबार व पुलिस बसात की जगह की सनद को रद्द किया जाता है, उस आदेश के मिलने के बाद महाभूख हड़ताल को वापस ले लिया गया,जब कि जय बाबा धाम के लोगो ने सोमवार को अपना विरोध जारी रखा था परन्तु उन्हें जब गिरासे के द्वारा आश्वासन दिया गया तो उन्होंने भी अपना विरोध बंद किया है, इस लम्बी चली लड़ाई में आखिरकार सच की जीत हुआ ऐसा कहना गलत नही होगा एसडीओं गिरासे घुटने पर आकर अपनी गलती को मानते हुए सनद को रद्द किया परन्तु अभी भी बहुत सारे मामले है जिस पर उनपर गाज गिरना तय है और एक भूमाफिया को फायदा पहुचाने के चक्कर मे और क्या क्या होना बाकी है यह तो आने वाले समय पर ही सामने आएगा !
  • No Comment to " आखिरकार एसडीओ गिरासे कोरकमेटी के सामने हुए नतमस्तक ! "