• उल्हासनगर गोल्ड तस्करों का बना अड्डा ! पार्ट 2

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उल्हासनगर गोल्ड तस्करों का बना अड्डा ! पार्ट 2

     प्राइवेट पार्टो में गोल्ड छुपाकर लाने वाले गोल्ड तस्करों की नींद हुई हराम ! 

    गोल्ड तस्करी कांड के पर्दाफाश के बाद बैंकाक और दुबई भेजे गए महिलाओं व युवकों का गोल्ड तस्करों ने टिकट करवाया रद्द ? 

     एक गोल्ड तस्कर मनपा चुनाव की रणभूमी में उतरने के लिए लगा जुआड़ में ? 

     और कितने लोग लगे इस गोरखधंधे में जल्द उतरेंगे उनके चेहरों से नकाब ? 

     उल्हासनगर-उल्हासनगर के गोल्ड स्मगलरों का अड्डा पार्ट 2 में एक और सनसनीखेज़ बाते सामने आई है,प्राइवेट पार्टो में छुपाकर गोल्ड की तस्करी का गोरखधंधा करने वाले गोल्ड माफियाओं के खिलाफ फस्ट हेडलाइन इंडिया में एक्सकलुजीव न्यूज आने के बाद एयरपोर्ट पर धड़-पकड़ की सम्भवना के चलते गोल्ड माफियाओं ने अपने कैरियर मैन की सुरक्षा के लिए सभी कैरियर मैन का वापसी टिकट कैंसल करवा दिया और जब तक ग्रीन सिग्नल नही मिलता तब तक वह सब लोग बैंकाग के खुराना होटल में ही रूकने का निर्देश दिया है।  
    गौर तलब हो कि इस समय उल्हासनगर में गोल्ड स्मगलिंग के तस्करों का गोरखधंधा जोर शोर से चल रहा है,गोल्ड तस्कर सूत्रों के मुताबिक फस्ट हेडलाइन इंडिया में खबर प्रकाशित होने के बाद गोल्ड की तस्करी करवाने वाले गोल्ड माफियाओं में हड़कंप मच गया है,यही नही बैंकॉक से गोल्ड खरीदकर दूसरे दिन प्राइवेट पार्टो में गोल्ड लाने वाली महिलाओं और युवकों के गोल्ड तस्करों ने रिटर्न टिकट कैंसल करवा दिया है।यही नही तीन दिनों से मुम्बई इंटर नेशनल एयरपोर्ट पर गोल्ड माफियाओं ने कस्टम अधिकारियों को मैनेज करने का काम शुरू कर दिया है। 15 हजार रुपये की प्रति ट्रिप पर जाने वाले कैरियर मैन महिलाओं और युवकों से गोल्ड माफिया वाट्सएप कॉलिंग पर बात करते है,क्योंकि आउट ऑफ इंडिया में कैरियर मैन का लोकल सिम बंद हो जाता है।गोल्ड का धंधा करने वाले सूत्रों के मुताबिक एक महिला या पुरुष "डिग्गी फिटिंग"में 1200 से 1400 ग्राम गोल्ड का बिस्किट लेकर आता है,बैंकाक और दुबई में 100 ग्राम गोल्ड का बिस्किट 3 लाख 90 हजार में मिलता है और यही गोल्ड का बिस्किट यहां के ज्वेलर्स 4 लाख 30 हजार में खरीद लेते है,यानी कि 1 किलो गोल्ड के पीछे ये स्मगलर 4 लाख रुपये कमाते है।जिसकी वजह से अब यह धंधा बड़े पैमाने पर शुरू हो चुका है,सूत्र बता रहे है कि इस धंधे में अब नए -नए लोग भी तीन -चार पार्टनर बनकर छोटी-छोटी पूंजी लगाकर शुरू कर दिए है।बताया जा रहा है कि गोल्ड तस्करों का बैंकॉक में  इंदिरा मार्केट के सामने खुराना होटल में इन कैरियर मैन के रहने की व्यवस्था की जाती है।            सूत्र बताते है कि कैरियर मैन जैसे ही विभिन्न एयरपोर्ट पर उतरते है और सुरक्षा जांच के बाद बाहर निकलते है उनके लिए ब्लैक कांच लगी चार सीटर इनोवा कार खड़ी रहती है,जिसमे बाकायदा पर्दा लगा रहता है,बताया जाता है कि अधिकांश कैरियर मैन युवक नाइटी ड्रेस में ही आते है और कार में बैठते ही "डिग्गी फिटिंग" से गोल्ड का बिस्किट निकालने का प्रयास करते है,जितना निकला ठीक है,नही तो मुम्बई के साकीनाका एरिया हाइवे के तीन -चार होटल फिक्स है जहां रूक कर फ्रेस होने के बहाने गुप्तांगों से गोल्ड निकालकर वहां से शराब और कबाब का सेवन करने के बाद उल्हासनगर आते है।और उनके आकाओं द्वारा बताये गए व्यक्ति को सारा का सारा गोल्ड देकर निकल जाते है।जब कि गोल्ड स्मगलर आकाओं को शाम के समय वजन के हिसाब से पेमेंट मिल जाता है। बैंकॉक-दुबई से गोल्ड की तस्करी करने वाले देवीदास मुरपानी,सतीश (भतीजा),योगेश,हरेश कुकरेजा,लंबू बंटी, दीपक,पिक्कू,हर्षल (बर्तन) लाजी है।जब कि प्रमुख गोल्ड तस्करों में दीपक सुहानी,जीतू माखीजा,लारा,सन्नी (पोस्ट आफिस),श्याम दाढ़ी,दीपू मदानी,राजेश भाटिया,वासु टकला, के गैंग में 10 से 15 महिलाये और युवक "डिग्गी फिटिंग"करके गोल्ड की तस्करी करते है।सूत्रों के मुताबिक गोल्ड की तस्करी में अकूत पैसा बनाने के बाद कुछ गोल्ड तस्कर आगामी मनपा चुनाव भी लड़ने की तैयारी में जुट गए है। वह कौन है उसका भी होगा जल्द पर्दाफाश ?
  • No Comment to " उल्हासनगर गोल्ड तस्करों का बना अड्डा ! पार्ट 2 "