• मनपा के आरक्षित भूखंड 705 की सनद बनाने में जुटा शहर का रसूखदार भूमाफिया ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    मनपा के आरक्षित भूखंड 705 की सनद बनाने में जुटा शहर का रसूखदार भूमाफिया ? 

    भूखंड हड़पने के लिए भूमाफियाओं द्वारा इससे पहले भी किया गया कई बार कोशिश ! 

    इस भूखंड पर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भवन और सावित्रीबाई फुले का स्मारक के लिए है आरक्षित ! 

    मनपा प्रशासन अपनी आरक्षित भूखंडों को बचाने में दिख रही है उदासीन रवैया ! 

    शहर भर के सभी बगीचों को हड़प करने में जुटे हुई नेता+भूमाफियाओं की टोली ! 

    उल्हासनगर -उल्हासनगर मनपा के द्वारा बगीचे के लिए आरक्षित भूखण्ड क्रमांक 705 को कुछ शहर के पूंजीपति व भूमाफियाओं द्वारा हड़पने की कोशिश का भंडाफोड़ हुआ है। इन लोगो के द्वारा इस जगह की सनद बनाने के लिए एसडीओ जगत सिंह गिरासे को पत्रदेकर अपने नाम पर करने की कवायद भी जोर सोर से शुरू कर दिया है, मनपा प्रशासन का मालमत्ता विभाग की इसमें मूक सहमति देखने का मामला सामने आ रहा है क्योंकि इतने मामले सामने आने के बाद भी एसडीओ को मालमत्ता विभाग के जरिये कोई भी पत्र देकर आपजेक्शन नही लिया गया है,वही इस मामले पर एक पार्टी के अध्यक्ष ने सीडी देने का विरोध किया है !
    रांकपा विधायिका ज्योति कालानी व उनके बेटे ओमी कालानी महापौर पंचम कालानी अपने घर पर गणपति की पूजा करते हुए,

    गौरतलब हो कि भारिप बहुजन महासंघ ने मांग की है कि इस भूखंड पर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भवन और सावित्रीबाई फुले का स्मारक बनाया जाए। उल्हासनगर -२में स्थित मनपा की 705 क्रमांक की भूखंड, जो टेलीफोन एक्सचेंज के पीछे की जमीन है यह हमेशा से बहुत विवादास्पद रही है और भूखंड हड़पने के लिए भूमाफियाओं द्वारा कई बार कोशिश की गई है। हालाँकि, कुछ जागरूक सामाजिक संगठनों और भारिप बहुजन महासंघ ने समय-समय पर इस प्रयास को विफल किया है। उल्हासनगर मनपा और एसडीओ कार्यालय में क्रमांक 705 भूखंड पर कब्जा करने के लिए कई भूमाफियाओं ने बोगस योजना के साथ पत्राचार शुरू कर दिया है। इस संबंध में, दोनों प्रशासन को कानून का सख्ती से लागू करना चाहिए और इस तरह के बोगस योजना लेन वाले भूमाफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए और उन्होंने मांग की है कि भूमि का उपयोग केवल डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भवन और सावित्रीबाई फुले के स्मारक के लिए किया जाए। इस समय उल्हासनगर के जितने भूखण्ड बचे भी मनपा के गार्डन है उन पर सीडी चढ़ाने का काम जोर शोर से काम किये जाने का मामला सामने आ रहा है, इस विषय पर मनपा प्रशासन की भूमिका भी संदेह के घेरे में है क्योकि अपने आरक्षित भूखण्ड को बचाने के लिए मनपा प्रशासन ही जागरूक नही है ऐसा देखने में आ रहा है, न ही अभी एसडीओ को कोई पत्र देकर अपनी हरकत लेते दिख रहा है, इसका मतलब भूमाफियाओं के साथ स्थानीय नगरसेवकों व बड़े नेतागड़ की मिलीभगत के चलते सभी को सांप सुख गया ऐसा लगता है ?
  • No Comment to " मनपा के आरक्षित भूखंड 705 की सनद बनाने में जुटा शहर का रसूखदार भूमाफिया ? "