• विदेशी मोबाइल तस्करों का शहर बना उल्हासनगर ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    विदेशी मोबाइल तस्करों का शहर बना उल्हासनगर ? 

    सोना तस्कर,विदेशी नोटों के तस्कर के बाद विदेशी मोबाईल तस्करों के चेहरे हुए बेनकाब ! 

    विदेशों से आई फोन की तस्करी, कस्टम व एक्साइज ड्यूटी बिना भरे बिना बिल के बेचने हो रहा गोरखधंधा ! 

    योगेश,राजा दो तस्कर पांच विदेशी मोबाईल फोन के साथ पुलिस ने पकड़ा फिर दिया बिना कार्यवाई छोड़  ! 

    तस्करों पर मेहरबान पुलिस ने मामले को दबाने का लग रहा आरोप !

     शिकायतकर्ता को दी जा रही तस्करों के द्वारा जान से मारने की धमकी ! 

    पुलिस के आला अधिकारियों को लिखित शिकायत देकर पूरे मामले की जांच की गई है मांग ! 

    उल्हासनगर-उल्हासनगर शहर में एक के बाद एक तस्करों के चेहरों से नकाब उतरता जा रहा है कुछ दिनों पहले ही उल्हासनगर के रहने 6 गोल्ड तस्कर इंदौर में पकड़े गए , 4 दिन पहले विदेशी नोटो के तस्कर पकड़े गए, अब नया मामला सामने आया विदेशी मोबाईल तस्कर इस मामले में 30 अक्टूबर 5 विदेशी मोबाईल के साथ दो तस्करों को पुलिस ने पकड़ा परन्तु उन पर धातुर मातुर कार्यवाई करके छोड़ दिया गया इन सारे मामलों को देखर यह कहा जा सकता है कि उल्हासनगर तस्करों का शहर बन चुका है ! गौरतलब हो कि उल्हासनगर शहर में चंद समय में करोड़ पति बनने के चक्कर में बड़ी संख्या में गोल्ड तस्करी करते है इसमें महिला पुरुष सम्मलित है, विदेशी नोटों की तस्करी में ट्रावेल्स के लोग,तो अब एक नया मामला सामने आया जिसमें विदेशी मोबाईल तस्करी करके उल्हासनगर लाकर बेचा जा रहा है सूत्रों की माने तो इस कारोबार उल्हासनगर के कई बड़ी मोबाईल शॉप के मालिकों का भी हाथ है इस मामले में दो तस्करों के चेहरे बेनकाब हुए उनमें पहला नाम योगेश गुलनानी दूसरा नाम है राजा इन दोनों को 30 अक्टूबर की शाम को साढ़े 4 बजे पांच विदेशी मोबाइल के साथ डीसीपी स्काट एपीआई दराडे ने पकड़ा परन्तु कार्यवाई में बड़ी लीपापोती हुई और मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया, इस मामले में शिकायतकर्ता राहुल डिंगरेजा ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए पुलिस के बड़े अधिकारियों को लिखित पत्र देकर पूरे मामले की जांच करने की मांग किया है और दराडे व दोनो तस्करों पर कार्यवाई की मांग किया है, तस्करों पर स्थानीय पुलिस मेहरबान है ऐसा दोनो मामलों की कार्यवाई से लगता है,,, इस सारे मामले पर शिकायतकर्ता ने क्या कहा है सुनिये उन्ही की जुबानी,,,,
  • No Comment to " विदेशी मोबाइल तस्करों का शहर बना उल्हासनगर ? "