• सेंट्रल अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से हुई पत्रकार की बेटी की मौत ?

    Reporter: first headlines india
    Published:
    A- A+
    सेंट्रल अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से हुई पत्रकार की बेटी की मौत ?

    पत्रकार व पिता रामेश्वर गवई ने लगाया सेंट्रल अस्पताल प्रशासन पर गंभीर आरोप ! 

     करोना बीमारी के शक की वजह से ईलाज करने में अस्पताल प्रशासन किया टालमटोल !

     समय पर ईलाज नही मिलने की वजह से गई बेटी की जान !   
     मृतक प्रणाली गवई

     उल्हासनगर - उल्हासनगर के वरिष्ठ पत्रकार व समाजसेवक रामेश्वर गवई की 24 वर्षीय बेटी का पीलिया के चलते अकस्मात मौत हो गयी। इंजीनियरिंग में पदवी धारक  होते हुए वह सेंट्रल अस्पताल में उसका उपचार चल रहा था,अस्पताल में कोरोना टेस्ट के नाम पर करीबन एक घण्टे 45 मिनट बिठाकर रखा गया था, जिस कारण उसकी तबियत और खराब होने के कारण अपने जीवन से हाथ धोना पड़ा ऐसा आरोप रामेश्वर गवई अस्पताल प्रशासन पर लगाया है। 
    प्रणाली गवई  ने आय टी विषय में इंजिनियरिंग किया हुआ था. प्रणाली बचपन से ही पढ़ने ने होशियार थी, अब वह यूपीएससी और एमपीएससी परीक्षा की तैयारी  कर रही थीं,  पिता की तरह वह भी सामाजिक क्षेत्र में अग्रसर थी, 7 अप्रैल 2020 को उसे टायफॉईड  हुआ था, जिसका उपचार सेंट्रल अस्पताल किया गया था व सभी रिपार्ट नॉर्मल आये थे,       20 अप्रैल 2020 को अचानक प्रणाली की तबियत फिर खराब होने पर उसे फिर सेंट्रल अस्पताल में दोपहर 12 बजे  रामेश्वर गवई , शिवाजी रगडे और अन्य लोग लेकर गए थे, डॉक्टरों ने उसका कोरोना टेस्ट करना पड़ेगा कहकर प्रणाली को कोरोना होने की आशंका को लेकर डॉक्टर व अन्य कर्मचारी उपचार में टालमटोल करने लगे, दोपहर  2 बजे तक प्रणाली का किसी भी प्रकार का उपचार शुरू नही किया गया, न ही कोरोना टेस्ट किया गया, बच्ची तड़पते हुए कोई भी दवा की मांग परिवार व डॉक्टरों से करती रह गयी।   इस परिस्थिती में रामेश्वर गवई व समाजसेवक शिवाजी रगडे  उल्हासनगर मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख से संपर्क करने पर आयुक्त ने तुरन्त उपचार का आदेश दिया, फिर प्रणाली को उसी दिन निजी अस्पताल धन्वंतरी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया, जहां डॉक्टरों ने उपचार शुरू कर दिया पर प्रणाली को नही बचा पाए ।शाम साढ़े 7 बजे प्रणाली की मौत हो गया,     इस घटना से रामेश्वर गवई व परिवार पर दुःख का पहाड़ टूट गया। स्वतः रामेश्वर गवई पत्रकार व रुग्ण मित्र हैं समाजसेवा में कभी पीछे नही हटते।उल्हासनगर अस्पताल हो मुंबई अथवा ठाणे कही भी दिन हो रात हो न देखते हुुए सदैव बिमार लोगो की मदत के लिए तत्पर रहते हैं। परंतु स्वम की लाडली के साथ घटी इस दुःखद घटना से संपूर्ण उल्हासनगर में अचरज व्यक्त किया जा रहा है , फेसबुक और व्हॉट्स अप या सोशल मीडिया पर  प्रणाली के निधन दुःख व्यक्त किया जा रहा है।     सेंट्रल अस्पताल के लापरवाही के कारण मेरी बेटी की मौत हुई है ऐसा आरोप रामेश्वर गवई ने अस्पताल प्रशासन पर लगाया है।इस घटना को लेकर पत्रकार संगठनों ने भी जांच की मांग की है।       सेंट्रल अस्पताल के अधीक्षक डॉ. सुधाकर शिंदे ने इस बारे में कहा कि किसी भी प्रकार की लापरवाही अस्पताल प्रशासन की तरफ से नही हुई है, प्रणाली गवई के मौत का हम्हे भी काफी दुःख है,उसकी तबियत ज्यादा खराब होने के कारण उसकी मौत हुई है।     
  • No Comment to " सेंट्रल अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से हुई पत्रकार की बेटी की मौत ? "