• सीमेंट कंक्रीट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने के मामले में मनपा आयुक्त की मूक सहमति !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    सीमेंट कंक्रीट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने के मामले में मनपा आयुक्त की मूक सहमति !

     कंगाल मनपा नायाब कारनामा अपने दिए बयान से पलटे आयुक्त !

     रोड बनाने में तीन से चार करोड़ रुपये लगते,वही काम केवल 45 लाख पेवर ब्लॉक से हुआ तो मनपा को फायदा हुआ ऐसी नई खोज किया मनपा आयुक्त ! 

    क्या किसी मंत्री के दबाव के चलते मनपा आयुक्त हुए नतमस्तक ? 

    16 करोड़ के काम रुकाने वाले आयुक्त का बोगस काम के समर्थन के पीछे का क्या है रहस्य ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर में एक ओर जहां महानगरपालिका की अर्थव्यवस्था बहुत ही कमजोर है, वहीं मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने हेमराज डेयरी रोड पर पेवर ब्लॉक के निर्माण को मंजूरी दी है। इसकी वजह से यदि ठेकेदार के काम पूरा हुआ तो उसके बाद मनपा की तिजोरी पर 45 लाख रुपए का बोझा आनेवाला है । 

     बता दे कि उल्हासनगर कैंप 2 के हेमराज डेयरी क्षेत्र में, नगरसेविका सरोजनी टेकचंदानी के प्रयास में अच्छी तरह से बनाए हुए सीमेंट कंक्रीट सड़क पर पेवर ब्लॉक स्थापित की जा रही है। इस कार्य पर 45 लाख खर्च किए जा रहे हैं। विशेष रूप से, जबकि उच्च न्यायालय ने पेवर ब्लॉक की स्थापना पर ही प्रतिबंध लगा दिया है, इस आदेश का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। उल्हासनगर के मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख ने शहर के कई विवादास्पद अनुबंधों की जांच शुरू की है और 16 करोड़ रुपये के काम को रोक दिया है। फिर भी कंक्रीट ब्लॉक बनाए हुए सड़कों पर पेवर्स ब्लॉक लगाए जा रहे हैं, जबकि बड़े-बड़े अनुबंधों के बिलों को रोक दिया गया है । जब इस मामले को पिछले हफ्ते मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख के संज्ञान में लाया गया था, तब उन्होंने तत्कालीन उपायुक्त देहेरकर और शहर के इंजीनियर महेश सितलानी से संवाद करके काम रोकने का मौखिक आदेश दिया था। लेकिन उसके बाद ठेकेदार ने काम पूरा कर दिया। जब मामला मनपा आयुक्त के संज्ञान में लाया गया, तो वे अपने दिए बयान से पलटते नजर आए । उमपा आयुक्त देशमुख ने स्पष्टीकरण दिया है कि इस सड़क की कंक्रीट खराब अवस्था में थी। हालांकि, सड़क अच्छी स्थिति में थी। सड़क को फिर से कंक्रीट करने में तीन से चार करोड़ रुपये लगते, लेकिन केवल ४५ लाख रुपये की लागत वाले पेवर ब्लॉक से महानगरपालिका को फायदा हुआ है,ऐसी नई खोज मनपा आयुक्त ने की है। पिछली महानगरपालिका के आयुक्त के आदेश को सुधाकर देशमुख ने किया खारिज 2014 में, तत्कालीन मनपा आयुक्त मनोहर हीरे ने कंक्रीट सड़कों पर पेवर ब्लॉक नहीं लगाने के लिए एक सख्त आदेश जारी किया था। हालांकि, इस आदेश को हाल ही में सेवानिवृत्त आयुक्त अच्युत हांगे ने नकार दिया था, और लगभग 45 लाख रुपये के काम को मंजूरी दी थी। जब काम शुरू हो गया था, तो आयुक्त सुधाकर देशमुख, जो वित्तीय मामलों में सख्त हैं, , जबकि लग रहा था कि वे हांगे की गलती को सुधारेंगे और इंजीनियरों पर कार्रवाई करेंगे लेकिन उन्होंने भ्रष्ट इंजीनियरों के काम को मूक सहमति दे दी है !
  • No Comment to " सीमेंट कंक्रीट रोड पर पेवर ब्लॉक लगाने के मामले में मनपा आयुक्त की मूक सहमति ! "