• उल्हासनगर और कल्याण एडोकेट संघटना के द्वारा शुरू है अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उल्हासनगर और कल्याण एडोकेट संघटना के द्वारा शुरू है अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन !

    एडोकेट वासवानी के द्वारा पुलिस स्टेशन बुलाकर मारपीट करने का किया गया है आरोप !

    वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक के विरुद्ध लामबन्द हुए ज़िले के सभी एडोकेट !

     वासवानी द्वारा लगाया गया सारा आरोप ही झूठा है-वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुराडकर 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर में हुई एडवोकेट सागर वासवानी को उनके पारिवारिक मामले में जांच पड़ताल व पुछताछ करने के लिए उल्हासनगर तीन के सेंट्रल पुलिस स्टेशन में बुलाया गया था, वहां उपस्थित वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुधाकर सूराडकर के द्वारा एडवोकेट वासवानी के साथ दुर्व्यवहार करते हुए मारपीट किया गया और उनके ख़िलाफ़ झूठी एफआईआर दर्ज की किया गया है, ऐसी शिकायत एडोकेट वासवानी द्वारा किये जाने के बाद उल्हासनगर तहसील वकील संघटना के द्वारा गुरुवार 12 सितम्बर से 13 सितम्बर को दोनों दिन कामबंद आंदोलन किया गया और चोपड़ा कोर्ट के सभी वकीलों ने समर्थन देते हुए अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन किया जाएगा जबतक पोलिस अधिकारी पर कार्रवाई नही की जाती तबतक आंदोलन चलेगा ऐसी जानकारी उल्हासनगर तहसील एडोकेट संघटना के अध्यक्ष छोटु पेन्थालिया द्वारा दी गयी है, उन्होंने कल्याण वकील संघटना का भी सहयोग मिलने की जानकारी दी है, बता दे कि इस विषय में महाराष्ट्र के विधानसभा सदस्य विधायक ओमप्रकाश कडू ने भी पुलिस उपायुक्त परिमण्डल 4 को पत्रव्यवहार करके पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग की है,     बहरहाल एडोकेट लोगो की पुलिस उपायुक्त व सहायक पुलिस आयुक्त के साथ मिलकर कार्यवाई करने को लेकर मुलाकात करके लिखित पत्र दिया गया है, उल्हासनगर व कल्याण एडोकेट संघटना ने कहा है कि जबतक वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक पर कार्रवाई नही किया जाता है तबतक यह अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन चलता रहेगा।
    वही इस विषय पर जब सेंट्रल पुलिस स्टेशन के सीनियर पीआई, सुधाकर सुराडकर से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि यह पूरा मामला झूठा है,यह उनका पारिवारिक मामला था इसी लिए हमने उनको टाइम दिया था कि आप लोग आपस बैठकर झगड़े को खत्म करलो,जब ऐसा नही हुआ तब पुलिस ने मामला दर्ज किया है,और जब वह पुलिस स्टेशन में आये थे तब सागर वासवानी ने पुलिस को यह भी नही बताए कि वह वकील है उनके द्वारा किए गए सारे आरोप झूठा है, जब पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार ही नही किया तो मारपीट होने का कोई सवाल ही नही है !
  • No Comment to " उल्हासनगर और कल्याण एडोकेट संघटना के द्वारा शुरू है अनिश्चितकालीन कामबंद आंदोलन ! "