• उल्हासनगर शहर में उप महापौर और उनके गुर्गों के आतंक पर चला पुलिस का चाबुक ?

    Reporter: fast headline india
    Published:
    A- A+
    उल्हासनगर शहर में उप महापौर और उनके गुर्गों के आतंक पर चला पुलिस का चाबुक ?

     पत्रकार के रिपेरिंग बांधकाम पर हमला करके निर्माण सामग्री की गई चोरी !

     पत्रकारों का एक प्रतिनिधिमंडल आज अपर पुलिस आयुक्त दत्ता कराले किया मुलाकात ! 

    कराले के आदेश पर उल्हासनगर पुलिस ने शुरू की कार्यवाही !

     सामान चुराने वाले उप महापौर के दो गुर्गों को पुलिस लिया हिरासत में ? 

    उल्हासनगर,-उल्हासनगर महानगरपालिका के उप महापौर भगवान भालेराव के गुर्गों के द्वारा एक मकान की मरम्मत का काम कर रहे पत्रकार सुरेश चौहान के बन रहे घर में तोड़फोड़ और लूटपाट की घटना को अंजाम देने का सनसनीखेज मामला कल सामने आया था। 

    बता दे कि यशोभूमि के पत्रकार कल दोपहर लगभग 1 बजे खेमनी क्षेत्र के उल्हासनगर -2 में अपने घर का मरम्मत करने का काम कर रहे थे। तभी भालेराव के पांच से 6 गुर्गे आये और बन चुके निर्माण को तोड़ा और सीमेंट के पतरे को तोड़ दिया और 22,000 रुपये मूल्य की लोहे व पतरो को चुरा लिया। उन्होंने अपनी लिखित शिकायत में आरोप आरोप लगाया है कि उप महापौर भगवान भालेराव ने घर के निर्माण बनाने की ऐवज मे पैसे की मांग की थी और पैसे नहीं दिए तो उन्होंने अपने गुर्गों के जरिये इस घटना को अंजाम दिया , जब चौहान उल्हासनगर पुलिस थाने में गए, तो उन्हें 7 घंटे तक पूछताछ के नाम पर बैठाया गया और शिकायत भी नही लिया गया और वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुशील जावले उप महापौर भगवान भालेराव के खिलाफ शिकायत लेने से सीधे इनकार कर दिया।

    इस मामले की गभीरता से लेते हुए पत्रकारो का एक प्रतिनिधिमंडल आज अपर पुलिस आयुक्त दत्ता कराले से मिला और कल हुई घटना की उल्हासनगर के पत्रकारों ने उस घटना की कड़ी निंदा की है और मांग की है कि जल्द से जल्द उप महापौर भगवान भालेराव और उनके सहयोगियों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए। पत्रकारों के प्रतिनिधिमंडल कल्याण में अपर पुलिस आयुक्त दत्ता कराले के साथ मिला और सभी दस्तावेजों, वीडियो फुटेज, ऑडियो रिकॉर्डिंग और घटना के सभी साक्ष्य प्रस्तुत किए। इस संबंध में, कराले ने पत्रकारों की बात सुनी और पत्रकारों के प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि वे अगले 2 दिनों में मामले की जांच करेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे। इसके बाद शाम होते होते उल्हासनगर पुलिस हरकत में आई और चोरी व तोड़फोड़ की घटना को अंजाम देने वालो लोगो में से दो लोगो को हिरासत में लेने की जानकारी सूत्रों के द्वारा सामने आ रही है, इस विषय पर भगवान भालेराव ने कहा है कि अगर मेरे और मेरे सहयोगियों के खिलाफ आरोप जो लगाए जा रहे वह बेबुनियाद हैं और अगर आरोप साबित हुआ तो मैं अपने पद इस्तीफा दे दूंगा, मैं मांग करता हूं कि इस मामले की निष्पक्ष जांच हो। वही पुलिस के एक्शन मोड़ में आते ही गुर्गे बिल में छुपने की जुआड़ में जुटे है !
  • No Comment to " उल्हासनगर शहर में उप महापौर और उनके गुर्गों के आतंक पर चला पुलिस का चाबुक ? "