• उत्तर प्रदेश निडर पत्रकारिता करना हुआ मुश्किल, पुलिस वाले ही जूटे है डराने में !

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    लखनऊ शहर के स्पॉ सेंटर की आड़ में चल रहे देह ब्यापार का सनसनीखेज खुलासा करने पी न्यूज के संपादक धिरज दुबे ! 

    उत्तर प्रदेश निडर पत्रकारिता करना हुआ मुश्किल, पुलिस वाले ही जूटे है डराने में ! 

    जौनपुर जिले के उनके गांव के घर पर स्थानीय सुजानगंज थाने की पुलिस नशे में धुत होकर किया तांडव ! 

    सुजानगंज थाने के दरोगा पाठक को आया था कोई गुप्त फोन जिसपर हुई यह रात में कार्यवाई ?

     न कोई केश,न किसी अधिकारी का कोई आदेश, फिर भी पुलिस ने घर वालो को डराने के लिए खेला यह फिल्मी ड्रामा ! 

     जल्द ही सुजानगंज थाने के दरोगा पर नही हुई कार्यवाई सभी पत्रकार करेगा यूपी विधानसभा के सामने धरना ?  

    जौनपुर-जौनपुर जिले के सुजानगंज थाना के दरोगा के गुंडाराज जैसे कानून का इस्तेमाल करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है इस मामले में निष्पक्ष  पत्रकारिता पर संकट के बादल मड़राने लगे है जहां आए दिन किसी न किसी पत्रकार को यूपी पुलिस के कोप भन्जन का शिकार होना पड़ रहा है।जहां पिछले दिनों मिर्जापुर जिले में विद्यालय के मध्यांह भोजन योजना की गड़बड़ व्यवस्था उजागर करने के बाद फर्जी मुकदमें का सामना करना पड़ रहा है। वही जौनपुर के सुजानगंज पुलिस का भी गुंडाराज देखने को मिला कि रात 12.30 बजें अकारण बिना किसी तहरीर के मनमाने ढ़गं से एक गांव में पत्रकार के घर छापा मारकर दहशत फैलाने का काम कर रही है।जितने पुलिस कर्मी घर पर गए थे सभी नशे में धुत थे ! क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाने की जगह क्षेत्र में दहशत फैलाने के पीछे पुलिस की मानसिकता क्या है ? यह पुलिस ही बता सकती हैं लेकिन पुलिस के इस रवैये से क्षेत्र में दहशत और आक्रोश दोनों व्याप्त है। 
    सूत्रों  से मिली जानकारी के अनुसार सुजानगंज पुलिस क्षेत्र के भैसहारामपुर (प्रेम का पूरा) गांव निवासी कमला शंकर दूबे के घर रात 12.30 बजें पहुंचती है और घर वालो को जगाकर पुलिसिया भाषा का प्रयोग करते हुए उनके लड़के व रिस्तेदारों का पता स्थान पूंछती है लेकिन किस बात को लेकर कमला शंकर के यहां छापेमारी हुई है इसका जवाब देनें से थानाध्यक्ष भी कतरा रहे है। इस पूरे घटनाक्रम को लेकर क्षेत्र में तरह तरह की चर्चाएं हो रही है।कुछ लोगों का मानना है कि कमला शंकर दुबे के पुत्र धीरज कुमार दुबे (पत्रकार पी न्यूज) ने अपने न्यूज चैनल के माध्यम से  लखनऊ में पुलिस की नाकामी दर्शाते हुए एक सेक्स रैकेट का खुलासा किया है जिससे घबराई पुलिस यह कार्यवाही कर रही है और पत्रकार के साथ ही उनकी ससुराल में भी दबिश दे रही हैं। इस तरह अकारण एक पत्रकार के घर दबिश देकर आतंकित करते हुए पुलिस द्वारा पत्रकार की कलम तोड़कर अपनी नाकामी छुपानें का प्रयास है।जब इस बिषय में थाना प्रभारी सन्तोष पाठक से बात की गयी तब उन्होनें कहा कि लखनऊ से आए फोन के आधार पर डायल 100 के द्वारा दबिश दी गयी है इसके अतिरिक्त और कोई जानकारी देने से कन्नी काट गये। इस पूरे घटनाक्रम से साफ जाहिर होता है कि यूपी में एक और पत्रकार को पुलिस नाकामी उजागर करने की भारी कीमत चुकानी पड़ सकती हैं ! यहाँ पर यह भी सवाल खड़ा हो रहा है क्या उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ऐसे पुलिस वालों की नकलेल लगाती है कि नही यह देखना होगा क्यो की पत्रकार समाज का आईना होता है यदि पुलिस अपनी कमी छुपाने के लिए उनको इस तरीके से दबाने की सोच रही है वह कतई सही नही होगा और इसका नुकसान आने वाले समय में उन्हें ही चुकाना पड़ेगा !
  • No Comment to " उत्तर प्रदेश निडर पत्रकारिता करना हुआ मुश्किल, पुलिस वाले ही जूटे है डराने में ! "